इमरजेंसी पर संसद में बंटा नजर आया विपक्ष, कांग्रेस ने किया विरोध, सपा-टीएमसी ने नहीं दिया साथ

नई दिल्ली । इमरजेंसी पर संसद में विपक्ष बंटा दिखाई दिया। इमरजेंसी को लेकर स्पीकर के प्रस्ताव का विरोध सिर्फ कांग्रेस सांसदों ने किया। सूत्रों के मुताबिक, इंडिया गठबंधन के सहयोगी दल समाजवादी पार्टी और टीएमसी ने कांग्रेस का इस मुद्दे पर साथ नहीं दिया। सपा और तृणमूल कांग्रेस ने लोकसभा में आपातकाल के खिलाफ प्रस्ताव का समर्थन किया।

दरअसल, लोकसभा सत्र के तीसरे दिन स्पीकर बनने के बाद ओम बिरला ने अपनी पहली स्पीच में 1975 में इंदिरा गांधी सरकार द्वारा लगाई गई इमरजेंसी को लेकर विपक्ष पर जमकर हमला बोला। इस दौरान सदन में इमरजेंसी में मारे गए लोगों की याद में दो मिनट का मौन भी रखा गया। स्पीकर के प्रस्ताव के बाद विपक्ष ने सदन में काफी देर तक हंगामा और नारेबाजी की।

लेकिन, इस मुद्दे पर विपक्ष की एकजुटता नहीं दिखाई दी। सूत्रों के मुताबिक, सिर्फ कांग्रेस पार्टी ने स्पीकर के प्रस्ताव का विरोध किया। जबकि, टीएमसी और सपा सांसदों ने इस पर कांग्रेस का साथ नहीं दिया। इतना ही नहीं इमरजेंसी के दौरान मारे गए लोगों को समाजवादी पार्टी और टीएमसी के सांसदों ने श्रद्धांजलि भी दी।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के इमरजेंसी पर दिए बयान कहा, ”मुझे खुशी है कि माननीय अध्यक्ष ने आपातकाल की कड़ी निंदा की, उस दौरान की गई ज्यादतियों को उजागर किया और यह भी बताया कि किस तरह से लोकतंत्र का गला घोंटा गया। आपातकाल के समय पीड़ित सभी लोगों के सम्मान में मौन रहना भी एक अद्भुत भाव था। आपातकाल 50 साल पहले लगाया गया था। लेकिन, आज के युवाओं के लिए इसके बारे में जानना महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह इस बात का एक उपयुक्त उदाहरण है कि जब संविधान को रौंदा जाता है, जनमत को दबाया जाता है और संस्थाओं को नष्ट किया जाता है तो क्या होता है। आपातकाल के दौरान की घटनाओं ने एक तानाशाही का उदाहरण दिया।”

वहीं, आपातकाल की 50वीं बरसी पर विपक्षी दलों के हंगामे के बीच लोकसभा स्पीकर ने सदन में निंदा प्रस्ताव पारित किया। ओम बिरला ने सदन में आपातकाल लगाए जाने के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पेश करते हुए कहा कि ये सदन 1975 में देश में आपातकाल लगाने के निर्णय की कड़े शब्दों में निंदा करता है। इसके साथ ही हम, उन सभी लोगों की संकल्पशक्ति की सराहना करते हैं, जिन्होंने इमरजेंसी का पुरजोर विरोध किया, अभूतपूर्व संघर्ष किया और भारत के लोकतंत्र की रक्षा का दायित्व निभाया। भारत के इतिहास में 25 जून 1975 के उस दिन को हमेशा एक काले अध्याय के रूप में जाना जाएगा। इसी दिन तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में इमरजेंसी लगाई और बाबा साहब आंबेडकर द्वारा निर्मित संविधान पर प्रचंड प्रहार किया था।

—आईएएनएस

पीएम मोदी के लिए विपक्ष जिस तरह के शब्दों का प्रयोग कर रहा है, वह बहुत ही चिंताजनक है : अश्विनी वैष्णव

नई दिल्ली । केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर विपक्ष द्वारा प्रयोग किए जा रहे हिंसा और हत्या जैसे शब्दों की...

