तमिलनाडु की राजनीति में ‘समावेशिता’ का अंत?

चेन्नई, 25 जुलाई (आईएएनएस)| सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक निदेशालय (डीवीएसी) ने 22 जुलाई को जब अन्नाद्रमुक नेता और तमिलनाडु के पूर्व परिवहन मंत्री एमआर विजयभास्कर के आवास सहित 21 परिसरों पर छापेमारी की, तो इसने एक स्पष्ट संदेश दिया – प्रतिशोध की राजनीति, जो राज्य की द्रविड़ राजनीति में एक सामान्य घटना है, वो एक धमाके के साथ वापस आ गई है।

अन्नाद्रमुक नेताओं और पूर्व मुख्यमंत्रियों ओ. पन्नीरसेल्वम और के. पलानीस्वामी ने कहा कि विजयभास्कर पर छापेमारी प्रतिशोध की कार्रवाई है और पार्टी उन्हें अदालत में चुनौती देगी। दोनों नेताओं ने कहा कि एआईएडीएमके छापेमारी से नहीं डरेगी।

जब एम.के. स्टालिन ने 7 मई को मुख्यमंत्री के रूप में पदभार ग्रहण किया, तो स्टालिन ने कहा कि उनकी सरकार समावेश की राजनीति करेगी। कोविड -19 से लड़ने के लिए उनके द्वारा गठित 13 सदस्यीय समिति में, मुख्यमंत्री ने तमिलनाडु के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अन्नाद्रमुक के सी. विजयभास्कर को शामिल किया था।

राजनीतिक विश्लेषकों और पर्यवेक्षकों ने इसे द्रविड़ राजनीति में एक अच्छे संकेत के रूप में देखा था।

गुरुवार को विजयभास्कर के घर पर किए गए विजिलेंस छापे ने डीएमके के लंबे दावों पर प्रश्नचिह्न् खड़ा कर दिया कि वह समावेश की राजनीति कर रही है।

25 मार्च, 1989 को, तमिलनाडु विधानसभा के तत्कालीन विपक्षी नेता और अन्नाद्रमुक नेता जे. जयललिता पर सदन में हमला किया गया था। नाराज जयललिता विधानसभा से बाहर आ गईं थीं और उन्होंने शपथ ली कि वह मुख्यमंत्री के रूप में सदन में वापसी करेंगी।

बारह साल बाद बदला लेने की बारी जयललिता की थी। 30 जून, 2001 की तड़के, तमिलनाडु पुलिस करुणानिधि के घर में घुस गई, वह अब मुख्यमंत्री नहीं थे, और उन्हें गिरफ्तार कर लिया। विभिन्न टेलीविजन चैनलों के ²श्यों में तत्कालीन 78 वर्षीय नेता को थाने ले जाने से पहले धक्का-मुक्की, पिटाई करते दिखाया गया। गिरफ्तारी का विरोध करने की कोशिश करने वाले केंद्रीय मंत्री मुरासोली मारन को भी गिरफ्तार कर लिया गया। एक अन्य केंद्रीय मंत्री टी.आर. बालू और स्टालिन सहित द्रमुक के सैकड़ों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया। यह प्रतिशोध की राजनीति की पराकाष्ठा थी।

राजनीतिक टिप्पणीकार एस शिवशंकरन ने कहा, “जो लोग तमिलनाडु की राजनीति का बारीकी से अनुसरण कर रहे थे, वे इस बात से खुश थे कि स्टालिन ने समावेशी राजनीति के एक अच्छे नोट पर शुरूआत की थी। पूर्व अन्नाद्रमुक सरकार में मंत्री रह चुके सी. विजयभास्कर को कोविड से निपटने के लिए 13 सदस्यीय समिति में शामिल करने को कई लोगों ने अच्छी शुरूआत के रूप में देखा था।

उन्होंने कहा, “हालांकि, एम.आर. विजयभास्कर पर डीवीएसी के छापे स्पष्ट रूप से उन अच्छे कामों को खत्म कर देते हैं जो मुख्यमंत्री ने सत्ता में आने के बाद किए थे। अब यह स्पष्ट है कि आने वाले दिनों में जुझारूपन की राजनीति देखने को मिलेगी।”

भोपाल गैस त्रासदी : जिन डॉक्टर ने सबकुछ देखा, उनसे जानिए उस भयानक रात की कहानी

भोपाल: एच.एच. त्रिवेदी, जो अब अपने 80 के दशक में हैं और अभी भी भोपाल की अरेरा कॉलोनी में एक क्लिनिक चलाते हैं, 2-3 दिसंबर, 1984 की भयावह रात को...

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

editors

Read Previous

ऑनलाइन क्लास से ऊब कर भागे हुए बच्चों को घर वापस लाया गया

Read Next

करियर में किसी बात का पछतावा नहीं:श्वेता तिवारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com