भारतीय रियल एस्टेट सेक्टर में 2025 तक 20 प्रतिशत बढ़ेगा एफडीआई : इंडस्ट्री

नई दिल्ली । भारत में रियल एस्टेट सेक्टर तेजी से उभर रहा है और इसमें प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 2025 तक बढ़कर 20 प्रतिशत तक पहुंच सकता है। इंडस्ट्री एक्सपर्ट्स की ओर से बुधवार को यह जानकारी दी गई।

एसोचैम के इवेंट में हरियाणा रेरा के सदस्य संजीव कुमार अरोड़ा ने कहा कि रियल एस्टेट क्षेत्र सबसे बड़ा रोजगार देने वाले सेक्टर के रूप में उभरा है और तेजी से हो रहे शहरीकरण, स्मार्ट सिटी, सभी के लिए घर और एफडीआई नियमों में ढील से इस क्षेत्र को और बूस्ट मिलेगा।

अरोड़ा ने कहा कि भारत सरकार की ओर से रेरा एक्ट, 2016 में लॉन्च किया गया था। इसका उद्देश्य सेक्टर में नियमित वृद्धि लाने के साथ पारदर्शिता लाना था। इस एक्ट के लागू होने के बाद से अब तक 1.25 लाख प्रोजेक्ट्स पूरे भारत में रेरा के तहत पंजीकृत हो चुके हैं।

सिग्नेचर ग्लोबल (इंडिया) के चेयरमैन और एसोचैम में रियल एस्टेट, हाउसिंग और अर्बन डेवलपमेंट के चेयरमैन, प्रदीप अग्रवाल ने कहा कि 2047 तक विकसित भारत के सपने को पूरा करने के लिए हाउसिंग और रियल एस्टेट सेक्टर को सहायता की आवश्यकता है। यह सेक्टर बड़ी संख्या में रोजगार पैदा करता है।

अग्रवाल ने आगे कहा कि हर परिवार को घर और नौकरी देना सरकार का विजन है। ऐसे में रियल एस्टेट सेक्टर की भूमिका अहम हो जाती है। रियल एस्टेट सेक्टर का मार्केट साइज 24 लाख करोड़ रुपये है और देश की जीडीपी में इसका योगदान 13.8 प्रतिशत का है।

सभी को अपना घर देने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत सरकार ने ग्रामीण और शहरी इलाकों में 3 करोड़ घर देने का फैसला किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के इस फैसले पर कहा कि हमारा यह निर्णय देश के हर नागरिक को बेहतर जिंदगी देने की हमारी प्रतिबद्धता को दिखाता है। आगे कहा कि सरकार विकास के साथ सामाजिक कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है।

–आईएएनएस

ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी ने संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय के साथ समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर

सोनीपत । ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (जेजीयू) और जापान के संयुक्त राष्ट्र विश्वविद्यालय ने उच्च शिक्षा व अनुसंधान के क्षेत्र में दोस्ती और सहयोग को स्थापित करने के लिए एक...

एसबीआई से कर्ज लेना हुआ महंगा

मुंबई । देश के सबसे बड़े ऋणदाता भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने सोमवार से अपनी बेंचमार्क सीमांत लागत ऋण दर (एमसीएलआर) में 0.05 प्रतिशत से 0.10 प्रतिशत तक की वृद्धि...

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस है उद्योग जगत का भविष्य: विशेषज्ञ

पेरिस | विशेषज्ञों ने शनिवार को कहा कि मानव केंद्रित मोबाइल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) ही उद्योग जगत का भविष्य है और यूजर्स के लिए हाइब्रिड एआई सर्वश्रेष्ठ संभावित मोबाइल एआई...

भारत 2031 तक बन सकता है दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था : आरबीआई डिप्टी गवर्नर

मुंबई । भारत की जीडीपी पूरी दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ रही है। अपनी मजबूत अर्थव्यवस्था के दम पर भारत 2048 में नहीं, बल्कि 2031 तक दुनिया की दूसरी...

अगले एक दशक में भारत में विकास के बड़े अवसर मौजूद : पेप्सिको सीईओ

मुंबई | दुनिया की दिग्गज बेवरेज कंपनी पेप्सिको के सीईओ रेमन लैगुआर्टा ने कहा कि भारत में कंपनी के लिए विकास की काफी संभावनाएं हैं और कंपनी इसके लिए निवेश...

अदाणी ग्रुप के विझिंजम बंदरगाह पर आई पहली मदर शिप, पोर्ट इंडस्ट्री के लिए ऐतिहासिक पल

तिरुवनंतपुरम । भारत की पोर्ट इंडस्ट्री के लिए शुक्रवार का दिन ऐतिहासिक है। केरल के विझिंजम बंदरगाह पर आधिकारिक रूप से केंद्रीय बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, राज्य...

ऑल-टाइम हाई पर शेयर बाजार, निफ्टी पहली बार 24,500 के ऊपर

मुंबई । भारतीय शेयर बाजार में शुक्रवार को रिकॉर्ड तेजी देखने को मिल रही है। आईटी शेयरों में खरीदारी के दम पर सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ने क्रमश: 80,893 और...

भारत में डीमैट अकाउंट की संख्या जून में बढ़कर 16.2 करोड़ हुई

नई दिल्ली । देश में डीमैट अकाउंट की संख्या जून में 42 लाख बढ़कर 16.2 करोड़ हो गई है। गुरुवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।...

स्विगी, जोमैटो, ओला, उबर जैसी कंपनियों के वर्कर्स के लिए झारखंड में बन रहा नया कानून

रांची । फूड डिलीवरी करने वालों से लेकर ऐप बेस्ड कंपनियों के लिए गाड़ियां चलाने वाले और इस नेचर के काम से जुड़े वर्कर्स के लिए झारखंड में कानून का...

भारत की गोल्ड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री पैदा करेगी 25,000 रोजगार के नए अवसर : रिपोर्ट

नई दिल्ली । भारत की गोल्ड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री 2030 तक 25,000 रोजगार के नए अवसर पैदा करेगी। इस दौरान 15,000 करोड़ रुपये का निवेश इंडस्ट्री में देखने को मिल सकता...

वित्त वर्ष 25 में मजबूत रहेगी इलेक्ट्रिक बसों की मांग

नई दिल्ली | केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से क्लीन एनर्जी पर जोर दिए जाने के कारण देश में इलेक्ट्रिक बसों की मांग चालू वित्त वर्ष में मजबूत रह...

म्यूचुअल फंड्स में जून में हुआ 40,608 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश, एयूएम 60 लाख करोड़ के पार

नई दिल्ली । इक्विटी म्यूचुअल फंड योजनाओं में जून में शुद्ध निवेश मासिक आधार पर 17 प्रतिशत बढ़कर 40,608.19 करोड़ रुपये हो गया है, जोकि मई में 34,697 करोड़ रुपये...

admin

Read Previous

म्यूचुअल फंड्स में जून में हुआ 40,608 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश, एयूएम 60 लाख करोड़ के पार

Read Next

वित्त वर्ष 25 में मजबूत रहेगी इलेक्ट्रिक बसों की मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com