अधिकांश भारतीय सभी धर्मो का सम्मान करते हैं : रिपोर्ट


30 जून, 2021

न्यूयॉर्क: एक व्यापक रिपोर्ट में पाया गया है कि अधिकांश भारतीय सभी धर्मों का सम्मान करते हैं क्योंकि यह ‘वास्तव में भारतीय होने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है’ और लोगों ने माना कि सभी अपने धर्मो का पालन करने के लिए स्वतंत्र हैं।

अमेरिका स्थित प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट के अनुसार, “सहिष्णुता एक धार्मिक और साथ ही नागरिक मूल्य है : भारतीय इस विचार में एकजुट हैं कि अन्य धर्मो का सम्मान करना उनके अपने धार्मिक समुदाय का सदस्य होने का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है।”

रिपोर्ट लगभग 30,000 भारतीयों के साथ आमने-सामने साक्षात्कार पर आधारित है।

मंगलवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है, “भारतीय आमतौर पर महसूस करते हैं कि उनका देश आजादी के बाद के आदर्शो पर खरा उतरा है। एक ऐसा समाज जहां कई धर्मों के अनुयायी स्वतंत्र रूप से रह सकते हैं और अभ्यास कर सकते हैं।”

इसमें कहा गया है कि 85 प्रतिशत हिंदू और 78 प्रतिशत मुस्लिम और ईसाई दोनों इस विचार से सहमत हैं कि सभी धर्मों का सम्मान भारतीय होने का अभिन्न अंग है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस विचार के लिए भारी समर्थन था कि ‘अन्य धर्मों का सम्मान करना उनकी अपनी धार्मिक पहचान का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है।’

इसमें कहा गया है कि 80 फीसदी हिंदू, 75 फीसदी सिख, 79 मुस्लिम, 78 फीसदी ईसाई और 75 फीसदी सिख इस प्रस्ताव से सहमत हैं।

यह विश्वास कि वे अपने धर्म का पालन करने के लिए ‘बहुत स्वतंत्र’ हैं , उनको सभी धर्मों में जबरदस्त समर्थन मिला, जिसमें 91 प्रतिशत हिंदू, 89 प्रतिशत मुस्लिम और ईसाई और 82 प्रतिशत सिख इसका समर्थन करते थे।

प्यू रिसर्च सेंटर, धर्म और समाज पर अग्रणी थिंक टैंक और मतदान संगठनों में से एक, ने कहा कि इसने 2019 के अंत और अगले साल कोविड -19 महामारी के आने से पहले पूरे भारत में 17 भाषाओं में साक्षात्कार आयोजित किए।

मतदान पर आधारित इसकी रिपोर्ट में धार्मिक विश्वास, राजनीति और सामाजिक मुद्दे शामिल हैं और रिपोर्ट का सारांश हिंदी और तमिल में भी जारी किया गया था।

लेकिन एक असंगत टिप्पणी में, रिपोर्ट में पाया गया कि कई हिंदुओं के लिए, हिंदू धर्म का होना और हिंदी बोलना ‘सच्चा भारतीय’ होने के लिए आवश्यक था।

हालांकि, उन विश्वासों को मानने वाले और भाजपा को वोट देने वाले 65 फीसदी हिंदुओं ने यह भी कहा कि धार्मिक विविधता देश के लिए अच्छी बात है।

इसमें कहा गया है कि 64 प्रतिशत हिंदुओं के लिए सही मायने में भारतीय होने के लिए धर्म से संबंधित होना चाहिए और 59 प्रतिशत के लिए हिंदी बोलना आवश्यक है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत के विभाजन के संबंध में व्यापक मतभेद थे। 66 प्रतिशत सिखों और 48 प्रतिशत मुसलमानों ने इसे बुरा माना, जबकि केवल 37 प्रतिशत हिंदुओं और 30 प्रतिशत ईसाइयों ने इस विचार को साझा किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 43 फीसदी हिंदुओं, 30 फीसदी मुसलमानों, 25 फीसदी सिखों और 37 फीसदी ईसाइयों ने कहा कि यह अच्छा है।

जाति की बाधाओं को कमजोर करने के संकेत में, प्यू ने कहा कि अन्य जातियों के 72 प्रतिशत भारतीयों ने कहा कि वे एक दलित को पड़ोसी के रूप में रखने के इच्छुक होंगे।

इसमें कहा गया है कि 27 फीसदी मुसलमानों और 29 फीसदी ईसाइयों ने पुनर्जन्म को महत्वपूर्ण रूप से स्वीकार किया है।

जब इंटर-कास्ट मैरेज की बात आती है, तब भी धार्मिक और जाति के आधार पर कड़ा विरोध होता है।

रिपोर्ट के अनुसार, मुसलमानों का एक बड़ा प्रतिशत, करीब 80 प्रतिशत नहीं चाहता कि उनके धर्म की महिलाएं धर्म से बाहर शादी करे। इसी मामले में हिंदुओ का प्रतिशत 67 है। जिसमें यह भी पाया गया कि 76 प्रतिशत मुसलमान और 65 प्रतिशत हिंदू भी अपने लड़कों के धर्म से बाहर शादी करने के खिलाफ हैं।

