केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार में धर्मांतरण का अधिकार शामिल नहीं

नई दिल्ली: केंद्र ने सर्वोच्च न्यायालय को बताया कि धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार में लोगों को किसी खास धर्म में धर्मांतरित करने का मौलिक अधिकार शामिल नहीं है। केंद्र की यह प्रतिक्रिया अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय की उस याचिका के संबंध में आई है, जिसमें कहा गया है कि धोखे से, धमकाकर, उपहार और मौद्रिक लाभ प्रदान कर धर्म परिवर्तन संविधान के अनुच्छेद 14, 21 और 25 का उल्लंघन है।

याचिका में दावा किया गया है कि अगर इस तरह के धर्मांतरण पर रोक नहीं लगाई गई तो भारत में हिंदू जल्द ही अल्पसंख्यक हो जाएंगे।

एक हलफनामे में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा, धर्म की स्वतंत्रता के अधिकार में धोखाधड़ी, जबरदस्ती, लालच या ऐसे अन्य माध्यमों से अन्य लोगों को किसी विशेष धर्म में परिवर्तित करने का मौलिक अधिकार शामिल नहीं है।

केंद्र सरकार ने कहा कि याचिकाकर्ता ने धोखाधड़ी, जबरदस्ती, प्रलोभन या ऐसे अन्य माध्यमों से देश में कमजोर नागरिकों के धर्मांतरण के मामलों पर प्रकाश डाला है।

केंद्र ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 25 के अंतर्गत आने वाले ‘प्रचार’ शब्द के अर्थ और तात्पर्य पर संविधान सभा में विस्तार से चर्चा और बहस हुई थी और उक्त शब्द को शामिल करने को संविधान सभा ने स्पष्टीकरण के बाद ही पारित किया था कि अनुच्छेद 25 के तहत मौलिक अधिकार में धर्मांतरण का अधिकार शामिल नहीं होगा।

केंद्र ने कहा कि शीर्ष अदालत ने माना है कि ‘प्रचार’ शब्द किसी व्यक्ति को धर्मांतरित करने के अधिकार की परिकल्पना नहीं करता है, बल्कि यह अपने सिद्धांतों की व्याख्या द्वारा धर्म को फैलाने का सकारात्मक अधिकार है।

केंद्र ने कहा कि वह वर्तमान याचिका में उठाए गए मुद्दे की गंभीरता से वाकिफ है और महिलाओं और आर्थिक और सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों सहित समाज के कमजोर वर्गों के पोषित अधिकारों की रक्षा के लिए अधिनियम आवश्यक हैं।

केंद्र ने कहा कि वर्तमान विषय पर नौ राज्य सरकारों ओडिशा, मध्य प्रदेश, गुजरात, छत्तीसगढ़, झारखंड, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और हरियाणा में पहले से ही कानून है।

कोर्ट ने कहा कि वर्तमान याचिका में मांगी गई राहत को पूरी गंभीरता से लिया जाएगा और उचित कदम उठाए जाएंगे।

गौरतलब है कि 14 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जबरन धर्मांतरण एक बहुत गंभीर मुद्दा है, और यह राष्ट्र की सुरक्षा को प्रभावित कर सकता है और केंद्र से कहा कि जबरन धर्मांतरण को रोकने के लिए क्या कदम उठाए जा सकते हैं, इस पर अपना रुख स्पष्ट करें।

शीर्ष अदालत ने कहा कि धर्म की स्वतंत्रता है, लेकिन जबरन धर्मांतरण पर कोई स्वतंत्रता नहीं है।

उपाध्याय की याचिका में कहा गया है कि अनुच्छेद 25 में निहित धर्म की स्वतंत्रता विशेष रूप से एक विश्वास के संबंध में प्रदान नहीं की जाती है, लेकिन इसमें सभी धर्म समान रूप से शामिल हैं, और एक व्यक्ति इसका उचित रूप से आनंद ले सकता है यदि वह अन्य धर्मावलंबियों के इसी प्रकार के अधिकार का सम्मान करता हो।

किसी को भी किसी अन्य का धर्म में बदलने का कोई मौलिक अधिकार नहीं है।

–आईएएनएस

यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार में फंसा शव 11 किमी घसीटा, दो हिस्सों में बंटा शरीर

मथुरा: यमुना एक्सप्रेस-वे पर कार ने युवक के शव को करीब 11 किलोमीटर तक घसीटा। जब कार टोल प्लाजा पर रुकी, तब सिक्योरिटी गार्ड की नजर कार के नीचे फंसे...

