सुप्रीम कोर्ट : राज्य अपनी धारणा के आधार पर जल्लीकट्टू की अनुमति दे सकता है?

नई दिल्ली: सांडों को वश में करने वाले खेल ‘जल्लीकट्टू’ की अनुमति देने वाले राज्य के कानून के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को तमिलनाडु सरकार से पूछा कि क्या किसी जानवर का इस्तेमाल इंसानों के मनोरंजन के लिए किया जा सकता है। तमिलनाडु सरकार का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने न्यायमूर्ति के.एम. जोसेफ की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ के समक्ष प्रस्तुत किया कि जो व्यक्ति अपने बैल का प्रदर्शन करता है वह जानवर का बहुत ख्याल रखता है, और जल्लीकट्टू मनोरंजन नहीं है। इसके अलावा, जनवरी में होने वाले आयोजन से पहले हर दिन बैल को खिलाया जाता है, उन्होंने तर्क दिया।

बेंच में जस्टिस अजय रस्तोगी, अनिरुद्ध बोस, हृषिकेश रॉय और सी.टी. रविकुमार ने कहा, क्या जल्लीकट्टू जैसे खेल में जानवरों को इंसानों के मनोरंजन के लिए प्रताड़ित किया जा सकता है और क्या कोई राज्य सांस्कृतिक अधिकारों की अपनी धारणा के आधार पर इसकी अनुमति दे सकता है? सिब्बल ने तर्क दिया कि अदालत को इसे मनोरंजन के रूप में देखने के बजाय ऐतिहासिक ²ष्टिकोण से देखना चाहिए।

इस पर पीठ ने सवाल किया कि अगर यह मनोरंजन नहीं है तो लोग इसे देखने के लिए क्यों इकट्ठा होते हैं। सिब्बल ने जवाब दिया कि यह बैल की ताकत और जानवर की ताकत का प्रदर्शन करना है। पीठ ने यह भी पूछा कि देसी नस्ल के संरक्षण के लिए जल्लीकट्टू कैसे जरूरी है? इसमें कहा गया है कि याचिकाकर्ताओं में से एक के वकील ने तर्क दिया कि प्रत्येक जानवर सम्मान का हकदार है।

सिब्बल ने पूछा कि किस मायने में, तो पीठ ने जवाब दिया, जब तक आप जीवित हैं, इस संसार में आप जिस भी रूप में जीवित हैं, आप गरिमापूर्ण व्यवहार के अधिकारी हैं। पीठ ने इस बात का समर्थन करने के लिए रिकॉर्ड साक्ष्य लाने के लिए भी कहा कि यह एक सांस्कृतिक प्रथा है। पीठ ने बताया कि कुछ याचिकाकर्ताओं ने प्रस्तुत किया था कि जब कानून जानवरों के प्रति क्रूरता पर रोक लगाता है, तो कोई संशोधन अधिनियम नहीं हो सकता है, जो क्रूरता को बनाए रखता है।

सिब्बल ने कहा कि ऐसे कई खेल हैं जिनमें एक व्यक्ति घायल हो जाता है या मारा भी जाता है। तमिलनाडु सरकार ने एक लिखित जवाब में कहा था कि जल्लीकट्टू केवल मनोरंजन का कार्य नहीं है, बल्कि महान ऐतिहासिक और सांस्कृतिक मूल्य वाला कार्यक्रम है। 2014 में, शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि जल्लीकट्टू आयोजनों या बैलगाड़ी दौड़ के लिए बैलों को प्रदर्शन करने वाले जानवरों के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

जल्लीकट्टू को अनुमति देने के लिए केंद्रीय कानून, पशु क्रूरता निवारण अधिनियम, 1960 को तमिलनाडु द्वारा संशोधित किया गया था। दिन भर की दलीलें सुनने के बाद शीर्ष अदालत ने मामले की आगे की सुनवाई छह दिसंबर को निर्धारित की है।

–आईएएनएस

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

धनबाद में आग से मरने वाले सभी 14 एक ही परिवार के, 30 जख्मी

धनबाद: धनबाद के अपॉर्टमेंट में मंगलवार की रात आग लगने से जिन 14 लोगों की मौत हुई, वे सभी एक ही परिवार के हैं। परिवार की लोग एक शादी समारोह...

विशाखापत्तनम होगी आंध्र प्रदेश की नई राजधानी

नई दिल्ली। आंध्रप्रदेश की नई राजधानी विशाखापट्टनम होगी। प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने मंगलवार ये ऐलान किया है। सीएम रेड्डी ने कहा कि मैं भी आने वाले महीनों...

आर्थिक सर्वेक्षण : वित्त वर्ष 2023-24 के लिए जीडीपी 6.5 फीसदी रहने का अनुमान

नई दिल्ली : राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के अभिभाषण के बाद मंगलवार को आर्थिक सर्वेक्षण 2022-23 जारी कर दिया गया। आर्थिक सर्वे में वित्त वर्ष 2023-24 के लिए रियल जीडीपी ग्रोथ...

पेशावर की मस्जिद में हुए आत्मघाती हमले में मरने वालों की संख्या 72 पहुंची

इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पेशावर के पुलिस लाइन इलाके में एक मस्जिद में सोमवार को हुए जोरदार बम धमाका में मरने वालों की संख्या बढ़कर 72 हो गई है। मंगलवार...

पेशावर मस्जिद विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 83 घायल

पेशावर : पाकिस्तान के पेशावर शहर में सोमवार को एक मस्जिद में हुए विस्फोट में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई और 83 अन्य घायल हो गए।...

एनआईए ने बीजापुर मुठभेड़ मामले में वांछित महिला नक्सली को किया गिरफ्तार

नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के बीजापुर मुठभेड़ मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने एक महिला माओवादी कैडर को गिरफ्तार किया है। 2021 में हुई मुठभेड़ में 22 पुलिसकर्मियों की...

     मुगल गार्डन का नाम अब अमृत उद्यान होगा 

 नई दिल्ली:  देशभर में ऐतिहासिक धरोहरों, स्थलों और शहरों के नाम बदलने का सिलसिला निरंतर जारी है। इसी क्रम में केंद्र सरकार ने अब फूलों की विभिन्‍न किस्‍मों के लिए...

धनबाद के निजी अस्पताल में आग से दो डॉक्टरों सहित छह की मौत

धनबाद : धनबाद शहर के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में आग लगने से दो डॉक्टरों सहित छह लोगों की मौत हो गई है। शहर के बैंक मोड़ थाना क्षेत्र के टेलीफोन...

मोरबी त्रासदी : 1,262 पन्नों की चार्जशीट दाखिल, जयसुख पटेल मुख्य आरोपी

मोरबी : गुजरात पुलिस ने शुक्रवार को मोरबी पुल ढहने के मामले में 1,262 पन्नों की चार्जशीट पेश की और ओरेवा समूह के निदेशक जयसुख पटेल को मुख्य आरोपी बनाया।...

गणतंत्र दिवस परेड में स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी

नई दिल्ली : 26 जनवरी को कर्तव्य पथ पर गणतंत्र दिवस परेड में स्वदेशी व आधुनिक हथियारों की बेहतरीन झलक देखने को मिली। परंपरा के अनुसार सबसे पहले राष्ट्रीय ध्वज...

editors

Read Previous

झारखंड के चाईबासा में सुरक्षा बलों और नक्सलियों में मुठभेड़, 5 जवान घायल

Read Next

मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड गोल्डी बराड़ कैलिफोर्निया में हिरासत में लिया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com