योगी की जनसंख्या नियंत्रण नीति से भा जा पा को विधान सभा चुनाव में फ़ायदा हो सकता है


नई दिल्ली: प्रदेश में जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर योगी सरकरा ने फॉर्मूला तैयार कर लिया है। इसके तहत दो से ज़्यादा बच्चे वालों को न तो सरकारी नौकरी मिलेगी और न ही वो स्थानीय निकायों, ग्राम पंचायत और ज़िला पंचायत का कोई चुनाव लड़ पाएंगे। उत्तर प्रदेश की राज्य विधि आयोग ने सिफारिश की है कि एक बच्चे की नीति अपनाने वाले माता पिता को कई तरह की सुविधाएं दी जाएं, वहीं दो से अधिक बच्चों के माता-पिता को सरकारी नौकरियों से वंचित रखा जाए। साथ ही स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने से रोकने समेत कई तरह की पबंदी लगाने की सिफारिश भी की गई है।

मसौदे पर जनता से मांगी राय
उत्तर प्रदेश राज्य विधि आयोग ने जनसंख्या नियंत्रण कानून का मसौदा तैयार करके आम लोगों से इस पर सुझाव मांगे हैं। आयोग ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर इस मसौदे को अपलोड़ करके लोगों 19 जुलाई तक आपत्तियां व सुझाव भी मांगे हैं। लोगों का राय सामने आने पर योगी सरकार इसे लागू करने या नहीं लागू करने पर आख़िरी फैसला करेगी। अगर योगी सरकार इस फॉर्मूले को हरी झंडी दे देती है तो फिर यूपी में जनसंख्या नियंत्रण की दिशा में बड़ा क़दम माना जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का मूड इसे विधानसभा चुनाव से पहले लागू करने का लगता है।

दूसरे राज्यों से है प्रेरित
राज्य विधि आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति एएन मित्तल के मार्ग-दर्शन में यह मसौदा तैयार किया गया है। आपत्तियों एवं सुझावों का अध्ययन करने के बाद संशोधित मसौदा राज्य सरकार को सौंपा जाएगा। देश के अन्य राज्यों में लागू क़ानूनों का अध्ययन करने के बाद यह मसौदा तैयार किया गया है। इसे उत्तर प्रदेश जनसंख्या (नियंत्रण, स्थिरीकरण एवं कल्याण) एक्ट 2021 के नाम से जाना जाएगा। यह 21 वर्ष से अधिक उम्र के युवकों और 18 वर्ष से अधिक उम्र की युवतियों पर लागू होगा। यह मसौदा आयोग की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।

एक बच्चे पर राहत ही राहत
वन चाइल्ड पॉलिसी स्वीकार करने वाले बीपीएल श्रेणी के माता-पिता को विशेष तौर पर प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव रखा है। इसके तहत जो माता-पिता पहला बच्चा पैदा होने के बाद आपरेशन करा लेंगे, उन्हें कई तरह की सुविधाएं दी जाएंगी। पहला बच्चा लड़का होने पर 80 हजार रुपये और लड़की होने पर एक लाख रुपये की विशेष प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। ऐसे माता-पिता की बेटी उच्च शिक्षा तक नि:शुल्क पढ़ाई कर सकेगी। जबकि पुत्र को 20 वर्ष तक नि:शुल्क शिक्षा मिलेगी। इसके अलावा उन्हें नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा और सरकारी नौकरी होने की स्थिति में सेवाकाल में दो इंक्रीमेंट भी दिए जाएंगे।

