सुप्रीम कोर्ट ने घरेलू झगड़े के मामले में पति से कहा, पत्नी के साथ सम्मान से पेश आएं, नहीं तो जेल जाएं

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को वैवाहिक झगड़े से संबंधित एक मामले में सुनवाई के दौरान एक पति से कहा कि वह अपनी पत्नी के साथ सम्मान से पेश आए और अगर वह इसमें विफल रहता है, तो जेल जाने के लिए तैयार रहे।

पत्नी ने आरोप लगाया है कि पति ने उसे प्रताड़ित किया और उसके साथ सम्मानित व्यवहार भी नहीं किया गया।

प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एन. वी. रमना और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले की वर्चुअल सुनवाई करते हुए पति-पत्नी दोनों को ऑनलाइन आने को कहा।

इस जोड़े के बीच समझौता करने के प्रयास में न्यायमूर्ति सूर्यकांत ने दंपति से हिंदी में बातचीत की। पत्नी ने कहा कि वह अपने पति के साथ रहने को तैयार है, लेकिन वह उसके साथ सम्मान से पेश नहीं आता।

इसके बाद न्यायमूर्ति यूर्यकांत ने हिंदी में बात करते हुए पति से कहा, हम आपके व्यवहार को देखेंगे। अगर आप कुछ भी गलत करते हैं, तो हम आपको नहीं बख्शेंगे।

न्यायमूर्ति सूर्यकांत ने पति को आगाह किया कि वह अपनी पत्नी के साथ सम्मान के साथ पेश आने के वादे से पीछे न हटें और तलाक की याचिका सहित अपनी पत्नी के खिलाफ सभी मामले वापस लेने को कहा।

प्रधान न्यायाधीश ने पति की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अंजना प्रकाश से कहा, मामलों को वापस लेने के लिए एक हलफनामा दाखिल करें। लेकिन अगर पति गलत व्यवहार करता है, तो हम उसे वापस जेल भेज देंगे। हम मामले को लंबित रख रहे हैं।

पति ने कहा कि वह उसके साथ बुरा व्यवहार नहीं करेगा और शांति से उसके साथ रहेगा। महिला ने समझौते की शर्त पर जोर देते हुए कहा, बस मुझे टॉर्चर (यातना देना) न करें।

पीठ ने पति को चेतावनी देते हुए कहा, अगर वह जमानत के लिए ड्रामा कर रहा है, तो हम नहीं छोड़ेंगे।

पीठ ने जोर देकर कहा कि जोड़े को अपने रिश्ते को सामान्य करना चाहिए और प्रकाश से कहा कि उसे ऐसा करना चाहिए था न कि अदालत को। दंपति एक दूसरे के खिलाफ सभी मामले वापस लेने पर सहमत हुए। पीठ ने कहा कि वह मामले को लंबित रखेंगे और पति से एक हलफनामा दाखिल करने को कहा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हलफनामा दायर कर बताएं कि सभी केस वापस लेने को तैयार हैं।

आंध्र प्रदेश के रहने वाले प्रधान न्यायाधीश रमना ने पिछले हफ्ते तेलुगु में एक महिला से बात की थी, ताकि आंध्र प्रदेश के एक अलग रह रहे जोड़े के बीच दो दशक पुरानी कानूनी लड़ाई को समाप्त किया जा सके। दंपति के बीच दो दशक पुरानी कानूनी लड़ाई चल रही थी और महिला ने अपने पति की जेल की सजा बढ़ाने की मांग को लेकर शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

मामले में आसानी से बातचीत को सफल बनाने के इरादे से प्रधान न्यायाधीश रमना ने महिला को तेलुगु में कानूनी स्थिति के बारे में बताया और कहा कि जेल की अवधि बढ़ाने से दोनों में से किसी को भी मदद नहीं मिलेगी। अंत में, महिला दहेज के एक मामले में अपने पति के लिए जेल की अवधि बढ़ाने की मांग वाली याचिका वापस लेने के लिए तैयार हो गई।

दिल्ली हिंसा के आरोपी सैफी की जमानत याचिका पर सुनवाई जारी रखेगा हाईकोर्ट

नई दिल्ली : वर्ष 2020 की दिल्ली हिंसा के पीछे कथित साजिश से जुड़े यूएपीए मामले में गिरफ्तार खालिद सैफी के वकील ने सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट में कहा कि...

