मोदी के एक तिहाई मंत्रियों के हैं दो से ज्यादा बच्चे, जनसंख्या नियंत्रण पर कानून बना तो नहीं लड़ पाएंगे अगला चुनाव

सोमवार से संसद का मानसून सत्र शुरू हो चुका है। इसमें 6 अगस्त को राज्यसभा में बीजेपी के सांसदों की तरफ से पेश किए गए जनसंख्या नियंत्रण कानून के प्राइवेट मेंबर बिल पर चर्चा प्रस्तावित है। यूपी में हाल ही में जनसंख्या नियंत्रण कानून का मसौदा पेश किया गया है। असम में भी 2 साल पहले बने जनसंख्या नियंत्रण कानून पर अब अमल की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके बाद से देश भर में जनसंख्या नियंत्रण को लेकर केंद्रीय कानून बनाने की मांग जोर पकड़ रही है। बीजेपी के कुछ सांसदों ने लोकसभा में भी प्राइवेट मेंबर बिल पेश करने का ऐलान किया है। इन सभी में दो से ज्यादा बच्चे वालों के चुनाव लड़ने पर रोक के साथ साथ सरकारी नौकरियों नौकरी देने में पाबंदी लगाने की बात कही जा रही है। अगर यह कानून बनता है तो मोदी मंत्री परिषद के एक तिहाई मंत्री अगला चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।

एक तिहाई मंत्रियों के दो से ज़्यादा बच्चे

आपको जानकर हैरानी होगी कि हाल ही में फेरबदल और विस्तार के बाद बनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नई मंत्रिपरिषद के लगभग एक तिहाई मंत्रियों के दो से ज्यादा बच्चे हैं। एक मंत्री के तो पांच बेटे हैं। कई मंत्रियों के चार और कईयों के तीन बच्चे हैं। ज़ाहिर है कि अगर जनसंख्या नियंत्रण पर केंद्रीय क़ानून बनता है तो मोदी सरकार के एक तिहाई मंत्री अगला चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। न लोकसभा का और न ही राज्यसभा का। हालांकि सुप्रीम कोर्ट में जनसंख्या नियंत्रण पर केंद्रीय क़ानून बनाने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई के जवाब में केंद्र की तरफ़ से हलफ़नामा दाख़िल करके कहा गया है कि यह राज्य का विषय है। इस पर केंद्रीय क़ानून बनाने का सरकार का कोई इरादा नहीं है।

कितने मंत्रियों के कितने बच्चे

पीएम मोदी के मंत्री परिषद में उन्हें मिलाकर कुल 78 मंत्री हैं। इनमें से 26 के 2 से ज्यादा बच्चे हैं. लोकसभा और राज्यसभा की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक़ 30 कैबिनेट मंत्रियों में से 8 और 45 राज्य मंत्रियों मेंं से 18 के दो से ज्यादा बच्चे हैं. स्वतंत्र प्रभार वाले दोनों राज्य मंत्रियों के दो-दो बच्चे हैं. एक कैबिनेट मंत्री के चार बच्चे हैं जबकि 7 के तीन-तीन बच्चे हैं. वहीं एक राज्यमंत्री के 5 बच्चे हैं, 4 राज्यमंत्रियों के चार-चार बच्चे और 13 के तीन-तीन बच्चे हैं. वहीं 4 कैबिनेट और 6 राज्यमंत्रियों के सिर्फ एक ही बच्चा है. इनमें से तीन कैबिनेट और एक राज्य मंत्री के सिर्फ़ एक बेटी है. जबकि 3 कैबिनेट मंत्री और दो राज्य मंत्रियों के सिर्फ़ 2 बेटियां ही हैं. एक कैबिनेट और एक राज्यमंत्री के तीन-तीन बेटियां हैं. पांच मंत्रियों ने शादी नहीं की है. एक के कोई बच्चा नहीं है. जबकि एक मंत्री के बच्चों के बारे में तस्वीर साफ़ नहीं है क्योंकि उन्होंने अपनेेे प्रोफाइल मेंं बच्चों की जानकारी नहींं दी है. मोदी मंत्री परिषद के एकमात्र मुस्लिम मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी केे सिर्फ़ एक ही बेटा है.

किन मंत्रियों के हैं दो से ज्यादा बच्चे?