दो से ज्यादा बच्चों पर आफत ही आफत
आयोग ने दो से ज्यादा बच्चों के माता-पिता को कई तरह की सुविधाओं से वंचित करने का प्रस्ताव रखा है। इसमें उन्हें स्थानीय निकायों का चुनाव लड़ने से रोकने, सरकार से मिलने वाली सब्सिडी बंद किए जाने, सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने पर रोक लगाने तथा सरकारी नौकरी कर रहे लोगों को प्रोन्नति से वंचित करने का प्रस्ताव रखा गया है। ये सभी प्रस्ताव जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण करके नागरिकों को बेहतर सुविधाएं मुहैया कराने के उद्देश्य से तैयार किया गया है। आयोग ने जनसंख्या नियंत्रण से संबंधित पाठ्यक्रम स्कूलों में पढ़ाए जाने का सुझाव भी दिया है।

ध्रुवीकरण का कोशिश
जनसखंया नियंत्रण पर क़ानून बनाने का दिशा में क़दम उठाने वाला उत्तर प्रदेश देश का दसवां राज्य हैं। नौ राज्यों में पहले से ही ऐसा क़ानून लागू है। सभी राज्यों के जनसंख्या नियंत्रण क़ानून में लगभग एक जैसे प्रावधान हैं। राज्यों में ऐसे क़ानून लागू करने का मक़सद जनसंख्या नियंत्रण को लिए आम लोगों को प्रोत्साहित करना है। यूपी से पहले जिन राज्यों में ऐसे क़ानून लागू किए गए वहीं ज़्याजा शोर नहीं मचा। लेकिन यूपी में कुछ महीनों बाद विधानसभा चुनाव होने है लिहाजा चुनावी फायदे के लिए योगी सरकार इस क़ानून के ज़रिए अपने कट्टर वोटबैंक को संदेश दे रह ही है। इससे ध्रुवीकरण होने का वजह से बीजेपी को बड़ा फायदा मिल सकता है।

अब बात करते हैं कि यूपी से पहले किन राज्यों में ऐसे क़ानून हैं और उनमें ख़ास प्रावधान क्या हैं।

असमः क़रीब दो साल पहले अक्टूबर 2019 में असम सरकार ने फ़ैसला किया है कि दो से ज़्यादा बच्चों वाले लोग 2021 से सरकारी नौकरी नहीं मिलेगी। साथ ही वो स्थानीय निकायों और ज़िला पंचायतों के चुनाव भी नहीं लड़ पाएंगे। असम के नए मुख्यमंत्री अब इस क़ानून को अमली जामा पहनाने की क़वायद में जुटे हैं। हाल ही में उहोंने 150 मुस्लिम धर्मगुरुओं अइस मुद्दे पर चर्चा करके इस क़ानून को लागू करने में उनके विरोछ को शांत करने की कोशिश की है। उनका दावा है कि धर्मगुरु उनकी इस बात से सहमत हो गए हैं कि ये क़ानून किसी धर्म विशेष के लोगों को परेशान करने के मक़सद से नहीं लाया जा रहा है।

राजस्थान: सरकारी नौकरियों के लिए जिन उम्मीदवारों के दो से अधिक बच्चे हैं, वे नियुक्ति के पात्र नहीं हैं। राजस्थान पंचायती राज अधिनियम 1994 कहता है कि यदि किसी व्यक्ति के दो से अधिक बच्चे हैं, तो वो पंच या सदस्य के लिए चुनाव लड़ने का पात्र नहीं होगा। हालांकि, पिछली भाजपा सरकार ने विकलांग बच्चे के मामले में दो बच्चों के मानदंड में ढील दी थी।

मध्य प्रदेश: राज्य 2001 से दो-बच्चों के मानदंड का पालन करता है। मध्य प्रदेश सिविल सेवा (सेवा की सामान्य शर्त) नियम के तहत, यदि तीसरे बच्चे का जन्म 26 जनवरी, 2001 को या उसके बाद हुआ है, तो कोई भी सरकारी सेवा के लिए अपात्र हो जाता है। यह नियम उच्च न्यायिक सेवाओं पर भी लागू होता है। मध्य प्रदेश सरकार ने 2005 तक स्थानीय निकाय चुनावों के उम्मीदवारों के लिए दो-बच्चों के मानदंड का पालन किया। उसके बाद तत्कालीन बीजेपी सरकार ने इन आपत्तियों के बाद इसे वापिस ले लिया था कि बंद कर दिया ऐसा नियम विधानसभा और संसदीय चुनावों में लागू नहीं है।

