मुहर्रम के दिशानिर्देशों को लेकर उत्तर प्रदेश के शिया मौलवी नाराज

लखनऊ, 2 अगस्त (आईएएनएस)| उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से जारी मुहर्रम के दिशानिर्देशों को लेकर शिया धर्मगुरुओं ने नाराजगी जताई है। शिया धर्मगुरु सोमवार को अपनी भविष्य की कार्रवाई तय करने के लिए कई बैठकें करेंगे।

अखिल भारतीय शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सोमवार शाम को एक बैठक बुलाई है।

शिया मौलवियों का दावा है कि मुहर्रम को लेकर जारी गाइडलाइंस में उत्तर प्रदेश पुलिस ने आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है।

मुहर्रम के दौरान शांति बनाए रखने के लिए पुलिस आयुक्तों और पुलिस प्रमुखों को डीजीपी कार्यालय द्वारा जारी एक आंतरिक पत्र को ‘शिया समुदाय के खिलाफ आरोप पत्र’ करार देते हुए, मौलवियों ने मांग की कि सरकार को दिशानिर्देशों को तुरंत वापस लेना चाहिए।

मौलाना कल्बे नूरी ने कहा , “यह दिशानिर्देश अस्वीकार्य हैं क्योंकि यह शांतिप्रिय शियाओं को खराब छवि में दिखाते है।”

मजलिस-ए-उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि, दस्तावेज वापस लेने पर ही डीजीपी से बात हो सकेगी।

उन्होंने कहा , “भाषा निंदनीय है। हमने मुहर्रम समितियों से पुलिस और प्रशासन द्वारा बुलाई गई बैठकों का बहिष्कार करने को कहा है।”

शिया मरकजी चंद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास ने कहा कि जिस व्यक्ति ने दस्तावेज तैयार किया था, वह जाहिर तौर पर शांति भंग करने की साजिश कर रहा है।

गाइडलाइंस को लेकर मौलवी की मुख्य आपत्ति यह है कि सर्कुलर में मुहर्रम को बार-बार ‘त्योहार’ बताया गया है।

मौलाना यासूब अब्बास ने आईएएनएस से कहा , “डीजीपी को पता होना चाहिए कि मुहर्रम निश्चित रूप से ‘त्योहार’ नहीं है, बल्कि शोक का समय है। दिशानिर्देश मुस्लिम समुदाय के प्रति राज्य सरकार की संवेदनहीनता को दर्शाते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, ” यह दिशानिर्देश कहते हैं कि तबारा शिया समुदाय की ओर से पढ़ा जाता है। इसमें कहा गया है कि कुछ असामाजिक तत्व इसे जानवरों की पीठ पर लिखते हैं और ऐसी बातें लिखकर पतंग उड़ाते हैं जो सुन्नी समुदाय के लिए आपत्तिजनक हैं। यह शिया और सुन्नी समुदायों के बीच विभाजन पैदा करने के लिए जानबूझकर की गई कोशिश है।”

शिया मौलवियों ने सभी उलेमाओं और संगठनों से अपील की है कि अगर दिशा-निर्देश वापस नहीं लिया जाता है तो वे जिला और शहर स्तर पर शांति सभाओं का बहिष्कार करेंगे।

यूपी के पुलिस महानिदेशालय (डीजीपी) मुकुल गोयल ने रविवार रात जारी दिशा-निर्देशों में आदेश दिया कि राज्य में मुहर्रम के साथ-साथ कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन किया जाना चाहिए और प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए मनाया जाना चाहिए।

डीजीपी ने कहा कि किसी भी तरह के हथियार के प्रदर्शन की इजाजत नहीं होगी। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को असामाजिक तत्वों के खिलाफ निवारक कार्रवाई करने और फर्जी और भड़काऊ कंटेंट के लिए सोशल मीडिया पर नजर रखने के निर्देश दिए हैं।

यूपी डीजीपी ने अपने अधिकारियों से कोविड-19 के बारे में जागरूकता फैलाने और मुहर्रम को घर के अंदर मनाने की आवश्यकता के लिए धार्मिक नेताओं के साथ संवाद करने का भी अनुरोध किया।

उन्होंने कहा कि, मुहर्रम पर होने वाले सभी कार्यक्रमों पर शांति समिति की बैठक में फैसला होना चाहिए।

उन्होंने संवेदनशील इलाकों में पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल तैनात करने के भी आदेश दिए। डीजीपी ने निर्देश दिया कि, “हर जिले में पर्याप्त संख्या में पुलिस पीएसी बल के रिजर्व रखे जाएं।”

मुहर्रम के दौरान धार्मिक जुलूसों की अनुमति नहीं देने का निर्णय योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा इस महीने की शुरूआत में कोविड -19 महामारी के कारण कांवड़ यात्रा पर प्रतिबंध लगाने के बाद आया है।

–आईएएनएस

एम्स रैंसमवेयर अटैक : प्रमुख मरीजों के डेटा लीक का खतरा, डार्क वेब पर बिक्री में शामिल

नई दिल्ली:अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली, इस सप्ताह के शुरू में बड़े पैमाने पर रैंसमवेयर हमले के बाद अभी भी अपने सर्वर को ठीक करने और चलाने के...

