दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है

लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है

–फैज़ अहमद फ़ैज़

जहाँ भी देखा वहीँ पाया तुझको जान-ए-विसालतेरी निगाह का परतो कहाँ कहाँ न मिला ----मसूद हुसैन (आज उर्दू के मशहूर साहित्यकार और शायर मसूद हुसैन की १०४ वीं जयंती हैl)

प्यार किया है कि सौदा कोई ! तुझे पाया है सबकुछ खोने के बाद !! -- शम्स परवेज़

हाँ याद मुझे तुम कर लेना आवाज़ मुझे तुम दे लेनाइस राह-ए-मोहब्बत में कोई दरपेश जो मुश्किल आ जाए --बहज़ाद लखनवी

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन दिलके बहलाने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है ---मिर्ज़ा ग़ालिब

देखो ये मेरे ख़्वाब थे देखो ये मेरे ज़ख़्म हैंमैं ने तो सब हिसाब-ए-जाँ बर-सर-ए-आम रख दिया --अहमद फ़राज़

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहेजब कभी हम दोस्त हो जाएँ तो शर्मिंदा न हों--बशीर बद्र

admin

Read Previous

बिहार के बेहतरबनाने के लिए सरकार के पास कोई रोड मैप नहीं-चिराग

Read Next

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com