तेलंगाना और आंध्र प्रदेश: तेलंगाना पंचायत राज अधिनियम, 1994 की धारा 156 (2) और 184 (2) के साथ पठित धारा 19 (3) के तहत, दो से अधिक बच्चों वाले व्यक्ति को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित करती है। हालांकि, अगर किसी व्यक्ति के 30 मई, 1994 से पहले दो से अधिक बच्चे थे, तो उसे अयोग्य नहीं ठहराया जाएगा। आंध्र प्रदेश पंचायत राज अधिनियम, 1994 में वही धाराएं आंध्र प्रदेश पर लागू होती हैं, जहां दो से अधिक बच्चों वाले व्यक्ति को चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित किया जाएगा।

गुजरात: 2005 में, सरकार ने गुजरात स्थानीय प्राधिकरण अधिनियम में संशोधन किया। संशोधन दो से अधिक बच्चों वाले किसी भी व्यक्ति को स्थानीय स्वशासन निकायों, पंचायतों, नगर पालिकाओं और नगर निगमों के लिए चुनाव लड़ने से अयोग्य घोषित करता है।

महाराष्ट्र: महाराष्ट्र जिला परिषद और पंचायत समिति अधिनियम उन लोगों को अयोग्य घोषित करता है, जिनके दो से अधिक बच्चे हैं, स्थानीय निकाय चुनाव (ग्राम पंचायत से नगर निगम) लड़ने के लिए। महाराष्ट्र सिविल सेवा (छोटे परिवार की घोषणा) नियम, 2005 में कहा गया है कि दो से अधिक बच्चों वाले व्यक्ति को राज्य सरकार में एक पद धारण करने के लिए अयोग्य घोषित किया जाता है। दो से अधिक बच्चों वाली महिलाओं को भी सार्वजनिक वितरण प्रणाली के लाभ से वंचित किया गया है।

उत्तराखंड: राज्य सरकार ने दो से अधिक बच्चों वाले लोगों को पंचायत चुनाव लड़ने से रोकने का फैसला किया था। इस संबंध में विधानसभा में एक विधेयक पारित किया था। लेकिन इस फैसले को ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत वार्ड सदस्य चुनाव की तैयारी करने वालों ने हाईकोर्ट में चुनौती दी और उन्हें कोर्ट से राहत मिली। इसलिए, दो-बच्चे वाले मानदंड की शर्त केवल उन लोगों के लिए लागू की गई जिन्होंने जिला पंचायत और ब्लॉक विकास समिति की सदस्यता का चुनाव लड़ा था।

कर्नाटक: कर्नाटक (ग्राम स्वराज और पंचायत राज) अधिनियम, 1993 दो से अधिक बच्चों वाले व्यक्तियों को ग्राम पंचायत जैसे स्थानीय निकायों का चुनाव लड़ने से नहीं रोकता है। हालांकि, कानून कहता है कि एक व्यक्ति “यदि उसके परिवार के सदस्यों के उपयोग के लिए एक स्वच्छता शौचालय नहीं है” तो वह चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य है।

ओडिशा: ओडिशा जिला परिषद अधिनियम उन व्यक्तियों को चुनाव लड़ने से रोकता है जिनके दो से अधिक बच्चे हैं।Edit Post

जयराम रमेश: कांग्रेस में वापसी का कोई सवाल नहीं, 24 कैरेट गद्दार है सिंधिया

आगर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने सिंधिया को लेकर एक बार फिर बयान दिया है। इस बार उन्होंने सिंधिया को 24 कैरेट गद्दार करार दिया। साथ ही ये...

