यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले ब्राम्हण वोटों के लिए छिड़ा सियासी संग्राम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा के चुनाव को लेकर ब्राम्हण वोटों के लिए सियासी संग्राम छिड़ गया है। भाजपा ने कांग्रेस के नेता जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल कर ब्राम्हणों को संदेश देने का प्रयास किया है। तो वहीं बहुजन समाज पार्टी ने ब्राह्मणों को ध्यान में रखकर अयोध्या से प्रबुद्ध सम्मेलन की शुरुआत की है। सपा भी अब पीछे नहीं रहना चाहती है। विधानसभा चुनाव से पहले सभी दलों ने ब्राम्हणों को अपने पाले में लाने के लिए सियासी संग्राम छेड़ दिया है।

बसपा के सम्मेलन देख सपा ने भी इस वोट बैंक को अपने पाले में लाने की तेजी दिखानी शुरू कर दी है। राजनीतिक जानकार मानते हैं कि पिछड़ा, दलित, मुस्लिम के बाद सबसे ज्यादा राजनीतिक दलों का फोकस ब्राम्हण वोटों पर है। वह इसे किसी भी कीमत पर अपने पाले में लाने का प्रयास कर रही है।

बसपा के रणनीतिकारों ने महसूस किया है कि ब्राह्मणों को अपने पाले में खींचना है तो राम व परशुराम की अग्रपूजा जरूरी है। बसपा ने 2007 में पहली बार सोशल इंजीनियरिंग का ताना-बाना बुना था। ब्राह्मणों को जोड़ने का यह पूरा फारम्यूला सतीश चंद्र मिश्रा ने तैयार किया था। उसके परिणाम भी अच्छे आए सरकार भी बनी। लेकिन वर्ष 2012 में बसपा का यह फार्मूला ना सिर्फ फेल हुआ बल्कि उसको सत्ता से भी बाहर कर दिया।

बहुजन समाज पार्टी को लगता है कि 2007 वाला फॉर्मूला अगर सफल हुआ तो चुनावी वैतारिणी पार करने में कोई परेशानी नहीं होगी। इसी बात ख्याल रखते हुए उसने धार्मिक स्थलों से प्रबुद्ध सम्मेलन की शुरुआत की है। हालांकि उसने इस सम्मेलन को ब्राम्हण बाहुल क्षेत्रों में न जाकर धार्मिक स्थान को चुना है। उसे लगता है, इससे बड़ा संदेष जाएगा। बसपा रणनीतिकार मानते हैं कि दलित, मुस्लिम और ब्राम्हण वोट बैंक अगर मिला तो बड़ा गेमचेंज हो जाएगा।

बसपा नेता व पूर्व मंत्री नकुल दुबे कहते हैं कि ब्राम्हण समाज ने बसपा को बहुत कुछ दिया है। पार्टी ने ब्राम्हणों को बहुत कुछ दिया है। समाज को अंदोलित किया जा रहा है। सपा में 2012 और 2017 के बीच के कार्यकाल को देख लें तो किसी से कुछ छिपा नहीं है। इनकी कथनी करनी में सामनता नहीं है। ब्राम्हणों को इस्तेमाल तो खूब किया जाता है लेकिन हिस्सेदारी की बात आती है तो लोग पीछे हटने लगते हैं। पूरब से लेकर लेकर पश्चिम तक ब्राम्हण जगा हुआ है। इस समय इस वर्ग के साथ अत्याचार भी बहुत हो रहा है। बस वह समय का इंतजार कर रहा है।

उधर, ब्राम्हणों के प्रति प्रेम तो सपा कुछ माह पहले भी जता चुकी, लेकिन बसपा के कार्यक्रम शुरू होते ही अखिलेश यादव ने इस ओर तेज गति करते हुए रणनीति बनाने के लिए पार्टी के पांच ब्राह्मण नेताओं की टीम बना दी है।

लखनऊ में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ पार्टी के पांच बड़े ब्राह्मण नेताओं ने करीब ढाई घंटे तक मंथन किया। अब सपा 23 अगस्त से मंगल पाण्डेय की धरती माने जाने वाले बलिया से ब्राह्मण सम्मेलन करेगी। सूबे में जातीय सम्मेलन पर रोक के कारण सपा भी इसको कोई नया नाम दे सकती है।

