यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कम करने के लिए पहला संशोधन किया गया: पीएम मोदी

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को संविधान दिवस पर लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस दिन संविधान सभा ने संविधान पारित किया था और यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि संविधान के अधिकार अभिव्यक्ति की आजादी को कम करने के लिए पहला संशोधन किया गया।

उन्होंने कहा, “यह दिन, 26 नवंबर, एक और मायने में बेहद महत्वपूर्ण है। इसी दिन 1949 में संविधान सभा ने भारत के संविधान को पारित किया था और अपनाया था।”

प्रधानमंत्री ने अपने मासिक प्रसारण कार्यक्रम ‘मन की बात’ की 107वीं कड़ी में कहा, ”2015 में जब हम बीआर अंबेडकर की 125वीं जयंती मना रहे थे, तब हमने इसे संविधान दिवस के रूप में मनाने का सोचा था और तब से हम इसे संविधान दिवस के रूप में मनाते आ रहे हैं और मैं देश के लोगों को बधाई देता हूं।” .

प्रधानमंत्री ने संविधान समिति के प्रयासों को याद करते हुए कहा, ”हम सभी जानते हैं कि संविधान को तैयार करने में दो साल ग्यारह महीने और अठारह दिन लगे थे। सच्चिदानंद जी संविधान तैयार करने वाले सबसे उम्रदराज़ सदस्य थे और उन्होंने 60 देशों के संविधान का अध्ययन किया और तब भारतीय संविधान का मसौदा तैयार किया गया था। इसे अंतिम रूप दिए जाने के बाद इसमें 2,000 से अधिक संशोधन हुए और 1950 में संविधान को अपनाने के बाद से अब तक 106 से अधिक बार संविधान में संशोधन किए जा चुके हैं।”

उन्होंने कहा कि समय, परिस्थिति और परिस्थिति के अनुसार कई सरकारों ने संविधान में संशोधन किये।

प्रधानमंत्री ने पिछली सरकारों पर कटाक्ष करते हुए कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पहला संशोधन भाषण की स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को कम करने के लिए किया गया था। इसी तरह 44वें संशोधन में आपातकाल के दौरान की गई गलतियों को सुधारा गया।”

उन्होंने आगे कहा कि यह भी उत्साहजनक है कि संविधान समिति में नामांकित 15 सदस्य महिलाएं थी।

उन्होंने कहा, “हंसा मेहता उनमें से एक थीं जिन्होंने महिलाओं के अधिकारों और न्याय के लिए आवाज उठाई थी। उस समय, भारत उन कुछ देशों में से एक था जहां महिलाओं को संविधान द्वारा वोट देने का अधिकार दिया गया था।”

उन्होंने यह भी कहा कि राष्ट्र निर्माण में जब सबकी भागीदारी होगी, तभी सबका विकास हो सकेगा।

पीएम मोदी ने कहा, ”मुझे संतोष है कि संविधान निर्माताओं के उसी दृष्टिकोण का पालन करते हुए, भारत की संसद ने अब ‘नारी शक्ति वंदन अधिनियम’ पारित किया है।” उन्होंने कहा कि यह अधिनियम उनकी इच्छा शक्ति का उदाहरण है और एक वरदान साबित होगा। भारत के विकास को और अधिक ताकत देना।

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि जैसे ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की सफलता प्रेरणा बन रही है; ‘वोकल फॉर लोकल’ की सफलता ‘विकसित भारत-समृद्ध भारत’ के द्वार खोल रही है।

उन्होंने कहा कि हाल ही में दिवाली, भाई दूज और छठ पूजा के त्योहारों के दौरान 4 लाख करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार हुआ और लोगों ने देश में बने उत्पादों को उत्सुकता से खरीदा।

वोकल फॉर लोकल कार्यक्रम हमारी अर्थव्यवस्था को ताकत दे रहा है और रोजगार की गारंटी भी बन रहा है।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अब बच्चे भी उत्पादों की पैकिंग की तलाश में रहते हैं कि क्या यह भारत में बना है और कई लोग अब उत्पादों को ऑनलाइन ऑर्डर करते समय उत्पादों के मूल देश की भी जांच करते हैं।

प्रधानमंत्री ने लोगों से अपनी शादियों के लिए विदेशी स्थलों को चुनने पर भी सवाल उठाया और पूछा कि क्या यह जरूरी है।

उन्होंने कहा, “अगर हम इन समारोहों को यहां लोगों के बीच मनाएंगे तो देश का पैसा देश में ही रहेगा और कई लोगों को विवाह समारोहों के दौरान कुछ करने का मौका मिलेगा।”

डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देने के सरकार के कदम की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह दूसरी दिवाली है जब उत्पाद खरीदने के लिए नकदी का इस्तेमाल कम हुआ है।

उन्होंने कहा, “अब लोगों का रुझान डिजिटल भुगतान की ओर बढ़ रहा है, जो अधिक उत्साहजनक है।”

उन्होंने लोगों से यह निर्णय लेने का भी आग्रह किया कि एक महीने तक वे नकद भुगतान नहीं करेंगे और भुगतान के लिए डिजिटल लेनदेन का उपयोग करेंगे।

उन्होंने कहा, ”डिजिटल क्रांति ने अब देश में इसे संभव बना दिया है।”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि बुद्धिमत्ता, विचार और नवाचार भारत के युवाओं की पहचान बन गए हैं।

प्रौद्योगिकी के संयोजन से उनकी बौद्धिक संपदा भी बढ़ रही है और यह देश की क्षमता को बढ़ाने के लिए एक बड़ा कदम है।

आपको यह जानकर खुशी होगी कि 2022 में भारत से पेटेंट आवेदनों में 31 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

–आईएएनएस

यूएई दौरे पर पीएम मोदी, कहा- ‘हमें प्रवासी भारतीयों पर गर्व है’

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार से यूएई के दो दिवसीय दौरे पर रहेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि वो प्रवासी भारतीय की कोशिशों को देखकर अभिभूत हैं। भारतीय प्रवासियों...

