अगस्त में भारत में कोविड की तीसरी लहर आने की संभावना, सितंबर में चरम पर: रिपोर्ट

नई दिल्ली, | भारत में अगस्त के मध्य तक खतरनाक कोरोना वायरस की तीसरी लहर आने की संभावना है, जबकि मामले सितंबर में चरम पर पहुंच सकते हैं। ये आशंका सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में जाहिर की गई है। हालांकि भारत देश में दूसरी लहर अभी खत्म भी नहीं हुई है।

एसबीआई रिसर्च द्वारा प्रकाशित ‘कोविड -19: द रेस टू फिनिशिंग लाइन’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि टीकाकरण ही एकमात्र बचावकर्ता है क्योंकि वैश्विक डेटा से पता चलता है कि औसतन, तीसरी लहर के मामले दूसरी लहर के समय चरम मामलों के लगभग 1.7 गुना हैं।

भारत में केवल 4.6 प्रतिशत आबादी को पूरी तरह से टीका लगाया गया है, जबकि 20.8 प्रतिशत को एक खुराक मिली है, जो अमेरिका (47.1 प्रतिशत), यूके (48.7 प्रतिशत), इजराइल (59.8 प्रतिशत) स्पेन (38.5 प्रतिशत), फ्रांस (31.2) में अन्य देशों की तुलना में बहुत कम है।

रिपोर्ट के अनुसार स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्रुप चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर सौम्य कांति घोष ने कहा, “भारत ने 7 मई को अपना दूसरा वेव पीक हासिल कर लिया है और मौजूदा आंकड़ों के अनुसार, देश जुलाई के दूसरे सप्ताह में लगभग 10,000 मामलों का अनुभव कर सकता है।”

उन्होंने कहा “हालांकि, ऐतिहासिक रुझानों के आधार पर, कम से कम एक महीने बाद चरम मामलों के साथ 21 अगस्त के दूसरे पखवाड़े तक मामले बढ़ना शुरू हो सकते हैं।”

वर्तमान मामले अब पिछले सप्ताह से 45,000 के आसपास मंडरा रहे हैं, जो यह दर्शाता है कि विनाशकारी दूसरी लहर “अभी तक देश में खत्म नहीं हुई है ।”

घोष ने कहा, “पहली लहर में भी, मामलों में धीरे-धीरे गिरावट आई, दैनिक मामलों में किसी भी सार्थक गिरावट से पहले 21 दिनों के लिए लगभग 45,000 मामले सामने आए।”

इसके अलावा, 12 राज्यों से अब तक डेल्टा प्लस संस्करण के 51 मामलों का पता चला है। शीर्ष 15 जिलों में नए मामले, जो ज्यादातर शहरी हैं, जून में केस फिर से बढ़े। लेकिन अच्छी बात यह है कि तीन महीने से इनकी मृत्यु दर स्थिर है।

दूसरी ओर, नए मामलों में ग्रामीण जिलों की हिस्सेदारी जुलाई 2020 से सार्थक रूप से घटने से इनकार कर रही है, जब यह 45 प्रतिशत से अधिक हो गई थी और तब से इसमें उतार-चढ़ाव आया है।

घोष ने कहा, ‘टीकाकरण ही एकमात्र जवाब लगता है।’

भारत ने प्रतिदिन 40 लाख से ज्यादा टीकाकरण खुराक देना शुरू कर दिया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राजस्थान, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, केरल और उत्तराखंड जैसे राज्यों ने 60 साल से ऊपर की आबादी के बड़े प्रतिशत को पहले ही दोनों टीके दिए हैं, लेकिन ग्रामीण इलाकों में कुल टीकाकरण कम है।

तमिलनाडु, पंजाब, उत्तर प्रदेश, असम, बिहार और झारखंड में 45 वर्ष से अधिक आयु वालों के कम अनुपात में टीका लगाया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इन राज्यों को टीकाकरण में रफ्तार पकड़ने की जरूरत है।

अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, जापान, पोलैंड, पुर्तगाल, रूस और स्विटजरलैंड में डेल्टा स्ट्रेन का पता चला है, जिसने अप्रैल और मई में दूसरी बार भारत में काफी तबाही मचाई थी। यह यूके में प्रमुख रूप है और अब 95 प्रतिशत मामलों को अनुक्रमित किया जा रहा है।

यूके और इजरायल जैसे यथोचित टीकाकरण वाले देशों का उदाहरण देते हुए, घोष ने कहा, ‘कोई भी टीका लेने के बाद भी आत्मसंतुष्ट नहीं हो सकता है’। अन्य उपाय जैसे मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड-उपयुक्त होना जरूरी है।

–आईएएनएस

बेलफास्ट में भारतीय सहित जातीय अल्पसंख्यकों को नस्लवाद का सामना करना पड़ता है : अध्ययन

लंदन : ब्रिटेन के बेलफास्ट क्षेत्र में जातीय अल्पसंख्यक, जिनमें भारतीय भी शामिल हैं, नस्लवाद, अलगाव और गरीबी की चुनौतियों का सामना करते हैं, जिससे राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक जीवन...

