यूपी में विधानसभा चुनाव से पहले ब्राम्हण वोटों के लिए छिड़ा सियासी संग्राम

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा के चुनाव को लेकर ब्राम्हण वोटों के लिए सियासी संग्राम छिड़ गया है। भाजपा ने कांग्रेस के नेता जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल कर ब्राम्हणों को संदेश देने का प्रयास किया है। तो वहीं बहुजन समाज पार्टी ने ब्राह्मणों को ध्यान में रखकर अयोध्या से प्रबुद्ध सम्मेलन की शुरुआत की है। सपा भी अब पीछे नहीं रहना चाहती है। विधानसभा चुनाव से पहले सभी दलों ने ब्राम्हणों को अपने पाले में लाने के लिए सियासी संग्राम छेड़ दिया है।

बसपा के सम्मेलन देख सपा ने भी इस वोट बैंक को अपने पाले में लाने की तेजी दिखानी शुरू कर दी है। राजनीतिक जानकार मानते हैं कि पिछड़ा, दलित, मुस्लिम के बाद सबसे ज्यादा राजनीतिक दलों का फोकस ब्राम्हण वोटों पर है। वह इसे किसी भी कीमत पर अपने पाले में लाने का प्रयास कर रही है।

बसपा के रणनीतिकारों ने महसूस किया है कि ब्राह्मणों को अपने पाले में खींचना है तो राम व परशुराम की अग्रपूजा जरूरी है। बसपा ने 2007 में पहली बार सोशल इंजीनियरिंग का ताना-बाना बुना था। ब्राह्मणों को जोड़ने का यह पूरा फारम्यूला सतीश चंद्र मिश्रा ने तैयार किया था। उसके परिणाम भी अच्छे आए सरकार भी बनी। लेकिन वर्ष 2012 में बसपा का यह फार्मूला ना सिर्फ फेल हुआ बल्कि उसको सत्ता से भी बाहर कर दिया।

बहुजन समाज पार्टी को लगता है कि 2007 वाला फॉर्मूला अगर सफल हुआ तो चुनावी वैतारिणी पार करने में कोई परेशानी नहीं होगी। इसी बात ख्याल रखते हुए उसने धार्मिक स्थलों से प्रबुद्ध सम्मेलन की शुरुआत की है। हालांकि उसने इस सम्मेलन को ब्राम्हण बाहुल क्षेत्रों में न जाकर धार्मिक स्थान को चुना है। उसे लगता है, इससे बड़ा संदेष जाएगा। बसपा रणनीतिकार मानते हैं कि दलित, मुस्लिम और ब्राम्हण वोट बैंक अगर मिला तो बड़ा गेमचेंज हो जाएगा।

बसपा नेता व पूर्व मंत्री नकुल दुबे कहते हैं कि ब्राम्हण समाज ने बसपा को बहुत कुछ दिया है। पार्टी ने ब्राम्हणों को बहुत कुछ दिया है। समाज को अंदोलित किया जा रहा है। सपा में 2012 और 2017 के बीच के कार्यकाल को देख लें तो किसी से कुछ छिपा नहीं है। इनकी कथनी करनी में सामनता नहीं है। ब्राम्हणों को इस्तेमाल तो खूब किया जाता है लेकिन हिस्सेदारी की बात आती है तो लोग पीछे हटने लगते हैं। पूरब से लेकर लेकर पश्चिम तक ब्राम्हण जगा हुआ है। इस समय इस वर्ग के साथ अत्याचार भी बहुत हो रहा है। बस वह समय का इंतजार कर रहा है।

उधर, ब्राम्हणों के प्रति प्रेम तो सपा कुछ माह पहले भी जता चुकी, लेकिन बसपा के कार्यक्रम शुरू होते ही अखिलेश यादव ने इस ओर तेज गति करते हुए रणनीति बनाने के लिए पार्टी के पांच ब्राह्मण नेताओं की टीम बना दी है।

लखनऊ में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ पार्टी के पांच बड़े ब्राह्मण नेताओं ने करीब ढाई घंटे तक मंथन किया। अब सपा 23 अगस्त से मंगल पाण्डेय की धरती माने जाने वाले बलिया से ब्राह्मण सम्मेलन करेगी। सूबे में जातीय सम्मेलन पर रोक के कारण सपा भी इसको कोई नया नाम दे सकती है।

समाजवादी प्रबुद्ध सभा के अध्यक्ष और विधायक मनोज पांडेय कहते हैं कि 23 अगस्त से हम लोग बलिया से प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे पहले हमारा प्रबुद्ध सम्मेंलन 57 जिले में हो चुका और अब दूसरा चरण शुरू करने जा रहे हैं। 2019-20 में सम्मेंलन 57 जिलों में कार्यक्रम किए। महामारी के कारण यह बंद हो गया था। करीब 22 जिलों में परशुराम की मूर्तियां भी स्थापित की जा चुकी हैं। ब्राम्हण समाज के लिए सपा ने बहुत कुछ किया है।

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक पीएन द्विवेदी कहते हैं कि यूपी में सत्ता तक पहुंचाने में ब्राम्हणों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण होती है। 2007 ब्राम्हणों का साथ मायावती को मिला तो सरकार बनी। इन्हीं के कारण 2012 में सपा की सरकार बनी। 2014 केन्द्र में मोदी और 2017 में योगी की सरकार बनवाने में ब्राम्हणों का काफी अहम रोल है। चूंकि ब्राम्हणों की भूमिका सत्ता के नजदीक ले जाने की होती है। इसीलिए सभी दल इनके नजदीक जाने में जुटे हैं।

–आईएएनएस

विपक्ष चुनाव के बारे में बिल्कुल अलग तरीके से सोच रहा है: राहुल

नई दिल्ली । कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि विपक्ष 2024 के लोकसभा चुनाव के बारे में मौलिक रूप से अलग तरीके से सोच रहा...

