अज्ञेय हिंदुत्व के समर्थक नहीं थे संघ के आलोचक थे

नई दिल्ली: हिंदी के यशस्वी साहित्यकार सच्चिदानंद हीरानंद वात्सायन अज्ञेय हिंदुत्व के समर्थक नहीं थे बल्कि उन्होंने दिनमान में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कड़ी आलोचना की थी ।

यह जानकारी अज्ञेय के जीवनीकार और वरिष्ठ अंग्रेजी पत्रकार अक्षय मुकुल ने कल शाम हिंदी के प्रख्यात कवि एवं संस्कृति कर्मी अशोक बाजपेई के सवालों के जवाब में दी। गौरतलब है कि मुकुल ने हाल ही में अज्ञेय की अंग्रेजी में 7 89 पृष्ठ की जीवनी लिखी है और वह इस किताब के कारण इन दिनों वे चर्चा में है । टाइम्स ऑफ इंडिया के पूर्व पत्रकार मुकुल ने गीता प्रेस पर भी किताब लिखने के कारण चर्चित हुए थे।
रजा फाउंडेशन द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में अशोक वाजपेयी ने मुकुल से पूछा कि क्या बाद के दिनों में जय जानकी यात्रा निकालने के कारण अज्ञेय की छवि सॉफ्ट हिंदुत्व की बन गई थी तो इस पर मुकुल ने कहा कि अज्ञेय ने दिनमान में आर एस एस के खिलाफ खड़ा लेख लिखा था जिसमें उन्होंने कहा था राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में न तो राष्ट्र है न सेवा और न ही संघ।

मुकुल यह भी कहा कि अज्ञेय हिंदुत्व में नहीं बल्कि भारतीयता में विश्वास रखते थे और वह भारतीय लेखक थे लेकिन उनके विरोधियों ने उनकी एक छवि गढ़ दी और हिंदी समाज आज भी अज्ञेय को लेकर दो खेमों में विभाजित है। कुछ लोग तो उनके बड़े प्रशंसक हैं लेकिन कुछ लोग उनके कट्टर विरोधी हैं लेकिन मुकुल ने यह स्वीकार किया कि अज्ञेय ने चौथे सप्तक के कवि नंदकिशोर आचार्य के बुलावे पर एक यज्ञ हवन में भाग लिया था।

वाजपेयी के एक अन्य सवाल के जवाब में मुकुल ने कहा कि अज्ञेय आज़ादी की लड़ाई में जेल ही नहीं गए बल्कि उस समय के किसान आंदोलन में भी भाग लिया था।

मुकुल ने बताया कि एक तरफ अज्ञेय के सम्बंध प्रख्यात विचारक एम एन राय से थे तो पंडित जवाहर लाल नेहरू से भी थे।नेहरू जी ने अज्ञेय की जेल में लिखी गयी कविताओं की पुस्तक की भूमिका भी लिखी थी।नेहरू से उनका पत्रचार था और नेहरू अभिनंदन ग्रंथ का संपादन भी किया था। अज्ञेय का सम्बंध जे पी से भी था और उनकी पत्रिका एवेरीमेन के वे संपादक थे। अज्ञेय का भगत सिंह और चन्द्रशेखर आज़ाद से भी सम्बन्ध था।

मुक्तिबोध और अज्ञेय के रिश्तों के बारे में पूछे गए एक प्रश्न के जवाब में मुकुल ने कहा कि दोनों के रिश्ते मधुर थे लेकिन हिंदी समाज में अज्ञेय को लेकर “गप्पें”(गॉसिप) बहुत हैं और बढ़ा चढ़ाकर बातें कहीं जाती रही हैं।मुक्तिबोध के संदर्भ में भी ऐसा ही हुआ।उन्होंने यह भी कहा कि वामपंथियों ने अज्ञेय पर बहुत हमले किये।

