इसरो ने इस साल हासिल किया एक हजार करोड़ से अधिक का ऑर्डर : इसरो प्रमुख

चेन्नई:सरकारी और निजी क्षेत्र सहित भारतीय अंतरिक्ष क्षेत्र के लिए 2022 एक घटनापूर्ण वर्ष था। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो)के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि इसरो और न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) ने उपग्रह प्रक्षेपण बाजार में 1 हजार करोड़ रुपये से अधिक के ऑर्डर के साथ एक भारी रॉकेट और कुछ उपग्रहों को लॉन्च किया।

इसरो के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव एस. सोमनाथ ने आईएएनएस को बताया कि समीक्षाधीन वर्ष के दौरान निजी अंतरिक्ष स्टार्टअप ने भी अपने उपग्रह और रॉकेट लॉन्च किए।

हालांकि सरकार के स्वामित्व वाले अंतरिक्ष क्षेत्र के लिए वर्ष 2022 की बड़ी खबर यूके स्थित वनवेब के 36 उपग्रहों का इसरो के एलएमवी-3 राकेट के साथ सफल प्रक्षेपण है, जिसे पहले जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल-एमके-3 के रूप में जाना जाता था।

सोमनाथ ने कहा, अगले साल की शुरुआत में इसी तरह का एक और प्रक्षेपण निर्धारित है। हमें वनवेब की अगली पीढ़ी के उपग्रहों के लिए अनुबंध मिल सकते हैं। लॉन्च के लिए एलएमवी-3 की उपलब्धता के बारे में पूछने पर सोमनाथ ने कहा, हमें इसके उत्पादन में प्रति वर्ष पांच या छह तक की वृद्धि पर विचार करना होगा।

उन्होंने कहा कि उत्पादन बढ़ाने के लिए निवेश की जरूरत है। हम सरकार से धन की मांग नहीं कर सकते, क्योंकि वाणिज्यिक कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए वाणिज्यिक धन की आवश्यकता है।

सोमनाथ ने कहा, भारी रॉकेट के उत्पादन में कुछ वर्षों का समय लगता है। फंडिंग विकल्पों का अध्ययन किया जा रहा है। एनएसआईएल ग्राहकों से अग्रिम भुगतान के लिए भी कहा जा सकता है, ताकि रॉकेट का उत्पादन शुरू किया जा सके।

इसरो प्रमुख ने कहा कि विश्व स्तर पर भी अंतरिक्ष क्षेत्र का व्यवसाय मॉडल बदल रहा है। सरकारें अपना हाथ खींच रही हैं और निजी क्षेत्र को पूर्व मॉडल के रूप में अनुमति देना लंबे समय तक टिकाऊ नहीं है।

प्रौद्योगिकी हस्तांतरण पर उन्होंने कहा, इसरो ने भारतीय मिनी सैटेलाइट बस के बारे में अपनी जानकारी छह कंपनियों के साथ साझा की। इसी प्रकार लगभग 10 कंपनियों को लिथियम-आयन बैटरी की तकनीक बताई।

अनुसंधान एवं विकास के मामले में सोमनाथ ने कहा कि इसरो ने गतिविधियों में तेजी लाई है और वह कई नई तकनीकों पर काम कर रहा है, जिसके नतीजे अगले साल सामने आएंगे।

अंतरिक्ष एजेंसी इसरो एडिटिव मैन्युफैक्च रिंग (3डी प्रिंटिंग) पर शोध कर रही है। विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) में काफी काम हुआ है और अंतरिक्ष एजेंसी इस क्षेत्र में और पेशेवर तैयार कर सकती है।

सोमनाथ ने कहा, हम चुंबकीय सामग्री, विशेष चश्मा, उच्च तापमान सहिष्णु सामग्री के विकास लिए काम कर रहे हैं, जो पुन: प्रयोज्य रॉकेट में उपयोग की जाएगी।

भारत के मानव अंतरिक्ष मिशन गगनयान के लिए इसरो ने पर्यावरणीय जीवन समर्थन प्रणाली विकसित करने का निर्णय लिया है।

सॉफ्टवेयर संचालित उपग्रह के बारे में सोमनाथ ने कहा कि यह अनुसंधान एवं विकास मोड में है और इसे तैयार होने में दो/तीन साल लग सकते हैं।

सोमनाथ ने कहा, इसरो अपने उपग्रहों के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स विकसित करने पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है और व्यावसायिक रूप से उपलब्ध इलेक्ट्रॉनिक्स का अपस्केलिंग के साथ उपयोग कर रहा है, इससे उत्पादन लागत कम होगी।

उन्होंने कहा कि इसरो ने परमाणु घड़ी भी विकसित की है, जिसे नेविगेशन उपग्रहों में लगाया जाएगा। पहली घड़ी फिट होने के लिए तैयार है।

एनएवीआईसी तारामंडल पर उन्होंने कहा कि भारत को तारामंडल को पूरा करने के लिए केवल तीन प्रक्षेपण करने हैं। लॉन्च किए गए आठ नाविक उपग्रहों में से एक काम नहीं कर रहा है और कुछ अन्य में परमाणु घड़ी काम नहीं कर रही है।

सोमनाथ ने कहा, हम अगले फरवरी में एक एनएवीआईसी उपग्रह लॉन्च करने के लिए भारत सरकार की अनुमति प्राप्त करने के लिए काम कर रहे हैं। हम पांच और एनएवीआईसी उपग्रहों का निर्माण कर रहे हैं।

