कमलनाथ-दिग्विजय सिंह के बीच बढ़ रही दूरी !

भोपाल: मध्यप्रदेश में कांग्रेस की एकजुटता के चलते वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कर लगभग डेढ़ दशक बाद सत्ता में आ पाई थी, मगर आपसी टकराव ने महज 15 माह में उसके हाथ से सत्ता छीन ली। अब कांग्रेस विपक्ष में है और फिर बड़े नेताओं में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के बीच दूरियां बढ़ने के संकेत मिलने लगे हैं।

राज्य में कांग्रेस की कमजोरी का सबसे बड़ा कारण गुटबाजी रहा है, मगर कमलनाथ के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद बीते तीन साल के कांग्रेस के हाल पर गौर किया जाए तो गुटबाजी लगातार कम नजर आने लगी है। इस दौरान भले ही कांग्रेस को एक अपने बड़े नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को खोना पड़ा है, सिंधिया भाजपा में हैं और मोदी सरकार में मंत्री भी हैं। उसके बाद भी कांग्रेस खुले तौर पर एक दिखती है।

वर्तमान में कांग्रेस कमलनाथ की छाया में ही आगे बढ़ रही है, परंतु बीते कुछ समय में कमलनाथ के केंद्र की राजनीति में जाने की चल रही चर्चाओं के बीच पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की प्रदेश में सक्रियता बढ़ गई है। वे कई इलाकों का दौरा कर चुके हैं, सड़क पर उतरकर प्रदर्शन भी कर चुके हैं और लगातार मुख्यमंत्री को पत्र भी लिख रहे हैं। सिंह की इस बढ़ी सक्रियता के सियासी मायने भी खोजे जा रहे हैं।

कमलनाथ की नजदीकी सूत्रों का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की बढ़ी सक्रियता से कमलनाथ खुश नहीं हैं, क्योंकि कमलनाथ जब दिल्ली में थे तब दिग्विजय सिंह ने आंदोलनों का नेतृत्व किया। यही कारण है कि कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह की पर्यावरण पर केंद्रित पुस्तक के विमोचन पर चुटकी ली थी और कहा था कि, अगर दिग्विजय सिंह पर किताब लिखते तो वह सबसे ज्यादा बिकती।

कांग्रेस के ही लोग मानते हैं कि अगर सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ी है तो उसकी बड़ी वजह दिग्विजय सिंह रहे हैं और कांग्रेस के सत्ता गवाने के पीछे की बड़ी वजह दिग्विजय सिंह हैं, तो वहीं भाजपा भी इस मामले में दिग्विजय सिंह पर हमले करने से नहीं चूकती। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए भी कहा, कमलनाथ की सरकार गिराने का श्रेय दिग्विजय सिंह को ही जाता है, और आपको इस पर फक्र है। लेकिन ये कांग्रेस के संस्कार हैं, भाजपा के नहीं। हमें शिवराज जी के नेतृत्व में अपनी सरकार पर गर्व है और हम जनकल्याण की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। आपके गोरख धंधे बंद हो गए, इसलिए पीड़ा होना स्वाभाविक है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि, राज्य में अगर दिग्विजय िंसंह और कमल नाथ के बीच बढ़ती दूरी खुलकर सामने आती है तो पार्टी आगामी उप-चुनाव, नगरीय और पंचायत चुनाव में बड़ा नुकसान उठाएगी। वर्तमान में कमल नाथ ने कांग्रेस को एक जुट रखने में सफलता पाई है, मगर कई नेता अपने अस्तित्व को लेकर चिंतित हैं और यही कारण है कि पार्टी को नुकसान पहुंचाने से लेकर नेताओं को नुकसान पहुंचाने वाले बयान आ रहे हैं।

–आईएएनएस

मां महबूबा मुफ्ती के लिए चुनाव प्रचार करने निकलीं बेटी इल्तिजा मुफ्ती

अनंतनाग । यूं तो जम्मू-कश्मीर में लोकसभा की महज पांच सीटें हैं, लेकिन राजनीतिक दृष्टिकोण से इनका व्यापक महत्व है। लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के चुनाव से पहले इन...

