खोरी से लेकर अल बूस्तान तक लोग एक ही दर्द के मारे

27 जून, 2021

नई दिल्ली: साम्राज्यवादी ताक़तें सिर्फ़ लक्षद्वीप या दिल्ली के पास खोरी में ही नहीं ग़रीबों और मेहनतकशों को उजाड़ने पर आमादा हैं। ऐसी ताक़तें दुनिया के हर कोने में कहीं न कहीं लोगों को उजाड़ रही हैं। सुदूर फिलिस्तीन के अल बूस्तान बस्ती और खोरी या लक्षद्वीप के मूल निवासियों का दर्द एक जैसा है। अल बूस्तान वो बस्ती है जो यरुशलम के पूर्वी इलाके में स्थित सिलवन उपनगर में पड़ती है। यहां के लोगों को 48 घंटे में यह इलाका छोड़ने का आदेश इस्राइली सरकार ने दिया है।

दिल्ली से लगते हरियाणा के फ़रीदाबाद बॉर्डर पर खोरी में क़रीब एक लाख लोगों को कभी भी उजाड़ा जा सकता है। खोरी इलाक़े में वन विभाग की ज़मीन पर करीब 30 साल से अवैध बस्ती बसी हुई है। हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने इस बस्ती हटाने का आदेश दिया है। दूसरी तरफ़ इसी इलाक़े में सरकारी ज़मीन पर अमीरों के अवैध फ़ॉर्म हाउस, प्राइवेट यूनिवर्सिटी, स्कूल, कॉलेज. बाबाओं के आश्रम हैं, उन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। खोरी में ज़्यादातर यूपी, बिहार के मेहनतकश लोग रहते हैं जो आसपास दिल्ली-फ़रीदाबाद के कारख़ानों में काम करते हैं या अपने हुनर का कोई काम करते हैं।

अल बूस्तान और खोरी का दर्द एक जैसा है।

यरुशलम म्युनिसिपैलिटी पर इस्राइल का कब्जा है। यहां 1500 फिलिस्तीनियों के 124 परिवार रहते हैं। आप सोच रहे होंगे कि ऐसी बस्तियां तो आए दिन उजड़ रही हैं, फिर इसका चर्चा क्यों । दरअसल, फिलिस्तीनी मूल के पत्रकार दुनिया के जिस भी हिस्से में रहते हैं, उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील जारी कर अल बूस्तान को बचाने की अपील की है। फिलिस्तीनी मूल की अमेरिकी पत्रकार मुना हौव्वा ने कुछ तस्वीरें और वहां की कहानी मुझसे भी शेयर की हैं।

अल बूस्तान का ऐतिहासिक महत्व है। बाइबल के मुताबिक यहां पर हजरत ईसा ने एक नेत्रहीन शख्स को ठीक किया था। हिब्रू (इस्राइलियों की भाषा) में लिखी गई बाइबल में भी इस घटना का जिक्र है। इस्राइल हुकूमत अल बूस्तान को उजाड़ कर यहूदी थीम पार्क बनाना चाहती है। वो उस ऐतिहासिक कस्बे पर अपना ठप्पा लगाना चाहती है। अल बूस्तान के मूल निवासी मुस्लिम हैं। उनकी मान्यता है कि हजरत ईसा जब आएंगे तो इसी रास्ते से यरुशलम में प्रवेश करेंगे। वो अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए अल बूस्तान का वजूद जिन्दा रखना चाहते हैं ताकि पैगम्बर ईसा का स्वागत किया जा सके। बता दें कि कुरान हजरत ईसा को एक ऐसी अहम शख्सियत के रूप में देखता है जो पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब से बहुत पहले आए थे। कुरान में ईसा को जन्म देने वाली मदर मरियम का भी जिक्र है।

