दिग्विजय सिंह की बढ़ी सियासी सक्रियता के मायने

29 जून, 2021

भोपाल: मध्यप्रदेश में राज्यसभा सदस्य और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की राज्य में राजनीतिक सक्रियता तेजी से बढ़ रही है। उनकी इस सक्रियता के मायने भी खोजे जाने लगे हैं। सियासी अनुमान तो यहां तक लगाया जा रहा है कि दिग्विजय सिंह मध्य प्रदेश की राजनीति में फिर अपनी पकड़ मजबूत करना चाह रहे हैं।

राज्य में कांग्रेस लगभग डेढ़ दशक तक संघर्ष करने के बाद वर्ष 2018 में हुए विधानसभा के उपचुनाव में सत्ता में वापसी कर पाई थी, मगर उसके पास सत्ता महज 15 माह ही बनी रह पाई। कांग्रेस के हाथ से सत्ता निकलने की वजह आपसी सामंजस्य न होने को माना गया और इसको लेकर दिग्विजय सिंह पर बड़े हमले भी हुए। ज्योतिरादित्य सिंधिया की कांग्रेस छोड़ने की बड़ी वजह भी दिग्विजय सिंह को भी आज तक माना जाता है।

बीते कुछ दिनों की राज्य की कांग्रेस की राजनीति पर गौर करें तो पता चलता है कि पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का स्वास्थ्य बिगड़ा, दिल्ली में उपचार चला और उसके बाद उनकी राष्ट्रीय राजनीति में सक्रियता भी बढ़ी है। उन्हें पंजाब और राजस्थान में पार्टी के नेताओं के बीच समन्वय की अघोषित जिम्मेदारी सौंपी गई है। कमलनाथ गांधी परिवार के नजदीकियांे में गिने जाते रहे हैं। अहमद पटेल के निधन के बाद कमलनाथ की सोनिया गांधी से नजदीकियां और बढ़ी है साथ ही कई बड़े नेताओं के मुखर होते गांधी परिवार के खिलाफ स्वरों के कारण कमलनाथ की उपयोगिता भी बढ़ गई है।

राजनीति के जानकारों का मानना है कि कमलनाथ के राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय होने पर राज्य में कांग्रेस के पास बड़े चेहरे का संकट हो सकता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण यादव, सुरेष पचौरी, अजय सिंह जैसे कुछ नेता है जो राज्य के बड़े हिस्से में पहचान रखते है, मगर उनकी दिल्ली में पकड़ वर्तमान में कमजोर है। इस स्थिति को भांपते हुए दिग्विजय सिंह ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। उसी सक्रियता का पहला कदम भोपाल के साइबर सेल में क्लब हाउस चैट से छेड़छाड़ को लेकर शिकायत दर्ज कराना है।

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अब्बास हफीज का कहना है, ” दिग्विजय सिंह वह नेता है जो जनता की हमेशा लड़ाई लड़ते रहे हैं। यही कारण है कि भाजपा को उनका डर सताता है और दिग्विजय सिंह उनके निशाने पर भी रहते हैं। उनकी सकियतो को लेकर कोई मायने नहीं खोजे जाना चाहिए।”

कांग्रेस के राज्य की सत्ता से बाहर होने के बाद दिग्विजय सिंह की सक्रियता लगातार कम होती गई, कोरोना काल में तो वे खुलकर कम ही नजर आए। अब उनकी सक्रियता बढ़ी है तो कयासबाजी का दौर भी जोर पकड़ रहा है। कांग्रेस में वैसे भी इस बात को लेकर भीतरी द्वंद चल रहा है कि कमल नाथ अगर प्रदेशाध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष में से एक पद छोड़ेंगे तो किसे मिलेगा यह पद। अनुमान तो यह भी लगाए जा रहे है कि दिग्विजय सिंह वह पद जो कमल नाथ छोड़ेंगे, उसे अपने करीबी को दिलाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

–आईएएनएस

सोनिया राष्ट्रपति के अभिभाषण में होंगी शामिल

नई दिल्ली : कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी मंगलवार को संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण में शामिल होंगी, क्योंकि राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे सहित पार्टी...

