यूपीसीडा से हासिल भूमि पर 11,500 करोड़ रुपए का निवेश, 1 लाख लोगों को रोजगार का दावा

लखनऊ : उत्तर प्रदेश में उद्योगों के जरिए लोगों को स्थायी रोजगार दिलाने को लेकर उप्र राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) से फैक्ट्री लगाने के लिए पश्चिमांचल में बड़े निवेशकों ने सबसे अधिक औद्योगिक भूखंड लिए हैं। जिसके चलते अब नोएडा, गाजियाबाद, मेरठ, हापुड़, अलीगढ़, आगरा, मथुरा, फिरोजाबाद, बुलंदशहर और सहारनपुर में उद्योग लगा रहे हैं। इन उद्योगों में करीब एक लाख लोगों को स्थायी रोजगार मिलने का दावा किया जा रहा है। जिन फैक्ट्रियां में उत्पादन शुरू हो गया हैं, उनमें लोगों को रोजगार मिल भी गया हैं। इसी क्रम में सूबे के प्रमुख औद्योगिक विकास प्राधिकरणों (यूपीसीडा, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यीडा और गीडा) को यह निर्देश दिया गया कि राज्य में निवेश करने के इच्छुक निवेशकों को भूमि उपलब्ध कराने में विलंब ना किया जाए। हर निवेशक को उसकी जरूरत के हिसाब से भूमि उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री की इस मंशा के अनुरूप यूपीसीडा, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, यीडा और गीडा ने छोटे बड़े निवेशकों को भूमि उपलब्ध कराने में रूचि ली। फिर देखते ही देखते यूपीसीडा द्वारा उपलब्ध कराई भूमि पर पश्चिमांचल के उद्योग लगने लगे।

यूपीसीडा के आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2017 से अब तक 3500 से अधिक निवेशकों ने फैक्ट्री लगाने के लिए यूपीसीडा से 2000 एकड़ भूमि ली हैं। इस भूमि पर 11,500 करोड़ रुपए का निवेश होगा और इसके जरिए लगी फैक्ट्री में एक लाख लोगों को रोजगार मिलेगा। आईटीसी लिमिटेड, पेप्सिको, हल्दीराम, बर्जर पेंट्स, ग्रीन प्लाई, कृभको फर्टिलाइजर्स, वोन वेल्ल्स, कोकाकोला, ज्ञान दूध, ब्रिटिश पेंट्स, वेब्ले स्कॉट, एबी मौरी, भारत पेट्रोलियम, यूनीलीवर और आईनोक्स एयर सरीखी तमाम बड़ी कंपनियों ने यूपीसीडा से ली है। इसी प्रकार गाजियाबाद में बीका इंडिया लिमेटेड, अलीगढ़ में लिंकलाक प्राइवेट लिमिटेड, मथुरा में पेप्सिको और रोज इंटरप्राइजेज, रसिक एक्सपोर्ट प्राइवेट लिमिटेड, एमजी ओर्गानिक्स ने यूपीसीडा से जमीन ली है। इनमें से कई कंपनियों ने अपनी फैक्ट्री लगाकर उत्पादन शुरू कर दिया है, तो कई कंपनियां अपनी फैक्ट्री लगा रही हैं। ऑक्सीजन उत्पादन इकाई लगाने के इच्छुक उद्यमियों को भी यूपीसीडा ने ग्रेटर नोएडा, सहारनपुर, शाहजहांपुर, बरेली, मथुरा में बीते माह जमीन आवंटित की है। अलीगढ़ में डिफेंस कॉरिडोर में निवेश कर रही एक दर्जन से अधिक कंपनियों को भी जमीन आवंटित की गई है।

उद्योग विभाग के अधिकारियों के अनुसार, यूपीसीडा से ली गई भूमि पर सबसे अधिक 40 प्रतिशत औद्योगिक निवेश पश्चिमांचल के दस जिलों में हुआ है। मध्यांचल के जिलों में 25 प्रतिशत, पूर्वांचल के जिलों में 20 प्रतिशत और बुंदेलखंड के जिलों में 15 प्रतिशत औद्योगिक निवेश के लिए भूमि ली गई है। कोरोना संक्रमण के दौरान भी निवेशकों ने नोएडा, गाजियाबाद, मथुरा, मुरादाबाद सहित सूबे के 15 जिलों में करीब 922 छोटी -बड़ी औद्योगिक इकाइयों की स्थापना के लिए भूमि ली है। इनमें से कई औद्योगिक इकाइयों के निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। बीते साल नोएडा में 134, गाजियाबाद में 160, मथुरा में 95 और मेरठ में 27 तथा मुरादाबाद में पांच निवेशकों ने फैक्ट्री लगाने के लिए यूपीसीडा से भूमि ली। निवेश मित्र पोर्टल के जरिए बीते साल छोटे बड़े सभी निवेशकों को भूमि दिलाई गई थी, जिन पर अब फैक्ट्री के निर्माण की कार्रवाई शुरू हो गई है। यूपीसीडा से भूमि लेकर फैक्ट्री लगाने वालों में सबसे अधिक निवेशक मैन्यूफैक्च रिंग से जुड़े हैं। इसके चलते मैन्यूफैक्च रिंग के सेक्टर में 42 प्रतिशत निवेश हो रहा है, इसके बाद 26 प्रतिशत निवेश फूड प्रोसेसिंग सेक्टर में, 11 प्रतिशत निवेश टैक्सटाइल सेक्टर में, 10 प्रतिशत निवेश मेटल्स सेक्टर में और पांच प्रतिशत निवेश केमिकल्स सेक्टर में हो रहा है। इलेक्ट्रनिक्स सेक्टर में दो प्रतिशत निवेश यूपीसीडा से लिए गए औद्योगिक भूखंडों पर किया जा रहा है।

