बिहार : जहां धधकती है चिताएं, वहां कुछ युवा जला रहे हैं शिक्षा का अलख

मुजफ्फरपुर, 2 अगस्त (आईएएनएस)| कहा जाता है कि ‘जिंदा हो तो ताकत रखो बाजुओं में लहरों के खिलाफ तैरने की, क्योंकि लहरों के साथ बहना तो लाशों का काम है।’ ऐसा ही कुछ बिहार के मुजफ्फरपुर में तीन दोस्त अपने मजबूत हौसले के साथ करते दिख रहे हैं।

जिस जगह पर जाना लोग पसंद नहीं करते, वहां पर युवा सुमित अपने दो अन्य दोस्तों के साथ मिलकर गरीब बच्चों के बीच शिक्षा की अलख जगा रहे हैं।

बात मुजफ्फरपुर शहर के सिकन्दरपुर स्थित मुक्तिधाम (श्मशान घाट) की हो रही है। इस इलाके के गरीब परिवार के बच्चे अक्सर आने वाले शवों पर से बताशा (एक प्रकार की मिठाई), फल और पैसे चुनते थे। लेकिन, आज वे ‘दो एकम दो, दो दूनी चार पढ़’ रहे हैं। यह सब मुमकिन हुआ है जिज्ञासा समाज कल्याण के संस्थापक सुमित की बदौलत।

सुमित आईएनएस को बताते हैं, “वर्ष 2017 में एक परिचित की मौत हो गई थी। शव के दाह संस्कार को लेकर वह भी मुक्तिााम आए थे। उसी समय देखा कि किस तरह बच्चे शव पर से बताशा और फल चुन रहे हैं। यह देखकर उन्हें बहुत बुरा लगा और उन्होंने इन बच्चों के लिए कुछ करने को ठान ली।”

उन्होंने बताया, “पढ़ने-लिखने और खेलने की उम्र में ये बच्चे अपने पेट के लिए मारामारी कर रहे थे। यहीं से उनके मन मे जिज्ञासा जगी की क्यों न इन्हें साक्षर बनाया जाए।”

सुमित बताते हैं कि उन्होंने योजना तो बना ली, लेकिन इन गरीब बच्चों के मां-बाप के पास इतना पैसे नहीं थे कि वे इनकी पढ़ाई पर खर्च कर सके और बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल भेजते।

सुमित बताते हैं, “मैंने इस समस्या के समाधान के लिए खुद इन बच्चों को साक्षर करने का मन बनाया और मुक्तिधाम स्थित महाकाल मंदिर के पुजारी से संपर्क किया। पुजारी सोखी लाल मंडल से जब इस संदर्भ में बातचीत की तब उन्होंने खुद ही आसपास के लोगों को बुलाया और उन्हें बच्चों की पढ़ाई के विषय में जागरूक किया। इसके बाद अभिभावक भी तैयार हो गए। ”

सुमित बताते हैं कि वहीं एक चबूतरे पर सप्ताह में तीन दिन स्कूल लगने लगी। उन्होंने बताया कि प्रारंभ में एक-एककर कर 46 बच्चे जमा हो गए और इन्हें मुफ्त शिक्षा मिलने लगी।

सुमित ने बताया कि कि इसके बाद उन्होंने अपने दोस्तों अभिराज कुमार और सुमन सौरभ को भी पढ़ाने के लिए तैयार कर लिया। उन्होंने बताया कि आज बच्चों की संख्या बढ़कर आज 81 हो गयी है।

सुमित आईएएनएस से कहते हैं, “कोरोना काल में स्कूल तो नहीं लग रहा है लेकिन हम तीनों दोस्त रोज किसी न किसी छात्र के घरों में पुहंचते हैं और उनसे बातचीत करते रहते हैं। कुछ टास्क भी दे देते हैं। फिर उसकी जांच भी करते हैं।”

इस कार्य में मुज़फ्फरपुर में लोगों का साथ देखकर उत्साहित सुमित पश्चिम चंपारण में भी गरीब बस्ती में गरीब बच्चों के लिए तीन स्कूल खोल रखे हैें।

मुज़फ्फरपुर के भाजपा सांसद अजय निषाद, वार्ड पार्षद रमेश केजरीवाल सहित कई समाजसेवी भी इस स्कूल को चलाने में अब सुमित की मदद कर रहे हैं। सांसद स्वयं हर साल अपनी शादी की सालगिरह यहीं पर मनाते हैं। गरीब बच्चों के बीच कपड़े और मिठाईयां भी बांटते हैं।

सुमित बताते हैं, “इस स्कूल में बच्चों को पठन-पाठन के साथ देशभक्ति की शिक्षा भी दी जाती है। स्कूल की शुरुआत राष्ट्र गान गाकर किया जाता है। बच्चों में इससे देशभक्ति का भाव भी जगता है। यहां बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ संस्कार की सीख भी दी जाती है।”

इस स्कूल से बच्चों के अभिभावक भी खुश हैं।

–आईएएनएस

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

भारतीय मूल के ब्रिटिश पुलिस अधिकारी ने की प्रवासियों पर गृह सचिव के विचार की आलोचना

लंदन : भारतीय मूल के एक वरिष्ठ ब्रिटिश पुलिस अधिकारी नील बसु ने प्रवासियों पर गृह सचिव सुएला ब्रेवरमैन की टिप्पणियों की आलोचना करते हुए कहा कि यह अविश्वसनीय और...

editors

Read Previous

मप्र में परिवार को साहूकारों के चंगुल से मुक्त कराने में जुटी आधी आबादी

Read Next

वैक्सीन टीम को देख ओडिशा के आदिवासी जंगलों की ओर भागे

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com