पत्रकार मुना हौव्वा बताती हैं कि अल बूस्तान के 124 परिवारों में हर किसी की एक कहानी है। फखरी अबू दियाब की तीन पीढ़ी की कहानियां अल बूस्तान में बिखरी हुई हैं। फखरी पेशे से अकाउंटटेंट हैं और सिलवन भूमि रक्षा समिति के प्रवक्ता भी हैं। उनका और उनके भाई नादिर अबू दियाब का घर उन मकानों में शामिल है, जिन्हें अगले 48 घंटे में गिरा दिया जाएगा। उनको समझ नहीं आ रहा है कि वो अपना, भाई और चचेरे भाइयों के 30 लोगों के परिवार को लेकर अब कहां शरण लेंगे। हालांकि यरुशलम नगर निगम ने कहा है कि यहां से उजाड़े जाने वालों के लिए एक मैदान में हमने टेंट लगा दिए हैं।

खालिद अल जीर का घर इस्राइल के दक्षिणपंथी कब्जाधारियों ने तो 2018 में ही गिरा दिया था। उन्होंने एक पहाड़ी पर गुफा तलाशी। छेनी-हथौड़ी से पत्थरों के बीच एक दरवाजा बनाया और अपने बच्चों के साथ उसी गुफा में शरण ले रखी है। इस्राइली कब्जाधारी फिर बुलडोजर लेकर उस गुफा को तोड़ने आए। लेकिन खालिद के विरोध पर लौट गए। खालिद ने मुना हौव्वा से कहा कि अब वो दूसरा घर कभी नहीं बना पाएंगे क्योंकि अभी तो पेट भरने की समस्या सामने है।

मुना हौव्वा इस युवक को नहीं जानतीं लेकिन उसकी परेशानी उन्हें याद है। । 16 जुलाई को उस युवक की शादी की तारीख पड़ी है। वो जब शादी की तैयारियों में व्यस्त था तो यरुशलम नगर निगम का नोटिस आया कि अपना घर खाली करो, नहीं तो गिरा दिया जाएगा। उसे इस नोटिस की धमकी पर जब तक यकीन होता, एक जेसीबी पहुंच चुकी थी और उसने अपना पीला पंजा उसके घर पर गड़ा दिया था।

मुना हौव्वा कहती हैं कि दुनिया ने फिलिस्तीन को अकेला छोड़ दिया है। हालांकि इसके बावजूद अमेरिका में कुछ लोग कोशिश कर रहे हैं। यूएस कांग्रेस के 73 सांसदों, 600 बुद्धिजीवियों, वामपंथी डेमोक्रेट्स ने बाइडेन को पत्र लिखकर कहा है कि फिलिस्तीन से इस्राइल का नाजायज कब्जा खत्म किया जाए। अमेरिका के अधिकतर लोग इस्राइल मुक्त फिलिस्तीन देखना चाहते हैं। अमेरिकियों ने बाइडेन से पूछा है कि आखिर किस इंतजार में हैं आप।

एमनेस्टी इंटरनैशनल ने एक रिपोर्ट जारी कर बताया कि फिलिस्तीनियों को उजाड़ने के लिए किस बर्बर तरीके से इस्राइली पुलिस और सेना अपना आपरेशन वहां चला रही है। एमनेस्टी ने इस्राइली पुलिस से भिड़ते फिलिस्तीनियों की हिला देने वाले फोटो और वीडियो जारी किए हैं। एमनेस्टी ने कहा कि हमने 20 मामलों के ऐसे दस्तावेज तैयार किए हैं, जहां इस्राइली पुलिस फिलिस्तीनियों पर बर्बर तरीके इस्तेमाल कर उन्हें उजाड़ रही है। एमनेस्टी ने कहा कि इस्राइली पुलिस किसी भी समय किसी भी फिलिस्तीनी को बिना कोई नोटिस दिए उठा ले जाती है। हिरासत में उन्हें प्रताड़ित किया जाता है। प्रदर्शन करने पर सेना का इस्तेमाल किया जाता है।

इस्राइली मीडिया के मुताबिक सिलवन इलाके में इस्राइली सरकार ने दक्षिणपंथी गुट एतरत कोहानिम को यहूदी आबादी को बसाने की जिम्मेदारी सौंपी है। यह दक्षिणपंथी गुट किसी भी फिलिस्तीनी घर को निशाने पर लेता है। वहां कब्जा करता है और उसका साथ व समर्थन इस्राइली पुलिस और सेना देती है। उस घर पर कब्जा करके किसी यहूदी परिवार के हवाले उस घर को कर दिया जाता है।

(यूसुफ किरमानी वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं)

–इंडिया न्यूज़ इस्ट्रीम

26 साल बाद भी पीड़ित परिवार न्याय के दरवाजे पर दे रहे दस्तक

नई दिल्ली : नीलम और शेखर कृष्णमूर्ति व उपहार सिनेमा अग्निकांड के अन्य पीड़ितों के परिवारों को घटना के 26 साल बाद भी इंसाफ की तलाश है। कृष्णमूर्ति का घर...

