सोनिया ने संसद ग्रुप का गठन किया, अधीर रंजन चौधरी फ्लोर लीडर बने रहेंगे

नई दिल्ली,18 जुलाई (आईएएनएस)| कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 19 जुलाई से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र से पहले पार्टी के प्रभावी कामकाज के लिए दोनों सदनों के लिए पार्टी के संसद समूहों का पुनर्गठन किया है। सभी अटकलों पर विराम लगाते हुए सोनिया गांधी ने अधीर रंजन चौधरी को लोकसभा में पार्टी के नेता के रूप में रहने दिया है। कांग्रेस संसदीय दल के अध्यक्ष के रूप में सोनिया गांधी ने 15 जुलाई को एक पत्र जारी किया था। जिसमें कहा गया था कि, मैंने संसद के दोनों सदनों में हमारी पार्टी के प्रभावी कामकाज को सुविधाजनक बनाने और सुनिश्चित करने के लिए निम्नलिखित समूहों का पुनर्गठन करने का निर्णय लिया है।

लोकसभा में इस दल में अधीर रंजन चौधरी, गौरव गोगोई, मनीष तिवारी, के. सुरेश, मनिकम टैगोर, शशि थरूर और रवनीत बिट्टू शामिल हैं।

राज्यसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे, आनंद शर्मा, जयराम रमेश, अंबिका सोनी, दिग्विजय सिंह, पी. चिदंबरम और के.सी. वेणुगोपाल सरकार के खिलाफ विपाक्ष का नेतृत्व करेंगे।

पत्र में कहा गया है कि वे सत्र के दौरान नियमित रूप से मिलेंगे और बाद में जब भी आवश्यकता होगी तो, खड़गे को संयुक्त बैठक बुलाने के लिए अधिकृत किया गया है।

कांग्रेस ने आगामी मानसून सत्र में मुद्रास्फीति, पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि, कोविड कुप्रबंधन और चीन के साथ सीमा मुद्दे को उठाने का फैसला किया है।

पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में संसद के लिए पार्टी रणनीति समूह की बुधवार शाम को बैठक हुई थी। जिसमें पार्टी का यह विचार है कि उसे फ्रांस में हाल के घटनाक्रम के बाद राफेल मुद्दे को उठाना चाहिए, जहां कथित रिश्वत की जांच शुरू की गई है।

अन्य विपक्षी दलों के साथ समन्वय का जिम्मा राज्यसभा नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को सौंपा गया है क्योंकि पार्टी सरकार को घेरने के लिए सदन में संयुक्त विपक्षी रणनीति चाहती है।

कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने मंगलवार को मीडिया को संबोधित करते हुए कहा था कि, कांग्रेस पार्टी संसद के आगामी सत्र में बढ़ती महँगाई का मुद्दा उठाएगी और इस विषय पर पूरे चर्चा के साथ भारत के लोगों के लिए पर्याप्त राहत की मांग करेगी।

हिमाचल  में भाजपा  ने मान ली हार, जयराम ठाकुर ने राज्यपाल को सौंपा इस्तीफा

शिमला। हिमाचल प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में वोटों की गिनती से मिले रुझानों ने तस्वीर लगभग साफ कर दी है। हिमाचल में कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है। जनता...

ट्विटर पर न लगाएं स्पीकर पर आरोप, बिरला ने महुआ मोइत्रा को दी नसीहत

नई दिल्ली : लोक सभा अध्यक्ष ओम बिरला ने गुरुवार को सदन में टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा को नसीहत देते हुए कहा कि ट्विटर पर जाकर स्पीकर पर आरोप नहीं...

आप ने एमसीडी में बीजेपी के 15 साल के शासन का किया अंत

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी (आप) ने बुधवार को दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) की चुनावी लड़ाई जीत ली है और भाजपा के 15 साल के शासन का अंत कर...

कल से शुरू होगा संसद का शीतकालीन सत्र

नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र कल यानी 7 दिसंबर से शुरू हो रहा है। सत्र सुचारू रूप से चलाने को लेकर मंगलवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई गई थी, जिसमें...

केरल सरकार को दी जाएगी बंद पड़ी कोक फैक्ट्री की जमीन, प्रदर्शनकारियों ने किया विरोध

तिरुवनंतपुरम : प्लाचीमाडा स्ट्रगल सॉलिडेरिटी कमेटी, जिसने अपने लंबे संघर्ष से 2004 में पलक्कड़ जिले में कोका-कोला फैक्ट्री को बंद करवा दिया था, बहु-अमेरिकी पेय पदार्थों की दिग्गज कंपनी के...

हाईकोर्ट ने राजनीतिक दलों से पूछा, जातीय रैलियों पर क्यो न लगा दी जाए पूर्ण पाबंदी

प्रयागराज : इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने उत्तर प्रदेश के चार प्रमुख राजनीतिक दलों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है कि राज्य में जाति आधारित रैलियों पर...

ईरान: महिला प्रदर्शनकारियों की जीत

तेहरान। ईरान में आखिरकार महिला प्रदर्शनकारियों की जीत हुई है। ढ़ाई महीने से भी अधिक समय से चल रहे हिजाब विरोधी आंदोलन के सामने कट्टरपंथी ईरान सरकार को झुकना पड़ा...

बेलफास्ट में भारतीय सहित जातीय अल्पसंख्यकों को नस्लवाद का सामना करना पड़ता है : अध्ययन

लंदन : ब्रिटेन के बेलफास्ट क्षेत्र में जातीय अल्पसंख्यक, जिनमें भारतीय भी शामिल हैं, नस्लवाद, अलगाव और गरीबी की चुनौतियों का सामना करते हैं, जिससे राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक जीवन...

जयराम रमेश: कांग्रेस में वापसी का कोई सवाल नहीं, 24 कैरेट गद्दार है सिंधिया

आगर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने सिंधिया को लेकर एक बार फिर बयान दिया है। इस बार उन्होंने सिंधिया को 24 कैरेट गद्दार करार दिया। साथ ही ये...

38 साल बाद भी गैस त्रासदी के पीड़ित न्याय के लिए कर रहे संघर्ष

भोपाल : दुनिया की सबसे बड़ी और घातक रासायनिक आपदा भोपाल गैस त्रासदी 38 साल पहले 1984 में 2 और 3 दिसंबर की दरम्यानी रात को हुई थी। इसका दुष्परिणाम...

सुप्रीम कोर्ट : राज्य अपनी धारणा के आधार पर जल्लीकट्टू की अनुमति दे सकता है?

नई दिल्ली: सांडों को वश में करने वाले खेल 'जल्लीकट्टू' की अनुमति देने वाले राज्य के कानून के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गुरुवार को...

विजया लक्ष्मी पंडित से रुचिरा कम्बोज तक: यूएन के प्रमुख पदों को भारतीय महिलाओं ने किया है सुशोभित

संयुक्त राष्ट्र : रुचिरा कंबोज गुरुवार को जब सुरक्षा परिषद की कमान संभालेंगी, तो 69 साल पहले संयुक्त राष्ट्र महसभा की पहली महिला अध्यक्ष बनने वाली विजया लक्ष्मी पंडित की...

editors

Read Previous

यूरोप में विनाशकारी बाढ़ से 120 से ज्यादा लोगों की मौत, कई लापता

Read Next

टीवी डिबेट में कांग्रेस की ओर से बहस करने वालों में महिलाएं हावी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com