आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने चंद्रबाबू नायडू को तीन मामलों में अग्रिम जमानत दी

अमरावती । पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू को बड़ी राहत देते हुए आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय ने बुधवार को उन्हें तीन मामलों में अग्रिम जमानत दे दी।

न्यायाधीश टी. मल्लिकार्जुन राव ने अमरावती इनर रिंग रोड, रेत और शराब मामलों में तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) सुप्रीमो की जमानत याचिकाओं पर आदेश सुनाए।

अदालत ने उन्हें ऐसी कोई भी टिप्पणी करने से परहेज करने का निर्देश दिया जो जांच को प्रभावित कर सकती हो।

शराब मामले में पूर्व मंत्री कोल्लू रवींद्र और सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी श्रीनरेश को भी अग्रिम जमानत मिल गई।

सीआईडी ने पिछले साल 9 सितंबर को आंध्र प्रदेश कौशल विकास निगम मामले में गिरफ्तारी के बाद नायडू के खिलाफ ये मामले दर्ज किए थे।

52 दिन जेल में बिताने के बाद उच्च न्यायालय से जमानत मिलने पर नायडू 31 अक्टूबर को जेल से बाहर आ गए थे।

जब वह जेल में थे, तब सीआईडी ने उनके खिलाफ अमरावती इनर रिंग रोड के निर्माण में कथित अनियमितताओं और 2014 से 2019 तक मुख्यमंत्री रहने के दौरान कुछ शराब कंपनियों को कथित रूप से लाभ पहुंचाने के लिए दो मामले दर्ज किए थे।

टीडीपी प्रमुख ने अग्रिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय में तीन अलग-अलग याचिकाएं दायर की थीं। तीनों में अलग-अलग तारीखों पर फैसला सुरक्षित रखा गया था।

कौशल विकास निगम मामले में नायडू और अन्य पर आरोप थे कि उन्होंने कौशल विकास केंद्र स्थापित करने के नाम पर राज्य के खजाने को 300 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाया।

दो दिन बाद सीआईडी ने अमरावती इनर रिंग रोड मामले में नायडू के खिलाफ मामला दर्ज किया।

नायडू को जमानत मिलने और जेल से रिहा होने से कुछ दिन पहले शराब का मामला दर्ज किया गया था।

आंध्र प्रदेश राज्य पेय पदार्थ निगम लिमिटेड (एपीएसबीसीएल) एमएनडी डी. वासुदेव रेड्डी की शिकायत के बाद सीआईडी ने नायडू, तत्कालीन उत्पाद शुल्क मंत्री कोल्लू रविंदा और तत्कालीन उत्पाद शुल्क आयुक्त श्रीनरेश के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

सीआईडी ने आरोप लगाया कि उचित प्रक्रिया और व्यावसायिक नियमों का पालन किए बिना उनके द्वारा लिए गए फैसलों से सरकारी खजाने को 1,500 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। इसने उन पर खुदरा और बार लाइसेंस धारकों के साथ-साथ एपीएसबीसीएल को शराब की आपूर्ति करने वाली कुछ कंपनियों को आर्थिक लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया।

2 नवंबर को सीआईडी ने मुफ्त रेत नीति को लेकर नायडू के खिलाफ एक और मामला दर्ज किया।

पूर्व खान एवं भूविज्ञान मंत्री पीठला सुजाता, पूर्व विधायक चिंतामनेनी प्रभाकर और देवीनेनी उमामहेश्‍वर राव पर भी मामला दर्ज किया गया है।

आरोप लगाया गया है कि नायडू, उनके तत्कालीन कैबिनेट सहयोगी और रेत वाले क्षेत्रों के विधायकों और अन्य को मुफ्त रेत नीति से काफी फायदा हुआ।

सीआईडी ने अपनी प्राथमिकी में कहा कि तत्कालीन सरकार द्वारा उचित प्रक्रियाओं का पालन किए बिना मुफ्त रेत नीति लागू की गई थी।

नायडू ने अपनी अग्रिम जमानत याचिकाओं में तर्क दिया था कि चुनाव तक उन्हें जेल में रखने के उद्देश्य से सत्ताधारी सरकार द्वारा शुरू किए गए राजनीतिक प्रतिशोध के तहत मामले दर्ज किए गए थे।

–आईएएनएस

इनेलो हरियाणा प्रमुख हत्याकांड में सात पर एफआईआर, सीसीटीवी फुटेज आई सामने

चंडीगढ़ । इंडियन नेशनल लोकदल (आईएनएलडी) के हरियाणा अध्यक्ष नफे सिंह राठी की हत्या के मामले में पुलिस ने 7 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। इसके अलावा,...

