कमलनाथ-दिग्विजय सिंह के बीच बढ़ रही दूरी !

भोपाल: मध्यप्रदेश में कांग्रेस की एकजुटता के चलते वर्ष 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कर लगभग डेढ़ दशक बाद सत्ता में आ पाई थी, मगर आपसी टकराव ने महज 15 माह में उसके हाथ से सत्ता छीन ली। अब कांग्रेस विपक्ष में है और फिर बड़े नेताओं में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजय सिंह के बीच दूरियां बढ़ने के संकेत मिलने लगे हैं।

राज्य में कांग्रेस की कमजोरी का सबसे बड़ा कारण गुटबाजी रहा है, मगर कमलनाथ के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद बीते तीन साल के कांग्रेस के हाल पर गौर किया जाए तो गुटबाजी लगातार कम नजर आने लगी है। इस दौरान भले ही कांग्रेस को एक अपने बड़े नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को खोना पड़ा है, सिंधिया भाजपा में हैं और मोदी सरकार में मंत्री भी हैं। उसके बाद भी कांग्रेस खुले तौर पर एक दिखती है।

वर्तमान में कांग्रेस कमलनाथ की छाया में ही आगे बढ़ रही है, परंतु बीते कुछ समय में कमलनाथ के केंद्र की राजनीति में जाने की चल रही चर्चाओं के बीच पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की प्रदेश में सक्रियता बढ़ गई है। वे कई इलाकों का दौरा कर चुके हैं, सड़क पर उतरकर प्रदर्शन भी कर चुके हैं और लगातार मुख्यमंत्री को पत्र भी लिख रहे हैं। सिंह की इस बढ़ी सक्रियता के सियासी मायने भी खोजे जा रहे हैं।

कमलनाथ की नजदीकी सूत्रों का कहना है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की बढ़ी सक्रियता से कमलनाथ खुश नहीं हैं, क्योंकि कमलनाथ जब दिल्ली में थे तब दिग्विजय सिंह ने आंदोलनों का नेतृत्व किया। यही कारण है कि कमलनाथ ने दिग्विजय सिंह के भाई और कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह की पर्यावरण पर केंद्रित पुस्तक के विमोचन पर चुटकी ली थी और कहा था कि, अगर दिग्विजय सिंह पर किताब लिखते तो वह सबसे ज्यादा बिकती।

कांग्रेस के ही लोग मानते हैं कि अगर सिंधिया ने कांग्रेस छोड़ी है तो उसकी बड़ी वजह दिग्विजय सिंह रहे हैं और कांग्रेस के सत्ता गवाने के पीछे की बड़ी वजह दिग्विजय सिंह हैं, तो वहीं भाजपा भी इस मामले में दिग्विजय सिंह पर हमले करने से नहीं चूकती। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने दिग्विजय सिंह पर तंज कसते हुए भी कहा, कमलनाथ की सरकार गिराने का श्रेय दिग्विजय सिंह को ही जाता है, और आपको इस पर फक्र है। लेकिन ये कांग्रेस के संस्कार हैं, भाजपा के नहीं। हमें शिवराज जी के नेतृत्व में अपनी सरकार पर गर्व है और हम जनकल्याण की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। आपके गोरख धंधे बंद हो गए, इसलिए पीड़ा होना स्वाभाविक है।

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि, राज्य में अगर दिग्विजय िंसंह और कमल नाथ के बीच बढ़ती दूरी खुलकर सामने आती है तो पार्टी आगामी उप-चुनाव, नगरीय और पंचायत चुनाव में बड़ा नुकसान उठाएगी। वर्तमान में कमल नाथ ने कांग्रेस को एक जुट रखने में सफलता पाई है, मगर कई नेता अपने अस्तित्व को लेकर चिंतित हैं और यही कारण है कि पार्टी को नुकसान पहुंचाने से लेकर नेताओं को नुकसान पहुंचाने वाले बयान आ रहे हैं।

–आईएएनएस

सोशल मीडिया को होना चाहिए जिम्मेदार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने झांसी जिले की नंदिनी सचान द्वारा दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सोशल मीडिया पर अश्लील सामग्री का प्रचार करने...