प्यू ने बताया कि जब अंतजार्तीय विवाह की बात आती है, तो अधिकांश हिंदू, मुस्लिम, सिख और जैन पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए उन्हें रोकना एक उच्च प्राथमिकता मानते हैं।

–आईएएनएस

रुपये के अब तक के सबसे निचले स्तर पर गिरने पर केटीआर ने पीएम के खिलाफ खोला मोर्चा

हैदराबाद: भारतीय रुपया शुक्रवार को सर्वकालिक निचले स्तर पर जाने के साथ ही तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के कार्यकारी अध्यक्ष के.टी. रामाराव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पुराने ट्वीट्स के...

संयुक्त राज्य अमेरिका के 10 दिवसीय दौर पर जयशंकर, जानिए पूरा कार्यक्रम

वाशिंगटन : विदेश मंत्री एस. जयशंकर रविवार को संयुक्त राज्य अमेरिका के अपने 10 दिवसीय दौरे की शुरूआत कर रहे हैं, जो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की रुकी हुई सुधार...

भारत-पाकिस्तान की ‘बैकचैनल’ वार्ता खत्म हो गई : रिपोर्ट

इस्लामाबाद : पाकिस्तान और भारत के बीच बैकचैनल वार्ता समाप्त हो गई है, क्योंकि दोनों पक्षों ने उन कदमों पर सहमत होने के लिए संघर्ष किया है जो संबंधों में...

भारतीय समकक्ष को चीनी राष्ट्रपति के संदेश के बाद पिघलेगी रिश्ते की बर्फ

बीजिंग : भारत की पंद्रहवीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू शपथ ग्रहण के अवसर पर दुनियाभर के राजनेताओं से बधाई और शुभकामना संदेश मिलना कूटनीतिक शिष्टाचार है। जिस वनवासी समुदाय को दुनिया...

पीओके में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन

पुंछ : पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में अविश्वसनीय रूप से उच्च मुद्रास्फीति और मानवाधिकारों के मुद्दों के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और प्रदर्शनकारियों...

बुद्धा एयर के अधिकारियों ने अयोध्या से जनकपुर के बीच उड़ान सेवा शुरू करने की जताई इच्छा

लखनऊ, 14 मई (आईएएनएस)| नेपाल की विमानन कंपनी बुद्धा एयर प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक विरेन्द्र बहादुर बस्नेत की अगुआई में अधिकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार को लोकभवन में...

व्हाइट हाउस की संचार निदेशक कोरोना पॉजिटिव

वाशिंगटन:व्हाइट हाउस की संचार निदेशक केट बेडिंगफील्ड कोरोना पॉजिटिव हो गई हैं। बेडिंगफील्ड 40 साल की हैं। उन्होंने ट्वीट किया कि उन्होंने बुधवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को एन...

यूजीसी का ट्विटर हैंडल हैक होने पर प्राथमिकी दर्ज

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल को हैक करने के मामले में प्राथमिकी दर्ज की है। आईएएनएस को मिली प्राथमिकी की...

यूक्रेन में फसे छात्र छात्राओं को वापस लाने की मुहीम, प्रभारी मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने दिए यह बड़े निर्देश

देहरादून: प्रभारी मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने सचिवालय में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि यूक्रेन में उत्तराखण्ड के जो छात्र एवं अन्य नागरिक हैं,...

वीके सिंह पोलैंड-यूक्रेन सीमा पर फंसे भारतीय छात्रों से मिले

नई दिल्ली:केंद्रीय मंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) वी.के. सिंह ने बुधवार को पोलैंड-यूक्रेन सीमा पर बुडोमिर्ज का दौरा किया, जहां उन्होंने फंसे हुए भारतीय छात्रों से मुलाकात की और उन्हें भोजन और...

लगभग 17,000 भारतीय नागरिक यूक्रेन सीमा छोड़ चुके हैं : विदेश मंत्रालय

नई दिल्ली: यूक्रेन में भारतीय दूतावास द्वारा एडवाइजरी जारी किए जाने के बाद से लगभग 17,000 भारतीय नागरिक युद्धग्रस्त यूक्रेन को उसकी विभिन्न सीमाओं के रास्ते छोड़ चुके हैं। विदेश...

बेलारूस के राष्ट्रपति ने रूस के अगले हमले के दिये संकेत, मोलडोवा होगा अगला शिकार

नई दिल्ली: बेलारूस के राष्ट्रपति एलेक्जेंडर लुकाशेंको ने बुधवार को भूल से यह खुलासा कर दिया कि रूस यूक्रेन के बाद मोलडोवा पर हमला करने की योजना बना रहा है।...

admin

Read Previous

यूरो कप : इंग्लैंड ने जर्मनी को हराया, क्वार्टर फाइनल में पहुंचा

Read Next

यूपी गेट पर बीजेपी कार्यकर्तार्ओं-किसानों के बीच जमकर मारपीट, गाड़ियों में भी तोड़फोड़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com