दो से ज्यादा बच्चे वाले कैबिनेट मंत्रियों मैं सबसे ऊपर सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री वीरेंद्र कुमार का नाम आता है। उनके चार बच्चे हैं तीन बेटे एक बेटी
– रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के तीन बच्चे हैं। दो बेटे एक बेटी।
– विदेश मंत्री एस जयशंकर के डी तीन बच्चे हैं। दो बेटे और एक बेटी
– सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के भी तीन बच्चे हैं। दो बेटे और एक बेटी।
– कानून मंत्री किरण रिजिजू के तीन बच्चे हैं। दो बेटे और एक बेटियां।
– कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के बी तीन बच्चे हैं एक बेटा और दो बेटियां।
– जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के भी तीन बच्चे हैं। एक बेटा और दो बेटी।
– अनुसूचित जनजातीय मामलों के मंत्री अर्जुन मुंडा के तीन बच्चे हैं। तीनों बेटियां हैं।

चार-पांच बच्चों वाले राज्य मंत्री

मोदी की मंत्री परिषद में एक मंत्री के 5 और 6 के चार-चार बच्चे हैं। आइए मंत्रियों और उनके बच्चों पर नज़र डालते हैं:
– लघु और मध्यम उद्योग मंत्री भानु प्रताप सिंह वर्मा के 5 बेटे हैं।
– स्टील राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते के 4 बच्चे हैं। एक बेटा और तीन बेटियां।
– संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन मेघवाल के भी 4 बच्चे हैं। दो बेटे और दो बेटियां।
– रेल राज्य मंत्री डीएस डडराव के 4 बच्चे हैं। एक बेटा और तीन बेटियां।
– रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट के चार बच्चे हैं। एक बेटा और तीन बेटियां।
– अनुसूचित जनजाति मामलों की राज्यमंत्री रेणुका सिंह सरुता के चार बच्चे हैं। दो बेटे और दो बेटियां।
– शहरी विकास राज्यमंत्री कौशल किशोर के चार बच्चे हैं. चारों बेटे हैं।

तीन-तीन बच्चों वाले 11 राज्य मंत्री

– शिपिंग राज्यमंत्री श्रीपद येसो नायक और वित्त राज्य मंत्री भगवंत किशन राव कराड के तीन बच्चे हैं. तीनों बेटे हैं।
– सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्यमंत्री ए. नारायणसामी के तीन बच्चे हैं तीनों बेटियां हैं।
– जल शक्ति राज्यमंत्री प्रहलाद, पटेल पूर्वोत्तर राज्यों के विकास मंत्री बीएल वर्मा, न्यू एंड रिन्यूएबल एनर्जी मंत्री भगवंत खुबा, अनुसूचित जनजाति राज्यमंत्री बिश्वेश्वर टुडो और फिशरी मंत्री एल मुरुगन के 3 बच्चों में दो बेटियां और एक बेटा है।
– शिक्षा राज्य मंत्री अन्नपूर्णा देवी और गृह राज्य मंत्री अजय सिंह के तीन बच्चों में दो बेटे और एक बेटी है।

पुरानी मंत्री परिषद का हाल

2019 में दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने पर मोदी ने 56 मंत्रियों के साथ शपथ ली थी। तब उनकी मंत्रिपरिषद के 57 में से 19 यानी पूरे एक तिहाई मंत्रियों के 2 से ज्यादा बच्चे थे। इनमें से कुछ का देहांत हो चुका है और कुछ मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दे चुके है। दिवंगत हो चुके पूर्व खाद्य मंत्री रामविलास पासवान के चार बच्चे हैं। एक बेटा और तीन बेटियां। मंत्रीपरिषद के फेरबदल में हटाए गए पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के भी तीन बच्चे हैं। दो बेटे और एक बेटी। वहीं पूर्व शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के तीन बेटियां हैं। मोदी सरकार में खाद्य प्रसंस्करण मंत्री रहीं अकाली दल की हरसिमरत कौर के भी तीन बच्चे हैं।

इस विशेषण से साफ़ हो जाता है कि अगर मोदी सरकार दो बच्चों का क़ानून लाती है तो उसके एक तिहाई मंत्री अगला चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। संघ परिवार मोदी सरकार पर पिछले कई साल से जनसंख्याया नियंत्रण के लिए क़ानून बनाने का दबाव डाल रहा है। इसके लिए कई सांसदोंं से इसके लिए कई सांसदों से लोकसभा और राज्यसभा मेंं प्राइवेट मेंबर बिल भी पेश कराए गए हैंं। कई लोगोंं से सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका भी दाख़िल दाखिल कराई गई है। सरकार सुप्रीम कोर्ट केंद्रीय कानून लाने से साफ इनकार कर चुकी है। लिहाजा फिलहाल इसकी दूर-दूर तक कोई संभावना नहींं दिखती। फिर भी अगर संसद और संसद के बाहर जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के नाम पर ध्रुवीकरण का माहौल बनाया जा रहा है। इस पर यही कहा जा सकता है कि ‘दिल को ख़ुश रखने को ग़ालिब ये ख्याल अच्छा है।’

हिमालयन याक को एफएसएसएआई से मिला खाद्य पशु टैग

ईटानगर:केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) से हिमालयन याक को खाद्य पशु टैग मिला है। शीर्ष अधिकारियों ने शनिवार...

