सीएम विजयन के नेतृत्‍व में केंद्र के खिलाफ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन

नई दिल्ली/तिरुवनंतपुरम । केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने अपने मंत्रिमंडल और शीर्ष वामपंथी सदस्यों के साथ गुरुवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर ‘वित्तीय अन्याय’ को लेकर केंद्र के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।

सीएम विजयन दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, पंजाब के सीएम भगवंत मान और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री- फारूक अब्दुल्ला के साथ केरल हाउस से विरोध स्थल की ओर चले।

विरोध स्थल पर सीएम विजयन ने कहा, “हम भारतीय गणतंत्र के ऐतिहासिक मोड़ पर हैं। एक लोकतंत्र जिसकी परिकल्पना ‘राज्यों के संघ’ के रूप में की गई थी, वह धीरे-धीरे और लगातार ‘राज्यों के ऊपर संघ’ में तब्दील हो रहा है।”

विजयन ने कहा,“हम देश भर में, विशेषकर विपक्ष शासित राज्यों में इसकी अभिव्यक्तियां देख रहे हैं। हम सभी इसके खिलाफ अपना कड़ा विरोध दर्ज कराने और भारत के संघीय ढांचे को बनाए रखने के लिए एक साथ आए हैं। आज हम एक नए सिरे से लड़ाई की शुरुआत कर रहे हैं, जो राज्यों के साथ न्यायसंगत व्यवहार सुनिश्चित करने की शुरुआत करेगी। यह लड़ाई केंद्र-राज्य संबंधों में संतुलन बनाए रखने का भी प्रयास करेगी। इस प्रकार, 8 फरवरी 2024, भारत गणराज्य के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन बनने जा रहा है।”

विजयन ने कहा,“सबसे पहले, मैं उन सभी लोगों का गर्मजोशी से स्वागत करता हूं और शुभकामनाएं देता हूं, जो विभिन्न राज्य सरकारों और विपक्षी राजनीतिक दलों का प्रतिनिधित्व करने के लिए यहां एकत्र हुए हैं। उन्‍होंने कहा, यह सुनिश्चित करने की लड़ाई कि भारत एक संप्रभु धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक गणराज्य बना रहे, जिसकी पहचान संघवाद है, एक लंबी लड़ाई होगी।”

विजयन ने कहा, “वर्षों से संघ ऐसे कानून बना रहा है, जो कई क्षेत्रों में राज्यों की शक्तियों और कर्तव्यों का अतिक्रमण करते हैं, यहां तक कि कानून और व्यवस्था पर भी, जो संविधान में राज्य सूची में है। संघ द्वारा कृषि, शिक्षा, बिजली, सहयोग आदि क्षेत्रों में राज्यों के अधिकारों को कमजोर करने वाले कानून बनाए गए हैं। यहां तक कि सहकारिता मंत्रालय भी बनाया गया है। राज्यों को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर राज्यों की राय लिए बिना, उनकी सहमति लेना तो दूर, बहुराष्ट्रीय समझौते किए जा रहे हैं। ये उदाहरण बता रहे हैं कि कैसे राज्यों के अधिकारों को कुचला जा रहा है और कैसे भारत को एक अलोकतांत्रिक ‘राज्यों के ऊपर संघ’ में बदला जा रहा है।

विजयन ने कहा, भारत के संघीय ढांचे को झटका संघ द्वारा राज्यों के वित्तीय संसाधनों को खा जाने से लग रहा है। यह आरोप लगाया जा रहा है कि जो लोग सहकारी संघवाद का ढिंढोरा पीटते हैं, उन्होंने ही वित्त आयोग द्वारा राज्यों को आवंटित किए जाने वाले संसाधनों में कटौती करने की कोशिश की है। इसके अलावा, हम देख रहे हैं कि अपनी योजनाओं के लिए संघ का आवंटन साल-दर-साल कम हो रहा है, जबकि राज्यों को अधिक से अधिक योगदान देने के लिए मजबूर किया जा रहा है।”

लेकिन केरल में कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष ने प्रदर्शन में भाग लेने के लिए आमंत्रित किए जाने के बावजूद निमंत्रण स्वीकार नहीं करने का फैसला किया।

नेता प्रतिपक्ष वी.डी. सतीशन ने कहा कि ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से केरल को मुश्किल हो रही है, लेकिन हम विजयन के इस बयान से सहमत नहीं हैं कि एकमात्र कारण यह है कि केंद्र से केरल की वित्तीय आवश्यकताओं में बाधा डाल रहा है।

“हम इससे सहमत नहीं हैं, क्योंकि विजयन और उनकी सरकार भ्रष्टाचार, भाई-भतीजावाद और घोर कुशासन में डूबा हुआ है। सतीशन ने कहा, ऐसे समय में जब वित्तीय स्थिति खराब है, फिजूलखर्ची जारी है।

सतीशन ने कहा,“दिल्ली में कर्नाटक सरकार का विरोध अलग-अलग कारणों से था। विजयन दिल्ली में कुछ और कहते हैं, विधानसभा के अंदर कुछ और शीर्ष अदालत के सामने एक और कारण बताते हैं।”

–आईएएनएस

‘राज्य में हिंसा ना फैलाए’, मृतक छात्र के परिजनों से मिलने के बाद बोले राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान

तिरुवनंतपुरम । गवर्नर आरिफ मोहम्मद खान ने शुक्रवार को कहा कि केरल में युवाओं को हिंसात्मक गतिविधियों में हिस्सा लेने के लिए 'प्रशक्षित' किया जा रहा है। उन्होंने सभी लोगों...