भूकंप से तबाह तुर्की में फंसे कर्नाटक के लोगों के लिए राज्य सरकार एक हेल्पलाइन स्थापित कर रही : सीएम

बेंगलुरू:| कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने मंगलवार को कहा कि भूकंप से तबाह तुर्की में फंसे राज्य के लोगों के लिए राज्य सरकार एक हेल्पलाइन स्थापित कर रही है।...

सुप्रीम कोर्ट ने अलवर केंद्रीय सहकारी बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी को दी जमानत

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने अलवर केंद्रीय सहकारी बैंक घोटाले के मुख्य आरोपी अंकित शर्मा को जमानत दे दी है। 2019 में, अलवर सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड के मुख्य प्रबंधक...

भाजपा शासन के दौरान कर्नाटक में हिंदुओं की सबसे ज्यादा हत्याएं हुईं : सिद्धारमैया

कलबुरगी (कर्टक): कर्नाटक विधानसभा में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मंगलवार को राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधा है। पूर्व सीएम ने पार्टी पर आरोप लगाते...

जम्मू कश्मीर में पिछले महीने मारे गए 7 नागरिक, 948 ग्राम रक्षा गार्ड को दिया गया प्रशिक्षण

नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में पिछले महीने यानी जनवरी में आतंकी घटनाओं में 7 आम नागरिकों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। इसको देखते हुए सीआरपीएफ ने जम्मू में 948...

बिहार : ब्राह्मणों पर टिप्पणी को लेकर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के खिलाफ परिवाद पत्र दायर

मुजफ्फरपुर:राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के दिए गए एक बयान को लेकर बिहार के मुजफ्फरपुर की एक अदालत में उनके खिलाफ मंगलवार को एक परिवाद पत्र दायर...

हर मरीज की मौत को चिकित्सकीय लापरवाही नहीं कहा जा सकता : केरल हाईकोर्ट

कोच्चि: केरल हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया है कि प्रत्येक मरीज की मौत को चिकित्सा लापरवाही नहीं कहा जा सकता है। डॉक्टर को चिकित्सा लापरवाही के लिए केवल तभी जिम्मेदार ठहराया...

तुर्की में आए भूकंप में मदद के लिए एनडीआरएफ की पहली टीम रवाना

गाजियाबाद : तुर्की, सीरिया समेत पांच से ज्यादा देश सोमवार सुबह भूकंप के भीषण झटकों से दहल गए हैं। मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है और घायलों की...

तुर्की में एक और जबरदस्त भूकंप आया

इस्तांबुल: तुर्की-सीरिया सीमा क्षेत्र में सोमवार सुबह आए विनाशकारी 7.9 तीव्रता के भूकंप के घंटों बाद तुर्की में कम से कम 912 और सीरिया में 326 लोगों की मौत हो...

केरल हाईकोर्ट के काउंसलिंग सेशन के आदेश के खिलाफ समलैंगिक जोड़े की याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली:सुप्रीम कोर्ट सोमवार को समलैंगिक जोड़े की उस याचिका पर विचार करने पर सहमत हो गया, जिसमें केरल हाईकोर्ट ने के उस आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें...

एनडीआरएफ की दो टीमें तुर्की में बचाव अभियान में शामिल होने के लिए तैयार : विदेश मंत्रालय

नई दिल्ली : तुर्की 7.8 तीव्रता वाले भूकंप के दर्द से कराह रहा है। भीषण भूकंप से अब तक सैकड़ों लोगों की मौत हो गई है। इस भयावह प्राकृतिक आपदा...

भारत के 140 करोड़ लोग संकट में तुर्की के साथ: पीएम मोदी

बेंगलुरू : तुर्की में सोमवार को आए विनाशकारी भूकंप पर दुख व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत के 140 करोड़ लोग तुर्की में आए भूकंप के...

editors

Read Previous

बिहार: नीतीश के पास ललन के अलावा कोई विकल्प नहीं, जदयू अध्यक्ष बनना लगभग तय

Read Next

प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल की घटी सुरक्षा, अब जेड की जगह मिलेगी वाई श्रेणी की सिक्योरिटी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com