राम वनगमन मार्ग को मिलेगी रामायण कालीन वृक्षों की छांव


विवेक त्रिपाठी

26 जून, 2021

tलखनऊ: राम वनगमन मार्ग को मिलेगी रामायण कालीन वृक्षों की छांव। बेला और चमेली से महकेगा पूरा रास्ता। जगह जगह लगने वाले कदम,रसाल,अशोक,पारिजात,और जामुन आदि के वन त्रेतायुग के परिवेश को पूरी तरह जीवंत करेंगे। इनके पौधों का रोपण वैदिक रीति से होगा।

मालूम हो कि वनवास होने पर भगवान श्रीराम जिस रास्ते से गुजरे थे, उसे पौराणिक ग्रन्थों में राम वनगमन मार्ग के नाम से जाना जाता है। महर्षि बाल्मीकि द्वारा रचित रामायण में अयोध्या और इस मार्ग पर 88 वृक्ष प्रजातियों का वर्णन मिलता है। मुख्यमंत्री की मंशा राम वनगमन मार्ग और उसके अगल-बगल पड़ने वाले ग्राम सभाओं में इसी प्रजाति के वृक्ष और वन लगाने की है। इसमें वृक्षों के अलावा झाड़ियां और घास भी शामिल हैं। इस वर्ष कुल मिलाकर 27,720 पौधों के रोपण किया जाना है।

वन जाते समय भगवान श्रीराम ने तमसा नदी के किनारे पहली रात गुजारी थी। इस जगह को रामचौरा (गौराघाट) के नाम से भी जाना जाता है। अयोध्या वन प्रभाग द्वारा इस स्थान पर इस वर्ष 200 ब्रिकगार्ड बनाए गए हैं। इनमें वैदिक रीति से पौधरोपण कराया जायेगा। इसी तरह बिसुही नदी के किनारे गक्रिजा माता के मंदिर वहां भी इसी तरह पौधरोपण होना है। बिसुही नदी को पार करने के पूर्व इस मंदिर में भी भगवान श्री राम ने पूजा अर्चना की थी। इसके अलावा राम वनगमन मार्ग पर पडने वाले धार्मिक स्थलों पर भी पौधरोपण होना है। राम वनगमन मार्ग के आसपास की ग्राम सभाओं में भी इस सीजन में 27 हजार पौधे रोपित किये जाएंगे।

ग्राम समाज वृक्षारोपणों में स्थल के अनुरूप अलग-अलग प्रजातियों (वृक्ष समूहों) के वन तैयार किये जाएंगे जैसे कदम्ब वन, रसाल वन, अशोक वन, पारिजात वन, जामुन के वन आदि। प्रत्येक स्थल पर रोपण की शुरूआत वैदिक रीति से करायी जायेगी तथा जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में उनके द्वारा करवायी जायेगी। रोपण में जन भागीदारी भी रहेगी। समस्त कार्यवाहियों के फोटोग्राफ रोपण कार्य के पूर्व रोपण कार्य के मध्य व रोपण समाप्ति पर संकलित किये जाएंगे।

इसमें अशोक, साल, आम, परिजात (कल्पवृक्ष), बरगद, चंदन, देवदारू, चंपा , नागकेसर , पुंनाग , महुआ , कटहल , असन , लोध , कदंब , अर्जुन , अक छितवन , अतिमुक्तक , मंदार , प्रियंगु , केश बकुल , जामुन , अनार , कोविदार जन (कचनार) , बेल , खैर , पलाश , बहेड़ा , पीपल , इंगुदी , शीशम, करीर ( करौंदा) , बज्जुल (बेंत), तिलक , ताड़ , तमाल , आंवला , मालती (चमेली) , कुश, गे, सरकंडा, नीम, मल्लिका (बेला), सुपारी, बांस, चिरौंजी, धवक (बाकली) , अंकोल, तेंदू, रीठा, वरण, तिनिश, बेर, धामन, भोजपत्र, कचनार, भिलावा, खस, सलई, नीवार, चिलबिल, केवडा, बड़हल, गर्जन, शमी, पाटल, कुंद, कनेर, करज्ज, बिजौरा, लिसोडा, कतक, सिदुवार, कुरंट, सेमल, मुचकुंद, सिरस, हिताल, सर्ज, चीड़, अमलतास, कुटज, बंधु जीव, पद्मक, रंजक व खजूर, रक्तचंदन, अगर, नारियल आदि शामिल किए जाएंगे।

वन संरक्षक अयोध्या मंडल अनुरूद्घ पांडेय का कहना है कि मुख्यमंत्री योगी की मंशा के अनुरूप राम वनगमन मार्ग में रामयणकालीन वृक्षों का रोपण होना है। पौधों की सुरक्षा का विशेष ध्यान दिया जाएगा। जरूरत के हिसाब से ब्रिकगार्ड लगाए जाएंगे। बांकी जगह ग्राम प्रधानों की जमीन की उपलब्धता के अनुसार अलग-अलग प्रजाति के वन लगाएं जाएंगे।

–आईएएनएस

‘हिमालय को इको सेंसिटिव जोन घोषित करें’

नई दिल्ली : आरएसएस से जुड़े स्वदेशी जागरण मंच ने संबंधित नागरिकों और विशेषज्ञों के साथ शनिवार को 'इमीनेट हिमालयन क्राइसिस' पर एक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया और हिमालय...

