हरियाणा में औसतन रोजाना 100 जगह पराली जलती है, किसानों ने सरकार को दोषी ठहराया

चंडीगढ़ : हरियाणा में किसानों ने धान की कटाई शुरू होते ही अपने खेतों में आग लगानी शुरू कर दी है। राज्यभर में प्रतिदिन औसतन 100 आग के मामले सामने आते हैं और आने वाले दिनों में यह संख्या कई गुना बढ़ जाएगी, जिसमें कैथल, करनाल और कुरुक्षेत्र हॉटस्पॉट जिले होंगे।

किसान सरकार पर आरोप लगा रहे हैं। वे कहते हैं कि इसके द्वारा प्रदान की गई मशीनें महंगी हैं और दिल्ली और आसपास के शहरों में वायु प्रदूषण का एक प्रमुख कारण पराली के स्वस्थानी प्रबंधन के लिए आसानी से उपलब्ध नहीं हैं।

खेत में लगी आग का असर दिल्ली की वायु गुणवत्ता पर दिखाई दे रहा है। दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र का एक्यूआई खराब होता जा रहा है और दिवाली के बाद और खराब होगा।

किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए सरकार प्रोत्साहन दे रही है और दंडात्मक कदम उठा रही है। यह 500 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से गांठों के परिवहन शुल्क के साथ-साथ पराली को संतुलित करने के लिए 1,000 रुपये प्रति एकड़ का प्रोत्साहन प्रदान करता है।

हरियाणा में जहां पराली जलाने की घटनाएं पंजाब की तुलना में काफी कम हैं, लगभग 4,800 गांवों में धान उगाया जाता है। ये गांव ज्यादातर करनाल, कुरुक्षेत्र, फतेहाबाद, कैथल, जींद और सिरसा जिलों में आते हैं।

सीटू प्रबंधन के तहत, 23 लाख मीट्रिक टन (एमटी) फसल अवशेष का उपयोग विभिन्न मशीनों और डीकंपोजर के माध्यम से किया जा रहा है, और 13 मीट्रिक टन एक्स-सीटू प्रबंधन के तहत उपयोग किया जा रहा है।

मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर धान की पराली खरीदने की योजना बना रही है।

कृषि विभाग के एक प्रवक्ता ने आईएएनएस को बताया कि पराली जलाने के दुष्परिणामों से किसानों को लगातार अवगत कराया जा रहा है।

हरियाणा में फिलहाल 34 लाख एकड़ में धान बोया जाता है। इसमें से 57 प्रतिशत क्षेत्र बासमती के अधीन है जो गैर-बासमती प्रकार की तुलना में दो सप्ताह बाद पकता है।

पिछले एक सप्ताह में खेतों में आग लगने की घटनाओं में अचानक वृद्धि हुई है और यह बढ़ती रहेगी, क्योंकि राज्य में 20 अक्टूबर तक पराली जलाने की 664 घटनाएं हुई हैं। हालांकि, घटनाएं पिछले साल इस दिन तक दर्ज की गई 1,237 की तुलना में बहुत कम थीं।

हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों के अनुसार, राज्य ने 2021 के खरीफ कटाई के मौसम में 2020 में 9,898 के मुकाबले खेत में आग लगने की 6,987 घटनाएं दर्ज कीं, जो एक वर्ष में 30 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई।

हालांकि राज्य के किसान पराली प्रबंधन की राह दिखा रहे हैं।

मुट्ठीभर किसान पहल करते हुए कटाई के पारंपरिक मैनुअल तरीकों का चयन कर रहे हैं जो उन्हें फसल अवशेषों को जलाने से पर्यावरण की रक्षा करने में सक्षम बना रहे हैं।

इससे किसानों को अतिरिक्त आमदनी भी हो रही है।

करनाल जिले के कई गांवों के किसान गेहूं और धान की पराली नहीं जला रहे हैं। वे इसे मैन्युअल रूप से काट रहे हैं और इसे अन्य किसानों को चारे के रूप में उपयोग करने के लिए बेच रहे हैं।

इस तरह कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि धान की पराली बेचकर हर किसान 5,000 रुपये प्रति एकड़ कमा रहा है।

मैनुअल कटाई सूखे चारे की मांग को पूरा करने में मदद कर रही है।

2020 से राज्य सरकार की योजना ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ जलती हुई समस्या को कम करने में मदद कर रही है। इस योजना के तहत, किसानों को 7,000 रुपये प्रति एकड़ प्रदान किया जाता है, यदि वे धान उगाने के लिए उपयोग की जाने वाली 50 प्रतिशत से अधिक भूमि में विविधता लाते हैं।

इस योजना का उद्देश्य पानी की बचत करना है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि चावल से फसल विविधीकरण से पराली की समस्या में मदद मिलेगी।

कुरुक्षेत्र के उत्पादक नरेश कैंथ ने आईएएनएस को बताया कि सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई मशीनें पराली के प्रबंधन के लिए आसानी से उपलब्ध नहीं हैं।

उन्होंने कहा, “किसान पराली जलाने के दुष्प्रभावों के बारे में जानते हैं। उन्हें नियम उल्लंघन पर कार्रवाई का भी डर है। समस्या का समाधान सरकार के पास अवशेषों के प्रबंधन के लिए मशीनों को किराए पर लेने या खरीदने के लिए छोटे और सीमांत किसानों को प्रोत्साहित करना है।”

सरकार के अनुसार, पिछले चार वर्षो में कस्टम हायरिंग सेंटरों के माध्यम से और व्यक्तिगत रूप से स्टबल प्रबंधन के लिए कुल 72,777 मशीनें किसानों को प्रदान की गई हैं।

इस वर्ष 7,146 मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं और इनमें बेलिंग यूनिट, सुपर सीडर और जीरो टिल सीड-कम-फर्टिलाइजर ड्रिल शामिल हैं।

–आईएएनएस

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

भारतीय मूल के ब्रिटिश पुलिस अधिकारी ने की प्रवासियों पर गृह सचिव के विचार की आलोचना

लंदन : भारतीय मूल के एक वरिष्ठ ब्रिटिश पुलिस अधिकारी नील बसु ने प्रवासियों पर गृह सचिव सुएला ब्रेवरमैन की टिप्पणियों की आलोचना करते हुए कहा कि यह अविश्वसनीय और...

admin

Read Previous

यूपी: कार और ट्रक के बीच जोरदार टक्कर, परिवार के पांच लोगों की मौत

Read Next

श्रुति हासन ने ग्रीस में मनाई दीपावली, ‘द आई’ टीम को दिया धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com