ब्रिटेन में एक तिहाई परिवारों को ऊर्जा बिलों का भुगतान करने के बाद गरीबी का सामना करना पड़ेगा

लंदन : ब्रिटेन में लगभग एक तिहाई परिवार इस सर्दी में गरीबी का सामना करेंगे, क्योंकि जनवरी में फिर से ऊर्जा बिलों में बढ़ोतरी होने की आशंका है। मीडिया रिपोर्ट में कैंपेनरों के हवाले से यह जानकारी दी गई। सीएनएन के मुताबिक, मंगलवार को प्रकाशित एंड फ्यूल पॉवर्टी कोएलिशन (ईएफपीसी) के अनुमानों के अनुसार, अगले साल के पहले तीन महीनों में लगभग 10.5 मिलियन परिवार ईंधन गरीबी में रहेंगे – जिसका अर्थ है कि ऊर्जा के लिए भुगतान करने के बाद उनकी आय गरीबी रेखा से नीचे आ जाएगी।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, यूके सरकार गरीबी को यूके के औसत के 60 प्रतिशत से कम की घरेलू आय के रूप में परिभाषित करती है, जो 2021 में 31,000 पाउंड (37,500 डॉलर) थी।

अनुसंधान फर्म कॉर्नवाल इनसाइट के नए अनुमानों पर आधारित हैं, जो मंगलवार को भी प्रकाशित हुई, जो दर्शाती है कि औसत घरेलू ऊर्जा बिल अक्टूबर से एक वर्ष में 3,582 पाउंड (4,335 डॉलर ) और जनवरी से 4,266 पाउंड ( 5,163 डॉलर) तक पहुंचने की उम्मीद है, जोकि लगभग 355 पाउंड ( 430 डॉलर) प्रति माह है।

जनवरी का पूर्वानुमान मौजूदा स्तरों से ऊर्जा बिलों में 116 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है। जैसे-जैसे ईंधन की कीमतें बढ़ती हैं, अनुमानों को गति बनाए रखने में परेशानी हो रही है। सीएनएन ने बताया कि पिछले हफ्ते ही, कॉर्नवाल इनसाइट ने भविष्यवाणी की थी कि जनवरी की कीमतों में मौजूदा स्तरों से 83 प्रतिशत की वृद्धि होगी।

शोध फर्म ने कहा कि थोक कीमतों में उछाल और यूके के नियामक द्वारा इसकी मूल्य सीमा की गणना करने के तरीके में बदलाव के कारण उसने अपने आंकड़ों को संशोधित किया था। कॉर्नवाल इनसाइट को उम्मीद है कि 2023 की दूसरी छमाही में बिल गिरना शुरू हो जाएंगे।

ईंधन के बिल पिछले साल बढ़ने लगे क्योंकि वैश्विक प्राकृतिक गैस आपूर्ति संकट ने थोक कीमतों को रिकॉर्ड स्तर तक धकेल दिया। सीएनएन ने बताया कि फरवरी के अंत में यूक्रेन पर रूस के आक्रमण ने स्थिति को और संकटग्रस्त कर दिया है।

–आईएएनएस

admin

Read Previous

आरएसएस कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने की आतंकी साजिश नाकाम, आजमगढ़ से 1 गिरफ्तार

Read Next

रात के तापमान में वृद्धि से मौत का खतरा 6 गुना बढ़ सकता है: स्टडी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com