स्वामी प्रसाद मौर्य की सांसद बेटी ने विवादों से किया किनारा

लखनऊ : बदायूं से भाजपा सांसद संघमित्रा मौर्य ने रामचरितमानस पर अपने पिता स्वामी प्रसाद मौर्य की टिप्पणी से उपजे विवाद से किनारा कर लिया है। संघमित्रा ने कहा, मैं...

कश्मीर के लोगों ने मुझे प्यार दिया, हैंड ग्रैनेड नहीं: राहुल गांधी

श्रीनगर : 135 दिनों तक चलने वाली भारत जोड़ो यात्रा सोमवार को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में पार्टी मुख्यालय में ध्वजारोहण समारोह और सोनवार इलाके में शेर-ए-कश्मीर क्रिकेट स्टेडियम में आयोजित...

श्रीनगर के लाल चौक पर राहुल गांधी ने फहराया तिरंगा

नई दिल्ली : भारत जोड़ो यात्रा रविवार को अपने अंतिम पड़ाव पर श्रीनगर पहुंच चुकी है। इस दौरान कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक पर तिरंगा...

राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक को लेकर खड्गे ने गृह मंत्री को पत्र लिख की हस्तक्षेप की मांग

नई दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड्गे ने राहुल गांधी की सुरक्षा में चूक के मद्देनजर गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिख कर मामले में हस्तक्षेप करने की मांग...

नेताजी की जयंती पर ममता ने केंद्र पर योजना आयोग को खत्म करने का आरोप लगाया

कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 126वीं जयंती समारोह में केंद्र पर तीखा हमला बोलते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मौजूदा केंद्र सरकार ने...

उद्धव ठाकरे व प्रकाश अंबेडकर ने मिलाया हाथ

मुंबई : कई हफ्तों के रहस्य के बाद उद्धव ठाकरे की शिवसेना (यूबीटी) और प्रकाश अंबेडकर की वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) ने सोमवार को दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की 97वीं जयंती...

पीएम मोदी ने चुनावी राज्य कर्नाटक में कांग्रेस पर किया परोक्ष हमला

यादगीर : चुनावी राज्य कर्नाटक में कांग्रेस पर परोक्ष हमला करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि पिछली सरकारें राज्य के उत्तरी हिस्से के पिछड़ेपन के लिए...

पंजाब के पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल भाजपा में शामिल हुए

 नई दिल्ली : पंजाब के पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल बुधवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं। इस मौके पर केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और पार्टी...

त्रिपुरा में 16 फरवरी और नगालैंड, मेघालय में 27 फरवरी को मतदान, 2 मार्च को होगी मतगणना

नई दिल्ली : चुनाव आयोग ने नगालैंड, मेघालय और त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। त्रिपुरा में एक चरण में 16 फरवरी को मतदान होगा।...

नीतीश के खिलाफ बयान देने वाले पूर्व कृषि मंत्री सुधाकर को राजद ने थमाया कारण बताओ नोटिस

पटना : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और पूर्व कृषि मंत्री सुधाकर सिंह द्वारा महागठबंधन नेतृत्व खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधने को लेकर पार्टी अब एक्शन में...

‘मास्टरशेफ इंडिया’ के जजों ने कंटेस्टेंट्स को ‘फूड पिरामिड चैलेंज’ दिया

मुंबई:खाना पकाने पर आधारित रियलिटी शो 'मास्टरशेफ इंडिया' के जज सेलिब्रिटी शेफ रणवीर बरार, विकास खन्ना ने एक नई चुनौती पेश की है, जिसमें आठ चुनिंदा घरेलू रसोइया 'फूड पिरामिड...

admin

Read Previous

बिहार में बरसात की शादी, दूल्हे ने अपनी गोद में उठाकर दुल्हन को पार कराई नदी

Read Next

सीरिया में रॉकेट से अमेरिकी ठिकाने को निशाना बनाया ग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com