क्या राजस्थान में कोई बड़ा बदलाव होने जा रहा है?

दस जनपथ की विशेषदूत बनकर आई कुमारी शैलजा की गोपनीय जयपुर यात्रा से अनायास नए क़यासों का बाज़ार गर्म

नई दिल्ली में कांग्रेस के शक्ति पुंज दस जनपथ की विशेषदूत बनकर जयपुर आई पूर्व केन्द्रीय मंत्री कुमारी शैलजा की गोपनीय यात्रा से प्रदेश की राजनीति में अनायास नए क़यासों का बाज़ार गर्म हो गया है।राजनैतिक गलियारों में यह अनुमान लगाया जा रहा है कि राजस्थान की राजनीति में बहुत कुछ घटने वाला हैं तथा कांग्रेस आलाकमान गहलोत-पायलट के मसले को जल्द से जल्द सुलझाने के मूड में है।

कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्षा सोनिया गांधी की विशेषदूत बनकर जयपुरआई हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष कुमारी शैलजा की अचानक हुई इस गोपनीय यात्रा ने राजनैतिक हलकों में नई हलचल पैदा कर दी हैं। इसके कई तरह के कयास व मायने लगाए जा रहे हैं। कुमारी शैलजा की इस यात्रा को निजी बताया जा रहा है,लेकिन राजनीतिक पंडितों का मानना है कि कुमारी शैलजा की यह यात्रा पूर्णत: राजनैतिक यात्रा थी।

जानकारों की माने तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच चल रहा मसला वेणुगोपाल तथा माकन की यात्राओं के बाद भी पूरी तरह सुलझा नहीं,इसीलिए कुमारी शैलजा को भेजा गया हैं। कुमारी शैलजा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए सोनिया गांधी का विशेष संदेश लेकर ही आई थी। तभी कुमारी शैलजा रविवार की रात्रि मेंं अचानक जयपुर पहुंची और मुख्यमंत्री गहलोत से मंत्रणा करने के बाद सुबह की फ्लाइट से वापस दिल्ली लौट गई।

उनकी यात्रा को इतना अधिक गोपनीय रखने की कौशिस की गई कि सांगानेर एयरपोर्ट से मुख्यमंत्री निवास तक जाने के लिए दिल्ली से निजी गाड़ी आई थी। बताते है कि शैलजा की यह कार सोमवार सुबह एयरपोर्ट पर शैलजा को ड्रॉप करने के बाद जयपुर से वापस दिल्ली गई हैं।

पूर्व केन्द्रीय मंत्री कुमारी शैलजा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए सोनिया गांधी का क्या संदेश लेकर आई थी ? इसकी जानकारी नहीं पाई है लेकिन उनकी यात्रा को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा हैं।
कुमारी शैलजा दस जनपथ के अति निकट और गांधी परिवार की सदस्य मानी जाती हैं। वे 26 साल तक सांसद और 15 वर्षों तक केन्द्र में मंत्री भी रही है ।ऐसे में माना जा रहा है कि उनके द्वारा मुख्यमंत्री गहलोत को दिया गया संदेश राजस्थान की राजनीतिक हालातों को नया मोड़ देने वाला हो सकता है।

कांग्रेस के उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार आलाकमान को ये चिंता सता रही हैं कि राजस्थान में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। आलाकमान इन दिनों अपना ध्यान सबसे अधिक उन राज्यों पर केन्द्रित कर रखा हैं जहां उसकी सरकार हैं अथवा मुकाबले की स्थिति में हैँ। इनमें राजस्थान सबसे महत्वपूर्ण हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सार्वजनिक रूप से भले ही राजस्थान में 2023 में वापसी की बात करें,लेकिन आलाकमान इस बात से भली भाँति वाफिक है कि वर्तमान में जो माहौल बना हुआ है उसे देखते हुए कांग्रेस सरकार का प्रदेश में पुनः सत्ता में लौटना बहुत मुश्किल हैं। लिहाजा कांग्रेस आलाकमान इस सोच से आगे बढ़ रही है कि प्रदेश में वापसी ना ही सही,लेकिन इसका खामियाजा पार्टी को आगामी लोकसभा चुनाव में ना भुगतना पड़े। पिछले दो लोकसभा चुनावों पर नजर डालें तो राजस्थान सहित कांग्रेस के प्रभाव वाले प्रदेशों में निराशा ही हाथ लगी। राजस्थान में 2014 व 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिल पाई थी।
आलाकमान की सोच मुख्य रूप से दिल्ली को मजबूत करने की रणनीति हैं । वह चाहती है कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को इस बार राजस्थान में भाजपा में चल रहें अंतर्कलह के मद्देनजर कम से कम 10 से 15 सीटों पर जीते मिलें ,ताकि लोकसभा सीटें बढऩे पर कांग्रेस संसद में अधिक मजबूत हो सके।

