45 प्रतिशत अमेरिकी चाहते हैं कि अमेरिका ईसाई राष्ट्र बने

वाशिंगटन : वाशिंगटन स्थित एक अमेरिकी थिंक-टैंक प्यू रिसर्च सेंटर के एक नए सर्वेक्षण के अनुसार, 10 में से चार अमेरिकियों का मानना है कि संयुक्त राज्य अमेरिका को एक ‘ईसाई राष्ट्र’ बनना चाहिए।

सर्वेक्षण में यह भी पाया गया कि अधिकांश अमेरिकी- 10 में से आठ- मानते हैं कि अमेरिका की स्थापना एक ईसाई राष्ट्र के रूप में हुई थी। साथ ही, प्यू द्वारा सर्वेक्षण किए गए अधिकांश अमेरिकियों का यह भी मानना है कि चचरें और पूजा के अन्य घरों को राजनीति से बाहर रहना चाहिए और चुनावी उम्मीदवारों का समर्थन नहीं करना चाहिए या दिन-प्रतिदिन के सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त नहीं करना चाहिए। संक्षेप में, राज्य के मामलों से बाहर रहें।

प्यू सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा गया है, कुल मिलाकर, 10 में से छह वयस्क- जिनमें 10 में से सात ईसाई शामिल हैं- का कहना है कि संस्थापक ‘मूल रूप से अमेरिका के लिए एक ईसाई राष्ट्र होने का इरादा रखते थे’। प्यू सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा गया है, और 45 प्रतिशत अमेरिकी वयस्क – जिसमें 10 में से छह ईसाई शामिल हैं – कहते हैं कि उन्हें लगता है कि देश को एक ईसाई राष्ट्र होना चाहिए। एक तिहाई का कहना है कि अमेरिका ‘अब’ एक ईसाई राष्ट्र है।

ईसाई राष्ट्रवाद को एक विचारधारा के रूप में परिभाषित किया गया है जो कहता है कि ईसाई धर्म संयुक्त राज्य की नींव है और राज्य को उस रिश्ते की रक्षा करनी चाहिए। कई विश्वासी भूमि के कानूनों को आकार देने के लिए बाइबल की वकालत करते हैं, और संघर्ष में स्थानीय कानूनों पर पूर्वता लेते हैं। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कुछ करीबी सहयोगी और अनुयायी इस विचारधारा को मानते हैं। पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन उनमें से हैं, जैसा कि डौग मास्ट्रियानो, पेंसिल्वेनिया के गवर्नर पद के लिए रिपब्लिकन उम्मीदवार हैं, जिन्हें ट्रम्प द्वारा समर्थन दिया गया है।

प्यू सर्वेक्षण ने तुलनात्मक आंकड़ों के साथ ईसाई राष्ट्रवाद में विश्वासियों में कोई वृद्धि नहीं दिखाई, लेकिन एक राजनीतिक वैज्ञानिक रयान बर्ज ने कहा कि वाक्यांश ‘ईसाई राष्ट्रवाद’ जुलाई 2022 में पूरे 2021 की तुलना में अधिक ट्वीट्स में आया – 289,000 से लगभग 200,000। शायद गैर-ईसाई अमेरिकियों के लिए सबसे अधिक चिंता का विषय है- जिनमें भारतीय विरासत के लोग भी शामिल हैं, जो ज्यादातर हिंदू धर्म के हैं- ईसाई राष्ट्रवाद के समर्थक और विश्वासी धार्मिक विविधता को दयालुता से नहीं देखते हैं और वास्तव में, वह एक ईसाई राष्ट्र के रूप में अमेरिका की पवित्रता के लिए अन्य धर्मों के लोगों की उपस्थिति को हानिकारक मानते हैं।

लगभग एक तिहाई अमेरिकी वयस्क जो कहते हैं कि अमेरिका को एक ईसाई राष्ट्र होना चाहिए (32 प्रतिशत) भी इस तथ्य को सोचते हैं कि देश धार्मिक रूप से विविध है, यानी, कई अलग-अलग धर्मों के लोगों के साथ-साथ ऐसे लोग भी हैं जो धार्मिक नहीं हैं, अमेरिकी समाज को कमजोर करता है। सर्वेक्षण में कहा गया है, जो लोग अमेरिका को एक ईसाई राष्ट्र बनाना चाहते हैं, वे उन लोगों की तुलना में कहीं अधिक इच्छुक हैं जो नहीं चाहते कि अमेरिका एक ईसाई राष्ट्र हो जो धार्मिक विविधता के इस नकारात्मक ²ष्टिकोण को व्यक्त करे।

रिपब्लिकन अमेरिकी- जैसे कि ट्रम्प के सहयोगी फ्लिन और समर्थक मास्ट्रियानो- को डेमोक्रेट की तुलना में बड़ी संख्या में इस विचारधारा की ओर बढ़ते हुए देखा जाता है। और, यह ध्यान दिया जाना चाहिए, सभी रिपब्लिकन इस विचारधारा की सदस्यता नहीं लेते हैं और पार्टी स्पष्ट रूप से विविधता के लिए प्रतिबद्ध है।

ब्राजील जैसे अन्य देशों में भी ईसाई राष्ट्रवाद बढ़ रहा है, जिसे इसके राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो ने ‘ईसाई देश’ घोषित किया है।

–अईएएनएस

हरियाणा जिला परिषद चुनाव में बीजेपी का खराब प्रदर्शन

चंडीगढ़ : हरियाणा में हाल ही में संपन्न जिला परिषद के चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा को हार का सामना करना पड़ा। उसे सात जिलों में जिला परिषद की 102 सीटों...