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू

श्रीनगर । जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के केरन इलाके में गुरुवार को सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच एक नई मुठभेड़ शुरू हुई। अधिकारियों ने बताया कि 6 राष्ट्रीय राइफल्स...

क्या हिंदुओं का बेचा गया ‘मीट’ दाल-चावल बन जाएगा : पवन खेड़ा

नई दिल्ली । उत्तर प्रदेश प्रशासन ने कावड़ यात्रा को लेकर एक नया आदेश जारी किया है। इस आदेश के मुताबिक, अब कावड़ यात्रा के रास्ते में आने वाली दुकान...

चुनाव जीतते ही राजा बन जाते हैं बीजेपी सांसद : दुर्गेश पाठक

नई दिल्ली । दिल्ली में डीडीए द्वारा की जा रही तोड़फोड़ की कार्रवाई पर आम आदमी पार्टी के विधायक दुर्गेश पाठक ने कहा है कि "चुनाव जीतने के बाद राजा...

सीबीआई के पास केजरीवाल के खिलाफ सबूत नहीं, हाई कोर्ट में बोले अभिषेक मनु सिंघवी

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका पर बुधवार को सुनवाई हुई। कोर्ट में उनकी ओर से वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु...

अजित पवार को बड़ा झटका, दो दर्जन नेता शरद पवार की पार्टी में शामिल

पुणे (महाराष्ट्र) । राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार को बड़ा झटका लगा है। पुणे में पिंपरी-चिंचवाड़ के करीब दो दर्जन पार्टी पदाधिकारी बुधवार...

नैसकॉम ने कर्नाटक सरकार से विवादास्पद आरक्षण विधेयक वापस लेने की मांग की

नई दिल्ली । देश की 250 अरब डॉलर की टेक इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठन नैसकॉम ने बुधवार को कहा कि वह कर्नाटक सरकार के एक विधेयक में उस...

फडणवीस, अजित पवार का हेलीकॉप्टर खराब मौसम में रास्ता भटका, बाल-बाल बचे

गढ़चिरौली (महाराष्ट्र) । महाराष्ट्र के दोनों उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार, तथा उद्योग मंत्री उदय सामंत बुधवार को उस समय बाल-बाल बच गये जब नागपुर से गढ़चिरौली जा रहा...

बजट सत्र से पहले सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

नई दिल्ली । 22 जुलाई से शुरू होने जा रहे संसद के आगामी बजट सत्र से एक दिन पहले 21 जुलाई को सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। केंद्रीय संसदीय...

ट्रंप ने चुन लिया अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, जानें कौन हैं जेडी वेंस

वाशिंगटन । रिपब्लिकन पार्टी से व्हाइट हाउस के लिए संभावित उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप ने जेडी वेंस को उपराष्ट्रपति पद के लिए अपना उम्मीदवार बनाया है। वेंस ओहायो से पहली बार...

हरियाणा में कांग्रेस की सरकार बनी तो मुसलमानों को आरक्षण देगी : अमित शाह

महेंद्रगढ़ । केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस ने कर्नाटक में पिछड़े वर्गों से आरक्षण छीनकर मुसलमानों को दे दिया। अगर वो हरियाणा में सत्ता...

डोडा मुठभेड़ : राजनाथ सिंह ने सेना प्रमुख से की बात, जमीनी हालात की ली जानकारी

नई दिल्ली । जम्मू-कश्मीर के डोडा में सोमवार शाम से आतंकवादियों के साथ जारी मुठभेड़ में मंगलवार को एक पुलिसकर्मी, और सेना के एक अधिकारी समेत चार जवान शहीद हो...

admin

Read Previous

नीट यूजी पेपर लीक केस में सीबीआई ने हजारीबाग के स्कूल प्रिंसिपल को कस्टडी में लिया

Read Next

सूर्यकुमार को अपदस्थ कर टी 20 के नंबर एक बल्लेबाज बने ट्रेविस हेड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com