गंगा में शव बहाने का मामला : सुप्रीम कोर्ट ने कहा, एनएचआरसी जाइए

2021-06-28


28 जून, 2021

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को उस याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें मृतकों के अधिकारों की रक्षा के लिए एक नीति बनाने और दाह संस्कार, कोविड प्रभावित शवों को दफनाने और एम्बुलेंस सेवाओं के लिए अधिक शुल्क को नियंत्रित करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई है। शीर्ष अदालत ने कहा, याचिकाकर्ता के वकील इस मामले को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ले जाने के लिए स्वतंत्र हैं।

न्यायमूर्ति नागेश्वर राव और हेमंत गुप्ता की पीठ ने कहा, आप जो समस्या उठा रहे हैं, वह गंभीर समस्या है और हम इससे सहमत भी हैं, लेकिन सौभाग्य से स्थिति अभी ऐसी नहीं है। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में जाइए ..एनएचआरसी मुद्दों का ध्यान रखेगा।

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता की ओर से पेश अधिवक्ता ने दलील दी कि गंगा नदी में शव मिलने की घटनाओं की पृष्ठभूमि में मृतकों के अधिकारों की रक्षा के लिए नीति बनाने के निर्देश दिए जाने की जरूरत है। वकील ने दलील दी कि याचिकाकर्ता के संगठन ने इस मुद्दे को उच्च न्यायालय के समक्ष उठाया है, लेकिन अभी तक आवश्यक कार्रवाई नहीं की गई है।

पीठ ने जवाब दिया, एनएचआरसी को जवाब देने के लिए कहा गया है। आप एनएचआरसी में जाइए। आप कितने मंचों से संपर्क करेंगे? आप पहले ही उच्च न्यायालय से संपर्क कर चुके हैं। उच्च न्यायालय ने एक निर्देश दिया है। एनएचआरसी ने हस्तक्षेप किया है।

पीठ ने जोर देकर कहा कि याचिका में उठाए गए मुद्दे गंभीर हैं और एनएचआरसी मामले की जांच के लिए उपयुक्त मंच है।

एनजीओ ट्रस्ट डिस्ट्रेस मैनेजमेंट कलेक्टिव ने एक ऐसे विशिष्ट कानून के अधिनियमन पर जोर देते हुए एक याचिका दायर की, जो मृतकों के अधिकारों की रक्षा कर सके।

याचिका में शीर्ष अदालत से सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को जल्द से जल्द गैर-अनुपालन के लिए दंडात्मक कार्रवाई के साथ-साथ दाह संस्कार और एम्बुलेंस सेवाओं के लिए दरें निर्धारित करने के लिए दिशानिर्देश जारी करने का भी आग्रह किया गया है।

याचिका में मृतकों के सम्मान और अधिकारों की रक्षा के लिए 14 मई को जारी एनएचआरसी की सलाह का भी हवाला दिया गया, जिसमें केंद्र और सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को 11 सिफारिशें दी गई हैं।

दायर की गई याचिका में श्मशान और एम्बुलेंस सेवा प्रदाताओं द्वारा किए जा रहे अधिक शुल्क पर भी प्रकाश डाला गया है और दलील दी गई है कि यह सीधे गंगा नदी में शवों को फेंकने की खबर से जुड़ा है।

–आईएएनएस

राजस्थान में बेटियों की नीलामी मामले पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने लिया संज्ञान

नई दिल्ल : स्टांप पेपर पर राजस्थान की लड़कियों की नीलामी की खबरों पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने शुक्रवार...

गाजियाबाद सामूहिक दुष्कर्म मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने गठित की टीम, परिवार से करेगी मुलाकात

नई दिल्ली : गाजियाबाद में भाई के घर जन्मदिन पार्टी मनाने आई 38 वर्षीय महिला के साथ पांच लोगों ने दरिंदगी मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लेते हुए...

जेल में महिला कैदियों को मिली ‘करवा चौथ’ व्रत रखने की इजाजत

लखनऊ : लखनऊ जेल में करीब 50 महिला कैदी 'करवा चौथ' के मौके पर गुरुवार को व्रत रख रही हैं। उत्तर प्रदेश के जेल मंत्री धर्मवीर प्रजापति द्वारा इस संबंध...

जम्मू-कश्मीर : पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों को जमीन का मालिकाना हक देगी केंद्र सरकार

जम्मू : केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में पश्चिमी पाकिस्तान के शरणार्थियों (डब्ल्यूपीआर) को जमीन का मालिकाना हक देने का फैसला किया है। अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद, केंद्र...

याचिकाकर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा : हिजाब फर्ज है, इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं

नई दिल्ली : याचिकाकर्ताओं ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस्लामी धार्मिक ग्रंथ के मुताबिक हिजाब पहनना 'फर्ज' (कर्तव्य) है और अदालतें इसकी अनिवार्यता अदालतें नहीं समझ सकतीं।...

बिलकिस बानो सामूहिक बलात्कार के दोषीयों की रिहाई, महिलाओं का अपमान: सामजिक कार्यकर्ता

भारत के 75वें स्वतंत्रा दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के निर्माण में महिलाओं की भूमिका पर दिया. लेकिन इसी दिन गुजरात सरकार ने 11, सामूहिक बलात्कार और हत्या...

मप्र सरकार की बुलडोजर कार्रवाई का विरोध करने वाले मुस्लिम एक्टिविस्ट पर एनएसए के तहत कार्रवाई

भोपाल : खरगोन में सांप्रदायिक हिंसा के बाद मध्य प्रदेश सरकार के बुलडोजर अभियान के खिलाफ आवाज उठाने वाले एक एक्टिविस्ट को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत गिरफ्तार किया...

यूपी : जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की जेलों में विचाराधीन कैदियों की संख्या दोषियों की तुलना में तीन गुना अधिक है, जो बताता है कि जेलों में भीड़भाड़ क्यों है। जेल विभाग...

ग्रेड पे विवाद: भारी बारिश में धरने पर बैठी सस्पेंड पुलिसकर्मी की पत्नी, बच्चों के साथ आत्मदाह की दी धमकी

देहरादून : उत्तराखंड पुलिसकर्मियों के परिजनों ने प्रेस वार्ता कर ग्रेड पे 4600 किए जाने की मांग उठाई थी, जिसके बाद अनुशासनहीनता का हवाला देकर तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर...

कर्नाटक सीरियल किलिंग मामला : मुस्लिम संगठनों ने सकार पर लगाया भेदभाव का आरोप

दक्षिण कन्नड़ : मुस्लिम संगठनों ने कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में मारे गए मुस्लिम और हिंदू युवाओं के परिवारों को मुआवजा देने के मामले में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार द्वारा...

महिलाओं और लड़कियों की जिंदगी तबाह कर रही तालिबानी सरकार

यूयॉर्क : एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि अफगानिस्तान में महिलाओं और लड़कियों के मानवाधिकारों पर तालिबान की कार्रवाई से उनकी जिंदगी तबाह हो रही है। अगस्त 2021 में जब से...

लैंगिक समानता के मामले में पाकिस्तान विश्व का दूसरा सबसे खराब देश

जेनेवा: पाकिस्तान लैंगिक समानता के मामले में विश्व भर में दूसरा सबसे खराब देश माना गया है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, विश्व आर्थिक मंच (वल्र्ड इकोनॉमिक फोरम)...

admin

Read Previous

डॉ. रेड्डीज ने कोविड-19 की दवा 2-डीजी मार्किट में उतारी

Read Next

यूपी पंचायत चुनाव नहीं लड़ रही बसपा : मायावती

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com