अधिकांश भारतीय सभी धर्मो का सम्मान करते हैं : रिपोर्ट


30 जून, 2021

न्यूयॉर्क: एक व्यापक रिपोर्ट में पाया गया है कि अधिकांश भारतीय सभी धर्मों का सम्मान करते हैं क्योंकि यह ‘वास्तव में भारतीय होने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है’ और लोगों ने माना कि सभी अपने धर्मो का पालन करने के लिए स्वतंत्र हैं।

अमेरिका स्थित प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट के अनुसार, “सहिष्णुता एक धार्मिक और साथ ही नागरिक मूल्य है : भारतीय इस विचार में एकजुट हैं कि अन्य धर्मो का सम्मान करना उनके अपने धार्मिक समुदाय का सदस्य होने का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है।”

रिपोर्ट लगभग 30,000 भारतीयों के साथ आमने-सामने साक्षात्कार पर आधारित है।

मंगलवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है, “भारतीय आमतौर पर महसूस करते हैं कि उनका देश आजादी के बाद के आदर्शो पर खरा उतरा है। एक ऐसा समाज जहां कई धर्मों के अनुयायी स्वतंत्र रूप से रह सकते हैं और अभ्यास कर सकते हैं।”

इसमें कहा गया है कि 85 प्रतिशत हिंदू और 78 प्रतिशत मुस्लिम और ईसाई दोनों इस विचार से सहमत हैं कि सभी धर्मों का सम्मान भारतीय होने का अभिन्न अंग है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इस विचार के लिए भारी समर्थन था कि ‘अन्य धर्मों का सम्मान करना उनकी अपनी धार्मिक पहचान का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है।’

इसमें कहा गया है कि 80 फीसदी हिंदू, 75 फीसदी सिख, 79 मुस्लिम, 78 फीसदी ईसाई और 75 फीसदी सिख इस प्रस्ताव से सहमत हैं।

यह विश्वास कि वे अपने धर्म का पालन करने के लिए ‘बहुत स्वतंत्र’ हैं , उनको सभी धर्मों में जबरदस्त समर्थन मिला, जिसमें 91 प्रतिशत हिंदू, 89 प्रतिशत मुस्लिम और ईसाई और 82 प्रतिशत सिख इसका समर्थन करते थे।

प्यू रिसर्च सेंटर, धर्म और समाज पर अग्रणी थिंक टैंक और मतदान संगठनों में से एक, ने कहा कि इसने 2019 के अंत और अगले साल कोविड -19 महामारी के आने से पहले पूरे भारत में 17 भाषाओं में साक्षात्कार आयोजित किए।

मतदान पर आधारित इसकी रिपोर्ट में धार्मिक विश्वास, राजनीति और सामाजिक मुद्दे शामिल हैं और रिपोर्ट का सारांश हिंदी और तमिल में भी जारी किया गया था।

लेकिन एक असंगत टिप्पणी में, रिपोर्ट में पाया गया कि कई हिंदुओं के लिए, हिंदू धर्म का होना और हिंदी बोलना ‘सच्चा भारतीय’ होने के लिए आवश्यक था।

हालांकि, उन विश्वासों को मानने वाले और भाजपा को वोट देने वाले 65 फीसदी हिंदुओं ने यह भी कहा कि धार्मिक विविधता देश के लिए अच्छी बात है।

इसमें कहा गया है कि 64 प्रतिशत हिंदुओं के लिए सही मायने में भारतीय होने के लिए धर्म से संबंधित होना चाहिए और 59 प्रतिशत के लिए हिंदी बोलना आवश्यक है।

रिपोर्ट के अनुसार, भारत के विभाजन के संबंध में व्यापक मतभेद थे। 66 प्रतिशत सिखों और 48 प्रतिशत मुसलमानों ने इसे बुरा माना, जबकि केवल 37 प्रतिशत हिंदुओं और 30 प्रतिशत ईसाइयों ने इस विचार को साझा किया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 43 फीसदी हिंदुओं, 30 फीसदी मुसलमानों, 25 फीसदी सिखों और 37 फीसदी ईसाइयों ने कहा कि यह अच्छा है।

जाति की बाधाओं को कमजोर करने के संकेत में, प्यू ने कहा कि अन्य जातियों के 72 प्रतिशत भारतीयों ने कहा कि वे एक दलित को पड़ोसी के रूप में रखने के इच्छुक होंगे।

इसमें कहा गया है कि 27 फीसदी मुसलमानों और 29 फीसदी ईसाइयों ने पुनर्जन्म को महत्वपूर्ण रूप से स्वीकार किया है।

जब इंटर-कास्ट मैरेज की बात आती है, तब भी धार्मिक और जाति के आधार पर कड़ा विरोध होता है।

