पेट्रोलियम की तरह ऑक्सीजन के रणनीतिक भंडार की जरूरत : नेशनल टास्क फोर्स

पेट्रोलियम की तरह ऑक्सीजन के रणनीतिक भंडार की जरूरत : नेशनल टास्क फोर्स

25 जून, 2021

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट की ओर से गठित शीर्ष चिकित्सा विशेषज्ञों के राष्ट्रीय कार्य बल (एनटीएफ) ने सुझाव दिया है कि देश में चल रही कोविड-19 महामारी के बीच सरकार को दो से तीन सप्ताह की खपत के लिए ऑक्सीजन गैस का अतिरिक्त भंडार रखना चाहिए। शीर्ष अदालत द्वारा गठित 12 सदस्यीय एनटीएफ यानी नेशनल टास्क फोर्स ने कहा, हमारे पास पेट्रोलियम उत्पादों के लिए की गई व्यवस्था के समान दो से तीन सप्ताह की खपत को कवर करने के लिए देश के लिए ऑक्सीजन का रणनीतिक भंडार होना चाहिए। इसी तरह, सभी अस्पतालों में आपात स्थितियों से निपटने के लिए अतिरिक्त भंडार होना चाहिए।

इसने सुझाव दिया कि बड़े शहरों में तरल चिकित्सा ऑक्सीजन (एलएमओ) का उत्पादन करने के लिए व्यवस्था बनानी चाहिए, ताकि उनकी मेडिकल ऑक्सीजन की 50 प्रतिशत मांग को तुरंत पूरा किया जा सके। क्योंकि देश का सड़क परिवहन कमजोर है, इसलिए इसने स्थानीय तौर पर या फिर अस्पतालों के पास में ही ऑक्सीजन के निर्माण की रणनीति बनाने की सलाह दी है।

पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा, दिल्ली और मुंबई को उनकी जनसंख्या घनत्व के कारण प्राथमिकता के आधार पर लिया जा सकता है। सभी 18 मेट्रो शहरों को कम से कम 100 मीट्रिक टन भंडारण के साथ ऑक्सीजन स्वतंत्र बनाया जाना चाहिए।

एनटीएफ ने देश के लिए ऑक्सीजन की जरूरतों को निर्धारित करने के लिए एक फॉर्मूला प्रस्तावित किया, जो महामारी के बीच देखभाल के सभी स्तरों पर विचार करता है।

एनटीएफ ने रिपोर्ट में उदाहरण देते हुए समझाया है कि 100 बिस्तरों वाला अस्पताल, जिसमें 25 प्रतिशत आईसीयू बेड हों, उसमें तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) की आवश्यकता 1.5 मीट्रिक टन होगी। कार्य बल ने कहा है कि इसी फार्मूले का इस्तेमाल किया जा सकता है। पैनल ने कहा कि ऐसा फॉर्मूला एक गतिशील, विकसित प्रक्रिया का हिस्सा होगा।

पैनल ने सिफारिश करते हुए कहा, कोरोना के बढ़ते मामलों वाले राज्यों को मांग से अधिक आवंटन करने के लिए अपने यहां करीब 20 प्रतिशत भंडारण क्षमता बढ़ानी चाहिए।

एनटीएफ ने कहा है कि महामारी की अगली लहर से लड़ने की तैयारी में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन और बढ़ाने की कोशिशें की जानी चाहिए। मौजूदा वक्त में तत्काल मेडिकल ऑक्सीजन का उत्पादन पांच प्रतिशत से बढ़ाकर आठ प्रतिशत करने की जरूरत है। इसके लिए सरकार को ऑक्सीजन का उत्पादन करने वाले उद्योगों की मदद करनी चाहिए।

समिति ने कहा कि ऑक्सीजन के न्यायसंगत उपयोग के लिए अस्पतालों का ऑडिट किया जाना चाहिए, जिसमें उनकी पाइपलाइन प्रणाली को भी देखा जाए। इसने कहा कि इस तरह के ऑडिट से 10 से 20 प्रतिशत तक ऑक्सीजन की बचत होगी।

पैनल ने जोर देकर कहा कि शीर्ष अदालत के आदेश के अनुरूप राज्यवार ऑक्सीजन ऑडिट समितियों का गठन किया जाना चाहिए। इसके अलावा केंद्रीय स्तर पर सिलेंडरों की खरीद, ऑक्सीजन का उत्पादन और आपूर्ति बढ़ाना, उपरोक्त सिद्धांत के आधार पर ऑक्सीजन की राज्यों की जरूरतों का आकलन करना, आपूर्ति श्रंखला की जरूरत को देखने जैसे कदम उठाने चाहिए।

रिपोर्ट में कहा गया है कि एनटीएफ के सदस्य वर्तमान महामारी के प्रबंधन में सरकार द्वारा की गई कड़ी मेहनत को पहचानते हैं।

एनटीएफ के सदस्य इस बात की सराहना करते हैं कि उनकी कई सिफारिशें पहले ही लागू हो चुकी हैं और अन्य पर काम भी शुरू हो चुका है।