पांच साल में दस गुना बढ़ गयी वाराणसी में पर्यटकों की संख्या

वाराणसी:प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पिछले पांच सालों में पर्यटकों की संख्या तकरीबन दस गुना बढ़ गई है। पर्यटन विभाग की ओर से जनवरी 2017 से लेकर जुलाई...

मुकदमेबाजी प्रक्रिया को सरल बनाना, नागरिक केंद्रित बनाना महत्वपूर्ण: सीजेआई

नई दिल्ली: भारत के प्रधान न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ ने शनिवार को कहा कि मुकदमेबाजी प्रक्रिया को सरल बनाना और इसे 'नागरिक केंद्रित' बनाना महत्वपूर्ण है, न्यायाधीशों को न्याय, समानता और...

राजस्थान की एक सरपंच लड़कियों के कल्याण के लिए अपनी सैलरी दान करती है

जयपुर: राजस्थान की एक महिला सरपंच अपनी निजी सुख-सुविधाओं को दरकिनार कर लड़कियों को पढ़ाई और खेल में उत्कृष्टता हासिल करने में मदद कर उन्हें सशक्त बनाने के मिशन पर...

100 किसानों को दिया जाएगा इजराइल में प्रशिक्षण

चेन्नई : तमिलनाडु के किसान जल्द ही आधुनिक कृषि तकनीक हासिल करेंगे। राज्य सरकार 100 किसानों को प्रशिक्षण के लिए इजराइल भेजेगी। तमिलनाडु के कृषि मंत्री एम.आर.के. पन्नीरसेल्वम ने कहा...

अब बगैर फ्रिज के आठ दिनों तक ताजा रखी जा सकेंगी फल-सब्जियां

रांची: अब फलों और सब्जियों को फ्रिज में रखे बगैर आठ दिनों तक ताजा रखा जा सकेगा। रांची स्थित राष्ट्रीय कृषि द्वितीयक संस्थान ने यह तकनीक विकसित की है। इस...

एलजी के दखल के बाद जामा मस्जिद के इमाम महिलाओं के प्रवेश पर रोक के आदेश को रद्द करने पर सहमत

नई दिल्ली: दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद का प्रशासन मस्जिद में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने वाले विवादास्पद आदेश को रद्द करने पर सहमत हो गया है। राज निवास...

बुद्ध के महाप्रसाद काला नमक चावल की खुशबू से महक रहा यूपी का राजभवन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राजभवन में करीब आधा एकड़ रकबे में रोपी गई काला नमक धान की फसल पककर तैयार है। बुद्ध के महाप्रसाद के नाम से विख्यात काला नमक...

जब दिया रंज बुतों ने तो ख़ुदा याद आया

बिहार की सत्ता में शामिल राजद के लिए सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। गोपलगंज उपचुनाव में मिली हार से वह उबर नहीं पा रहा है। राजद के वोट...

सवालों से भागता बीसीसीआई

टी-20 विश्व कप अब इतिहास हो गया है। खिलाड़ियों ने भी कई इतिहास बनाए, इसे इस तरह से भी कह सकते हैं कि कई इतिहास बने, कई टूटे। लेकिन सच...

यूपी के मेडिकल कॉलेज में छात्रों को ‘हिंग्लिश’ में दी जाएगी शिक्षा

मेरठ: उत्तर प्रदेश के मेरठ में लाला लाजपत राय मेमोरियल (एलएलआरएम) मेडिकल कॉलेज के फैकल्टी सदस्यों ने हिंदी और अंग्रेजी के मिश्रण 'हिंग्लिश' में एमबीबीएस छात्रों के नए बैच की...

मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा सबसे ज्यादा सफल रहेगी - कमलनाथ बुरहानपुर। मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के स्वागत की तैयारियां पूरी कर ली गई है। यात्रा को...

editors

Read Previous

निवेश के लिए तमिलनाडु को पहला गंतव्य बनाना चाहता हूं: स्टालिन

Read Next

भारत में 24 घंटे में कोरोना से 3,998 लोगों की मौत, आंकड़ो में दस गुना इजाफा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com