रिपोर्ट के अनुसार, मुसलमानों का एक बड़ा प्रतिशत, करीब 80 प्रतिशत नहीं चाहता कि उनके धर्म की महिलाएं धर्म से बाहर शादी करे। इसी मामले में हिंदुओ का प्रतिशत 67 है। जिसमें यह भी पाया गया कि 76 प्रतिशत मुसलमान और 65 प्रतिशत हिंदू भी अपने लड़कों के धर्म से बाहर शादी करने के खिलाफ हैं।

प्यू ने बताया कि जब अंतजार्तीय विवाह की बात आती है, तो अधिकांश हिंदू, मुस्लिम, सिख और जैन पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए उन्हें रोकना एक उच्च प्राथमिकता मानते हैं।

–आईएएनएस

5 मई को पीएम मोदी का अयोध्या दौरा, रामलला के करेंगे दर्शन

नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को अयोध्या जाएंगे। जहां वह राम मंदिर में रामलला का दर्शन और पूजा-अर्चना भी करेंगे। बताया...

जीवनभर हिंदुओं से लड़ाई लड़ने वाले अंसारी रामलला की प्राण प्रतिष्ठा में हुए शामिल, कांग्रेस ने न्योता ठुकराया : पीएम मोदी

नई दिल्ली । लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को मध्य प्रदेश के दमोह पहुंचे। यहां उन्होंने चुनावी जनसभा को संबोधित करते...

पीएम मोदी ने सिकंदराबाद के उज्जैनी महाकाली मंदिर में की पूजा अर्चना

हैदराबाद । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को सिकंदराबाद के उज्जैनी महाकाली मंदिर में पूजा अर्चना की। उन्होंने अपनी तेलंगाना यात्रा के दूसरे दिन की शुरुआत 200 साल से अधिक...

अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण कर खत्म किया पांच सदियों का इंतजार : पीएम मोदी

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के 10 वर्षों के कामकाज और उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा है कि उनकी सरकार ने सदियों से लटके काम...

झारखंड में राम मंदिर या स्थानीय मुद्दों को मिलेगी प्रमुखता, ‘अबकी बार 400 पार’ में कहां अडंगा ?

रांची । 22 जनवरी को अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा के दिन देश की हिंदी पट्टी में धार्मिक आस्था का जो ज्वार उमड़ा था, झारखंड भी उससे अछूता नहीं...

बिहार हुआ राममय, मंदिर सजे, दीपोत्सव की तैयारी

पटना । अयोध्या के श्री राम मंदिर में भगवान राम के बाल स्वरूप के विग्रह की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर पूरा बिहार राममय हो गया है। लोगों में उत्साह की...

रामलला के मंदिर का निर्माण भारतीय समाज के शांति, धैर्य, आपसी सद्भाव, समन्वय और परिपक्वता का भी प्रतीक : पीएम मोदी

अयोध्या/नई दिल्ली । अयोध्या के राम मंदिर में भगवान राम के प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान कार्यक्रम के संपन्न हो जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों और दुनिया के सभी...

आईटीसी के आशीर्वाद स्वस्ति घी का प्राण प्रतिष्ठा में उपयोग

नई दिल्ली । अयोध्या में भगवान राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह के पवित्र अवसर के दौरान आईटीसी का घी ब्रांड, आशीर्वाद स्वस्ति, मंदिर में 'प्रेम की सुगंध' फैली। भक्ति...

मेक्सिको में खुला पहला राम मंदिर, अमेरिकी पुजारी ने किया ‘प्राण प्रतिष्ठा’

न्यूयॉर्क । अयोध्या में सोमवार को भव्य मंदिर उद्घाटन समारोह के अनुरूप, मेक्सिको के क्वेरेटारो शहर को भगवान राम को समर्पित अपना पहला मंदिर मिल गया, जिसकी 'प्राण प्रतिष्ठा' समारोह...

प्राण प्रतिष्ठा के बाद दर्शन के लिए सपरिवार जाऊंगा अयोध्या : जेपी नड्डा

नई दिल्ली । भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने 22 जनवरी को अयोध्या में होने जा रहे राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने के निमंत्रण के...

श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के पांचवें दिन हुई वास्तु पूजा

अयोध्या । श्रीराम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान शनिवार को पांचवें दिन सुबह 9 बजे से शुरू हुआ, जो शाम तक चला। प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान 16 जनवरी को...

पीएम मोदी ने रामेश्वरम के शिव मंदिर में की पूजा-अर्चना

चेन्नई । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को रामेश्वरम में रामनाथस्वामी मंदिर का दौरा किया और पूजा-अर्चना की। रामनाथस्वामी मंदिर के मुख्य देवता भगवान शिव हैं और व्यापक मान्यता है...

admin

Read Previous

अफगानिस्तान के 19 अवैध अप्रवासी इस्तांबुल में हिरासत में लिए गए

Read Next

सरकार ने 1.87 लाख करोड़ रुपये के अतिरिक्त खर्च के लिए संसद की मंजूरी मांगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com