पीएम मोदी के स्मार्ट विजन का नतीजा, दुनिया में तीसरे नंबर पर भारत का ‘स्टार्टअप इकोसिस्टम’

नई दिल्ली । भारत में 2014 के बाद से स्टार्टअप की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार की स्किल इंडिया और स्टार्टअप इंडिया मुहिम ने इसके लिए देश के उद्यमशील युवाओं को प्रेरित किया है। आंकड़ों की मानें तो इन सालों में देश में स्टार्टअप की संख्या 300 से बढ़कर 1 लाख से ज्यादा हो गई है। वहीं, इन स्टार्टअप को शुरू करने वालों में महिलाओं की संख्या भी काफी ज्यादा है।

एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि 2021-2022 में 172 अरब डॉलर से बढ़कर देश का कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और सेवाओं का निर्यात 2022-23 में 12.2 प्रतिशत बढ़कर 193 अरब डॉलर पर पहुंच गया है। इनमें आईटी संबद्ध सेवाओं और बीपीओ शामिल हैं। इसमें आईटी सॉफ्टवेयर/सेवाओं का 126 अरब डॉलर, बीपीओ सेवाओं का 52 अरब डॉलर, सॉफ्टवेयर उत्पाद विकास का 5.1 अरब डॉलर, इंजीनियरिंग सेवाओं का 9 अरब डॉलर का योगदान है।

भारतीय का आईटी उत्पाद अधिक से अधिक देशों में जा रहा है। इसके साथ ही भारतीय सॉफ्टवेयर निर्यात के लिए अमेरिका प्रमुख बाजार बना हुआ है। भारत दुनिया भर में 70 से ज्यादा देशों को सॉफ्टवेयर निर्यात करता है। इसके साथ ही दुनिया के सर्वश्रेष्ठ आईटी प्रोफेशनल्स भी भारतीय ही हैं। वहीं, जिस रफ्तार के मोदी सरकार देश में सेमीकंडक्टर और सिलिकॉन चिप्स के उत्पादन को देश में करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है, उससे देश में तेज गति से इस क्षेत्र में विकास की संभावना बढ़ गई है।

जबकि, एक दूसरी रिपोर्ट की मानें तो भारत का सॉफ्टवेयर निर्यात वित्त वर्ष 2023 में 320 अरब अमेरिकी डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया, जिससे वैश्विक कंप्यूटर सेवाओं के निर्यात में इसकी हिस्सेदारी लगभग 11% तक बढ़ गई।

बता दें कि भारत में आईटी सेक्टर सकल घरेलू उत्पाद में 9% योगदान के साथ सबसे बड़े योगदानकर्ताओं में से एक है। 2025 तक इसके 300-350 अरब अमेरिकी डॉलर को पार करने की उम्मीद है।

आंकड़ों की मानें तो भारत ने अपने घरेलू इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को 2014-15 में 29 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़ाकर 2022-23 में 101 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंचा दिया है, जो देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में लगभग 3.4% का योगदान देता है।

भारत का स्टार्टअप इकोसिस्टम अब दुनिया भर के देशों में तीसरे स्थान पर आ गया है। इसके साथ ही देश में 111 से ज्यादा यूनिकॉर्न की संख्या हो गई है। इसमें से लगभग 47 प्रतिशत से ज्यादा स्टार्टअप व्यवसायों में महिलाएं निदेशक या सीईओ हैं। दुनिया भर के 5 शीर्ष यूनिकॉर्न वाले देशों की सूची में संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, भारत, यूके और जर्मनी शामिल हैं यानी यूनिकॉर्न वाले देशों में भारत के बाद चौथे स्थान पर यूके और पांचवें स्थान पर जर्मनी है।

दरअसल, जिस भी स्टार्टअप की वैल्यू 1 अरब डॉलर से ज्यादा हो जाती है, उसे यूनिकॉर्न स्टार्टअप कहा जाता है।

अब ऐसे में जब भारत दुनिया भर में स्टार्टअप और यूनिकॉर्न स्टार्टअप दोनों में तीसरे पायदान पर है तो इससे रोजगार के अवसर पैदा होने के साथ ही निवेश की संभावना में भी तेजी आई है। ऐसे में भारत में जिस तरह से तेज गति से यूनिकॉर्न स्टार्टअप बन रहा है और 2015 तक इसके 150 तक हो जाने की संभावना है। उससे साफ लग रहा है कि भारत यूनिकॉर्न स्टार्टअप के मामले में इस तेजी से विकास करता रहा तो वह ग्लोबल लीडर बन जाएगा।

–आईएएनएस

शेयर बाजार की तेजी पर लगा ब्रेक, 117 अंक फिसला सेंसेक्स

मुंबई । भारतीय शेयर बाजार के लिए बुधवार का कारोबारी सत्र नुकसान वाला रहा। बाजार के बड़े सूचकांक लाल निशान में बंद हुए हैं। सेंसेक्स 117 अंक या 0.16 प्रतिशत...

