अनुच्छेद 370 मामला : केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा – संविधान के अन्य विशेष प्रावधानों में हस्तक्षेप का इरादा नहीं

नई दिल्ली : अनुच्छेद 370 से संबंधित याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बुधवार को संविधान पीठ के समक्ष कहा कि केंद्र सरकार का उत्तर-पूर्व राज्यों या देश के किसी अन्य भाग में लागू संविधान के विशेष प्रावधानों में हस्तक्षेप करने का कोई इरादा नहीं है।

उन्होंने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जा छीनने को चुनौती देने वाली याचिकाओं में दायर एक हस्तक्षेप आवेदन के जवाब में कहा कि हमें अस्थायी प्रावधान, जो कि अनुच्छेद 370 है, और उत्तर-पूर्व सहित अन्य राज्यों के संबंध में विशेष प्रावधानों के बीच अंतर को समझना चाहिए। केंद्र सरकार का (संविधान के) किसी भी हिस्से को छूने का कोई इरादा नहीं है, जो उत्तर पूर्व और अन्य क्षेत्रों को विशेष प्रावधान देता है।

अरुणाचल प्रदेश के एक पूर्व मंत्री की ओर से पेश अधिवक्ता मनीष तिवारी ने तर्क दिया कि अनुच्छेद 370 पर संविधान पीठ द्वारा जो व्याख्या दी जाएगी, उसका अनुच्छेद 371 जैसे अन्य विशेष प्रावधानों, छह उप-भागों पर प्रभाव पड़ेगा, जो उत्तर-पूर्व पर लागू होते हैं। संविधान के भाग XXI और छठी अनुसूची असम, त्रिपुरा, मेघालय और मिजोरम पर लागू होते हैं।

उन्होंने तर्क दिया कि अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 371 के तहत स्वायत्तता का अंतर्निहित सिद्धांत कमोबेश एक जैसा है। इसलिए, इस मामले में जो भी होगा, उसका अनुच्छेद 371 पर प्रभाव पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि भारत की सीमा में थोड़ी सी भी आशंका के गंभीर प्रभाव हो सकते हैं। वर्तमान में आप मणिपुर में ऐसी ही एक स्थिति से निपट रहे हैं।

एसजी तुषार मेहता ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि केंद्र सरकार का उत्तर पूर्व और अन्य क्षेत्रों को विशेष प्रावधान देने वाले किसी भी हिस्से को छीनने का कोई इरादा नहीं है। उन्होंने कहा कि आशंका पैदा करने की कोई जरूरत नहीं है। मैं केंद्र की ओर से उस आशंका को दूर कर रहा हूं।

सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने भी कहा कि हमें किसी भी चीज को प्रत्याशा या आशंका में क्यों निपटाना चाहिए? हम एक विशिष्ट प्रावधान, अर्थात धारा 370, से निपट रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि एसजी ने अदालत में बयान दिया है कि सरकार का संविधान के अन्य विशेष प्रावधानों को छीनने का कोई इरादा नहीं है।

अधिवक्ता मनीष तिवारी ने अपनी दलील का बचाव किया और कहा कि वह मौजूदा केंद्र सरकार का नहीं, बल्कि राज्य में (संघवाद के) सिद्धांत का जिक्र कर रहे थे।

मनीष तिवारी ने कहा कि मैं अस्थायी, जिसे (अनुच्छेद 370 के संदर्भ में) स्थायी के रूप में तर्क दिया गया है, विशेष प्रावधानों के साथ जोड़ने की कोशिश नहीं कर रहा हूं। लेकिन, स्वायत्तता का अंतर्निहित सिद्धांत, जो 370 और 371 के माध्यम से चलता है, वही है।

संविधान पीठ ने कहा कि वह इस तरह उत्तर-पूर्व पर ध्यान केंद्रित नहीं करेगी और हस्तक्षेपकर्ता से कहा कि केंद्र सरकार की ओर से दिये गये बयानों से उसकी आशंकाएं दूर हो गयी हैं।

आपके पास धारा 370 पर कहने के लिए कुछ नहीं है। तो, हम क्यों सुनें? सॉलिसिटर जनरल की दलील को रिकॉर्ड पर लेकर हम आपके आईए (हस्तक्षेप आवेदन) को बंद कर देंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के रुख को देखते हुए हस्तक्षेप आवेदन का निपटारा कर दिया, जिसमें कहा गया था कि आईए (हस्तक्षेप आवेदन) और संविधान पीठ द्वारा सुने जा रहे संदर्भ में हितों की कोई समानता नहीं है।

बता दें कि मनीष तिवारी सुप्रीम कोर्ट के प्रैक्टिसिंग वकील हैं। वह पंजाब से कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री भी हैं।

आईएएनएस

1 जुलाई से देश में लागू होगा नया क्रिमिनल लॉ, जारी हो गई अधिसूचना

नई दिल्ली । केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन नए आपराधिक कानूनों को लागू करने की अधिसूचना जारी कर दी गई है। इन कानूनों को 1 जुलाई, 2024 से लागू करने...