रेलवे ने की 314 ट्रेन रद्द, 25 ट्रेनों का समय बदला

नई दिल्ली : कोहरे के चलते मंगलवार को भारतीय रेलवे ने 314 ट्रेन रद्द, 25 ट्रेनों का समय बदला और 8 ट्रेनों का रूट डायवर्ट कर दिया है। इसके साथ...

पहाड़ों पर बदला मौसम, केदारनाथ, गंगोत्री सहित मसूरी में हुई बर्फबारी

उत्तरकाशी/केदारनाथ/मसूरी : पहाड़ों पर एक बार फिर मौसम ने करवट बदल ली है। गुरुवार देर रात से ही बारिश और बर्फबारी का दौर शुरू हो गया है। उत्तरकाशी के गंगोत्री...

1.4 डिग्री पर जमी दिल्ली, इस मौसम का सबसे कम तापमान दर्ज

नई दिल्ली : ताजा शीतलहर के बीच, राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार को न्यूनतम तापमान 1.4 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया, जो इस मौसम का अब तक का सबसे कम तापमान...

भीषण गर्मी, कड़ाके की ठंड और भारी बरसात, आखिर क्यों हो रहे हैं मौसम में बड़े बदलाव?

नई दिल्ली : पिछले कुछ सालों में भारत समेत दुनियाभर में मौसम के अलग रूप देखे जा रहे हैं। कभी भयंकर गर्मी, तो कभी मूसलाधार बारिश और अब एक बार...

इसरो ने पहली बार जोशीमठ भू-धंसाव की सैटेलाइट तस्वीरें की जारी कीं

देहरादून : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्था के नेशनल रिमोट सेंसिंग सेंटर ने पहली बार जोशीमठ भू-धंसाव की सैटेलाइट तस्वीरें जारी की हैं, जिसमें दिखाया गया है कि जोशीमठ शहर किस...

विशेषज्ञ जोशीमठ आपदा के लिए बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे के विकास को जिम्मेदार ठहराते हैं

नई दिल्ली : उत्तराखंड के जोशीमठ में सड़कों और घरों में दरारें मुख्य रूप से हिमालय जैसे बेहद नाजुक पारिस्थितिकी तंत्र में हो रहे बड़े पैमाने पर बुनियादी ढांचे के...

बांग्लादेश जहरीले डीडीटी कीटनाशक से मुक्त घोषित

ढाका : बांग्लादेश को खतरनाक 'डाइक्लोरो डिफेनिल ट्रिक्लोरोइथेन' कीटनाशक से मुक्त घोषित कर दिया गया है, जिसे आमतौर पर डीडीटी कीटनाशक के रूप में जाना जाता है। बांग्लादेश के पर्यावरण,...

15 दिन में सड़क पर दिखने लगेंगी ई-साइकिल, सालाना कम होगा 1125 टन कार्बन रेडिएशन

नोएडा : नोएडा में ई साइकिल से सालाना 1125 टन कार्बन रेडिएशन को कम किया जा सकेगा। आगामी 15 दिनों के बाद ये ई साइकिल नोएडा की सड़कों पर दिखने...

दिल्ली में दर्ज सीजन का सबसे कम 2.2 डिग्री सेल्सियस तापमान

2023-01-05 नई दिल्ली: दिल्लीवासियों की सुबह गुरुवार को सीजन की सबसे ठंडी सुबह रही। तापमान गिरकर 2.2 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। लोधी रोड, आयानगर और रिज के मौसम स्टेशनों...

वृंदावन में बनेगा देश का सबसे बड़ा सिटी फॉरेस्ट

मथुरा : उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा वृंदावन में देश का सबसे बड़ा शहर वन (सिटी फॉरेस्ट) बनाया जा रहा है। वृन्दावन के ग्राम सुनरख के पास 130 हेक्टेयर...

शीतलहर की चपेट में दिल्ली, कोहरे से विजिबिलिटी प्रभावित, यातायात धीमा

नई दिल्ली : दिल्लीवासियों की मंगलवार की सुबह सर्द रही और घने कोहरे के कारण शहर के कुछ इलाकों में विजिबिलिटी कम रही, जिससे सड़क और रेल यातायात प्रभावित हुआ।...

admin

Read Previous

‘अफगानिस्तान से अमेरिका की वापसी से कश्मीर में आतंकवादी घुसपैठ का खतरा’

Read Next

नड्डा ने वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों से की विधानसभा चुनाव की तैयारियों पर चर्चा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com