बांदा के इस स्कूल ने अपने दम पर की बिजली की व्यवस्था

बांदा (उत्तर प्रदेश) : कई पत्र लिखने और सभी से अनुरोध करने के तेरह साल के बाद बांदा के इस सरकारी हाई स्कूल के शिक्षकों और प्रिंसिपल ने आखिरकार खुद...

‘हिमालय को इको सेंसिटिव जोन घोषित करें’

नई दिल्ली : आरएसएस से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच ने संबंधित नागरिकों और विशेषज्ञों के साथ शनिवार को 'इमीनेट हिमालयन क्राइसिस' पर एक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया और हिमालय...

जितने राक्षस हुए हैं, वे ही साधु-संतों को टारगेट करते हैं : मनोज तिवारी

नई दिल्ली: बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक के बाद बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने स्वामी प्रसाद मौर्य पर कटाक्ष करते हुए कहा है कि आप देश और दुनिया का इतिहास...

तलाक के बाद पिता के नहीं आने पर हाईकोर्ट ने महिला को बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दी

बेंगलुरू:कर्नाटक हाईकोर्ट ने एक महिला को उसके बच्चे के साथ ऑस्ट्रेलिया में बसने की इजाजत दे दी है, क्योंकि तलाक के बाद आठ साल तक पिता अपने बच्चे को देखने...

शॉर्ट सेलिंग रिपोर्ट से बाजार में हलचल, एसबीआई ने किया एक्सपोजर का बचाव

मुंबई : भारत के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि अडानी समूह के लिए उसका एक्सपोजर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के बड़े एक्सपोजर फ्रेमवर्क...

आरएसएस प्रमुख के खिलाफ हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस को बहुसंख्यक समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और दो पत्रिकाओं के खिलाफ शिकायत मिली है। हालांकि...

लखनऊ में गणतंत्र दिवस समारोह में दिखा ‘किस्सा कुर्सी का’

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में गणतंत्र दिवस परेड से पहले लखनऊ में 'किस्सा कुर्सी का' का खेल देखने को मिला। मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पूर्व मंत्री मोहसिन...

केरल की ‘रोल मॉडल’ कार्तियानी अम्मा गुजारे के लिए कर रहीं संघर्ष

तिरुवनंतपुरम : भारत में गुरुवार को 74वां गणतंत्र दिवस मनाया गया। नारी शक्ति पुरस्कार की विजेता कार्तियानी अम्मा की केरल की झांकी ने नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में...

निजी स्कूल में पढ़ रही दो बहनों में से एक की फीस देगी राज्य सरकार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यदि दो बहनें किसी निजी स्कूल में पढ़ती हैं तो एक की फीस राज्य सरकार भरेगी। इसके लिए अगले...

सुखोई, राफेल सहित 45 लड़ाकू विमानों ने किया कर्तव्य पथ पर ‘फ्लाई पास्ट’

नई दिल्ली : गणतंत्र दिवस परेड का एक बड़ा रोमांच वायु सेना के जहाजों का फ्लाई पास्ट रहा। सुखोई और राफेल जैसे आधुनिकतम लड़ाकू विमान कर्तव्य पथ पर बेहतरीन फॉरमेशन...

479 कलाकारों ने भरा गणतंत्र दिवस परेड में रंग, अधिकांश झांकियों का शीर्षक ‘नारी शक्ति’

नई दिल्ली : दिल्ली में कर्तव्य पथ पर आई विभिन्न झांकियों में से अधिकांश का शीर्षक इस वर्ष 'नारी शक्ति' रहा। वंदे भारतम नृत्य प्रतियोगिता के माध्यम से चुने गए...

editors

Read Previous

राज कुंद्रा मामले पर कंगना ने किया रिएक्ट, कहा, ‘इसलिए मैं फिल्म उद्योग को गटर कहती हूं’

Read Next

राज कुंद्रा खुद रखते थे पोर्न बिजनेस का पूरा हिसाब, कथित व्हाट्सएप चैट में खुलासा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com