मुकुल ने कहा कि अज्ञेय हिंदी के भिन्न किस्म के लेखक थे।उनकी पृष्ठभूमि अलग थी ।वे अंग्रेजी बैकग्राउंड से आये थे और शेखर एक जीवनी जैसे क्लासिक उपन्यास का पहला ड्राफ्ट उन्होंने अंग्रेजी में ही लिखा था।मुल्क राज आनंद और नीरद सी चौधरी उनके मित्र थे। मुकुल ने बताया कि अज्ञेयने घर मे हिंदी पढ़ी थी।वेद पुराण का भी अध्ययन किया था ।वे बनना भौतिकीविद चाहते थे पर लेखक बन गए।वे रात 11 बजे लिखना शुरू करते थे।

मुकुल ने बताया कि अज्ञेय को जीवन पर इस बात का मलाल राह कि हिंदी वाले उनको नहीं अपना नहीं मानते क्योंकि मेरी हिंदी अलग है।
एकं अन्य प्रश्न के उत्तर में मुकुल ने कहा कि अज्ञेय को पैसों की बहुत तंगी जीवन भर रही।वे नौकरियां बदलते रहे।देश केविश्विद्यालय में उन्हें नौकरी नहीं मिली।

स्त्रियों के साथ अज्ञेय के संबंधों की चर्चा करते हुए मुकुल ने कहा कि अज्ञेय का स्त्रियों के साथ शुरू में संबंध अच्छा रहा पर बाद में हमेशा खराब हो गए। उन्होंने इस संबंध के संदर्भ में उनकी पहली पत्नी संतोष साहनी( जिनसे अज्ञेय का तलाक हो गया और उसके बाद वह बलराज साहनी की पत्नी बन गई।) कपिला वात्सायन और इला डालमिया की भी चर्चा की।

इससे पहले मुकुल ने बताया कि उन्हें अज्ञेय की जीवनी लिखने की प्रेरणा कुमार गंधर्व से मिली।
वाजपेई ने कहा कि उन्होंने जब मुकुल को रजा फाउंडेशन की ओर से अज्ञेय की जीवनी लिखने का प्रस्ताव दिया तो उन्हें संदेह था की मुकुल अच्छी जीवनी लिख पाएंगे क्योंकि उन्हें हमेशा पत्रकारों की काबिलियत पर संदेश किया है लेकिन मुकुल ने बहुत ही मेहनत और शोध कार्य से शानदार जीवनी लिखी है और रज़ा फाउंडेशन से प्रकाशित अब तक की अब तक की सर्वश्रेष्ठ जीवनी है।

मुकुल ने वाजपेयी से अज्ञेय के साथ उनके संबंधों के बारे में जब पूछा तो वाजपयी ने विस्तार से इसका जिक्र किया और कहा कि उन्हें अज्ञेय से प्रेरणा मिलती रही है और 18 वर्ष की आयु में उन्होंने अज्ञेय को सागर से पत्र लिखा था। बाद में भी उनके साथ पत्राचार हुए लेकिन एक प्रसंग में उनके साथ कुछ अप्रिय बातें हो गयी।

उन्होंने बताया किया कि उन्होंने एक जमाने मे बूढ़ा गिद्ध क्यों पंख फैलाए लेख में लिखा था लेकिन बाद में उन्हें एहसास हुआ कि उन्हें “बूढ़ा गिद्ध ” नहीं लिखना चाहिए था।

———– इंडिया न्यूज़ स्ट्रीम

प्रख्यात अंग्रेजी लेखक रस्किन बॉन्ड को साहित्य अकादेमी की महत्तर सदस्यता

नई दिल्ली । साहित्य अकादेमी का सर्वोच्च सम्मान "महत्तर सदस्यता "आज अंग्रेजी के प्रख्यात लेखक और विद्वान रस्किन बॉन्ड को प्रदान की गई।उनकी अस्वस्थताके कारण यह सम्मान उनके मसूरी स्थित...

विश्व रेडियो दिवस:बेहद रोमांचक है वायरलेस दुनिया

बीजिंग । 3 नवंबर, 2011 को यूनेस्को ने हर साल 13 फरवरी को "विश्व रेडियो दिवस" ​​के रूप में नामित करने का निर्णय लिया। 13 फरवरी 1946 को संयुक्त राष्ट्र...

