आईएफएफआई के ज्यूरी हेड ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को ‘अश्लील’, ‘प्रचार’ वाली फिल्म करार दिया

पणजी : आईएफएफआई के ज्यूरी प्रमुख नादव लापिड ने महोत्सव के समापन समारोह के दौरान फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को ‘अश्लील’ और ‘अनुचित’ करार दिया और कहा कि महोत्सव की भावना को निश्चित रूप से स्वीकार किया जाना चाहिए। आलोचनात्मक चर्चा भी होनी चाहिए, जो कला और जीवन के लिए जरूरी है। इससे पहले सोमवार को लैपिड ने कहा था कि इस फिल्म को लेकर आईएफएफआई परेशान है।

जूरी के अनुभव को साझा करते हुए उन्होंने कहा कि उनमें से 14 (अंतर्राष्ट्रीय फिल्मों) में सिनेमाई गुणवत्ता थी।

लैपिड ने कहा, “हम सभी 15वीं फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ से परेशान और स्तब्ध थे। यह हमें एक प्रचार, अश्लील फिल्म की तरह लगा, जो इतने प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के कलात्मक प्रतिस्पर्धी वर्ग के लिए अनुपयुक्त है।”

उन्होंने कहा, “इस मंच पर आपके साथ इन भावनाओं को खुलकर साझा करने में मैं पूरी तरह से सहज महसूस कर रहा हूं। चूंकि, महोत्सव की भावना निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण चर्चा को भी स्वीकार कर सकती है, जो कला और जीवन के लिए आवश्यक है।”

23 नवंबर को इस फिल्म के मुख्य अभिनेता अनुपम खेर ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ के बारे में कहा था कि इसने दुनिया भर के लोगों को 1990 के दशक में कश्मीरी पंडित समुदाय के साथ हुई त्रासदी के बारे में जागरूक होने में मदद की।

उन्होंने कहा था, “यह सच्ची घटनाओं पर आधारित फिल्म है। फिल्म निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने फिल्म के लिए दुनियाभर के लगभग 500 लोगों का साक्षात्कार लिया। बढ़ती हिंसा के बाद 19 जनवरी, 1990 की रात पांच लाख कश्मीरी पंडितों को कश्मीर घाटी में अपने घरों और यादों को छोड़ना पड़ा। एक कश्मीरी हिंदू के रूप में मैं त्रासदी के साथ रहता था। लेकिन कोई भी इस त्रासदी को पहचान नहीं रहा था। दुनिया इस त्रासदी को छिपाने की कोशिश कर रही थी।”

–आईएएनएस

जम्मू-कश्मीर के आठ लेखकों का यूपी उर्दू अकादमी के वार्षिक सम्मान के लिए चयन

श्रीनगर : उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी ने हाल ही में वर्ष 2019-21 के पुरस्कारों की घोषणा की। इनमें जम्मू-कश्मीर के आठ लेखक शामिल हैं। जम्मू-कश्मीर से सम्मान के लिए चुने...

कथक केवल देह की भाषा नहीं वह विचार का भी माध्यम है

नई दिल्ली : कथक सिर्फ देह की भाषा औरअभिव्यक्ति का माध्यम नहीं है बल्कि वह विचार का भी माध्यम है ।यह बात कल हिंदी के प्रख्यात कवि संस्कृति कर्मी अशोक...

अयोध्या दीपोत्सव : रेत पर उकेर जीवंत किये जा रहे रामायण कालीन प्रसंग

अयोध्या : अयोध्या में इस बार दीपोत्सव को ऐतिहासिक बनाने की कवायद जोरों पर है। रामायणकालीन 15 स्वागत द्वार दीपोत्सव की आभा बढ़ा रहे हैं। राम परिवार, निषादराज व अहिल्या...

सांसारिक और महाकाव्य के बीच की रेखा पतली है : गीतांजलि श्री

कसौली : 'रेत समाधि' के लिए अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार प्राप्त करने वाली लेखिका गीतांजलि श्री ने साफ किया है कि उनका वास्तव में 'प्रमुख विषय' (विभाजन) के बारे में एक...

लता मंगेशकर की याद में इंदौर में बनेगा संग्रहालय : शिवराज

इंदौर : मध्य प्रदेश की प्रमुख नगरी इंदौर में बुधवार की रात को आयोजित राष्ट्रीय लता मंगेशकर अलंकरण समारोह में कला जगत की हस्तियों को यह सम्मान प्रदान किया गया।...

जानिए हिन्दी प्रकाशन जगत की युवा महिला प्रकाशक के संघर्ष की कहानी

मात्र 14 साल की उम्र में अपने दादा द्वारा शुरू किए गए प्रकाशन समूह में छोटी से छोटी- छोटी ज़िम्मेदारियों को पूरी ईमानदारी से निभाने वाली अदिति माहेश्वरी को भला...

कितना सार्थक है हिंदी दिवस ?

सितंबर का महीना आते ही हवा में हिंदी की खुशबू बिखरने लगती है और हर साल 14 सितंबर को पूरे देश में हिंदी दिवस धूम धाम से मनाया जाता है...

अज्ञेय हिंदुत्व के समर्थक नहीं थे संघ के आलोचक थे

नई दिल्ली: हिंदी के यशस्वी साहित्यकार सच्चिदानंद हीरानंद वात्सायन अज्ञेय हिंदुत्व के समर्थक नहीं थे बल्कि उन्होंने दिनमान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कड़ी आलोचना की थी । यह जानकारी...

उर्दू के मशहूर स्कॉलर गोपीचंद नारंग नहीं रहे

नई दिल्ली। उर्दू में मशहूर नक़्क़ाद और स्कॉलर गोपीचंद नारंग नहीं रहे। कल उनका इंतकाल अमरीका के न्यूयार्क में हो गया। वह 92 वर्ष के थे। परिवार में पत्नी के...

यशस्वी लेखक अज्ञेय की जीवनी अंग्रेजी में

नई दिल्ली। अंग्रेजी के प्रसिद्ध पत्रकार अक्षय मुकुल ने हिंदी के यशस्वी लेखक एवं प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी सच्चिदानंद हीरानंद वात्सायन "अज्ञेय" की पहली प्रमाणिक जीवनी अंग्रेजी में लिखी है। टाइम्स...

सोनल मान सिंह, जाकिर हुसैन, जतिन गोस्वामी रत्न सदस्यता ग्रहण करने नहीं आये, 43 कलाकारों को मिला संगीत नाटक एकेडमी पुरस्कार

नई दिल्ली। प्रख्यात ग़ज़ल गायिका शांति हीरानंद ,मधुप मुदगल और मालिनी अवस्थीतथा संजय उपाध्यय समेत 43 कलाकारों को संगीत नाटक अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। जबकि प्रख्यात नृत्यांगना सोनल...

प्रसिद्ध फिल्मी गीतकार माया गोविंद का निधन

मुम्बई। "नैनों में दर्पण दर्पण में तू" जैसी लोकप्रिय फिल्मी गीत लिखनेवाली सत्तर के दशक की मशहूर गीतकार माया गोविंद का आज सुबह मुंबई में एक अस्पताल में निधन हो...

admin

Read Previous

हवाई में दुनिया का सबसे बड़ा ज्वालामुखी करीब 4 दशक बाद फटा

Read Next

दिल्ली हिंसा के आरोपी सैफी की जमानत याचिका पर सुनवाई जारी रखेगा हाईकोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com