नई आबकारी नीति मामले में सीएम केजरीवाल ने ईडी के सातवें समन को भी किया नजरअंदाज

नई दिल्ली । नई आबकारी नीति मामले में ईडी की ओर से मिले सातवें समन को भी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने नजरअंदाज कर दिया। सूत्रों के मुताबिक आप...

1 जुलाई से देश में लागू होगा नया क्रिमिनल लॉ, जारी हो गई अधिसूचना

नई दिल्ली । केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन नए आपराधिक कानूनों को लागू करने की अधिसूचना जारी कर दी गई है। इन कानूनों को 1 जुलाई, 2024 से लागू करने...

असम सरकार ने मुस्लिम विवाह अधिनियम निरस्त किया

गुवाहाटी । असम सरकार ने लंबे समय से चले आ रहे असम मुस्लिम विवाह और तलाक पंजीकरण अधिनियम 1935 शुक्रवार को निरस्त कर दिया। यह निर्णय शुक्रवार रात मुख्यमंत्री हिमंत...

बेंगलुरु कोर्ट ने राहुल गांधी, सीएम सिद्दरामैया, डिप्टी सीएम शिवकुमार को समन जारी किया

बेंगलुरु, 24 फरवरी (आईएएनएस)। यहां की एक विशेष अदालत ने भाजपा द्वारा दायर मानहानि के मामले में शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दरामैया और उपमुख्यमंत्री व...

कलकत्ता हाईकोर्ट ने बंगाल विपक्ष के नेता के वकील को कोलकाता पुलिस के सामने पेश होने से दी राहत

कोलकाता, 20 फरवरी (आईएएनएस)। कलकत्ता उच्च न्यायालय की एकल-न्यायाधीश पीठ ने बुधवार को मंगलवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता (एलओपी) सुवेंदु अधिकारी के वकील सूर्यनील दास को...

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सीएम के पास सीधे अपनी बात रखने के बाद हटाए गए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को बहाल किया

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने जिला न्यायपालिका के उस चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को सेवा में बहाल कर दिया है, जिसे इलाहाबाद उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल और तत्कालीन मुख्यमंत्री...

चुनाव आयोग के फैसले से नाखुश शरद पवार ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि वो शरद पवार की याचिका को सूचीबद्ध करने पर विचार करेगा। दरअसल, पवार ने हाल ही में चुनाव आयोग के...

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने चुनावी बांड योजना 2018 को करार दिया ‘असंवैधानिक’

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ ने गुरुवार को सर्वसम्मति से फैसले में चुनावी बांड योजना 2018 को असंवैधानिक करार दिया। भारत के मुख्य न्यायाधीश...

चुनावी बांड योजना मतदाताओं के सूचना के अधिकार का उल्लंघन करती है: सीजेआई चंद्रचूड़

नई दिल्ली । भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) डी.वाई. चंद्रचूड़ ने गुरुवार को कहा कि किसी राजनीतिक दल को वित्तीय योगदान देने से बदले में उपकार करने की संभावना बन...

तनाव बढ़ने के बाद संदेशखाली के 19 इलाकों में धारा 144 दोबारा लगाई गई

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के तनावग्रस्त संदेशखाली के 19 इलाकों में बुधवार से फिर से धारा 144 लागू कर दी गई। कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति...

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरातियों पर टिप्पणी को लेकर तेजस्वी यादव के खिलाफ मानहानि का मामला क‍िया रद्द

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की 'केवल गुजराती ही ठग हो सकते हैं' वाली टिप्पणी के लिए उनके खिलाफ लंबित आपराधिक...

admin

Read Previous

फेक न्यूज़ पूरी दुनिया में एक समस्या बन गयी है-कोविंद

Read Next

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष के फैसले से उद्धव ठाकरे को झटका, शिंदे के नेतृत्व वाले गुट को ‘असली’ शिवसेना बताया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com