सबसे गरीब शिक्षार्थी सार्वजनिक शिक्षा निधि से सबसे कम लाभान्वित होते हैं : यूनिसेफ

संयुक्त राष्ट्र : यूनिसेफ ने वैश्विक शैक्षिक असमानता को उजागर करते हुए एक रिपोर्ट में कहा है कि सार्वजनिक शिक्षा का केवल 16 फीसदी धन सबसे गरीब 20 फीसदी शिक्षार्थियों को जाता है, जबकि 28 फीसदी सबसे अमीर 20 फीसदी को जाता है। सबसे गरीब परिवारों के बच्चों को राष्ट्रीय सार्वजनिक शिक्षा निधि से कम से कम लाभ मिलता है, यूनिसेफ ने मंगलवार को प्रकाशित ‘ट्रांसफॉर्मिग एजुकेशन विद इक्विटेबल फाइनेंसिंग’ नामक रिपोर्ट में जोड़ा, जो 102 देशों में तृतीयक शिक्षा के माध्यम से पूर्व-प्राथमिक से सरकारी खर्च को देखता है।

यूनिसेफ की कार्यकारी निदेशक कैथरीन रसेल ने कहा, “हम बच्चों को अनुत्तीर्ण कर रहे हैं। दुनियाभर में कई शिक्षा प्रणालियां उन बच्चों में सबसे कम निवेश कर रही हैं, जिन्हें इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है।”

यूनिसेफ ने कहा कि यह अंतर कम आय वाले देशों में सबसे अधिक स्पष्ट है, क्योंकि सबसे गरीब शिक्षार्थियों की तुलना में सबसे धनी परिवारों के बच्चों को सार्वजनिक शिक्षा निधि की राशि से छह गुना से अधिक का लाभ मिलता है।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, कोटे डी आइवर और सेनेगल जैसे मध्यम-आय वाले देशों में, सबसे अमीर शिक्षार्थी सबसे गरीब लोगों की तुलना में लगभग चार गुना अधिक सार्वजनिक शिक्षा खर्च प्राप्त करते हैं।

फ्रांस और उरुग्वे जैसे देशों में उच्च आय वाले देशों में सबसे अमीर आम तौर पर 1.1 से 1.6 गुना अधिक सार्वजनिक शिक्षा पर खर्च करते हैं।

यूनिसेफ ने ‘सीखने की गरीबी’ का मुकाबला करने के लिए समान वित्तपोषण का आह्वान किया। रिपोर्ट में पाया गया कि शिक्षार्थियों के सबसे गरीब वर्ग के लिए सार्वजनिक शिक्षा संसाधनों के आवंटन में केवल एक प्रतिशत की वृद्धि संभावित रूप से 3.5 करोड़ प्राथमिक स्कूली आयु वर्ग के बच्चों को गरीबी से बाहर निकाल सकती है।

रसेल ने कहा, “सबसे गरीब बच्चों की शिक्षा में निवेश करना बच्चों, समुदायों और देशों के भविष्य को सुनिश्चित करने का सबसे किफायती तरीका है। सच्ची प्रगति तभी हो सकती है जब हम हर जगह, हर बच्चे में निवेश करें।”

रिपोर्ट में यह भी पाया गया कि गरीबी में रहने वाले बच्चों के स्कूल जाने की संभावना कम होती है, वे जल्द ही ड्रॉप आउट हो जाते हैं, और उच्च शिक्षा में उनका प्रतिनिधित्व कम होता है, जो प्रति व्यक्ति सार्वजनिक शिक्षा खर्च में बहुत अधिक प्राप्त करता है।

रिपोर्ट में आगे कहा गया है, “कोविड-19 महामारी से पहले भी, दुनियाभर में शिक्षा प्रणाली बड़े पैमाने पर बच्चों को विफल कर रही थी, जिसमें सैकड़ों लाखों छात्र स्कूल जा रहे थे, लेकिन बुनियादी पढ़ने और गणित कौशल को समझ नहीं पा रहे थे।”

हाल के अनुमानों का हवाला देते हुए कहा गया है कि दुनियाभर में 10 साल के दो-तिहाई बच्चे एक साधारण कहानी को पढ़ या समझ नहीं सकते।

–आईएएनएस

गणतंत्र दिवस परेड में स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी

नई दिल्ली : 26 जनवरी को कर्तव्य पथ पर गणतंत्र दिवस परेड में स्वदेशी व आधुनिक हथियारों की बेहतरीन झलक देखने को मिली। परंपरा के अनुसार सबसे पहले राष्ट्रीय ध्वज...