यूपी व गुजरात में लव जिहाद कानून समान, लेकिन गुजरात में अधिक कठोर दंड

अहमदाबाद : गुजरात फ्रीडम ऑफ रिलिजन एक्ट, 2003 'लव जिहाद' या अंतरधार्मिक विवाह और जबरन विवाह की तुलना में धर्मांतरण को रोकने के बारे में अधिक था। लेकिन उत्तरप्रदेश सरकार...

ईडी ने अनुब्रत मंडल की बेटी को एक दिसंबर को बुलाया दिल्ली

कोलकाता : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता और पार्टी के बीरभूम जिला अध्यक्ष अनुब्रत मंडल की बेटी सुकन्या मंडल को पश्चिम बंगाल में करोड़ों रुपये के...

बच्चे की हत्या कर उसका खून पीने वाली महिला को उम्रकैद

बरेली (उत्तर प्रदेश) : बरेली की एक अदालत ने 33 वर्षीय नि:संतान महिला को उम्रकैद की सजा सुनाई है, जिसने तांत्रिक के नाम पर अपने पड़ोसी के 10 वर्षीय बेटे...

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पूर्व भाजपा विधायक की याचिका खारिज की

2022-11-24 प्रयागराज: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 2013 के मुजफ्फरनगर दंगा मामले में बीजेपी विधायक विक्रम सैनी की दोषसिद्धि पर रोक लगाने वाली याचिका खारिज कर दी है। न्यायमूर्ति समित गोपाल...

आफताब ने कोर्ट में कहा, ‘मुझे उकसाया गया, मैंने उसे मारा’

नई दिल्ली : अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वाकर की हत्या के आरोपी आफताब अमीन पूनावाला ने मंगलवार को साकेत कोर्ट में एक मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट से कहा कि मुझे उकसाया गया,...

नेता, न्यायाधीश और सरकारी कर्मचारियों को ऑनलाइन लेनी होगी विदेशी आतिथ्य की अनुमति

नई दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विधायिकाओं के सदस्यों, राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों, न्यायाधीशों, सरकारी अधिकारियों और निगमों के कर्मचारियों द्वारा विदेशी आतिथ्य की स्वीकृति से जुड़े अपने दिशानिर्देशों...

अगर मुस्लिम विवाह में एक पक्ष नाबालिग है, तो वह पॉक्सो एक्ट के तहत अपराध होगा : हाईकोर्ट

कोच्चि : केरल उच्च न्यायालय ने कहा है कि यदि मुस्लिम विवाह में एक पक्ष नाबालिग है, तो यह पॉक्सो अधिनियम के तहत अपराध होगा। एक मामले से जुड़े अपने...

मोरबी पुल हादसा ‘भारी त्रासदी’, हाईकोर्ट समय-समय पर ले मामले का संज्ञान : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : मोरबी पुल के ढहने को भारी त्रासदी करार देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को गुजरात उच्च न्यायालय से कहा कि जांच के विभिन्न पहलुओं को सुनिश्चित...

अवैध शिक्षकों को बर्खास्त नहीं कर सकते तो आयोग को बंद कर दिया जाए : कलकत्ता हाईकोर्ट

कोलकाता : कलकत्ता हाई कोर्ट के एक न्यायाधीश ने गुरुवार को कहा कि अगर अनुचित तरीकों से नियुक्त शिक्षकों को बर्खास्त नहीं किया जा सकता, तो बेहतर होगा कि पश्चिम...

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सत्येंद्र जैन को जमानत देने से कोर्ट का इनकार

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने धन शोधन के एक मामले में आम आदमी पार्टी (आप) के नेता सत्येंद्र जैन और दो अन्य को जमानत देने से गुरुवार...

हेमंत सोरेन ने अवैध खनन मामले में ईडी के स्टेटमेंट का 12 बिंदुओं में दिया जवाब

रांची : झारखंड के साहिबगंज जिले में अवैध खनन और ट्रांसपोटिर्ंग के जरिए एक हजार करोड़ रुपए से अधिक की मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन...

editors

Read Previous

11 बार के महाराष्ट्र विधायक गणपतराव देशमुख का 95 साल की उम्र में निधन

Read Next

भारतीय शोधकर्ता मैग्नेट का उपयोग करके पानी से हाइड्रोजन बनाने पर कर रहे हैं काम

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com