भारतीयों ने कहा, ग्लोबल वामिर्ंग बनेगी महामारी व प्राकृतिक आपदाओं का कारण

नई दिल्ली : अधिकांश भारतीयों का मानना कि है कि ग्लोबल वामिर्ंग देश में अधिक महामारी व प्राकृतिक आपदाओं का कारण बनेगी। भारतीयों का यह विचार विश्व स्वास्थ्य संगठन की उस रिपोर्ट के बाद सामने आया है, जिसमें कहा गया है कि कोविड महामारी ने दुनिया भर में 6.54 मिलियन लोगों की जान ले ली है। कोविड के अलावा आई अन्य कई प्राकृतिक आपदाओं से अधिकतर भारतीयों (81 प्रतिशत) की समझ में आ गया है कि ग्लोबल वामिर्ंग के बारे में उन्हें चिंता करनी चाहिए।

यह खुलासा येल प्रोग्राम ऑफ क्लाइमेट चेंज कम्युनिकेशन की ओर से सीवोटर द्वारा किए गए एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण में हुआ है। सर्वेक्षण अक्टूबर 2021 से जनवरी 2022 के बीच किया गया। सर्वेक्षण में 18 वर्ष से अधिक आयु के 4,619 वयस्क भारतीय शामिल हुए।

सर्वेक्षण के अनुसार लगभग 50 प्रतिशत वयस्क भारतीयों का मानना है कि ग्लोबल वामिर्ंग से उन्हें पहले से ही नुकसान हो रहा है। यह 2011 के अंत में किए गए इसी तरह के एक सर्वेक्षण के मुकाबले 29 प्रतिशत अधिक है।

इस संबंध में येल विश्वविद्यालय के डॉ. एंथनी लीसेरोविट्ज ने कहा कि भारत पहले से ही जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का सामना कर रहा है। यहां के लोगों को रिकॉर्ड गर्मी, बाढ़ और तेज तूफान से जूझना पड़ रहा है। अब भारतीयों को भी लगने लगा है कि जलवायु परिवर्तन हो रहा है।

सीवोटर फाउंडेशन के यशवंत देशमुख ने कहा कि भारत में बहुत से लोग मानते हैं कि ग्लोबल वामिर्ंग के खतरनाक प्रभाव होंगे। आधे या अधिक से लोग मानते हैं कि ग्लोबल वामिर्ंग रोग- महामारियों (59 प्रतिशत), पौधों और जानवरों की प्रजातियों के विलुप्त होने (54 प्रतिशत),भयंकर गर्मी (54 प्रतिशत), तेज चक्रवात (52 प्रतिशत), और सूखा व पानी की कमी (50 प्रतिशत) का कारण बनेगी। दस में से चार से अधिक उत्तरदाताओं का मानना है कि ग्लोबल वामिर्ंग कारण अकाल और भोजन की कमी होगी ( 49 प्रतिशत) और भीषण बाढ़ (44 प्रतिशत) आएगी।

सर्वेक्षण में शामिल करीब 60 प्रतिशत ने कहा कि ग्लोबल वामिर्ंग से बीमारी व महामारी की संख्या बढ़ेगी। अधिकतर भारतीयों का मानना है कि ग्लोबल वामिर्ंग से लू बढ़ेगी। हर दूसरा भारतीय मानता है कि इससे गंभीर चक्रवात, सूखा, पानी की कमी और अकाल जैसी स्थिति पैदा होगी। 10 में से लगभग 4 भारतीय देश में आने वाली विनाशक बाढ़ के लिए ग्लोबल वामिर्ंग को जिम्मेदार मानते हैं।

ऑकलैंड विश्वविद्यालय के डॉ. जगदीश ठाकर ने कहा कि भारत में ग्लोबल वामिर्ंग के खतरनाक परिणाम मानने वालों का प्रतिशत 2011 की तुलना में बढ़ी है। पहले की अपेक्षा अब ग्लोबल वार्मिग को रोग महामारी (14 प्रतिशत अधिक), पौधों और जानवरों की प्रजातियों का विलुप्त होना (6 प्रतिशत अधिक), भीषण गर्मी (9 प्रतिशत अधिक), भीषण चक्रवात (20 प्रतिशत), सूखा और पानी की कमी (5 प्रतिशत अधिक), अकाल और भोजन की कमी (2 प्रतिशत अधिक), और गंभीर बाढ़ (10 प्रतिशत अधिक) कारण मानते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2022 में भारतीय उपमहाद्वीप ने भीषण गर्मी, अभूतपूर्व बाढ़, अनिश्चित मानसून और खाद्यान्न फसलों में संभावित गिरावट देखी है। भारत में अधिकांश लोगों का मानना है कि गर्मी के दिनों की संख्या बढ़ी है। 56 प्रतिशत का कहना है कि उनके क्षेत्र में गर्म दिन अधिक हो गए हैं और 23 प्रतिशत का कहना है कि कोई बदलाव नहीं हुआ है।

28 प्रतिशत का मानना है कि सूखा बढ़ गया है, तो 30 प्रतिशत का कहना है कि सूखा कम हो गया है और 32 प्रतिशत का कहना है कि कोई बदलाव नहीं हुआ है।

इसी तरह चार में से एक का कहना है कि तूफान और बाढ़ (दोनों 25 प्रतिशत) बढ़ गए हैं। 2011 की तुलना में भारत में लोगों एक बड़ी संख्या का मानना है कि बाढ़ 11 प्रतिशत, सूखा 8 प्रतिशत, तूफान प्रतिशत अधिक आने लगा है।

