हिमालयन याक को एफएसएसएआई से मिला खाद्य पशु टैग

ईटानगर:केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) से हिमालयन याक को खाद्य पशु टैग मिला है। शीर्ष अधिकारियों ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। एफएसएसएआई टैगिंग, जिसे कुछ दिन पहले दिरांग (अरुणाचल प्रदेश) स्थित नेशनल रिसर्च सेंटर ऑन याक (एनआरसी-वाई) के प्रस्ताव के बाद अर्जित किया गया था, पारंपरिक दूध और मांस उद्योग के हिस्से के रूप में इसे शामिल किए जाने से ऊंचाई वाले गोजातीय जानवरों की संख्या में गिरावट रुकने की उम्मीद है।

आमतौर पर अत्यधिक पौष्टिक याक का दूध और मांस पारंपरिक डेयरी और मांस उद्योग का हिस्सा नहीं हैं, और उनकी बिक्री स्थानीय उपभोक्ताओं तक ही सीमित है। एनआरसी-वाई के निदेशक मिहिर सरकार ने कहा कि एफएसएसएआई टैगिंग का प्रस्ताव पिछले साल केंद्रीय प्राधिकरण को सौंपा गया था। हमने मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय के समक्ष याक के दूध और मांस के लाभों और पशु पालन के महत्व के बारे में एक विस्तृत प्रस्तुति दी।

उन्होंने आईएएनएस को फोन पर बताया, एफएसएसएआई ने पशुपालन और डेयरी विभाग की सिफारिश के बाद टैगिंग जारी की है। पालतू याक पूरे हिमालयी क्षेत्र में पाया जाता है – अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तरी बंगाल, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख और जम्मू और कश्मीर- जबकि जंगली याक तिब्बत में पाया जाता है।

सरकार ने कहा कि याक चरवाहा खानाबदोशों के लिए एक बहुआयामी सामाजिक-आर्थिक और सांस्कृतिक भूमिका निभाता है जो अपने पोषण समर्थन और आजीविका को बनाए रखने के लिए इसे बड़े पैमाने पर पालते हैं। एनआरसी-वाई के अनुसार, देश में याक की आबादी खतरनाक दर से घट रही है। 2019 की जनगणना के अनुसार, भारत में लगभग 58,000 याक थे, जो 2012 में की गई पिछली पशुधन गणना से लगभग 25 प्रतिशत कम है।

सरकार और अन्य विशेषज्ञों के अनुसार, याक आबादी में गिरावट का कारण बोविद से कम पारिश्रमिक, खानाबदोश याक पालन के साथ युवा पीढ़ी की अनिच्छा, घटते आवास और जलवायु परिवर्तन हो सकता है। एनआरसी-वाई के वैज्ञानिकों का मानना है कि याक के दूध और मांस उत्पादों के व्यावसायीकरण से उद्यमशीलता को बढ़ावा मिलेगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा और मानक नियमन, 2011 में याक को खाद्य उत्पादक (दूध और मांस) जानवर के रूप में शामिल किया जाना चाहिए।

पिछले साल एनआरसी-वाई द्वारा की गई अनूठी पहल के कारण, नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (नाबार्ड) ने याक किसानों की मदद करने के लिए सकारात्मक प्रतिक्रिया दी। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के प्रस्ताव के जवाब में बैंक आगे आए हैं और याक किसानों के साथ-साथ इस गोजातीय प्रजाति की खेती के माध्यम से आजीविका कमाने के इच्छुक अन्य लोगों को ऋण प्रदान करने की इच्छा दिखा रहे हैं।

सरकार ने कहा कि नाबार्ड द्वारा स्वीकृत ऋण प्रस्ताव और संबंधित योजनाओं को बैंकों द्वारा ऋण सहायता के लिए व्यवहार्य पाया गया और उन्हें संभावित लिंक्ड क्रेडिट योजनाओं में शामिल किया गया है। लद्दाख और जम्मू और कश्मीर में लगभग 26,000 याक की सबसे बड़ी आबादी है, इसके बाद अरुणाचल प्रदेश में लगभग 24,000, ज्यादातर तवांग और पश्चिम कामेंग जिलों में, सिक्किम में 5,000, हिमाचल प्रदेश में 2,000 और उत्तर बंगाल और उत्तराखंड में लगभग 1,000 हैं।

–आईएएनएस

दिल्ली में जन्मे पाकिस्तान के पूर्व सेना अध्यक्ष जनरल मुशर्रफ थे कारगिल युद्ध के लिए जिम्मेदार

नई दिल्ली:पाकिस्तान के राष्ट्रपति व सेना अध्यक्ष रह चुके जनरल परवेज मुशर्रफ का रविवार को निधन हो गया। दुबई में 79 की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली। भारत-पाकिस्तान के...