असम सरकार ने मुस्लिम विवाह अधिनियम निरस्त किया

गुवाहाटी । असम सरकार ने लंबे समय से चले आ रहे असम मुस्लिम विवाह और तलाक पंजीकरण अधिनियम 1935 शुक्रवार को निरस्त कर दिया। यह निर्णय शुक्रवार रात मुख्यमंत्री हिमंत...

बेंगलुरु कोर्ट ने राहुल गांधी, सीएम सिद्दरामैया, डिप्टी सीएम शिवकुमार को समन जारी किया

बेंगलुरु, 24 फरवरी (आईएएनएस)। यहां की एक विशेष अदालत ने भाजपा द्वारा दायर मानहानि के मामले में शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दरामैया और उपमुख्यमंत्री व...

कलकत्ता हाईकोर्ट ने बंगाल विपक्ष के नेता के वकील को कोलकाता पुलिस के सामने पेश होने से दी राहत

कोलकाता, 20 फरवरी (आईएएनएस)। कलकत्ता उच्च न्यायालय की एकल-न्यायाधीश पीठ ने बुधवार को मंगलवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता (एलओपी) सुवेंदु अधिकारी के वकील सूर्यनील दास को...

सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सीएम के पास सीधे अपनी बात रखने के बाद हटाए गए चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को बहाल किया

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने जिला न्यायपालिका के उस चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को सेवा में बहाल कर दिया है, जिसे इलाहाबाद उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल और तत्कालीन मुख्यमंत्री...

चुनाव आयोग के फैसले से नाखुश शरद पवार ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि वो शरद पवार की याचिका को सूचीबद्ध करने पर विचार करेगा। दरअसल, पवार ने हाल ही में चुनाव आयोग के...

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने चुनावी बांड योजना 2018 को करार दिया ‘असंवैधानिक’

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ ने गुरुवार को सर्वसम्मति से फैसले में चुनावी बांड योजना 2018 को असंवैधानिक करार दिया। भारत के मुख्य न्यायाधीश...

चुनावी बांड योजना मतदाताओं के सूचना के अधिकार का उल्लंघन करती है: सीजेआई चंद्रचूड़

नई दिल्ली । भारत के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) डी.वाई. चंद्रचूड़ ने गुरुवार को कहा कि किसी राजनीतिक दल को वित्तीय योगदान देने से बदले में उपकार करने की संभावना बन...

तनाव बढ़ने के बाद संदेशखाली के 19 इलाकों में धारा 144 दोबारा लगाई गई

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के तनावग्रस्त संदेशखाली के 19 इलाकों में बुधवार से फिर से धारा 144 लागू कर दी गई। कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति...

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरातियों पर टिप्पणी को लेकर तेजस्वी यादव के खिलाफ मानहानि का मामला क‍िया रद्द

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव की 'केवल गुजराती ही ठग हो सकते हैं' वाली टिप्पणी के लिए उनके खिलाफ लंबित आपराधिक...

पेशाब गेट विवाद: शंकर मिश्रा ने वेल्स फ़ार्गो पर किया केस, मामले की सुनवाई 14 को

नई दिल्ली । जनवरी 2023 में न्यूयॉर्क-दिल्ली एयर इंडिया की उड़ान में अपने साथी यात्री 70 वर्षीय महिला पर पेशाब करने के लिए कुख्यात शंकर मिश्रा ने अब अपने पूर्व...

ज्ञानवापी पर मुस्लिमों की याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई 15 को

प्रयागराज (यूपी) । इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने सोमवार को वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के एक तहखाने में हिंदू प्रार्थनाओं की अनुमति देने के वाराणसी जिला अदालत के आदेश को चुनौती...

admin

Read Previous

पौड़ी में भारी बारिश का कहर, बादल फटने के बाद दुगड्डा राष्ट्रीय राजमार्ग जगह-जगह से बाधित

Read Next

माकपा विधायक मोइदीन और पार्टी उनके आवास पर 22 घंटे की ईडी छापेमारी के बाद घबराई

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com