पटना में गंगा नदी के तट पर लगेगी राजेंद्र प्रसाद की 243 मीटर ऊंची प्रतिमा

पटना । बिहार की राजधानी पटना में गंगा तट पर देश के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद की 243 मीटर ऊंची प्रतिमा लगेगी। यह प्रतिमा गुजरात में नर्मदा के किनारे बने...

भारतीय कला विरासत की अनोखी झांकी लाल किले में

नई दिल्ली । विश्व के प्रसिद्ध "आर्ट बिनाले" की तर्ज़ पर अब देश में पहला "बिनाले "8 दिसम्बर से राजधानी के ऐतिहासिक लाल किले में होगा।31 मार्च तक चलने वाले...

तेजी बच्चन ने लेडी मैकेबेथ की भूमिका निभाई थी

नई दिल्ली। प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी एवम भारत छोड़ो आंदोलन में जेल जानेवाले प्रसिद्ध रंगकर्मी एवम लेखक वीरेन्द्र नारायण द्वारा निर्देशित नाटकों में तेजी बच्चन ने ही नहीं बल्कि देवानंद की...

खेलों के माध्यम से भी पूरे प्रदेश में मनाया गया आजादी का जश्न

लखनऊ : प्रदेश में आजादी के जश्न का समारोह ध्वजारोहण के साथ-साथ विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों की विस्तृत श्रृंखला के माध्यम से संपन्न हुआ। इस अवसर पर प्रदेश के खेल विभाग...

समाज में तनाव पैदा करने वाले दृश्य हटाना सेंसर बोर्ड की ज़िम्मेदारी: अनिल दुबे 

अगर फ़िल्म में ऐसे दृश्य या कहानी है जो समाज में तनाव को जन्म देता हो, तो फ़िल्म सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन, (सेंसर बोर्ड) को उसे तुरंत हटा देना...

अमृत महोत्सव में हुए दो लाख कार्यक्रम
अब समापन 30 अगस्त को कर्तव्य पथ पर होगा।

नई दिल्ली 4 अगस्त । आज़ादी के अमृत महोत्सव में दोलाख कार्यक्रम होने ने के बाद इसका समापन समारोह 30 अगस्त को होगाजिसमें देश भर की मिट्टी को दिल्ली लाया...

राष्ट्रपति ने किया एशिया के सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय साहित्य उत्सव “उन्मेष “का शुभारंभ

साहित्यकार का सत्य इतिहासकारों के तथ्य से ज़्यादा विश्वसनीय है - श्रीमती द्रौपदी मुर्मु नई दिल्ली 4अगस्त । राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कल भोपाल में एशिया के सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय...

श्रीलंका गृह युद्ध पर उपन्यास के लिए ऑस्ट्रेलियाई-तमिल को शीर्ष साहित्यिक पुरस्कार

मेलबर्न : ऑस्ट्रेलियाई-तमिल वकील शंकरी चंद्रन ने अपने उपन्यास 'चाय टाइम एट सिनामन गार्डन्स' के लिए 60,000 डॉलर का प्रतिष्ठित माइल्स फ्रैंकलिन साहित्य पुरस्कार जीता है। पुरस्कार की घोषणा मंगलवार...

हिंदी के लिए अतुल कुमार राय को युवा साहित्य अकादमी पुरस्कार
सूर्यनाथ सिंह को बाल साहित्य अकादमी पुरस्कार

नई दिल्ली : हिंदी के लिए युवा साहित्य अकादमी पुरस्कार अतुल कुमार राय के उपन्यास "चाँदपुर की चंदा" को प्रदान किया गया है.अंग्रेज़ी के लिए अनिरुद्ध कानिसेट्टी की पुस्तक "लॉडर््स...

सुभद्रा कुमारी चौहान पर नाटक से एनएसडी के फेस्टिवल का होगा उद्घटान

नई दिल्ली : "खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी "जैसी अमर पंक्तियां लिखनेवाली महान कवयित्री एवम स्वतंत्रता सेनानी सुभद्रा कुमारी चौहान पर आधारित नाटक से 28 जून...

editors

Read Previous

आजादी का अमृत महोत्सव, आरएसएस और तिरंगा

Read Next

भारत के वारेन बफेट राकेश झुनझुनवाला का 62 साल की उम्र में निधन

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com