कोविड मामले बढ़ने के कारण आधे ऑस्ट्रेलिया में फिर से लॉकडाउन

कैनबरा: ऑस्ट्रेलिया की लगभग आधी आबादी कोविड के प्रकोप से निपटने के लिए नए सिरे से लॉकडाउन झेल रही है। इससे देश में गुस्सा बढ़ रहा है। बहुत से लोगों ने महामारी में 18 महीने के अत्यधिक पुलिस नियंत्रण वाले लॉकडाउन में वापस आने पर निराशा व्यक्त की है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, एक तिहाई राज्य, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया, विक्टोरिया और न्यू साउथ वेल्स के कुछ हिस्सों में मंगलवार को लॉकडाउन लग गया। ऑस्ट्रेलिया में 14 प्रतिशत से भी कम लोगों को टीका लगाया गया है। यह ओईसीडी देशों में सबसे खराब रेटिंग है।

ऑस्ट्रेलिया के दो सबसे बड़े शहर, सिडनी और मेलबर्न को अनिश्चितता का सामना करना पड़ रहा है कि उनको कब दोबारा खोला जाए।

यूके और यूएस में फिर से खुलने से संघीय सरकार पर दबाव बढ़ गया है।

टीकाकरण की धीमी दर को लेकर प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन की भारी आलोचना हुई है, लेकिन उन्होंने माफी मांगने के आह्वान का विरोध किया है।

उन्होंने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, “किसी भी देश को उनकी महामारी की प्रतिक्रिया 100 प्रतिशत नहीं मिली है। मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलियाई लोग इसे समझते हैं।”

उन्होंने फिर से कई देशों के नीचे समग्र संक्रमणों को अच्छी तरह से कंट्रोल में रखने में ऑस्ट्रेलिया की सफलता का हवाला दिया। इसमें 915 मौतें दर्ज की गई हैं।

मॉरिसन ने उल्लेख किया कि यूके ने मंगलवार को एक ही दिन में 90 से अधिक मौतें देखीं।

लेकिन लेबर फ्रंटबेंचर जिम चल्मर्स ने कहा: “यह एक ऐसा प्रधानमंत्री है जो लोगों को चोट लगने के दौरान कहीं जाकर छिप जाता है।”

कुछ समय पहले तक, सीमाएं बंद करने, क्वारंटीन कार्यक्रमों और स्नैप लॉकडाउन की रणनीति के लिए ऑस्ट्रेलिया की काफी प्रशंसा की गई थी।

लेकिन अत्यधिक संक्रामक डेल्टा वेरिएंट ने पिछले एक महीने में इन बचाव उपायों को चुनौती दी है।

ऑस्ट्रेलिया के सबसे बड़े शहर सिडनी में इसका प्रकोप 1,500 से अधिक लोगों को संक्रमित कर चुका है।

शहर के चौथे सप्ताह के लॉकडाउन के बावजूद अधिकारियों ने बुधवार को कोरोना के 110 नए मामले दर्ज किए।

लोगों से कहा गया है कि उनको किराना खरीदारी, व्यायाम और अन्य आवश्यक कारणों को छोड़कर अपने घरों से बाहर नहीं निकलना चाहिए।

ऐसी आशंका है कि सिडनी का लॉकडाउन सितंबर तक बढ़ सकता है, मॉडलिंग के बाद शहर को मामलों को खत्म करने में महीनों लग सकते हैं।

डेल्टा वेरिएंट के पांच मामले पाए जाने के बाद दक्षिण ऑस्ट्रेलियाई सात दिनों तक घर पर रहेंगे।

विक्टोरिया में बुधवार को 22 नए संक्रमण देखे गए जो कम से कम मंगलवार तक अपना लॉकडाउन बनाए रखेगा।

–आईएएनएस

सिर्फ कॉलेजियम ही नहीं, एससी ने अरुण गोयल की चुनाव आयोग में पदोन्नति पर भी पूछे कड़े सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के केंद्र से सवाल करने या सरकार की खिंचाई करने में कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन हाल ही में जिस तरह से शीर्ष...

भोपाल गैस त्रासदी : जिन डॉक्टर ने सबकुछ देखा, उनसे जानिए उस भयानक रात की कहानी

भोपाल: एच.एच. त्रिवेदी, जो अब अपने 80 के दशक में हैं और अभी भी भोपाल की अरेरा कॉलोनी में एक क्लिनिक चलाते हैं, 2-3 दिसंबर, 1984 की भयावह रात को...

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

editors

Read Previous

ब्राह्मण वोटों में सेंध लगाने आप के बाद अब बसपा भी खुशी दुबे के लिए लड़ेगी

Read Next

क्रिस्टियानो रोनाल्डो का कौशल और तकनीक जबरदस्त है : पीवी सिंधु

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com