बनारसी साड़ियों के असली पहचान करना होगा आसान,साड़ी में बुना जाएगा क्यूआर कोड

वाराणसी,25 जुलाई (आईएएनएस)| बनारसी साड़ियों के असली होने की पुष्टि के लिए अब एक क्यूआर कोड को हाथ से बनारसी साड़ियों में बुना जाएगा।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (आईआईटी-बीएचयू ) के मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग (औद्योगिक प्रबंधन) की एक शोध टीम ने एक नई तकनीक विकसित की है जिसमें साड़ी, हैंडलूम मार्क लोगो, सिल्क मार्क और विवरण युक्त क्यूआर कोड अंतर्निहित होगा।

हैंडलूम उद्योग में साड़ियों पर क्यूआर कोड और लोगो का उपयोग करके विश्वास-निर्माण के उपायों के लिए आईआईटी (बीएचयू) और अंगिका सहकारी समिति द्वारा शोध कार्य किया गया था।

शोधकतार्ओं ने कहा कि साड़ी में लोगो की इनबिल्ट बुनाई हस्तनिर्मित हथकरघा साड़ी की शुद्धता को प्रमाणित करेगी। यह ग्राहकों को सही हथकरघा साड़ी चुनने और हथकरघा और उसके उत्पादों के दुरुपयोग को रोकने के लिए विश्वास दिलाएगा।

प्रो. प्रभाष भारद्वाज ने कहा कि वाराणसी के हथकरघा उद्योग को आधुनिक ²ष्टिकोण अपनाने होंगे।

उन्होंने कहा, हमारे शोधार्थी द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार, इस उद्योग में आईटी आधारित अनुप्रयोगों को शामिल करने की काफी संभावनाएं हैं। वर्तमान में, हमारी शोध टीम क्यूआर कोड तकनीक और साड़ी पर लोगो की बुनाई के साथ आएगी।

निमार्ता अपनी फर्म और निर्माण के विवरण के साथ साड़ी पर क्यूआर कोड बुन सकता है। जब भी ग्राहक किसी उत्पाद के बारे में जानना चाहता है, उसे उसके बारे में जानने के लिए अपने मोबाइल में स्कैनर का उपयोग करना पड़ेगा। वह क्यूआर कोड में सभी विवरण दर्ज करवाएगा, जैसे निमार्ता का स्थान, निर्माण की तारीख आदि, इन उपायों से ग्राहकों में विश्वास पैदा होगा और बिक्री में वृद्धि होगी।

बनारस हथकरघा उद्योग के विकास पर काम कर रहे अनुसंधान विद्वान एम. कृष्ण प्रसन्ना नाइक ने कहा कि बनारस हथकरघा उद्योग प्रमुख मुद्दों का सामना कर रहा है, जिसमें विपणन उनमें से एक है।

उनके अध्ययन के अनुसार, अधिकांश ग्राहकों को हथकरघा और पावरलूम से बनी साड़ी के बीच अंतर के बारे में पता नहीं है। हैंडलूम मार्क और जीआई मार्क के बारे में सीमित संख्या में ही ग्राहक जानते हैं।

उनके अध्ययन से यह भी पता चलता है कि ग्राहक इस बात से अनजान हैं कि विक्रेता वास्तविक हथकरघा अंक प्रदान करते हैं या उत्पादों के साथ डुप्लिकेट हैंडलूम चिह्न्। इसलिए, उन्हें लोगो और क्यूआर कोड वाली साड़ियों का विचार आया।

नाइक ने कहा कि पूरी तरह से डिजाइन की गई साड़ी में 6.50 मीटर लंबाई होती है जिसमें 1 मीटर ब्लाउज के टुकड़े शामिल होते हैं।

साड़ी का हिस्सा पूरा होने के बाद ब्लाउज के बुनने से पहले 6-7 इंच के सादे कपड़े का एक हिस्सा। इस पैच में क्यूआर कोड और अन्य तीन लोगो शामिल हैं।

इस अतिरिक्त कपड़े के टुकड़े में इन लोगो को शामिल करने से कपड़े की ताकत और शैली कम नहीं होगी और साड़ी का लुक बरकरार रहेगा।

अंगिका सहकारी समिति के अध्यक्ष अमरेश कुशवाहा और वाराणसी स्थित डिजाइनर अंगिका ने पहली बार इस विचार को लागू किया है।

उन्होंने कहा कि जीआई मार्क्‍स और हैंडलूम मार्क्‍स का सही इस्तेमाल नहीं होने के कारण ग्राहक साड़ियों की मौलिकता को लेकर आश्वस्त नहीं थे।

उन्होंने कहा, इसलिए, हम इस क्यूआर कोड और हैंडलूम मार्क लॉग को अपनी साड़ियों में शामिल करने की कोशिश कर रहे हैं। यह हमारे स्थानीय और विदेशी ग्राहकों को हथकरघा उत्पादों और पावरलूम उत्पादों के बीच अंतर करने में मदद करेगा।

पाकिस्तान वित्तीय आपातकाल में

इस्लामाबाद: पाकिस्तान बिजनेस फोरम (पीबीएफ) ने कहा कि पाकिस्तानी रुपये की लगातार गिरावट देश में आर्थिक संकट को गहरा रही है। पीबीएफ के सीईओ अहमद जवाद ने एक बयान में...

