सिर्फ कॉलेजियम ही नहीं, एससी ने अरुण गोयल की चुनाव आयोग में पदोन्नति पर भी पूछे कड़े सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के केंद्र से सवाल करने या सरकार की खिंचाई करने में कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन हाल ही में जिस तरह से शीर्ष अदालत ने पंजाब कैडर के सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी अरुण गोयल की चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्ति के मामले में सरकार से कड़े सवाल पूछे, इसने कई विवादों को जन्म दे दिया है।

गोयल की नियुक्ति से पहले के घटनाक्रम ने इसे साफ कर दिया है। यह पता चला है कि चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्त होने से एक दिन पहले तक यानि 18 नवंबर को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने तक, गोयल केंद्रीय भारी उद्योग मंत्रालय में सचिव थे। यह कहा गया है कि भारी उद्योग मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों को भी इस बात की जानकारी नहीं थी कि वो चुनाव आयुक्त बनने जा रहे हैं।

इसके बाद अगले दिन 19 नवंबर को अरुण गोयल को चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया और उन्होंने दो दिन बाद, 21 नवंबर को ज्वाइन भी कर लिया।

जिस तेजी से उनकी नियुक्ति हुई, उस पर 23 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से उनके चयन से संबंधित मूल फाइलें पेश करने को कहा। शीर्ष अदालत ने केंद्र से कहा कि वह अरुण गोयल की चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्ति से संबंधित फाइलों को देखना चाहती है और इस बात पर जोर दिया कि वह यह देखना चाहती है कि किस तरह उन्हें इतनी जल्दबाजी में नियुक्त किया गया।

एक याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व कर रहे अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने गोयल की नियुक्ति का मुद्दा उठाया। भूषण ने कहा कि वह एक सिटिंग सेक्रेटरी हैं; उन्हें शुक्रवार को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति दी गई और शनिवार को नियुक्ति की गई और सोमवार को उन्होंने चुनाव आयोग के रूप में काम करना भी शुरू कर दिया।

भूषण ने कहा कि उन्होंने नियुक्ति के संबंध में अर्जी दी थी और अदालत इस मामले की सुनवाई कर रही थी, फिर भी सरकार ने नियुक्ति कर दी। उन्होंने पूछा कि केंद्र सिर्फ एक दिन में किसी को कैसे नियुक्त कर सकता है, किन प्रक्रियाओं का पालन किया गया है।

शीर्ष अदालत ने मौखिक रूप से कहा कि नियुक्ति का आदेश, मामले की सुनवाई शुरू होने के बाद दिया गया और भूषण ने इस मामले में आवेदन दिया था। शीर्ष अदालत सीईसी और ईसी की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम जैसी प्रणाली की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी।

इसके बाद अगले ही दिन 24 नवंबर को शीर्ष अदालत ने कहा कि इतनी जल्दबाजी क्या थी और इतनी तेजी से नियुक्ति क्यों की गई।

न्यायमूर्ति के एम जोसेफ ने दोहराया कि अदालत ‘यस मैन’ नियुक्त किए जाने के बारे में चिंतित है और पूछा कि कानून मंत्री द्वारा आयु मानदंड के आधार पर सैकड़ों लोगों के डेटा से चार नामों को शॉर्टलिस्ट करने का क्या आधार है।

सुपर फास्ट तरीके से गोयल की नियुक्ति पर सवाल उठाते हुए पीठ ने टिप्पणी की कि 24 घंटे से भी कम समय में प्रक्रिया पूरी कर ली गई।

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) के सह-संस्थापक प्रोफेसर जगदीप छोकर ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, मामला अदालत में पहुंचने पर अधिकारी को रातोंरात नियुक्त किया गया। कैसे 22 घंटे या 26 घंटे में उनका चयन किया गया और पूरी प्रक्रिया कैसे पूरी की गई, कोई नहीं जानता। दाल में कुछ काला है।

अरुण गोयल की सेवानिवृत्ति 31 दिसंबर, 2022 को होनी थी। हालांकि, चुनाव आयुक्त के रूप में उनकी नियुक्ति के साथ, वह दिसंबर 2027 तक पद पर बने रहेंगे। वह मुख्य चुनाव आयुक्त पद के लिए सबसे संभावित उम्मीदवार भी हैं।

–आईएएनएस

सुप्रीम कोर्ट को पांच नए जज मिले

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट को सोमवार को पांच नए न्यायाधीश मिल गए। भारत के मुख्य न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ ने जस्टिस पंकज मिथल, संजय करोल, पी.वी. संजय कुमार, अहसानुद्दीन अमानुल्लाह...