दिल्ली और चंडीगढ़ में अपने देश का वीजा प्रदान करने की प्रकिया को कनाडा बनाएगा और सुव्यवस्थित

नई दिल्ली : कनाडा दिल्ली व चंडीगढ़ में अपने देश के लिए वीजा प्रदान करने की प्रक्रिया को और मजबूत बनाएगा। कनाडा में काम करने और अध्ययन करने के इच्छुक...

भारत को सालाना 1,000 से अधिक पायलटों की जरूरत है, पर ट्रेनिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की है कमी

नई दिल्ली : उड्डयन क्षेत्र में विकास को देखते हुए उम्मीद है कि भारत को अगले पांच वर्षो में प्रतिवर्ष 1,000 से अधिक पायलटों की जरूरत होगी। हालांकि, विशेषज्ञों ने...

‘विधानसभा से इस्तीफे की घोषणा नए सैन्य नेतृत्व से जुड़ने का इमरान खान का प्रयास’

इस्लामाबाद : पीटीआई के अध्यक्ष इमरान खान की विधानसभा छोड़ने की अस्पष्ट धमकी वास्तव में राजनीतिक रूप से प्रासंगिक बने रहने का एक प्रयास है और नए सैन्य नेतृत्व को...

बंगाल के नए राज्यपाल ने ममता के साथ संघर्ष विराम की जगाई उम्मीद

कोलकाता : राज्य के नवनियुक्त राज्यपाल सी.वी. आनंद बोस के पदग्रहण के साथ ही राजनीतिक गलियारे में यह सवाल होने लगा है कि क्या गवर्नर हाउस-राज्य सचिवालय के झगड़े का...

चीन में कोविड प्रतिबंधों के खिलाफ व्यापक विरोध, शी जिनपिंग से इस्तीफे की मांग

बीजिंग : एक अपार्टमेंट ब्लॉक में आग लगने के बाद चीन में कोविड प्रतिबंधों के खिलाफ विरोध तेज होता दिख रहा है। स्थानीय मीडिया ने यह जानकारी दी। पीड़ितों को...

यूपी व गुजरात में लव जिहाद कानून समान, लेकिन गुजरात में अधिक कठोर दंड

अहमदाबाद : गुजरात फ्रीडम ऑफ रिलिजन एक्ट, 2003 'लव जिहाद' या अंतरधार्मिक विवाह और जबरन विवाह की तुलना में धर्मांतरण को रोकने के बारे में अधिक था। लेकिन उत्तरप्रदेश सरकार...

इस स्कूल में चलता है चिल्ड्रेन बैंक, बच्चों को पठन सामग्रियों के लिए मिलता है ऋण

गया (बिहार) : ऐसे तो आपने बैंक कई देखे और उसके बारे में सुने होंगे, लेकिन बिहार में एक ऐसा भी बैंक है जो न केवल स्कूल में चलता है...

हिमालयन याक को एफएसएसएआई से मिला खाद्य पशु टैग

ईटानगर:केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के तहत आने वाले भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) से हिमालयन याक को खाद्य पशु टैग मिला है। शीर्ष अधिकारियों ने शनिवार...

पांच साल में दस गुना बढ़ गयी वाराणसी में पर्यटकों की संख्या

वाराणसी:प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पिछले पांच सालों में पर्यटकों की संख्या तकरीबन दस गुना बढ़ गई है। पर्यटन विभाग की ओर से जनवरी 2017 से लेकर जुलाई...

मुकदमेबाजी प्रक्रिया को सरल बनाना, नागरिक केंद्रित बनाना महत्वपूर्ण: सीजेआई

नई दिल्ली: भारत के प्रधान न्यायाधीश डी.वाई. चंद्रचूड़ ने शनिवार को कहा कि मुकदमेबाजी प्रक्रिया को सरल बनाना और इसे 'नागरिक केंद्रित' बनाना महत्वपूर्ण है, न्यायाधीशों को न्याय, समानता और...

राजस्थान की एक सरपंच लड़कियों के कल्याण के लिए अपनी सैलरी दान करती है

जयपुर: राजस्थान की एक महिला सरपंच अपनी निजी सुख-सुविधाओं को दरकिनार कर लड़कियों को पढ़ाई और खेल में उत्कृष्टता हासिल करने में मदद कर उन्हें सशक्त बनाने के मिशन पर...

admin

Read Previous

पिछले पांच वर्षों में लगभग 51,000 बाल शोषण की शिकायतें एनसीपीसीआर तक पहुंचीं

Read Next

सड़क चौड़ीकरण के लिए व्यापारियों को दुकानें खाली करने को कहा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com