38 साल बाद भी गैस त्रासदी के पीड़ित न्याय के लिए कर रहे संघर्ष

भोपाल : दुनिया की सबसे बड़ी और घातक रासायनिक आपदा भोपाल गैस त्रासदी 38 साल पहले 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरम्यानी रात को हुई थी। इसका दुष्परिणाम...

सुप्रीम कोर्ट : राज्य अपनी धारणा के आधार पर जल्लीकट्टू की अनुमति दे सकता है?

नई दिल्ली: सांडों को वश में करने वाले खेल 'जल्लीकट्टू' की अनुमति देने वाले राज्य के कानून के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को...

विजया लक्ष्मी पंडित से रुचिरा कम्बोज तक: यूएन के प्रमुख पदों को भारतीय महिलाओं ने किया है सुशोभित

संयुक्त राष्ट्र : रुचिरा कंबोज गुरुवार को जब सुरक्षा परिषद की कमान संभालेंगी, तो 69 साल पहले संयुक्त राष्ट्र महसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनने वाली विजया लक्ष्मी पंडित की...

बिलकिस बानो ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, ‘दोषियों की समयपूर्व रिहाई से समाज की अंतरात्मा हिल गई’ 

नई दिल्ली:बिलकिस बानो ने 2002 के गुजरात दंगों के दौरान सामूहिक दुष्कर्म के दोषी 11 लोगों की रिहाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, जो कई हत्याओं के...

गहलोत और पायलट खेमे को कांग्रेस की चेतावनी

जयपुर : कांग्रेस आलाकमान ने दिसंबर के पहले सप्ताह में राजस्थान में प्रवेश करने वाली राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के मद्देनजर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन...

हिंदू महापंचायत के मंच पर एक महिला ने व्यक्ति को चप्पल से पीटा

नई दिल्ली:दिल्ली के छतरपुर में मंगलवार को 'जस्टिस फॉर श्रद्धा' पर हिंदू महापंचायत के दौरान मंच पर एक महिला ने एक व्यक्ति को चप्पल से पीटा। हिंदू एकता मंच द्वारा...

सवाल पूछने पर आरटीआई कार्यकर्ता की पीट-पीटकर हत्या

अलीगढ़ : उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में ग्राम प्रधान और उनके बेटे समेत आठ लोगों ने क्षेत्र में चल रही सार्वजनिक परियोजनाओं की गुणवत्ता पर सवाल उठाने के आरोप...

10 प्रमुख ट्रेड यूनियनों ने सीतारमण के साथ बजट पूर्व बैठक का किया बहिष्कार

नई दिल्ली : एआईटीयूसी, आईएनटीयूसी, एसआईटीय, एचएमएस, एलपीएफ, एसईडब्ल्यूए और एआईयूटीयूसी समेत देश की दस बड़ी ट्रेड यूनियनों ने सोमवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बजट को...

पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं, जो एक-दूसरे से बात नहीं कर सकते : थरूर

तिरुवनंतपुरम : कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने रविवार को कहा कि राज्य में पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं हैं, जो एक-दूसरे से बात नहीं कर...

अमित शाह पर छाया सत्ता का नशा : ओवैसी

हैदराबाद : एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस बयान पर निशाना साधा कि बीजेपी ने 2002 में गुजरात में दंगाइयों को सबक...

भारत जोड़ो यात्रा, कार्यकर्ताओं का दिल जीत रहे राहुल गांधी

खरगोन। मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा का आज तीसरा दिन है। प्रदेश में इस ऐतिहासिक यात्रा को भरपूर समर्थन मिल रहा है। वहीं राहुल गांधी के साथ प्रियंका की...

admin

Read Previous

केरल के पलानी मंदिर परिसर में महिला ने लगाया प्रताड़ना, बलात्कार का आरोप

Read Next

आरएसएस में बड़ा निर्णय, कृष्णगोपाल की जगह अब अरुण कुमार करेंगे भाजपा से समन्वयन

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com