तेलंगाना: एफआरओ की हत्या पर गुट्टी कोया आदिवासियों को निकालने का फैसला

हैदराबाद: तेलंगाना के भद्राद्री कोठागुडेम जिले के एक गांव ने हाल ही में वन रेंज अधिकारी (आरएफओ) की हत्या में कथित रूप से शामिल गुट्टी कोया आदिवासियों को बाहर निकालने...

एमसीडी चुनावों में महिला शक्ति: पार्टियों का महिला उम्मीदवारों पर ज्यादा भरोसा

नई दिल्ली:दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के हलफनामों के विश्लेषण से पता चला है कि प्रमुख राजनीतिक दलों ने इस साल महिला उम्मीदवारों पर अधिक भरोसा किया...

एक और पाक सेना प्रमुख संभावित समय से पहले सेवानिवृत्ति की ओर

रावलपिंडी:पूर्व खुफिया प्रमुख और बहावलपुर कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल फैज हामिद ने जल्दी सेवानिवृत्ति लेने का फैसला किया है। मीडिया ने शनिवार को यह जानकारी दी। लेफ्टिनेंट जनरल हामिद...

बिहार की गठबंधन सरकार ‘लव जिहाद’ को नहीं दे रही तवज्जो, भाजपा हर बार उठा रही मुद्दा

पणजी: जाने-माने एनिमेटर डॉ क्रिश्चियन जेज्डिक ने कहा कि एनिमेशन टीवी सीरीज बनाने का सबसे अच्छा तरीका एक मूल विचार होना है। वह शनिवार को यहां 53वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म...

कर्नाटक सरकार ग्राम पंचायतों के बीच संविधान की कॉपियां वितरित करेगी : सीएम बोम्मई

बेंगलुरु:कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने शनिवार को संविधान दिवस के अवसर पर बीआर अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि...

इस्लामोफोबिया या वास्तविक चिंता : दिशा तलाश रही ‘लव जिहाद’ की हवा

'लव जिहाद' की अभिव्यक्ति इस धारणा पर आधारित है कि मुस्लिम पुरुषों द्वारा 'प्रेम' के बहाने धोखे, अपहरण और विवाह का उपयोग करके हिंदू महिलाओं को निशाना बनाने और धर्म...

सिसोदिया ने बदले 12 सेलफोन, ईडी ने चार्जशीट में लगाया आरोप

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को दायर अपनी चार्जशीट में कहा कि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 12 सेलफोन बदले। इससे पहले ईडी ने आरोप लगाया...

26/11 के चार प्रमुख दोषियों को संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों से बचाता रहा चीन

संयुक्त राष्ट्र : चीन 26/11 के मुंबई हमले को अंजाम देने वाले लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के चार प्रमुख नेताओं को संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों से बचाकर सुरक्षा परिषद के अन्य सदस्यों...

केरल की ओर से कचरा फेंके जाने पर तमिलनाडु में विरोध-प्रदर्शन

चेन्नई : केरल द्वारा नारणपुरम गांव में इलेक्ट्रॉनिक और बायोमेडिकल कचरा फेंके जाने के खिलाफ तमिलनाडु के तेनकासी में विरोध बढ़ रहा है। गौरतलब है कि केरल के पोल्ट्री कचरे...

26/11 हमला: महाराष्ट्र सरकार ने शहीदों को दी श्रद्धांजलि

मुंबई : महाराष्ट्र सरकार ने 14 साल पहले दुनिया को हिलाकर रख देने वाले 26/11 के आतंकवादी हमलों में मारे गए 166 शहीदों को याद कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। राज्यपाल...

पाकिस्तान में आतंकवादी हमले में दो की मौत

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के लक्की मरवत जिले में हुए आतंकवादी हमले में दो जवान शहीद हो गए और दो अन्य घायल हो गए। समाचार एजेंसी शिन्हुआ...

editors

Read Previous

पूरे विश्व में कोरोना के मामले 19.82 करोड़ से ज्यादा

Read Next

सरकार को जम्मू-कश्मीर की महिलाओं से बातचीत करनी चाहिए : आशीष कौल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com