गहलोत-पायलट के मसले को जल्द सुलझाने के मूड में आलाकमान

उक्त व्यूह रचना को ध्यान में रखते हुए आलाकमान पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट गुट को राजस्थान की सत्ता और संगठन में भागीदारी देना चाहती हैं। राजस्थान में विधानसभा की 200 सीटों में से करीब 50 से 60 सीटों पर गुर्जर वोट हार-जीत में निर्णायक हैं और पायलट गुर्जर वोट बैंक में लोकप्रिय और सबसे ताकतवर नेता हैं। पार्टी को लोकसभा में भी इसका लाभ मिलेगा इसीलिए आलाकमान पायलट के मामले को ज्यादा लटकाना नहीं चाहती। ज्योतिराज सिन्धिया व जितिन प्रसाद के पार्टी छोड़ कर जाने का दंश झेल चुकी पार्टी अब और अधिक रिस्क नहीं लेना चाहती है । कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी कुमारी शैलजा की राजस्थान यात्रा को इसी संदेश से जोड़कर देखा जा रहा हैं,क्योंकि पाँच अगस्त से सोनिया गांधी का विदेश दौरा भी प्रस्तावित हैं।पार्टी इससे पहलें ही कोई निर्णय लेना चाहती है अन्यथा सोनिया के विदेश से लोटने तक और स्वाधीनता दिवस के भी होने से यह मामला कुछ और समय तक अधर में लटक सकता है।

38 साल के इंतजार के बाद मिला सांस की बीमारी का पहला अस्पताल

भोपाल: भोपाल गैस त्रासदी के 38 साल बाद मरीजों को सांस दी बीमारी का पहला अस्पताल मिला है। कुछ माह पहले शहर के ईदगाह हिल्स में रीजनल इंस्टीट्यूट फॉर रेस्पिरेटरी...

बेहतर रोजगार योग्यता के माध्यम से विकलांगता समावेशन एक प्रमुख आवश्यकता

नई दिल्ली: जैसा कि दुनिया 3 दिसंबर को विकलांग व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाती है, 'विकलांगता समावेशन' का विषय प्रमुख मुद्दों में से एक है। यह सुनिश्चित करने के लिए...

सड़क पर लावारिस मिले 3 वर्षीय अर्जित को मिले अमरिकी माता-पिता, लिया गोद

पटना:कहा जाता है कि व्यक्ति की किस्मत में जो लिखा होता है, वह उसे देर सबेर जरूर मिल जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला बिहार की राजधानी पटना...

भारत जोड़ो यात्रा में बढ़ते हुजूम से कांग्रेसी उत्साहित

भोपाल :भारत जोड़ो यात्रा का काफिला धीरे-धीरे मध्य प्रदेश से बढ़ते हुए राजस्थान की तरफ जा रहा है। इस यात्रा में शुरूआती तौर पर मिली निराशा के बाद इंदौर से...

भोपाल गैस त्रासदी: वारेन एंडरसन कैसे देश छोड़कर भागा, राजीव गांधी पर लगे थे मदद के आरोप

नई दिल्ली:मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में 2-3 दिसंबर 1984 यानी आज से 38 साल पहले एक दर्दनाक हादसा हुआ था। इतिहास में जिसे भोपाल गैस त्रासदी का नाम दिया गया।...

जेएनयू में ब्राह्मणों के खिलाफ लिखी गई अभद्र टिप्पणी मामले की होगी जांच : वीसी

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) की कुलपति प्रोफेसर शांतीश्री डी. पंडित ने जेएनयू में अज्ञात तत्वों द्वारा दीवारों और संकाय कक्षों को विकृत करने की घटना को गंभीरता...

सुअर और बंदर के बाद, न्यूरालिंक मानव परीक्षण से 6 महीने दूर: मस्क

सैन फ्रांसिस्को: एलन मस्क ने गुरुवार को कहा कि उनका ब्रेन-कंप्यूटर न्यूरालिंक की डिवाइस मानव परीक्षण के लिए तैयार है और वह अब से लगभग छह महीने में ऐसा करने...

तेलंगाना में दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों को सरकारी नौकरी मिली

हैदराबाद:दो ट्रांसजेंडर डॉक्टरों ने सरकार द्वारा संचालित उस्मानिया जनरल अस्पताल में चिकित्सा अधिकारी के रूप में नौकरी पाकर तेलंगाना में इतिहास रच दिया है। प्राची राठौड़ और रूथ जॉन पॉल...

झारखंड में हर रोज मिल रहे हैं तीन एचआईवी संक्रमित, दस महीने में 1042 मरीजों की पहचान रांची, )| झारखंड में एचआईवी संक्रमितों की संख्या हर रोज बढ़ रही है।...

किसानों को 25,186 करोड़ के प्रीमियम के मुकाबले अब तक 1,25,662 करोड़ रुपये मिले : मंत्रालय

नई दिल्ली: कृषि मंत्रालय ने गुरुवार को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) को दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी फसल बीमा योजना करार दिया और बताया कि योजना के तहत किसानों...

मुस्लिम कॉलेज विवाद: भाजपा ने लिया यू-टर्न, कहा कि मामले पर चर्चा ही नहीं हुई

बेंगलुरू : कर्नाटक में सत्तारूढ़ भाजपा ने मुस्लिम लड़कियों के लिए 10 नए कॉलेज बनाने के फैसले के बाद गुरुवार को यू-टर्न ले लिया। इस बारे में पूछे जाने पर...

भारतीय मूल के ब्रिटिश पुलिस अधिकारी ने की प्रवासियों पर गृह सचिव के विचार की आलोचना

लंदन : भारतीय मूल के एक वरिष्ठ ब्रिटिश पुलिस अधिकारी नील बसु ने प्रवासियों पर गृह सचिव सुएला ब्रेवरमैन की टिप्पणियों की आलोचना करते हुए कहा कि यह अविश्वसनीय और...

editors

Read Previous

नीतीश के मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा, ‘बिहार में काम करना आसान नहीं, चार विचारधाराओं की एक साथ लड़ाई’

Read Next

कहानी में ट्विस्ट: ‘बंधक’ ने कहा, उसने अपहरणकर्ता से शादी कर ली

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com