राजनीतिक दलों का ‘वोट कटवा’ की राजनीति पर फोकस

पटना : वोट काटने की राजनीति बिहार में चुनाव जीतने की एक प्रमुख रणनीति के रूप में उभरी है, जिसमें सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों दोनों का ध्यान इस बात पर है कि अपने विरोधियों के वोट कैसे काटे जाएं। इस ‘वोट कटवा’ की राजनीति ने राज्य में छोटे दलों के महत्व को काफी बढ़ा दिया है, खासकर गोपालगंज उपचुनाव के बाद और इसी रणनीति को कुरहानी विधानसभा उपचुनाव और शायद 2024 के लोकसभा चुनावों में भी दोहराया जा सकता है।

‘वोट कटवा’ की राजनीति की बात तब जोर पकड़ी जब बीजेपी नेताओं ने दावा करना शुरू कर दिया कि वीआईपी के उम्मीदवार नीलाभ कुमार कुरहानी में बीजेपी के सवर्ण वोट काटकर जेडी-यू के मनोज कुशवाहा की मदद करेंगे।

उधर जदयू नेता दावा कर रहे हैं कि एआईएमआईएम प्रत्याशी गुलाम मुर्तजा जदयू के मुस्लिम वोट बैंक में सेंध लगाकर भाजपा प्रत्याशी केदार गुप्ता की मदद करेंगे।

कुरहानी में राजनीतिक स्थिति अब तीव्र होती जा रही है, इस बात पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है कि ‘वोट कटवा’ को कौन मजबूत करेगा।

2020 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के केदार गुप्ता राजद प्रत्याशी अनिल सहनी से महज 712 वोटों से चुनाव हार गए थे। उस वक्त तत्कालीन उपेंद्र कुशवाहा के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के राम बाबू सिंह उनके लिए ‘वोट कटवा’ बन गए थे।

सिंह को कुशवाहा समुदाय से समर्थन देने वाले अधिकांश मतदाताओं के साथ 10,000 विषम वोट प्राप्त हुए। बीजेपी तब नीतीश कुमार के साथ थी लेकिन नीतीश कुमार को इसका फायदा नहीं मिला और उसके उम्मीदवार महज 712 वोटों के मामूली अंतर से चुनाव हार गए।

हाल ही में संपन्न हुए गोपालगंज उपचुनाव में, राजद उम्मीदवार मोहन गुप्ता भाजपा की कुसुम देवी से महज 1,794 मतों के अंतर से चुनाव हार गए। उपचुनाव में एआईएमआईएम प्रत्याशी अब्दुल सलाम और बसपा प्रत्याशी इंदिरा यादव क्रमश: 12,000 और 8,800 मत पाकर गुप्ता के लिए ‘वोट कटवा’ बन गए।

उन्होंने कथित तौर पर बिहार में राजद के मुख्य वोट बैंक मुसलमानों और यादवों के वोट काट दिए।

–आईएएनएस

भोपाल गैस त्रासदी : जिन डॉक्टर ने सबकुछ देखा, उनसे जानिए उस भयानक रात की कहानी

भोपाल: एच.एच. त्रिवेदी, जो अब अपने 80 के दशक में हैं और अभी भी भोपाल की अरेरा कॉलोनी में एक क्लिनिक चलाते हैं, 2-3 दिसंबर, 1984 की भयावह रात को...

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

admin

Read Previous

चार बच्चों समेत एक ही परिवार के छह लोगों की मिली लाश

Read Next

बाथटब में डूबने से बच्ची की मौत, तीन दिन बाद था जन्मदिन

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com