बिहार में फिर से जद (यू) और राजद के मिलेंगे ‘सुर’?

पटना, 26 जुलाई (आईएएनएस)| बिहार में सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल विभिन्न मुद्दे पर जहां आमने-सामने नजर आ रहे हैं वहीं राजग में शामिल जनता दल (युनाइटेड) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) कई मुद्दों पर एकसाथ नजर आ रहे हैं। हालांकि, इस बारे में कोई खुलकर कहने को तैयार नहीं है लेकिन नेताओं के बयान के बीच इसके संकेत मिलने लगे हैं कि राजग और जेडीयू के बीच सबकुछ ठीक नहीं है।

बिहार में अब एक बार फिर सवाल उठने लगा है कि क्या जद (यू) फिर से राजद के साथ गलबहियां करेगी? कहा जा रहा है कि आमतौर किसी भी मुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आक्रामक नहीं होते हैं, लेकिन जनसंख्या नियंत्रण तथा जातीय जनगणना को लेकर स्पष्ट तथा भाजपा से अलग राय रखकर इसके स्पष्ट संदेश दे दिए हैं कि जद (यू) अलग राह भी अपना सकती है।

उत्तर प्रदेश की सरकार ने जब जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कानून बनाने की बात कही थी तभी नीतीश कुमार ने इस मामले को लेकर खुद मोर्चा संभाला और सामने आकर अपनी राय रखते हुए कहा कि जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनाने की नहीं बल्कि महिलाओं को शिक्षित करने की जरूरत है।

इधर, नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर भी केंद्र सरकार से इस मामले को लेकर फिर से विचार करने की नसीहत तक दे डाली।

मुख्यमंत्री ने स्पष्ट कहा, “हम लोगों का मानना है कि जाति आधारित जनगणना होनी चाहिए। बिहार विधान मंडल ने 18 फरवरी 19 एवं पुन: बिहार विधान सभा ने 27 फरवरी 2020 को सर्वसम्मति से इस आशय का प्रस्ताव पारित किया था तथा इसे केन्द्र सरकार को भेजा गया था। केन्द्र सरकार को इस मुद्दे पर पुनर्विचार करना चाहिए।”

उल्लेखनीय है कि राजद पहले से ही जातीय जनगणना की मांग करती रही है। इस बीच, विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि जब जानवरों की गणना हो सकती है तो ओबीसी और इबीसी की क्यों नहीं। केंद्र सरकार की मंशा इसे लेकर ठीक नहीं है।

इधर, जदयू के वरिष्ठ नेता उपेंद्र कुशवाहा कहते हैं कि जदयू के स्टैंड साफ है कि जातीय जनगणना होनी चाहिए। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भाजपा और जदयू दोनों अलग-अलग दल हैं अब इसमें अलग-अलग नीतियां हैं।

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव रंजन खुलकर तो बहुत कुछ नहीं कहते हैं कि लेकिन इशारों ही इशारों में उन्होंने जदयू को नसीहत देते हुए कहा कि, “जाति-धर्म व्यक्तिगत और सामाजिक मसले हैं, इसके राजनीतिक प्रयोग से हर जिम्मेवार राजनीतिक दल को बचना चाहिए। धार्मिक राजनीति का खामियाजा देश ने पाकिस्तान दे कर चुकाया है और हजारों जानें जातिगत राजनीति की भेंट चढ़ी हैं।”

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि राजनीतिक भूख के लिए समाज में विभेद फैलाना कहां तक उचित है। भाजपा के नेताओं का कहना है कि भाजपा और जदयू कई मसलों पर अलग-अलग राय रखते हैं, दोनों अलग-अलग दल है।

बहरहाल, बिहार में राजग की सरकार चल रही है, लेकिन दो मुद्दांे पर दो घटक दलों की राय अलग-अलग है। ऐसे में कहा जा रहा है कि जदयू और राजद के सुर एकबार फिर से मिलने लगे हैं। कहा भी जाता है कि राजनीति में कब, कौन किसके दोस्त और कब किसके दुश्मन हो जाएं, कहा नहीं सकता। ऐसे में अब देखना होगा कि बिहार की सियासत किस करवट बैठती है।

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

भारतीय मूल के ब्रिटिश पुलिस अधिकारी ने की प्रवासियों पर गृह सचिव के विचार की आलोचना

लंदन : भारतीय मूल के एक वरिष्ठ ब्रिटिश पुलिस अधिकारी नील बसु ने प्रवासियों पर गृह सचिव सुएला ब्रेवरमैन की टिप्पणियों की आलोचना करते हुए कहा कि यह अविश्वसनीय और...

बेंगलुरु में स्कूल बैग में मिले कंडोम और गर्भनिरोधक गोलियां

बेंगलुरू: बेंगलुरू के स्कूलों में स्कूल बैग की नियमित जांच के दौरान छात्रों के पास से कंडोम, गर्भनिरोधक गोलियां, सिगरेट और व्हाइटनर जैसी सामग्री मिलने के मामले ने सभी को...

मास्टर प्लान 2041 में बढ़ी हुई एफएआर के प्रावधान के साथ मौजूदा कॉलोनियों के पुनर्जनन के लिए बनेंगी नीतियां

नई दिल्ली : मास्टर प्लान 2041 में मौजूदा कॉलोनियों के पुनर्जनन के लिए नीतियां, लैंड पूलिंग के जरिए ग्रीनफील्ड विकास और फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) के प्रावधान के साथ हरित...

editors

Read Previous

बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र शुरू, हेलमेट पहनकर पहुंचे विपक्ष के विधायक

Read Next

शेयर बाजार में तेजी के बीच सेंसेक्स में 53,000 अंक की बढ़त

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com