सुप्रीम कोर्ट ने भारत के जीवंत लोकतंत्र को मजबूत किया : पीएम मोदी

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट सभागार में शीर्ष अदालत के डायमंड जुबली (हीरक जयंती) समारोह को संबोधित किया। पीएम ने कहा कि...

असहमति को दबाया जा रहा है : संविधान दिवस पर खड़गे

नई दिल्ली । कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने रविवार को कहा कि भारत का संविधान लोकतंत्र की जीवन रेखा है और आज इसे कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा...

एनएचआरसी ने मणिपुर सरकार को जान गंवाने वाले लोगों को चार सप्ताह के भीतर मुआवजा देने का निर्देश दिया

गुवाहाटी/इम्‍फाल । राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के अध्यक्ष न्यायमूर्ति अरुण कुमार मिश्रा (सेवानिवृत्त) ने शुक्रवार को कहा कि आयोग ने मणिपुर सरकार से जान गंवाने वाले लोगों के लंबित मामलों...

यूपी सरकार ने अधिकारियों से कहा, समाचार पत्रों में प्रकाशित ‘नकारात्मक समाचार’ की जांच करें

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार ने मंडलायुक्तों और जिलाधिकारियों को अपने क्षेत्रों में दैनिक समाचार पत्रों में प्रकाशित होने वाली "नकारात्मक खबरों" की जांच करने और मॉनिटरिंग के लिए इसका...

डीसीडब्ल्यू प्रमुख ने मणिपुर सरकार से उनकी यात्रा में सहयोग का किया आग्रह

नई दिल्ली : दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने रविवार को कहा कि वह यौन उत्पीड़न पीड़िताओं से मिलने के लिए मणिपुर जाएंगी। उन्होंने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री...

एससी को संरक्षण देने में बंगाल सरकार की विफलता की रिपोर्ट राष्ट्रपति को सौंपेंगे: एनसीएससी

कोलकाता : राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग (एनसीएससी) के उपाध्यक्ष अरुण हलदर ने गुरुवार को कहा कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी मिदनापुर जिले में भाजपा बूथ अध्यक्ष की हत्या अनुसूचित जाति,...

भारतीय को गर्भवती सूडानी पत्नी को भारत लाने की अनुमति नहीं, मदद की गुहार

नई दिल्ली : संकटग्रस्त सूडान में एक भारतीय नागरिक को खार्तूम में भारतीय मिशन द्वारा उसके निकासी अनुरोध को तो मंजूर कर लिया गया है, लेकिन सूडानी नागरिक उसकी गर्भवती...

प्रख्यात ट्रांसजेंडर एक्टिविस्ट कल्कि सुब्रमण्यम ने किया समलैंगिक विवाह का समर्थन

चेन्नई : भारतीय ट्रांसजेंडर कार्यकर्ता, लेखक, चित्रकार, कवि और प्रेरक वक्ता कल्कि सुब्रमण्यम सहोधारी फाउंडेशन की संस्थापक हैं जो ट्रांसजेंडर समुदाय के अधिकारों के लिए काम करता है। उन्होंने देश...

एंडोरा से ताइवान तक, 34 देशों में समलैंगिक विवाह को है मान्यता

उच्चतम न्यायालय ने कहा है कि एक व्यक्ति की यौन प्रकृति जन्मजात है न कि शहरी या अभिजात्य। शीर्ष अदालत की यह टिप्पणी केंद्र सरकार के उस तर्क को खारिज...

शहीदों की विधवाओं ने राजस्थान के मुख्यमंत्री से कहा, देवरों को नौकरी की मांग बेतुकी

जयपुर : राजस्थान में पुलवामा के शहीदों की विधवाओं की मांग का विरोध करते हुए कि उनके देवरों को सरकारी नौकरी दी जानी चाहिए, राज्य में शहीदों की विधवाओं के...

आईपीटीए ने यूपी पुलिस से नेहा सिंह राठौर का नोटिस वापस लेने को कहा

लखनऊ : इंडियन पीपुल्स थिएटर एसोसिएशन (आईपीटीए) की राष्ट्रीय समिति ने भोजपुरी लोक गायिका नेहा सिंह राठौड़ को उनके लोकप्रिय गीत 'यूपी में का बा' पर पुलिस नोटिस दिए जाने...

admin

Read Previous

असहमति को दबाया जा रहा है : संविधान दिवस पर खड़गे

Read Next

नेतन्याहू ने क‍िया गाजा का दौरा, हमास को खत्म करने का संकल्‍प

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com