बाबरी मस्जिद के ढहाए जाने के बाद बढ़ा आतंक और दंगा

मुंबई: भारत में आज अयोध्या में बाबरी मस्जिद को गिराए जाने की 30वीं वर्षगांठ है। इसने व्यावहारिक रूप से देश के राजनीतिक परि²श्य को हमेशा के लिए बदल दिया। बाबरी...

अफगानिस्तान में आतंकी नेटवर्क बना रहना चिंता का विषय : अजीत डोभाल

नई दिल्ली : भारत पहली बार मंगलवार को कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों के एक सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। इस सम्मेलन में अफगानिस्तान में...

इस बार पीएम से अलग से मिलने की कोई संभावना नहीं : ममता

कोलकाता:पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह अपनी दिल्ली यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री से अलग से नहीं मिलेंगी। मुख्यमंत्री ने सोमवार दोपहर राष्ट्रीय राजधानी के लिए...

‘पेसा एक्ट आदिवासियों की जिंदगी में बदलाव लाएगा

इंदौर: यहां के नेहरू स्टेडियम में क्रांति सूर्य टंट्या मामा भील बलिदान दिवस पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और...

लिंगायत मठ कांड: पीड़ितों की मां ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांगी न्याय या इच्छामृत्यु

मैसूर (कर्नाटक): लिंगायत मठ सेक्स स्कैंडल में दो पीड़ितों की मां ने सोमवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक पत्र लिखा, जिसमें कहा गया है कि उन्हें या तो न्याय...

शादी की बेकरारी में मंगेतर को ही भगा ले गया युवक

छपरा: आपने अब तक प्रेम संबंध में युवक-युवती के भागने की घटना देखी और सुनी होगी, लेकिन कोई युवक अपनी मंगेतर को ही शादी की नीयत से भगा ले जाए,...

छत्तीसगढ़ में बुजुर्ग, दिव्यांग और ट्रांसजेंडर के लिए हेल्प लाईन सुविधा जारी

रायपुर: छत्तीसगढ़ में बुजुर्गों, दिव्यांगजन और तृतीय लिंग समुदाय (ट्रांसजेंडर) के लिए हेल्पलाईन सुविधा शुरू की गई है। इससे इन वर्ग के लोगों को तत्काल जरुरी सुविधाएं आसानी से मिल...

एमसीडी चुनाव : दिल्ली की जनता के फैसले का होगा दूरगामी असर

नई दिल्ली: देश की राजधानी होने की वजह से दिल्ली नगर निगम का चुनाव वैसे तो हमेशा से ही हाई प्रोफाइल चुनाव माना जाता रहा है लेकिन इस बार का...

लाखों का मकान, लिफ्ट में फंस जाती है जान, कौन है जिम्मेदार

नोएडा: ग्रेटर नोएडा वेस्ट की निराला एस्पायर सोसायटी में ट्यूशन से घर लौट रहा एक 8 साल का मासूम बच्चा लिफ्ट में फंस गया। लिफ्ट में सवार होने के बाद...

छत्तीसगढ़ में बच्चों ने जाना ड्रोन उड़ाने का हुनर

रायपुर: वर्तमान दौर में ड्रोन उड़ाने और उसकी तकनीक को जानना जरुरी हो गया है। यही कारण है कि छत्तीसगढ़ में स्कूली बच्चों को इससे अवगत कराने के लिए रीजनल...

मप्र के प्रगतिशील किसान कर रहे स्ट्रॉबेरी की खेती

शिवपुरी: मध्य प्रदेश में किसान अब परंपरागत खेती की बजाय नए प्रयोग करने से हिचकते नहीं है। शिवपुरी के किसान तो अब स्ट्रॉबेरी की खेती भी करने लगे हैं। ऐसा...

editors

Read Previous

योगी की आम रणनीति : पीएम, भाजपा नेताओं को भेजे स्वादिष्ट आम

Read Next

कश्मीर में मुठभेड़ में मारा गया आतंकवादी, वाघा सीमा से घुसपैठ किया था: पुलिस

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com