अपर मुख्य सचिव नवनीत सहगल कहते हैं “यूपी में ज्यादा से ज्यादा रोजगार युवाओं को मिले, इसे लेकर मुख्यमंत्री लगातार प्रयासरत है। उसी क्रम यह भी कार्य तेजी से चल रहा है। आने वाले समय में यहां काफी मात्रा में लोगों को स्थाई रोजगार मिलेगा।”

–आईएएनएस

आफताब ने तिहाड़ के अधिकारियों से पढ़ने के किताबें मांगीं : सूत्र

नई दिल्ली: दिल्ली के महरौली इलाके में अपनी लिव-इन पार्टनर श्रद्धा वॉकर की जघन्य हत्या के सिलसिले में तिहाड़ जेल में बंद आफताब अमीन पूनावाला ने जेल अधिकारियों से पढ़ने...

बिहार में 500 पीजी डॉक्टर पोस्टिंग के इंतजार में, 750 छुट्टी पर, मंत्री कर रहे नौका विहार : सुशील मोदी

पटना:भारतीय जनता पार्टी ने शनिवार को आरोप लगाया है कि बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि...

हुआवे की अनूठी स्मार्टवॉच में लगे हैं ईयरबड्स

सैन फ्रांसिस्को: मीडिया ने बताया कि चीनी तकनीकी दिग्गज हुआवे ने चीनी ट्विटर जैसी साइट वीबो पर डिवाइस 'हुआवे वॉच बड्स' के अस्तित्व की पुष्टि की है, जिसमें डायल के...

सरकार ने एसबीआई की 29 शाखाओं के माध्यम से चुनावी बांड की बिक्री की दी अनुमति

नई दिल्ली: सरकार ने शनिवार को 5 से 12 दिसंबर के बीच देश भर में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की 29 शाखाओं के माध्यम से चुनावी बांड की बिक्री और...

ईडी ने सुपारी तस्करी के मामले में 17 ठिकानों पर छापेमारी की

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शनिवार को कहा कि सुपारी की सीमा पार तस्करी से संबंधित मनी लॉन्ड्रिंग की रोकथाम के मामले में मुंबई और नागपुर में 17 स्थानों...

आईपीएल 2023 सीजन में रणनीतिक विकल्प पेश कर सकता है बीसीसीआई : रिपोर्ट

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) रणनीतिक विकल्प शुरू करने की योजना बना रहा है और आगामी आईपीएल 2023 सीजन में दिखाई दे सकता है। इस साल अक्टूबर-नवंबर में...

विश्व बैंक ने बांग्लादेश में बेहतर पर्यावरण प्रबंधन के लिए 25 करोड़ डॉलर की मंजूरी दी

ढाका: विश्व बैंक ने बांग्लादेश को पर्यावरण प्रबंधन को मजबूत करने और हरित निवेश में निजी क्षेत्र की भागीदारी को बढ़ावा देने में मदद करने के लिए 25 करोड़ डॉलर...

नवंबर में बढ़ी सोने की कीमत, दिसंबर में भी रहेगी तेजी : विशेषज्ञ

मुंंबई: पीली धातु के लिए अपने ²ष्टिकोण में विशेषज्ञों ने कहा कि हाल के दिनों में वैश्विक कीमतों में वृद्धि के साथ इस महीने भी सोने में तेजी बनी रहेगी।...

एम्स सर्वर अटैक बड़ी साजिश, स्टेट एक्टर या बड़े संगठित गैंग हो सकते हैं शामिल : राजीव चंद्रशेखर

नई दिल्ली:केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी राज्य मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने एम्स के सर्वर डाउन होने की घटना को बड़ी साजिश बताते हुए कहा है कि इसके पीछे 'स्टेट एक्टर' भी...

बंगाल में एक भी बिजली संयंत्र ने मानक उत्सर्जन मानकों को लागू नहीं किया: सीआरईए रिपोर्ट

कोलकाता: ऐसे समय में जब एचईआई सोगा की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार कोलकाता को दुनिया के दूसरे सबसे प्रदूषित शहर के रूप में ब्रांडेड किया गया है, सेंटर फॉर...

बिहार के मखाना को वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के शुरू हुए प्रयास

पटना: बिहार के मखाना को अब वैश्विक बाजार उपलब्ध कराने के लेकर प्रयास किए जाने लगे हैं। इसी उद्देश्य को लेकर पटना में मखाना महोत्सव सह राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन...

चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में जीडीपी विकास दर घटकर 6.3 प्रतिशत रह गई

नई दिल्ली: सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक भारत की जीडीपी वृद्धि चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही में आधी होकर 6.3 फीसदी पर आ गई,...

editors

Read Previous

भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव ने इंडियन पैनोरमा के लिए मांगे आवेदन

Read Next

कोविड, वैश्विक संकेत के असर से मुनाफावसूली की चपेट में इक्विटी बाजार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com