बंगाल शिक्षक भर्ती मामला : हाईकोर्ट ने प्रश्नपत्र त्रुटियों की समीक्षा के लिए विशेष समिति बनाने का निर्देश दिया

कोलकाता । पश्चिम बंगाल में प्राथमिक शिक्षकों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा प्रश्न पत्रों में कथित त्रुटियों की समीक्षा के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट ने विशेष समिति गठित करने का...

भाजपा उम्मीदवार माधवी लता ने रैली करने के बाद भरा पर्चा

हैदराबाद | भाजपा की हैदराबाद से लोकसभा उम्मीदवार माधवी लता ने बुधवार को अपना नामांकन दाखिल करने से पहले चारमीनार से एक रैली निकाली। नामांकन दाखिल करने के लिए हैदराबाद...

पूर्व डीजीपी वीडी राम तीसरी बार पलामू से सांसद बनने की रेस में, पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीके सिंह पहुंचे हौसला बढ़ाने

रांची । झारखंड के डीजीपी रहे विष्णु दयाल राम पलामू लोकसभा सीट से लगातार तीसरी बार सांसद बनने की रेस में हैं। बुधवार को उन्होंने बतौर भाजपा प्रत्याशी नामांकन का...

केंद्र में बनेगी कांग्रेस की सरकार : तेलंगाना सीएम

हैदराबाद । तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए. रेवंत रेड्डी ने बुधवार को दावा किया कि कांग्रेस पार्टी ही केंद्र में अगली सरकार बनायेगी। सिकंदराबाद लोकसभा सीट से पार्टी उम्मीदवार डी. नागेंद्र...

सैम पित्रोदा के बयान से पूरी तरह बेनकाब हो गई कांग्रेस : अमित शाह

नई दिल्ली । केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह ने सैम पित्रोदा के 'विरासत टैक्स' को लेकर दिए गए बयान की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि...

बंगाल में भाजपा के 35 सीटें जीतने से मिलेगी अवैध घुसपैठ से मुक्ति की गारंटी : अमित शाह

कोलकाता । केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि यदि 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल में भाजपा के 18 सीटें जीतने से अयोध्या में राम...

हमने एक मजबूत एआई ढांचा बनाया है और जल्द ही इसे सार्वजनिक करेंगे : अश्विनी वैष्णव (आईएएनएस साक्षात्कार)

नई दिल्ली । एआई आधारित सामग्री भारत सहित वैश्विक चुनावों के दौरान एक प्रमुख चिंता बन गई है। रेलवे और आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने मंगलवार को कहा कि एआई...

मुख्तार अंसारी की विसरा रिपोर्ट में जहर की पुष्टि नहीं

लखनऊ । गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी की मंगलवार को आई विसरा जांच रिपोर्ट में जहर दिए जाने की पुष्टि नहीं हुई है। जेल में सजा काट रहे मुख्तार...

सलमान खान के घर के बाहर हुए फायरिंग मामले में मुंबई क्राइम ब्रांच ने बरामद की बंदूक और मैगजीन

सूरत । सलमान खान के घर के बाहर हुई फायरिंग मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए मुंबई क्राइम ब्रांच ने सूरत के तापी नदी से बंदूक और मैगजीन बरामद की...

दिल्ली के अलीपुर इलाके में गोगी गैंग के सदस्य की गोली मारकर हत्या

नई दिल्ली । दिल्ली के बाहरी इलाके अलीपुर के दयाल मार्केट में सोमवार को कुख्यात गोगी गिरोह के एक कथित सदस्य की गोली मारकर हत्या कर दी गई, जबकि एक...

आईआईटी का इको-सिस्टम करेगा सुरक्षा बलों का सहयोग

नई दिल्‍ली । सशस्त्र बल चिकित्सा सेवा और आईआईटी दिल्ली, मेडिकल के क्षेत्र में एक दूसरे के साथ मिलकर काम करेंगे। सेना के साथ आईआईटी दिल्ली का यह सहयोग मेडिकल...

editors

Read Previous

जुलाई से दोपहिया वाहनों के दाम बढ़ाएगी हीरो मोटोकॉर्प

Read Next

प्रधान मंत्री ने अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में कहा, ” कोरोना पर आत्मसंतुष्ट होने की जरूरत नहीं ; हमें अपनी पीठ नहीं थपथपाना चाहिए कि कोरोना पर हमने काबू पा लिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com