1. हमारी पसंद

हमारी पसंद

प्यार किया है कि सौदा कोई ! तुझे पाया है सबकुछ खोने के बाद !! — शम्स परवेज़

हाँ याद मुझे तुम कर लेना आवाज़ मुझे तुम दे लेनाइस राह-ए-मोहब्बत में कोई दरपेश जो मुश्किल आ जाए –बहज़ाद लखनवी

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन दिलके बहलाने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है —मिर्ज़ा ग़ालिब

देखो ये मेरे ख़्वाब थे देखो ये मेरे ज़ख़्म हैंमैं ने तो सब हिसाब-ए-जाँ बर-सर-ए-आम रख दिया –अहमद फ़राज़

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहेजब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों–बशीर बद्र

दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है –फैज़ अहमद फ़ैज़

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com