भारत में अधिकांश लोगों का मानना है कि सूखा या बाढ़ से उबरने में उन्हें कई महीना या उससे अधिक समय लगेगा। भारत में चार में से तीन लोगों का मानना है कि उनके परिवार को भयंकर सूखे से उबरने में कई महीने या उससे अधिक समय लगेगा, और दस में से छह का कहना है कि बाढ़ से उबरने में कई महीने का समय लगेगा।

–आईएएनएस

त्यागी महापंचायत के मंच पर आरोपियों का हुआ सम्मान, 15 दिन का अल्टीमेटम देकर खत्म हुई महापंचायत

नोएडा: श्रीकांत त्यागी के मामले को लेकर नोएडा के सेक्टर 110 स्थित रामलीला मैदान में रविवार को संपन्न हुई त्यागी समाज की महापंचायत में जेल से बाहर आए 6 आरोपियों...

क्या वीआई पि कल्चर ज़िम्मेदार है मथुरा मंदिर में भग्दढ़ का ?

वृन्दावन: पूर्व मंदिर समिति के सदस्य दिनेश गोस्वामी ने कहा कि वीआईपी संस्कृति के कारण शुक्रवार को मथुरा में जन्माष्टमी समारोह के दौरान बांके बिहारी मंदिर में भगदड़ मच गई,...

विश्व स्तर पर यूट्यूब की तुलना में बच्चे, किशोर टिकटॉक पर बिता रहे ज्यादा समय

सैन फ्रांसिस्को: बच्चे और किशोर दुनिया भर में गूगल के स्वामित्व वाले यूट्यूब पर सिर्फ 56 मिनट की तुलना में चीनी शॉर्ट-वीडियो प्लेटफॉर्म टिकटॉक पर रोजाना औसतन 91 मिनट की...

अजमेर के प्रधान मौलवी ने इस्लामिक और मानवता विरोधी नारे की निंदा की 

जयपुर, 10 जुलाई (आईएएनएस)| ईद के मौके पर हाजी सैयद सलमान चिश्ती, गद्दी नशीन-दरगाह अजमेर शरीफ और चिश्ती फाउंडेशन के अध्यक्ष ने रविवार को इस्लामिक विरोधी और मानवता विरोधी नारों...

सेना के जवान ने साइकिल से 36 घंटे में 650 किमी की दूरी की तय, रिकॉर्ड का दावा

बेंगलुरु, 10 जुलाई (आईएएनएस)| सेना के जवान ने 36 घंटे में 650 किलोमीटर की दूरी तय कर सबसे तेज साइकिलिंग करके सोलो (पुरुष) श्रेणी में इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्डस में...

राजस्थान सरकार ने 10 साल में 85 बार इंटरनेट बंद किया : डिजिटल इमरजेंसी

जयपुर, 3 जुलाई (आईएएनएस)| पिछले 10 साल में 85 बार इंटरनेट सेवाएं बंद करने को 'राजस्थान में डिजिटल इमरजेंसी' करार दिया जा रहा है। 28 जून को उदयपुर में कन्हैया...

गुजरात के मुसलमानों का बहिष्कार करने की अपील

नई दिल्ली। गुजरात के बनासकांठा जिले के थराड के वाग्सन ग्राम पंचायत ने मुस्लिम हाकरों और व्यापारियों से कोई समान न खरीदने की हिन्दू समाज से अपील की है। इस...

जबलपुर में उग रहा है ढाई लाख रुपए किलो वाला आम

जबलपुर, 29 जून (आईएएनएस)| आम ढाई लाख रुपए किलो वाला, यह सुनकर आपको कुछ अचरज हो सकता है मगर वाकई में मध्यप्रदेश के जबलपुर में एक आम प्रेमी ऐसा आम...

गुजरात में 75 वर्षीय महिला को बेडशीट में लपेटकर अस्पताल ले गया बेटा

अहमदाबाद, 29 जून (आईएएनएस)| गरुड़ेश्वर तालुका के जरवानी गाँव की एक 75 वर्षीय महिला बीमार पड़ गई और उसे इलाज के लिए ले जाना पड़ा। बुढ़ी महिला का बेटा उन्हें...

अपने प्रेमी से शादी करने के लिए ‘लड़की’ बन गई ‘लड़का’

प्रयागराज, 28 जून (आईएएनएस)| कहते हैं, प्यार सब कुछ बदल सकता है, प्यार पहाड़ों को भी हिला सकता है, तो यह सच भी है। एक लड़की ने ऐसा करके दिखाया...

अग्निपथ: सरकार की सख्ती के बीच युवाओं का आन्दोलन जारी रखने का फैसला

जहाँ एक तरफ केंद्र सरकार की “अग्निपथ योजना” का विरोध छात्रों द्वारा किया जा रहा है, वही दूसरी तरफ कई सामजिक संगठन भी इसके विरोध में सामने आ गए हैं....

झारखंड में हर साल साढ़े चार लाख बार ‘मौत’ और ‘तबाही’ लाती हैं आसमानी बिजलियां

रांची, 26 जून (आईएएनएस)| आसमान में जब भी बिजली कड़कती है तो रांची के नामकुम प्रखंड स्थित वज्रमरा गांव के लोगों की रूह किसी अनहोनी की आशंका से कांप उठती...

admin

Read Previous

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला को मिला पद्म भूषण, 2023 में आएंगे भारत

Read Next

एंड्राइड गो से संचालित हो रहे 250 मिलियन से अधिक मोबाइल फोन : गूगल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com