लालटेन दिवस में सुंदर लालटेन का आनंद लें

बीजिंग: चीनी पंचांग के अनुसार पहले महीने के पंद्रहवें दिन को लालटेन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस साल लालटेन दिवस 5 फरवरी को है। इस दिन चीनी...

कैंसर को लेकर 2021-25 के लिए अनुमानित आंकड़ा चिंताजनक : विशेषज्ञ

बेंगलुरु : इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की रिपोर्ट के अनुसार, साल 2021-2025 के लिए कैंसर को लेकर अनुमान चिंताजनक है और 2021 में 2.67 करोड़ से बढ़कर 2025...

आरएसएस के साथ बातचीत जारी रखने के इच्छुक मुस्लिम नेता

नई दिल्ली : मुस्लिम संगठनों का मानना है कि आरएसएस के साथ बातचीत जारी रहनी चाहिए और दोनों समुदायों के बीच संघर्ष का जल्द समाधान होना चाहिए। जमात ए इस्लामी...

टीटीपी पर नियंत्रण के लिए तालिबान के शीर्ष नेता की मदद लेगा पाक

इस्लामाबाद:   आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान ने तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) आतंकी समूह को नियंत्रित करने के लिए तालिबान के सर्वोच्च लीडर मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा के हस्तक्षेप की मांग करने का...

दिल्ली विश्वविद्यालय में अब मुफ्त में पढ़ सकेंगे अनाथ बच्चे : कुलपति

नई दिल्ली, अरविंद कुमार :दिल्ली विश्विद्यालय ने अपने शताब्दी वर्ष में अनाथ बच्चों के लिए आरक्षण एवम मुफ्त शिक्षा का प्रावधान किया है।इससे हर साल उन हजारों अनाथ बच्चों को...

निर्वाचन आयोग का गीत ‘मैं भारत हूं’ सोशल मीडिया पर हुआ वायरल

नई दिल्ली : इस साल होने वाले नौ विधानसभा चुनावों और अगले साल की शुरुआत में होने वाले लोकसभा चुनावों को देखते हुए चुनाव आयोग द्वारा तैयार किया गया गीत...

एसएंडपी ग्लोबल ने अडानी इलेक्ट्रिसिटी, अदानी पोर्ट्स की रेटिंग को ‘नेगेटिव’ किया

चेन्नई : वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स ने शुक्रवार को कहा कि उसने अदानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड और अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड के रेटिंग आउटलुक...

‘श्रमिकों की आवश्यक संख्या के लिए फिनलैंड को विदेशियों के आने की दर करनी होगी तिगुनी’

हेलसिंकी : फिनलैंड को देश की श्रम शक्ति की जरूरतों के लिए सालाना करीब 44,000 लोगों के आव्रजन की जरूरत है। एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। समाचार...

बच्चों में परीक्षा से जुड़े तनाव को दूर करने के लिए परीक्षा पर्व 5.0 का आयोजन होगा

नई दिल्ली: राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) प्रधानमंत्री के परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम से प्रेरित होकर 6 फरवरी से 31 मार्च तक परीक्षा पर्व 5.0 का आयोजित कर रहा...

देश वंचितों को प्राथमिकता देता है: पीएम मोदी

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्र उन लोगों को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है जो अब तक वंचित और उपेक्षित रहे हैं। असम के बारपेटा स्थित कृष्णगुरु...

शोधकर्ताओं ने मूत्र के माध्यम से ब्रेन ट्यूमर का पता लगाने वाला उपकरण बनाया

टोक्यो:जापान में शोधकर्ताओं की एक टीम ने मूत्र में महत्वपूर्ण प्रोटीन की पहचान करने वाला नया उपकरण बनाया है, जिससे यह पता चल जाएगा की मरीज को ब्रेन ट्यूमर है...

editors

Read Previous

पांच साल में दस गुना बढ़ गयी वाराणसी में पर्यटकों की संख्या

Read Next

शराब के असली धंधेबाज पर कड़ी कार्रवाई हो : नीतीश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com