पैनल ने सुझाव दिया कि ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड की संख्या के आधार पर प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक स्तर के अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता की गणना के लिए एक सूत्र विकसित करने की आवश्यकता है।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान अस्पतालों में व्याप्त आक्सीजन संकट के मद्देनजर इस 12 सदस्यीय समिति का गठन किया था। शीर्ष अदालत ने छह मई को एनटीएफ का गठन किया था, ताकि कोविड मरीजों की जान बचाने के लिए ऑक्सीजन के आवंटन की पद्धति तैयार की जा सके।

–आईएएनएस

असामान्य भ्रूण के टर्मिनेशन में देरी पर हाई कोर्ट ने लगाई एलएनजेपी अस्पताल को फटकार

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को मस्तिष्क संबंधी असामान्यताओं से पीड़ित अपने 33 सप्ताह के भ्रूण को समाप्त करने की महिला की मांग पर चिकित्सकीय जांच में...

हाईकोर्ट ने राजनीतिक दलों से पूछा, जातीय रैलियों पर क्यो न लगा दी जाए पूर्ण पाबंदी

प्रयागराज : इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने उत्तर प्रदेश के चार प्रमुख राजनीतिक दलों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है कि राज्य में जाति आधारित रैलियों पर...

सिर्फ कॉलेजियम ही नहीं, एससी ने अरुण गोयल की चुनाव आयोग में पदोन्नति पर भी पूछे कड़े सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के केंद्र से सवाल करने या सरकार की खिंचाई करने में कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन हाल ही में जिस तरह से शीर्ष...

दिल्ली शराब नीति मामले में सीबीआई के नोटिस पर केसीआर की बेटी कविता का जवाब, 6 दिसंबर को मिल सकते हैं

हैदराबाद : केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने टीआरएस एमएलसी और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की बेटी के. कविता से स्पष्टीकरण मांगा है, जिसका नाम दिल्ली शराब नीति मामले...

38 साल बाद भी गैस त्रासदी के पीड़ित न्याय के लिए कर रहे संघर्ष

भोपाल : दुनिया की सबसे बड़ी और घातक रासायनिक आपदा भोपाल गैस त्रासदी 38 साल पहले 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरम्यानी रात को हुई थी। इसका दुष्परिणाम...

पूर्व मंत्री चिन्मयानंद को गिरफ्तार करने का आदेश

शाहजहांपुर (उत्तर प्रदेश) : शाहजहांपुर की एक विशेष एमपी/एमएलए कोर्ट ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी किया है। एमपी/एमएलए कोर्ट की जज असमा...

मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड गोल्डी बराड़ कैलिफोर्निया में हिरासत में लिया गया

नई दिल्ली : प्रसिद्ध पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड कनाडा स्थित गैंगस्टर गोल्डी बराड़ कैलिफोर्निया में पकड़ा गया। सूत्रों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने...

पत्नी की मौत के मामले में शशि थरूर को आरोपमुक्त किए जाने को हाईकोर्ट में चुनौती

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में निचली अदालत द्वारा उन्हें आरोपमुक्त किए जाने के खिलाफ...

कर्नाटक उच्च न्यायालय ने पीएफआई प्रतिबंध पर सवाल उठाने वाली याचिका खारिज की

बेंगलुरु : कर्नाटक उच्च न्यायालय ने बुधवार को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) पर प्रतिबंध को लेकर सवाल उठाने वाली याचिका को खारिज कर दिया और इस संबंध में केंद्र...

मास्टर प्लान 2041 में बढ़ी हुई एफएआर के प्रावधान के साथ मौजूदा कॉलोनियों के पुनर्जनन के लिए बनेंगी नीतियां

नई दिल्ली : मास्टर प्लान 2041 में मौजूदा कॉलोनियों के पुनर्जनन के लिए नीतियां, लैंड पूलिंग के जरिए ग्रीनफील्ड विकास और फ्लोर एरिया रेशियो (एफएआर) के प्रावधान के साथ हरित...

बिलकिस बानो ने 11 दोषियों की रिहाई को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

नई दिल्ली : बिल्किस बानो ने 2002 के गुजरात दंगों में सामूहिक बलात्कार और हत्या के दोषी 11 लोगों की रिहाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। बानो...

दिल्ली हिंसा के आरोपी सैफी की जमानत याचिका पर सुनवाई जारी रखेगा हाईकोर्ट

नई दिल्ली : वर्ष 2020 की दिल्ली हिंसा के पीछे कथित साजिश से जुड़े यूएपीए मामले में गिरफ्तार खालिद सैफी के वकील ने सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट में कहा कि...

admin

Read Previous

माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज 11 ऑपरेटिंग सिस्टम की घोषणा की

Read Next

धर्मांतरण मामले में उमर की बेटी ने पिता को बताया बेकसूर, कहा : चुनाव करीब तभी ये मामला क्यों आया सामने?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com