2019 जामिया हिंसा मामले में शरजील इमाम बरी

नई दिल्ली : 2019 में जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय में हुई हिंसा की घटनाओं से संबंधित एक मामले में दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू)...

बीबीसी डॉक्यूमेंट्री को ब्लॉक करने के खिलाफ याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से पूछा सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 2002 के गुजरात दंगों पर बनी बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर प्रतिबंध लगाने के केंद्र के फैसले को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर नोटिस...

दिल्ली हाईकोर्ट का फिल्म ‘फराज’ की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार

नई दिल्ली : दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को 2016 में ढाका में हुए आतंकी हमलों पर आधारित फिल्म 'फराज' की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। दो...

धनबाद अग्निकांड पर झारखंड हाईकोर्ट सख्त, सरकार से पूछा- आग से बचाव के क्या उपाय किए?

रांची : झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद के आशीर्वाद टावर और हाजरा क्लीनिक में आग लगने से 19 लोगों की मौत की घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार को सख्त...

आरोपी की मौत होने पर उत्तराधिकारी से वसूला जा सकता है जुर्माना: कर्नाटक हाईकोर्ट

बेंगलुरू : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि आरोपी की मौत होने पर उसकी संपत्ति या उसके उत्तराधिकारियों से जुर्माना वसूला जा सकता है। न्यायमूर्ति...

2020 दिल्ली दंगे : कोर्ट ने 9 आरोपियों को बरी किया

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को 2020 के दिल्ली दंगों के दौरान दंगा, आगजनी और अन्य अपराधों के आरोपी नौ लोगों को संदेह का लाभ देते...

ईडी ने कोलकाता में 12 ठिकानों पर की छापेमारी

कोलकाता : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को कोलकाता और उसके आसपास कम से कम 12 उद्योगपतियों के ठिकानों पर छापेमारी की। हालांकि केंद्रीय एजेंसी की ओर से कोई पुष्टि...

एआई पेशाब मामला: अदालत ने शंकर मिश्रा की जमानत याचिका पर फैसला रखा सुरक्षित

नई दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने सोमवार को शंकर मिश्रा की जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। मिश्रा पर न्यूयॉर्क-दिल्ली एयर इंडिया के विमान में नशे...

राष्ट्रपति मुर्मू पर टिप्पणी के खिलाफ जनहित याचिका से हाईकोर्ट ने हटाया बंगाल सीएम का नाम

कोलकाता : कलकत्ता हाईकोर्ट ने सोमवार को कहा कि पिछले साल नवंबर में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के लुक का जिक्र करते हुए उनके नेतृत्व वाली कैबिनेट के एक सदस्य द्वारा...

हाईकोर्ट ने समलैंगिक विवाहों को मान्यता देने की मांग वाली याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट में किया स्थानांतरित

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को विशेष विवाह अधिनियम, हिंदू विवाह अधिनियम और विदेशी विवाह के तहत अपने विवाह को मान्यता देने की मांग करने वाले कई...

सोशल मीडिया को होना चाहिए जिम्मेदार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने झांसी जिले की नंदिनी सचान द्वारा दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सोशल मीडिया पर अश्लील सामग्री का प्रचार करने...

admin

Read Previous

पुलिस छापे के दौरान ट्रेन हादसे में वेंडर के पैर कटे

Read Next

‘फारेन लैंग्वेज’से पूरा होगा बेहतर कॅरियर का सपना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com