वॉलेट सेवाओं के लिए अब यूपीआई लाइट पर ध्यान केंद्रित करेगा पेटीएम

नई दिल्ली । पेटीएम का संचालन करने वाली कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस लिमिटेड (ओसीएल) ने सोमवार को कहा कि वे अब उन उपयोगकर्ताओं को स्थानांतरित करने के लिए यूपीआई लाइट वॉलेट...

सीमित दायरे में बाजार; निफ्टी 22,000 के करीब

मुंबई । भारतीय शेयर बाजार में शुक्रवार को करीब सपाट खुला है और एक सीमित दायरे में कारोबार कर रहा है। बाजार के बड़े सूचकांक हल्की बढ़त के साथ हरे...

गिरावट के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, मिड कैप और स्मॉल कैप इंडेक्स 2 फीसदी तक फिसले

मुंबई । भारतीय शेयर बाजार में मंगलवार के कारोबारी सत्र में चौतरफा गिरावट हुई। मंदी का असर लार्ज कैप की अपेक्षा स्मॉल कैप और मिड कैप शेयर पर सबसे ज्यादा...

नकली नोट को खत्म करने का मोदी सरकार का प्रयास कितना लाया रंग?

नई दिल्ली । 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान नोटबंदी की घोषणा की थी। सरकार ने 500 और 1000 के नोटों को तब...

2014 तक देश की घिसटती अर्थव्यवस्था को 2024 आते-आते मोदी सरकार ने दी रफ्तार

नई दिल्ली । देश में लोकसभा चुनाव की घोषणा हो गई है। नरेंद्र मोदी सरकार जनता के बीच तीसरे कार्यकाल का आशीर्वाद लेने पहुंच रही है। वहीं विपक्षी दलों के...

आरबीआई का 2024-25 के लिए जीडीपी में सात प्रतिशत वृद्धि का अनुमान

मुंबई । आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि 2024-25 के लिए भारत की जीडीपी वृद्धि 7 प्रतिशत रहने का अनुमान है। इसी अवधि के लिए मुद्रास्फीति का...

विदेशी मुद्रा भंडार 645 अरब डॉलर के उच्चतम स्तर पर

मुंबई । देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार छठे सप्ताह बढ़ कर पहली बार 645 अरब डॉलर के पार पहुंच गया है, जो अब तक का उच्चतम स्तर है। भारतीय...

विश्व बैंक ने 2023-24 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान बढ़ाकर 7.5 प्रतिशत किया

नई दिल्ली । विश्व बैंक ने कहा है कि वित्त वर्ष 2024 में भारतीय अर्थव्यवस्था 7.5 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। वर्ल्ड बैंक ने पहले के अनुमान में 1.2 प्रतिशत...

फरवरी में भारत की खुदरा मुद्रास्फीति 4 महीने के निचले स्तर 5.09 प्रतिशत पर

नई दिल्ली । भारत की खुदरा मुद्रास्फीति फरवरी महीने में चार महीने के निचले स्तर 5.09 प्रतिशत पर आ गई, जिससे घरेलू बजट में कुछ राहत मिली है। मंगलवार को...

मायावती ने गठबंधन और तीसरे मोर्चे को बताया अफवाह, कहा बसपा का अकेले चुनाव लड़ने का फैसला अटल

लखनऊ । बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने 2024 के लोकसभा चुनाव में अकेले लड़ने का अपना पुराना स्टैंड फिर दोहराया है। उन्होंने चुनावी गठबंधन या तीसरे...

स्विगी ने ट्रेनों में भोजन वितरण सेवा के लिए आईआरसीटीसी के साथ मिलाया हाथ

नई दिल्ली । ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म स्विगी ने मंगलवार को कहा कि कंपनी ने ट्रेनों में फूड डिलीवरी सेवा प्रदान करने के लिए भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम...

admin

Read Previous

डीयू के पूर्व प्रोफेसर जीएन साईबाबा व अन्य माओवादी लिंक मामले में बरी

Read Next

हाईकोर्ट ने दिल्ली विधानसभा से सात भाजपा विधायकों का निलंबन रद्द किया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com