अधिकार से वंचित होने पर व्हाट्सएप से प्रॉक्सी सर्वर के जरिए जुड़ें

2023-01-06 .नई दिल्ली: मेटा के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने गुरुवार को दुनियाभर के उपयोगकर्ताओं के लिए एक प्रॉक्सी समर्थन शुरू किया, जैसे ईरान और अन्य जगहों पर लाखों लोग स्वतंत्र...

राजस्थान में बेटियों की नीलामी मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने लिया संज्ञान

नई दिल्ल : स्टांप पेपर पर राजस्थान की लड़कियों की नीलामी की खबरों पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने शुक्रवार...

गाजियाबाद सामूहिक दुष्कर्म मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने गठित की टीम, परिवार से करेगी मुलाकात

नई दिल्ली : गाजियाबाद में भाई के घर जन्मदिन पार्टी मनाने आई 38 वर्षीय महिला के साथ पांच लोगों ने दरिंदगी मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए...

जेल में महिला कैदियों को मिली ‘करवा चौथ’ व्रत रखने की इजाजत

लखनऊ : लखनऊ जेल में करीब 50 महिला कैदी 'करवा चौथ' के मौके पर गुरुवार को व्रत रख रही हैं। उत्तर प्रदेश के जेल मंत्री धर्मवीर प्रजापति द्वारा इस संबंध...

जम्मू-कश्मीर : पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों को जमीन का मालिकाना हक देगी केंद्र सरकार

जम्मू : केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों (डब्ल्यूपीआर) को जमीन का मालिकाना हक देने का फैसला किया है। अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद, केंद्र...

याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा : हिजाब फर्ज है, इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं

नई दिल्ली : याचिकाकर्ताओं ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस्लामी धार्मिक ग्रंथ के मुताबिक हिजाब पहनना 'फर्ज' (कर्तव्य) है और अदालतें इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं।...

बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार के दोषीयों की रिहाई, महिलाओं का अपमान: सामजिक कार्यकर्ता

भारत के 75वें स्वतंत्रा दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के निर्माण में महिलाओं की भूमिका पर दिया. लेकिन इसी दिन गुजरात सरकार ने 11, सामूहिक बलात्कार और हत्या...

मप्र सरकार की बुलडोजर कार्रवाई का विरोध करने वाले मुस्लिम एक्टिविस्ट पर एनएसए के तहत कार्रवाई

भोपाल : खरगोन में सांप्रदायिक हिंसा के बाद मध्य प्रदेश सरकार के बुलडोजर अभियान के खिलाफ आवाज उठाने वाले एक एक्टिविस्ट को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत गिरफ्तार किया...

यूपी : जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक है, जो बताता है कि जेलों में भीड़भाड़ क्यों है। जेल विभाग...

ग्रेड पे विवाद: भारी बारिश में धरने पर बैठी सस्पेंड पुलिसकर्मी की पत्नी, बच्चों के साथ आत्मदाह की दी धमकी

देहरादून : उत्तराखंड पुलिसकर्मियों के परिजनों ने प्रेस वार्ता कर ग्रेड पे 4600 किए जाने की मांग उठाई थी, जिसके बाद अनुशासनहीनता का हवाला देकर तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर...

कर्नाटक सीरियल किलिंग मामला : मुस्लिम संगठनों ने सकार पर लगाया भेदभाव का आरोप

दक्षिण कन्नड़ : मुस्लिम संगठनों ने कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में मारे गए मुस्लिम और हिंदू युवाओं के परिवारों को मुआवजा देने के मामले में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार द्वारा...

admin

Read Previous

मायावती ने एआईएमआईएम के साथ गठबंधन से इनकार किया

Read Next

उत्तर प्रदेश में पत्रकार और पत्रकारिता दोनों संकट में

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com