‘चुनावी बॉन्ड घोटाले’ की एसआईटी जांच की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है जिसमें तथाकथित “चुनावी बॉन्ड घोटाले” की जांच विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा शीर्ष अदालत के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश की निगरानी में कराने की मांग की गई है।

अधिवक्ता प्रशांत भूषण के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि शीर्ष अदालत के निर्देशों पर सामने आये चुनावी बॉन्ड के आंकड़े दिखाते हैं कि इसका बड़ा हिस्सा कॉर्पोरेट्स द्वारा राजनीतिक दलों को अनुबंध, लाइसेंस और सरकारों या प्राधिकारियों से पट्टे प्राप्त करने के बदले प्रत्युपकार के रूप में दिया गया है।

इसके अलावा, आरोप लगाया गया कि कॉर्पोरेट्स द्वारा राजनीतिक दलों को चुनावी बॉन्ड अनुकूल नीतिगत बदलावों के लिए और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी), आयकर या केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) जैसी एजेंसियों द्वारा कार्रवाई के करीब दिए गए थे।

याचिका में दावा किया गया है कि कई कंपनियां जो इन एजेंसियों की जांच के दायरे में थीं, उन्होंने संभावित रूप से जांच के नतीजों को प्रभावित करने के लिए सत्ताधारी पार्टी को बड़ी रकम का दान दिया है।

याचिका में कहा गया है, “हालांकि ये स्पष्ट अदायगियां कई हजार करोड़ रुपये की हैं, ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने लाखों करोड़ रुपये के अनुबंधों और एजेंसियों द्वारा हजारों करोड़ रुपये की नियामक निष्क्रियता को प्रभावित किया है और ऐसा लगता है कि उन्होंने घटिया या खतरनाक दवाओं को बाजार में बेचने की अनुमति दी है, जिससे देश में लाखों लोगों का जीवन खतरे में पड़ गया है।”

इसमें कहा गया है कि चुनावी बॉन्ड पर खुलासा किए गए डेटा से संकेत मिलता है कि कम से कम 20 कंपनियों ने अपने निगमन के तीन साल के भीतर 100 करोड़ रुपये से अधिक के चुनावी बॉन्ड खरीदे और कुछ मामलों में, जब उन्होंने बॉन्ड खरीदे तो कंपनियां केवल कुछ महीने पुरानी थीं जिससे कंपनी अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन हुआ है।

एनजीओ कॉमन कॉज द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि डेटा से पता चला है कि विभिन्न घाटे में चल रही कंपनियां और शेल कंपनियां चुनावी बॉन्ड के माध्यम से राजनीतिक दलों को भारी रकम दान कर रही थीं और चुनावी बांड की शुरुआत के कारण फर्जी कंपनियों की संख्या में वृद्धि हुई, जिनका इस्तेमाल कॉरपोरेट घरानों द्वारा अवैध धन को सफेद करने के लिए किया गया।

इसके अलावा, इसमें कहा गया है कि चुनावी बॉन्ड घोटाले में 2जी घोटाले या कोयला घोटाले के विपरीत धन का लेन-देन किया गया है, जहां धन के लेन-देन का कोई सबूत नहीं होने के बावजूद अदालत की निगरानी में जांच के आदेश दिए गए थे।

याचिका में कहा गया है, “इस प्रकार, इस मामले की जांच में न केवल प्रत्येक मामले में पूरी साजिश को उजागर करने की आवश्यकता है, जिसमें कंपनी के अधिकारी, सरकार के अधिकारी और राजनीतिक दलों के पदाधिकारियों के अलावा ईडी/आईटी और सीबीआई जैसी एजेंसियों के संबंधित अधिकारियों को भी जांच के दायरे में शामिल करने की जरूरत है, जो इस साजिश का हिस्सा बन गए प्रतीत होते हैं।” याचिका में शीर्ष अदालत द्वारा चुने गए और सुप्रीम कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश की देखरेख में काम करने वाले त्रुटिहीन जांच अधिकारियों की एसआईटी द्वारा जांच की मांग की गई है।

–आईएएनएस

बंगाल भर्ती घोटाला : सीबीआई ने तृणमूल विधायक के पति को 4 जून को पूछताछ के लिए बुलाया

कोलकाता । केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बुधवार को तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक के पति को समन जारी कर पश्चिम बंगाल स्कूल भर्ती घोटाला और नगर निगम भर्ती घोटाला...

