राष्ट्रपति कोविंद ने युवाओं से कहा, हिंसा कभी कश्मीरियत का हिस्सा नहीं रही

श्रीनगर/नई दिल्ली, 27 जुलाई (आईएएनएस)| हिंसा, जो कभी भी कश्मीरियत का हिस्सा नहीं रही, वह जम्मू-कश्मीर में दैनिक वास्तविकता बन गई है। यह बात राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने मंगलवार को यहां युवा पीढ़ी से शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की समृद्ध विरासत से सीखने का आग्रह करते हुए कही। उन्होंने कहा कि उनके पास यह जानने का हर कारण है कि कश्मीर हमेशा शेष भारत के लिए आशा की किरण रहा है। इसके आध्यात्मिक और सांस्कृतिक प्रभाव की छाप पूरे देश में है।

राष्ट्रपति श्रीनगर में कश्मीर विश्वविद्यालय के 19वें वार्षिक दीक्षांत समारोह को संबोधित कर रहे थे।

राष्ट्रपति ने कहा कि कई कवियों ने इसे धरती पर स्वर्ग कहते हुए इसकी सुंदरता की प्रशंसा की है, लेकिन यह अंतत: शब्दों से परे है। प्रकृति की इस उदारता ने ही इस स्थान को विचारों का केंद्र भी बनाया है। बर्फ से ढके पहाड़ों से घिरी यह घाटी कुछ सहस्राब्दियों पहले ऋषियों और संतों के लिए एक आदर्श स्थान प्रदान करती थी।

कोविंद ने कहा कि कश्मीर के योगदान का उल्लेख किए बिना भारतीय दर्शन का इतिहास लिखना असंभव है। ऋग्वेद की सबसे पुरानी पांडुलिपियों में से एक कश्मीर में लिखी गई थी।

उन्होंने कहा कि दर्शन के समृद्ध होने के लिए यह सबसे अनुकूल क्षेत्र है। यहीं पर महान दार्शनिक अभिनवगुप्त ने सौंदर्यशास्त्र और ईश्वर की प्राप्ति के तरीकों पर अपनी व्याख्याएं लिखीं। कश्मीर में हिंदू धर्म और बौद्ध धर्म का विकास हुआ, जैसा कि बाद की शताब्दियों में इस्लाम और सिख धर्म के यहां आने के बाद हुआ।

उन्होंने कहा कि कश्मीर विभिन्न संस्कृतियों का मिलन स्थल भी है।

राष्ट्रपति ने कहा, मध्ययुगीन काल में, वह लाल देड ही थे, जिन्होंने विभिन्न आध्यात्मिक परंपराओं को एक साथ लाने का मार्ग दिखाया। कश्मीर की कवयित्री का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि लल्लेश्वरी की कृतियों में आप देख सकते हैं कि कैसे कश्मीर सांप्रदायिक सद्भाव और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का खाका पेश करता है।

उन्होंने कहा कि यह यहां के जीवन के सभी पहलुओं में, लोक कलाओं और त्योहारों में, भोजन और पोशाक में भी परिलक्षित होता है। इस जगह की मूल प्रकृति हमेशा समावेशी रही है।

इस भूमि पर आने वाले लगभग सभी धर्मों ने कश्मीरियत की एक अनूठी विशेषता को अपनाया जिसने रूढ़िवाद को त्याग दिया और समुदायों के बीच सहिष्णुता और आपसी स्वीकृति को प्रोत्साहित किया।

दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंगलवार को कहा कि हिंसा कभी भी कश्मीरियत का हिस्सा नहीं रही। यह दुर्भाग्यपूर्ण था कि शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व की इस उत्कृष्ट परंपरा को तोड़ा गया। हिंसा एक वायरस की तरह है, जो शरीर पर हमला करता है।

उन्होंने कहा, अब इस भूमि की खोई हुई महिमा को वापस पाने के लिए एक नई शुरूआत और ²ढ़ प्रयास है।

राष्ट्रपति ने कहा कि उनका ²ढ़ विश्वास है कि लोकतंत्र में सभी मतभेदों को समेटने की क्षमता है। कश्मीर खुशी से पहले से ही इस ²ष्टिकोण को साकार कर रहा है।

इस तथ्य की ओर इशारा करते हुए कि 19वें दीक्षांत समारोह में डिग्री प्राप्त करने वालों में कश्मीर विश्वविद्यालय की लगभग आधी विद्यार्थी महिलाएं हैं और 70 प्रतिशत स्वर्ण पदक विजेता भी महिलाएं हैं, राष्ट्रपति ने कहा कि यह केवल संतोष की बात नहीं है, बल्कि हमारे लिए गर्व की भी बात है कि हमारी बेटियां हमारे बेटों के समान स्तर पर प्रदर्शन करने के लिए तैयार हैं और कभी-कभी इससे भी बेहतर प्रदर्शन के लिए भी तैयार हैं।

उन्होंने कहा कि यह समानता और क्षमताओं में विश्वास ही है, जिसे सभी महिलाओं के बीच पोषित करने की आवश्यकता है, ताकि हम सफलतापूर्वक एक नए भारत का निर्माण कर सकें। एक ऐसा भारत जो राष्ट्रों के समूह में सबसे आगे हो। राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे मानव संसाधन और बुनियादी ढांचे का निर्माण इस उच्च आदर्श की ओर कदम बढ़ा रहा है।

कैलाश गहलोत को 50 करोड़ रुपये का भुगतान किया : सुकेश चन्द्रशेखर

नई दिल्ली । कथित ठग सुकेश चंद्रशेखर ने शनिवार को दावा किया कि उसने राज्यसभा सीट हासिल करने के लिए आप नेता कैलाश गहलोत को 50 करोड़ रुपये दिए। सुकेश...