समाजवादी प्रबुद्ध सभा के अध्यक्ष और विधायक मनोज पांडेय कहते हैं कि 23 अगस्त से हम लोग बलिया से प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे पहले हमारा प्रबुद्ध सम्मेंलन 57 जिले में हो चुका और अब दूसरा चरण शुरू करने जा रहे हैं। 2019-20 में सम्मेंलन 57 जिलों में कार्यक्रम किए। महामारी के कारण यह बंद हो गया था। करीब 22 जिलों में परशुराम की मूर्तियां भी स्थापित की जा चुकी हैं। ब्राम्हण समाज के लिए सपा ने बहुत कुछ किया है।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक पीएन द्विवेदी कहते हैं कि यूपी में सत्ता तक पहुंचाने में ब्राम्हणों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है। 2007 ब्राम्हणों का साथ मायावती को मिला तो सरकार बनी। इन्हीं के कारण 2012 में सपा की सरकार बनी। 2014 केन्द्र में मोदी और 2017 में योगी की सरकार बनवाने में ब्राम्हणों का काफी अहम रोल है। चूंकि ब्राम्हणों की भूमिका सत्ता के नजदीक ले जाने की होती है। इसीलिए सभी दल इनके नजदीक जाने में जुटे हैं।

–आईएएनएस

पहली बार सुल्तानपुर की जनसभा में नजर आए वरुण गांधी, मां मेनका के समर्थन में मांगे वोट, हुए भावुक

नई दिल्ली । भाजपा नेता वरुण गांधी गुरुवार को सुल्तानपुर से भाजपा प्रत्याशी अपनी मां मेनका गांधी के लिए चुनाव प्रचार करने पहुंचे। टिकट कटने के बाद पहली बार वह...

ठाणे में केमिकल फैक्ट्री में विस्फोट के बाद लगी आग, 6 की मौत और 48 घायल

ठाणे (महाराष्ट्र) । ठाणे के डोंबिवली में एमआईडीसी परिसर में स्थित एक केमिकल फैक्ट्री में गुरुवार को तीन विस्फोटों के बाद भीषण आग लग गई। इस घटना में छह लोगों...

बांग्लादेश के सांसद की मौत के मामले में कैब ड्राइवर हिरासत में

कोलकाता । पश्चिम बंगाल पुलिस की आपराधिक जांच (सीआईडी) एजेंसी ने कोलकाता के न्यू टाउन के पॉश आवासीय परिसर में किराए के फ्लैट में रहने वाले बांग्लादेश के सांसद अनवारुल...

शरीफ सरकार के लिए मुश्किलें बढ़ीं, विपक्ष की इस्लामाबाद तक लंबे मार्च की योजना

इस्लामाबाद । पाकिस्तान में शहबाज शरीफ सरकार के लिए कठिन समय आने वाला है। देश में एक बड़ा विपक्षी गठबंधन बन रहा है। यह बड़े पैमाने पर रैलियां, विरोध प्रदर्शन...

सुप्रीम कोर्ट ने पीएफआई के आठ संदिग्धों की जमानत रद्द की

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मद्रास हाई कोर्ट के उस फैसले को पलट दिया जिसमें प्रतिबंधित पीएफआई के आठ संदिग्ध सदस्यों को जमानत दे दी गई थी।...

राहुल गांधी ने फिर कहा, सत्ता में आने पर अग्निवीर योजना बंद करेंगे

चंडीगढ़ । कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को हरियाणा के महेंद्रगढ़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आई तो अग्निवीर योजना को...

पीओके भारत का हिस्सा था, है और रहेगा : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली । केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आईएएनएस से खास बातचीत करते हुए पीओके पर एक बार फिर से भारत का रूख साफ कर दिया है। उन्होंने कहा...

राशिद अल्वी ने भाजपा को दी नसीहत, कहा- हर धर्म की इज्जत करनी चाहिए

नई दिल्ली । कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने आईएएनएस से बातचीत के दौरान बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिर निशाना साधा। उन्होंने प्रधानमंत्री को आड़े हाथों लेते हुए कहा...

4 जून के बाद पीएम नहीं रहेंगे मोदी जी, हेमंत सोरेन और मैं जेल के बाहर आएंगे : केजरीवाल

जमशेदपुर । दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को जमशेदपुर में 'इंडिया' गठबंधन के प्रत्याशी समीर मोहंती के पक्ष में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि 4...

हेमंत सोरेन की अंतरिम जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में जोरदार बहस, बुधवार को भी होगी सुनवाई

रांची । ईडी की कार्रवाई को चुनौती देने और अंतरिम जमानत की मांग वाली याचिका पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। करीब दो घंटे तक दोनों पक्षों की...

सोने का भाव हुआ 74,000, जानिए कब तक रहेगी तेजी

नई दिल्ली । सोने की कीमतों में हाल के दिनों में काफी तेजी देखने को मिली है। इंडियन बुलियन ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के अनुसार मंगलवार को 24 कैरेट के 10...

सारण प्रत्याशी रोहिणी आचार्य पहुंची पीएमसीएच, घायलों से की मुलाकात

छपरा । बिहार के छपरा में चुनावी रंजिश में हुई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई और दो लोग घायल हो गए। इसी बीच पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल...

editors

Read Previous

सपा के गढ, आजमगढ़़ में भगवा फहराने की फिराक में भाजपा

Read Next

एफएटीएफ में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में रखने में भारत का हाथ : पाकिस्तान के पूर्व गृह मंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com