दिल्ली हाई कोर्ट ने यूएपीए, राजद्रोह मामले में शरजील इमाम को दी जमानत

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट से बुधवार को शरजील इमाम को बड़ी राहत मिली है। हाईकोर्ट ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और जामिया इलाके में...

कोर्ट की कार्यवाही रिकॉर्ड करने को लेकर केजरीवाल की पत्नी, अन्य के खिलाफ याचिका दायर

नई दिल्ली । मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता केजरीवाल और कई अन्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है। इन पर...

केंद्र से झारखंड का हक मांगने के ‘जुर्म’ में जेल भेजे गए हेमंत : कल्पना सोरेन

साहिबगंज । झारखंड मुक्ति मोर्चा की ओर से प्रचार की कमान संभाल रहीं कल्पना सोरेन ने मंगलवार को राजमहल संसदीय सीट के विभिन्न इलाकों में चुनावी सभाओं को संबोधित करते...

कांग्रेस का दिल पाकिस्तान के लिए धड़कता है : अनुराग ठाकुर

हमीरपुर । लोकसभा चुनाव के बीच सभी पार्टियों के नेता एक-दूसरे पर हमलावर हैं। सभी खुद को जनता के बीच एक बेहतरीन नेता के रूप में प्रस्तुत कर मतदाताओं को...

केजरीवाल ने अंतरिम जमानत 7 दिन बढ़ाने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट से की तत्काल सुनवाई की मांग

नई दिल्ली । दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट से अपील की कि उनके द्वारा दायर अंतरिम जमानत को बढ़ाने वाली याचिका पर तत्काल सुनवाई की...

दुमका में पीएम मोदी ने कहा, 4 जून के बाद भ्रष्टाचारियों पर और तेज होगी कार्रवाई

दुमका । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को झारखंड के दुमका में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राज्य की जेएमएम-कांग्रेस-राजद सरकार पर लूट का राज कायम करने का आरोप...

उमर खालिद को नहीं मिली राहत, अदालत ने जमानत याचिका कर दी खारिज

नई दिल्ली । दिल्ली दंगा मामले में जेल में बंद उमर खालिद को एक बार फिर अदालत से झटका लगा है। दिल्ली की एक अदालत ने उमर खालिद की जमानत...

पुणे पोर्श हादसा : आरोपी के राजनीतिक संबंध सामने आने पर कांग्रेस ने सीबीआई जांच की मांग की

मुंबई । महाराष्ट्र कांग्रेस ने सत्तारूढ़ महायुति सरकार पर पुणे में दो लोगों की जान लेने वाली पोर्श कार हादसे की जांच को पटरी से उतारने का प्रयास करने का...

सपा विधायक रफीक अंसारी गिरफ्तार

लखनऊ । उत्तर प्रदेश के मेरठ से समाजवादी पार्टी के विधायक रफीक अंसारी को 1995 के एक आपराधिक मामले में गैर-जमानती वारंट का पालन नहीं करने पर लखनऊ में गिरफ्तार...

राजकोट अग्निकांड : नगर निगम को हाईकोर्ट की फटकार, कहा-तीन साल से क्या कर रहे थे आप

अहमदाबाद । राजकोट गेमिंग जोन अग्निकांड का स्वत: संज्ञान लेते हुए सोमवार को गुजरात हाईकोर्ट ने राजकोट नगर निगम को जमकर फटकार लगाई। साढ़े चार घंटे चली सुनवाई के दौरान...

पोर्श दुर्घटना : नाबालिग के ब्लड रिपोर्ट में ‘हेरफेर’ के आरोप में पुणे के दो डॉक्टर गिरफ्तार

पुणे (महाराष्ट्र) । पुणे पुलिस ने शराब पीकर गाड़ी चलाते हुए पोर्श कार दुर्घटना में शामिल नाबालिग आरोपी की ब्लड रिपोर्ट के साथ 'छेड़छाड़' के आरोप में सोमवार को सरकारी...

admin

Read Previous

कांग्रेस के थिंक टैंक हैं सैम पित्रोदा, भारतीयों की विरासत पर कांग्रेस की गिद्ध दृष्टि : सुधांशु त्रिवेदी

Read Next

बंगाल शिक्षक भर्ती मामला : हाईकोर्ट ने प्रश्नपत्र त्रुटियों की समीक्षा के लिए विशेष समिति बनाने का निर्देश दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com