बीबीसी डॉक्यूमेंट्री स्क्रीनिंग : जामिया विवि के 4 छात्र हिरासत में लिए गए 

नई दिल्ली:| जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के छात्र संगठन स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) से जुड़े चार छात्रों को हिरासत में लिया गया है। बुधवार शाम जनसंचार विभाग में प्रधानमंत्री...

लखनऊ में जमींदोज हुई बिल्डिंग से जिंदगी बचाने की जंग जारी, जांच के लिए कमेटी गठित

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मंगलवार को अलाया अपार्टमेंट की बिल्डिंग अचानक जमींदोज हो गई। देखते ही देखते कई परिवार मलबे में दब गए हैं। बीते 16...

घमासान दर घमासान, नीतीश कब करेंगे समाधान

नई दिल्ली, फ़ज़ल इमाम मल्लिक: बिहार में सियासी तापमान फान पर है। नीतीश कुमार समाधान यात्रा पर हैं लेकिन उनकी सरकार, दल और गठबंधन दोनों संकट में है। आम लोगों...

नेताजी की जयंती पर ममता ने केंद्र पर योजना आयोग को खत्म करने का आरोप लगाया

कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती समारोह में केंद्र पर तीखा हमला बोलते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मौजूदा केंद्र सरकार ने...

लॉस एंजेलिस गोलीबारी मामला :  संदिग्ध ने खुद को मारी गोली

 लॉस एंजेलिस: लॉस एंजेलिस गोलीबारी के संदिग्ध ने खुद को गोली मार ली है। जानकारी के अनुसार, पुलिस का कहना है कि लॉस एंजेलिस सामूहिक गोलीबारी के संदिग्ध ने पुलिस...

मोदी ने 2024 से आगे भाजपा की सफलता के लिए ‘सोशल इंजीनियरिंग’ का मंत्र दिया

नई दिल्ली:जहां सभी राजनीतिक दल 2024 के लोकसभा चुनाव पर लक्ष्य बना रहे हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी 2029 के बाद भी सफलता की तलाश में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...

26 साल बाद भी पीड़ित परिवार न्याय के दरवाजे पर दे रहे दस्तक

नई दिल्ली : नीलम और शेखर कृष्णमूर्ति व उपहार सिनेमा अग्निकांड के अन्य पीड़ितों के परिवारों को घटना के 26 साल बाद भी इंसाफ की तलाश है। कृष्णमूर्ति का घर...

यूट्यूब पर बीबीसी डॉक्यूमेंट्री शेयर करने वाले वीडियो और ट्वीट ब्लॉक करने के आदेश

नई दिल्ली:| सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने बीबीसी डॉक्यूमेंट्री 'इंडिया: द मोदी क्वेश्चन' का पहला एपिसोड प्रकाशित करने वाले कई यूट्यूब वीडियो को ब्लॉक करने के निर्देश जारी किए हैं।...

जोशीमठ भू-धंसाव : बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग भी भू-धंसाव की चपेट में

चमोली/जोशीमठ : बदरीनाथ धाम को जाने वाला बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग भी भू-धंसाव की चपेट में आता जा रहा है। जोशीमठ भूधंसाव को लेकर चिंताएं लगातार बढ़ती जारही हैं। एक तरफ...

कमलनाथ और सिंधिया के बीच वार-पलटवार,दो महारथियों ने दागे शब्दों के तोप गोले

भोपाल। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव को करीब 10 महीने बचे हैं। चुनावी साल में दोनों ही पार्टियों के दिग्गजों में जुबानी जंग छिड़ गई है। सियासी रण में शुक्रवार...

विमान में पेशाब का मामला : डीजीसीए ने एयर इंडिया पर 30 लाख का लगाया जुर्माना

नई दिल्ली : विमानन नियामक डीजीसीए ने फ्लाइट में यूरिनेशन मामले में एयर इंडिया पर 30 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है और पायलट-इन-कमांड का लाइसेंस तीन महीने के लिए...

admin

Read Previous

एप्पल ने एम2 और एम2 प्रो चिप्स के साथ अधिक शक्तिशाली मैक मिनी का अनावरण किया

Read Next

गूगल ने भारत में यूपीआई भुगतान के लिए ‘साउंडपोड बाय गूगल पे’ का परीक्षण किया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com