इसी महीने पीएम मोदी से मिलने आएंगे मस्क, कर सकते हैं बड़ी घोषणा : रिपोर्ट

नई दिल्ली । टेस्ला और स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क इसी महीने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने भारत आ सकते हैं। इस दौरान वो अपनी मेगा निवेश योजनाओं की घोषणा...

सशस्त्र बलों का ‘परिवर्तन चिंतन’ सम्मेलन सोमवार को

नई दिल्ली । रक्षा मंत्रालय ने रविवार को कहा कि सशस्त्र बलों की तीनों सेवाओं के लिए 'परिवर्तन चिंतन' नामक एक सम्मेलन का आयोजन सोमवार, 8 अप्रैल को किया जाएगा।...

गेल ने सीएनजी की कीमतों में 2.50 रुपये प्रति किलोग्राम की कटौती की

नई दिल्ली । गेल (इंडिया) लिमिटेड और इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी गेल गैस लिमिटेड ने शनिवार को भारत के कई प्रमुख स्थानों पर सीएनजी की कीमतों में 2.50...

उत्तर से दक्षिण, पूरब से पश्चिम तक पीएम मोदी ने बदल दी भारत के पर्यटन की तस्वीर

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के दौरे पर थे। अपने दो दिवसीय यात्रा के दौरान 8 मार्च की रात पीएम मोदी काजीरंगा पहुंचे। वह काजीरंगा में रात बिताने...

एनसीआर में सीएनजी के दाम में कटौती से आम जनता खुश, कैब चालकों ने कहा बड़ी राहत मिली

नोएडा । दिल्ली एनसीआर में सीएनजी के दामों में ढाई रुपए की कमी की गई है। इससे आम जनता काफी खुश है और इसे सबसे ज्यादा फायदा कैब चालकों को...

टीएमसी नेता ने राम मंदिर को बताया ‘अपवित्र’, मचा सियासी बवाल

कोलकाता । पश्चिम बंगाल में तारकेश्वर से टीएमसी विधायक रामेंदु सिन्हारे के एक बयान के बाद राजनीतिक घमासान तेज हो गया है। इस बयान में वो राम मंदिर को 'अपवित्र'...

महाराष्ट्र के बारामती में नमो रोजगार मेला, सीएम ने 25 हजार लोगों को रोजगार देने का किया वादा

पुणे (महाराष्ट्र) । महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने शनिवार को बारामती में दो दिवसीय नमो महारोजगार मेले में कहा कि राज्य के कम से कम 25 हजार युवा पुरुषों...

ओपनएआई को झटका, जीपीटी को ट्रेडमार्क के रूप में पंजीकृत करने को अमेरिकी पेटेंट ऑफिस ने किया इन्कार

नई दिल्ली । माइक्रोसॉफ्ट समर्थित ओपनएआई को झटका देते हुए यूएस पेटेंट एंड ट्रेडमार्क ऑफिस (पीटीओ) ने सैम ऑल्टमैन द्वारा संचालित कंपनी को जीपीटी (जेनरेटिव प्री-ट्रेंड ट्रांसफार्मर) शब्द को ट्रेडमार्क...

धामी कैबिनेट की बैठक खत्म, 15 प्रस्तावों पर लगी मुहर, देहरादून में होगा बजट सत्र

देहरादून । उत्तराखंड की राजधानी देहरादून स्थित सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में 15 प्रस्तावों पर मुहर लगी। बजट सत्र को गैरसैंण की...

‘भारत-म्यांमार के बीच फ्री आवाजाही पर रोक’, केंद्रीय गृह मंत्री की घोषणा को मणिपुर सीएम ने बताया ऐतिहासिक कदम

नई दिल्ली । आंतरिक सुरक्षा को लेकर केंद्र सरकार ने गुरुवार को बड़ा फैसला लिया। सुरक्षा के लिहाज से गृह मंत्रालय ने भारत-म्यांमार सीमा पर फ्री आवाजाही व्यवस्था (एफएमआर) को...

रॉयल फिलहारमोनिक सोसाइटी अवार्ड्स के लिए दो ब्रिटिश-भारतीय संगीतकारों का चयन

लंदन । इस साल के प्रतिष्ठित रॉयल फिलहारमोनिक सोसाइटी (आरपीएस) पुरस्कारों के लिए चुने गए 19 कलाकारों और संगीतकारों में दो ब्रिटिश भारतीय संगीतकार भी शामिल हैं। द संडे टाइम्स...

editors

Read Previous

मैंने ‘मैं’ को कूड़ेदान में डाल दिया और इसे ‘हम’ में बदल दिया, यही मेरी उपलब्धि है : शास्त्री

Read Next

यूपी में बीजेपी नेता अजय शर्मा को बदमाशों ने मारी गोली

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com