जयराम रमेश: कांग्रेस में वापसी का कोई सवाल नहीं, 24 कैरेट गद्दार है सिंधिया

आगर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने सिंधिया को लेकर एक बार फिर बयान दिया है। इस बार उन्होंने सिंधिया को 24 कैरेट गद्दार करार दिया। साथ ही ये...

38 साल बाद भी गैस त्रासदी के पीड़ित न्याय के लिए कर रहे संघर्ष

भोपाल : दुनिया की सबसे बड़ी और घातक रासायनिक आपदा भोपाल गैस त्रासदी 38 साल पहले 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरम्यानी रात को हुई थी। इसका दुष्परिणाम...

सुप्रीम कोर्ट : राज्य अपनी धारणा के आधार पर जल्लीकट्टू की अनुमति दे सकता है?

नई दिल्ली: सांडों को वश में करने वाले खेल 'जल्लीकट्टू' की अनुमति देने वाले राज्य के कानून के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को...

विजया लक्ष्मी पंडित से रुचिरा कम्बोज तक: यूएन के प्रमुख पदों को भारतीय महिलाओं ने किया है सुशोभित

संयुक्त राष्ट्र : रुचिरा कंबोज गुरुवार को जब सुरक्षा परिषद की कमान संभालेंगी, तो 69 साल पहले संयुक्त राष्ट्र महसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनने वाली विजया लक्ष्मी पंडित की...

बिलकिस बानो ने सुप्रीम कोर्ट में कहा, ‘दोषियों की समयपूर्व रिहाई से समाज की अंतरात्मा हिल गई’ 

नई दिल्ली:बिलकिस बानो ने 2002 के गुजरात दंगों के दौरान सामूहिक दुष्कर्म के दोषी 11 लोगों की रिहाई के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, जो कई हत्याओं के...

गहलोत और पायलट खेमे को कांग्रेस की चेतावनी

जयपुर : कांग्रेस आलाकमान ने दिसंबर के पहले सप्ताह में राजस्थान में प्रवेश करने वाली राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा के मद्देनजर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन...

हिंदू महापंचायत के मंच पर एक महिला ने व्यक्ति को चप्पल से पीटा

नई दिल्ली:दिल्ली के छतरपुर में मंगलवार को 'जस्टिस फॉर श्रद्धा' पर हिंदू महापंचायत के दौरान मंच पर एक महिला ने एक व्यक्ति को चप्पल से पीटा। हिंदू एकता मंच द्वारा...

सवाल पूछने पर आरटीआई कार्यकर्ता की पीट-पीटकर हत्या

अलीगढ़ : उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में ग्राम प्रधान और उनके बेटे समेत आठ लोगों ने क्षेत्र में चल रही सार्वजनिक परियोजनाओं की गुणवत्ता पर सवाल उठाने के आरोप...

10 प्रमुख ट्रेड यूनियनों ने सीतारमण के साथ बजट पूर्व बैठक का किया बहिष्कार

नई दिल्ली : एआईटीयूसी, आईएनटीयूसी, एसआईटीय, एचएमएस, एलपीएफ, एसईडब्ल्यूए और एआईयूटीयूसी समेत देश की दस बड़ी ट्रेड यूनियनों ने सोमवार को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बजट को...

पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं, जो एक-दूसरे से बात नहीं कर सकते : थरूर

तिरुवनंतपुरम : कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने रविवार को कहा कि राज्य में पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं हैं, जो एक-दूसरे से बात नहीं कर...

अमित शाह पर छाया सत्ता का नशा : ओवैसी

हैदराबाद : एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के इस बयान पर निशाना साधा कि बीजेपी ने 2002 में गुजरात में दंगाइयों को सबक...

admin

Read Previous

लालू ने कहा, ‘राजद का भविष्य उज्जवल’, पूछा सवाल, ‘अयोध्या के बाद मथुरा के नारे का क्या मतलब’

Read Next

प्रणब मुखर्जी के बेटे अभिजीत मुखर्जी तृणमूल में शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com