पुन: प्रयोज्य लॉन्च वाहन (आरएलवी) की स्थिति पर उन्होंने कहा कि 2022 के लिए योजना बनाई गई परीक्षण लैंडिंग संभव नहीं थी, क्योंकि इसके लिए आवश्यक हेलीकॉप्टर उपलब्ध नहीं था।

इस वर्ष भी अग्निकुल कॉस्मॉस ने श्रीहरिकोटा में इसरो की देखरेख में स्वयं के रॉकेट लॉन्च पैड का निर्माण किया।

वर्ष 2022 में निजी रॉकेट स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस ने भी श्रीहरिकोटा से अपने विक्रम साउंडिंग रॉकेट का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

2022 में अन्य प्रमुख घटनाएं

-सोमनाथ इसरो के अध्यक्ष और अंतरिक्ष विभाग के सचिव बने।

-टाटा प्ले के लिए जीसैट-24 उपग्रह का प्रक्षेपण।

-इसरो ने गगनयान कार्यक्रम के लिए एक बड़े मानव रेटेड ठोस रॉकेट बूस्टर का परीक्षण किया।

– 200वें आरएच200 परिज्ञापी रॉकेट का प्रक्षेपण।

– भारत के मार्स ऑर्बिटर के जीवन के अंत की घोषणा।

– भारतीय उपग्रह स्टार्टअप पिक्सेल ने स्पेसएक्स रॉकेट के साथ अपना पहला उपग्रह शकुंतला लॉन्च किया।

– जीएसएलवी रॉकेट के एक महत्वपूर्ण वाल्व में क्षति के कारण 2021 में जीआईएसएटी मिशन विफल हो गया।

-भारत के पीएसएलवी-सी53 रॉकेट ने सिंगापुर के तीन उपग्रहों और दो भारतीय अंतरिक्ष स्टार्ट-अप-दिगंतरा और ध्रुव एयरोस्पेस के पेलोड को सफलतापूर्वक परिक्रमा की।

– न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल), भारत के अंतरिक्ष विभाग की वाणिज्यिक शाखा, ‘ऑप्टिकल इमेजिंग सिस्टम’ तकनीक को पारस डिफेंस एंड स्पेस टेक्नोलॉजीज लिमिटेड को हस्तांतरित करने पर सहमत।

– एसएसएलवी रॉकेट की पहली उड़ान विफल रही।

– इसरो ने एक माइक्रोप्रोसेसर-नियंत्रित घुटने (एमपीके) विकसित किया, जो आयातित लोगों के मुकाबले दस गुना सस्ता है।

-भारत का निष्क्रिय रडार इमेजिंग सैटेलाइट-2 (आरआईएसएटी-2) जकार्ता के पास हिंद महासागर से टकराया।

– इंडो-फ्रेंच महासागर अवलोकन उपग्रह ईओएस 06 और आठ अन्य नैनो उपग्रहों को पीएसएलवी-सी54 रॉकेट द्वारा परिक्रमा की गई।

–आईएएनएस

एसएंडपी ग्लोबल ने अडानी इलेक्ट्रिसिटी, अदानी पोर्ट्स की रेटिंग को ‘नेगेटिव’ किया

चेन्नई : वैश्विक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स ने शुक्रवार को कहा कि उसने अदानी इलेक्ट्रिसिटी मुंबई लिमिटेड और अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड के रेटिंग आउटलुक...

अमूल ने प्रति लीटर तीन रुपये बढ़ाई दूध की कीमत

अहमदाबाद : गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (जीसीएमएमएफ) ने तत्काल प्रभाव से अमूल पाउच दूध (सभी वेरिएंट) की कीमतों में 3 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। दिल्ली,...

बजट से जीवन बीमा कंपनियों पर पड़ी है मार : एमके फाइनेंशियल

चेन्नई : एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट प्रस्तावों से जीवन बीमा कंपनियों पर दोहरी मार पड़ी है। यह कुछ निजी कंपनियों...

बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने की कोशिश : फिच रेटिंग्स

चेन्नई : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में पेश 2023-24 का बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने पर जोर दिया गया है। यह बात फिच रेटिंग्स...

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

सरकार ने राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत तय किया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत निर्धारित किया, जबकि इस बात पर जोर...

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

आम बजट 2023-24 : गोबर बनेगा कमाई का जरिया

नई दिल्ली : लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पांचवां बजट पेश कर रही हैं। वित्तमंत्री ने बजट में वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पीएम प्रणाम योजना...

पीएम आवास योजना का परिव्यय 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये किया गया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के परिव्यय को 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये करने की घोषणा की। इस योजना में...

भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर : सीतारमण

नई दिल्ली : लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023-24 पेश करते हुए, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 'सही रास्ते पर है और उज्‍जवल भविष्य...

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार का आर्थिक एजेंडा नागरिकों के लिए अवसरों को सुविधाजनक बनाने, विकास और रोजगार सृजन को मजबूत गति प्रदान...

editors

Read Previous

यूपी को सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने के लिए दोगुनी करनी होगी कृषि विकास दर : योगी

Read Next

कन्नड़ सुपरस्टार शिवराजकुमार की 125वीं फिल्म की हुई भव्य शुरूआत

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com