किसानों का दिल्ली चलो विरोध मार्च 29 फरवरी तक रुका

चंडीगढ़ । किसान यूनियनों और केंद्र सरकार के बीच गतिरोध जारी रहने के बीच आंदोलनकारी किसान अगली रणनीति 29 फरवरी को तय करेंगे। उन्‍होंने 'दिल्ली चलो' मार्च फिलहाल स्‍थगित कर...

संयुक्त किसान मोर्चा 26 फरवरी को ट्रैक्टर मार्च निकालेगा, 14 मार्च को दिल्ली में करेेगा ‘महापंचायत’

चंडीगढ़ । संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने आंदोलन के कारण पंजाब और हरियाणा के बीच अंतर्राज्यीय सीमाओं पर तनावपूर्ण स्थिति को लेकर चर्चा करने के बाद गुरुवार को बैठक की,...

हरियाणा पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे

चंडीगढ़ । हरियाणा पुलिस ने बुधवार को हरियाणा की सीमा से लगती शंभू सीमा पर प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा सीमा तोड़ने की कोशिश पर आंसू गैस के गोले दागे। हालांकि, किसान...

किसानों के विरोध मार्च के कारण दिल्ली में सुस्त पड़ी यातायात की रफ्तार

नई दिल्ली । हरियाणा और उत्तर प्रदेश के साथ सीमा पर दिल्ली के प्रवेश और निकास बिंदुओं पर बुधवार को ट्रैफिक जाम देखा गया। किसानों के 'दिल्ली चलो' मार्च को...

किसान आंदोलन के बीच मोदी सरकार का कृषि क्षेत्र पर बड़ा फैसला

नई दिल्ली । सरकार ने कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने और किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए एक बड़ा कदम उठाते हुए भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की अधिकृत पूंजी को...

नोएडा : बॉर्डर पर रही पुलिस की तैनाती, बेअसर दिखा किसानों का ‘भारत बंद’

नोएडा । 'भारत बंद' को लेकर जिले में पुलिस ने धारा-144 लागू कर दी थी। नोएडा से दिल्ली जाने वाले सभी बॉर्डर पर पुलिस की व्यवस्था पहले से ही मौजूद...

पंजाब में सर्वाधिक एमएसपी फिर भी असंतोष! क्या किसान आंदोलन राजनीति से है प्रेरित?

नई दिल्ली । पंजाब और हरियाणा के कुछ किसान संगठन फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी वाले कानून की मांग को लेकर केंद्र के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने...

सीएम ममता बनर्जी ने केंद्रीय बकाया नहीं मिलने पर धरना शुरू किया

कोलकाता । पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार से राज्य का बकाया कथित तौर पर रोके जाने के खिलाफ शुक्रवार से दो दिवसीय धरना शुरू किया। सीएम...

केरल सीएम विजयन 8 फरवरी को केंद्र के खिलाफ जंतर मंतर पर करेंगे प्रदर्शन

तिरुवनंतपुरम । केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन अपने मंत्रिमंडल और गठबंधन के विधायकों के साथ केंद्र के खिलाफ 8 फरवरी को दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरना देंगे। इसकी जानकारी लेफ्ट...

महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष के फैसले से उद्धव ठाकरे को झटका, शिंदे के नेतृत्व वाले गुट को ‘असली’ शिवसेना बताया

मुंबई । महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर ने बुधवार को घोषणा की कि 21 जून 2022 को पार्टी में विभाजन के बाद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाला गुट ही...

जरांगे-पाटिल ने भूख हड़ताल खत्‍म की, मराठा आरक्षण पर 2 महीने का नया अल्टीमेटम दिया

जालना । महाराष्ट्र सरकार को बड़ी राहत देते हुए शिवबा संगठन के नेता मनोज जरांगे-पाटिल ने गुरुवार को अपना आमरण अनशन खत्‍म कर दिया। अनशन के आठवें दिन उन्‍होंने पानी...

admin

Read Previous

नई सरकार को कर्ज में डूबा राज्य मिला : तेलंगाना राज्यपाल

Read Next

बिहार में 12 फरवरी को ‘खेला होने’ पर राजद विधायक ने कहा, ‘राज को राज रहने दीजिए’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com