विधानसभा चुनावों में उलझती दिख रही इंडिया गठबंधन के दलों की एकता

लखनऊ । लोकसभा चुनाव 2024 में भाजपा को मात देने के लिए बना इंडिया गठबंधन की एकजुटता के सामने परीक्षा की एक और घड़ी आ गई है। पांच राज्यों में...

कनाडा की एडवाइजरी तथ्यों पर आधारित नहीं : डीजीपी, गोवा

पणजी : गोवा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) जसपाल सिंह ने यह स्पष्ट करते हुए कहा है कि विदेशी पर्यटकों, विशेषकर महिलाओं ने हमेशा सुरक्षा के कारण गोवा को पसंदीदा गंतव्य...

अब केजरीवाल ने अपना निजी व्हाॅट्सएप चैनल किया लॉन्च

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को लोगों से जुड़ने के लिए अपना निजी व्हाट्सएप चैनल लॉन्च करने की घोषणा की। दिल्ली सरकार के कार्यालय ने...

वरुण गांधी ने अमेठी के अस्पताल के लाइसेंस के निलंबन पर यूपी के डिप्टी सीएम को लिखा पत्र

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से भाजपा सांसद वरुण गांधी ने व्यापक और निष्पक्ष जांच के बिना अमेठी के संजय गांधी अस्पताल का परिचालन लाइसेंस निलंबित करने पर...

तनावपूर्ण नौकरियों और कम वेतन पाने वाले पुरुषों में हृदय रोग का खतरा दोगुना : शोध

न्यूयॉर्क : एक नए शोध से यह बात सामने आई है कि तनावपूर्ण नौकरियों और कम वेतन पाने वाले पुरुषों में अन्‍यों के मुकाबले हृदय रोग का खतरा दोगुना होता...

मिस यूनिवर्स पाकिस्तान का खिताब जीतने वाली एरिका रॉबिन की देश में हुई आलोचना

इस्लामाबाद । पाकिस्तान की कराची की रहने वाली एरिका रॉबिन ने 'मिस यूनिवर्स पाकिस्तान 2023' का खिताब जीत लिया है, वह यह खिताब हासिल करने वाली देश की पहली महिला...

मप्र में अब लाड़ली बहना को मिलेगा आवास

भोपाल : मध्य प्रदेश में अमल में लाई गई लाड़ली बहना योजना के तहत जहां पात्र महिलाओं को हर माह वर्तमान में 1250 रुपये माह दिए जा रहे है, गैस...

मस्क ‘अकेले और दु:खी’ थे क्योंकि उन्हें स्‍कूल में दोस्त बनाने में संघर्ष करना पड़ रहा था: नई किताब

सैन फ्रांसिस्को : अमेरिकी लेखक-पत्रकार वाल्टर इसाकसन ने अपनी नई किताब में दावा किया है कि टेस्ला और स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क बचपन में 'अकेले और दु:खी' थे क्योंकि...

सेबी ने कहा, उसे ज़ी और एस्सेल संस्थाओं के बीच लेनदेन में महत्वपूर्ण खतरे दिखाई देते हैं

नई दिल्ली : एक महत्वपूर्ण कदम में बाजार नियामक सेबी ने बुधवार को प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (एसएटी) के समक्ष जोरदार ढंग से दोहराया कि उसे ज़ी और एस्सेल संस्थाओं के...

नई संसद में नई ड्रेस में नजर आएंगे संसद के कर्मचारी, कमल के फूल और खाकी रंग को भी मिली नई ड्रेस में जगह

नई दिल्ली । 18 सितंबर से शुरू होने जा रहे संसद के विशेष सत्र के दूसरे दिन, 19 सितंबर को गणेश चतुर्थी के अवसर पर पूजा करने के बाद नए...

बलवा हो या दंगा, पुरुष पुलिसकर्मी का महिला पुलिसकर्मी भी देंगी साथ, किया अभ्यास

नोएडा । बलवा हो या दंगा या फिर शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए कोई भी आपात स्थिति हो। इसमें नोएडा पुलिस के पुरुष कर्मियों के साथ महिला कर्मी भी...

editors

Read Previous

43.8 प्रतिशत लोगों का लगता है उनका जीवन और देश दोनों ही ‘खराब स्थिति’ में हैं

Read Next

यूपी में श्रृंगवेरपुर की पावन धरती बनेगी सामाजिक समरसता का केंद्र

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com