3 साल में पकड़े गए 137 करोड़ मूल्य के जाली नोट, 2000 के नोट भी हुए जब्त

नई दिल्ली : देश में जाली नोटों का कारोबार भी फलता-फूलता रहा है। हर साल पकड़े जा रहे करोड़ों रुपये के जाली नोट इस बात की तस्दीक करते हैं। जाली नोट न केवल आम लोगों के लिए परेशानी पैदा करते है, बल्कि सरकार और पुलिस के लिए भी इस पर रोक लगाना एक बड़ी चुनौती साबित होती है।

आपको जानकर आश्चर्य हो सकता है कि पिछले 3 साल के भीतर पुलिस और सुरक्षा बलों ने 137 करोड़ रुपये मूल्य से ज्यादा के जाली नोट जब्त किए हैं। यही नहीं, पकड़े गए 2000 रुपये के नए नोटों का मूल्य भी करोड़ों में है।

जाली नोटों का ज्यादातर कारोबार या तस्करी सीमा पार यानी पाकिस्तान से किया जाता है। इन्हें बॉर्डर के जरिये या फिर अन्य रास्तों से भारत में भेजा जाता है।

इसे रोकना केन्द्र सरकार के लिए भी एक बड़ी चुनौती बना हुआ है। हालांकि बॉर्डर पर सीमा सुरक्षा बल और देश के अंदर पुलिस काफी हद तक जाली नोटों को पकड़ने में सफल भी हो रही है। मगर अभी भी इसको लेकर बहुत कुछ किया जाना बाकी है। बता दें कि केन्द्र सरकार ने नोटबंदी के दौरान दावे किए थे कि इससे जाली नोटों पर लगाम लगेगी। ऐसे में सरकार के आंकड़े खुद बताते हैं कि जाली नोटों के कारोबार पर बहुत ज्यादा अंकुश नहीं लगा है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पिछले 3 सालों के जो आंकड़े सामने रखे हैं, उसके मुताबिक सीमावर्ती क्षेत्रों सहित देश में 2019 से 2021 के दौरान 137,96,17,270 करोड़ अंकित मूल्य के जाली नोट देश में पकड़े गए हैं।

साल 2021 में 3,10,066 लाख जाली नोट जब्त किए गए हैं, जिनका मूल्य 20,39,27,660 करोड़ है। वहीं 2020 में 8,34,947 लाख जाली नोट पकड़े गए, जिनका मूल्य 92,17,80,480 करोड़ है। इसके अलावा 2019 में पकड़े गए जाली नोटों की संख्या 2,87,404 लाख थी और कुल मूल्य 25,39,09,130 करोड़ रहा।

गृह मंत्रालय के आंकड़े बताते हैं, इन तीन सालों में 2000 और 500 के नोट बड़ी मात्रा में पकड़े गए। साल 2021 में 2000 के जो जाली नोट पकड़े गए हैं, उनका मूल्य 4,84,78,000 करोड़ है, जबकि 12,57,99,000 करोड़ रुपये मूल्य के 500 के नोट जब्त किए गए हैं।

वहीं 2020 में 2000 रुपये के 2,44,834 लाख नोट और 2019 में 2000 के 90,566 हजार नोट पकड़े गए थे। इसके अलावा इन वर्षों में 500 के नोट भी देश के अलग अलग हिस्सों से लाखों की संख्या में जप्त किए गए हैं।

मंत्रालय का कहना है कि ये आंकड़े जाली भारतीय करेंसी नोटों (एफआईसीएन) के परिचालन के बारे में किसी विशेष पैटर्न को नहीं दर्शाते हैं। वहीं सरकार का कहना है कि जाली करेंसी के खतरे से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की आसूचना तथा सुरक्षा एजेंसियां देश में जाली करेंसी के परिचालन और तस्करी में संलिप्त तत्वों पर गहन नजर रखती हैं तथा रिपोर्ट किए गए कानून के किसी भी उल्लंघन पर कार्रवाई करती हैं।

केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जाली नोटों का कारोबार रोकने के लिए कई कदम भी उठाए जा रहे हैं। सरकार के अनुसार देश में जाली करेंसी नोटों के परिचालन की समस्या से निपटने के लिए राज्य / केंद्र की सुरक्षा एजेंसियों के बीच खुफिया जानकारी / सूचना को साझा करने हेतु गृह मंत्रालय द्वारा जाली भारतीय करेंसी नोट समन्वय समूह (एफसीओआरडी) बनाया गया है।

वहीं आतंक के वित्तपोषण तथा जाली करेंसी के मामलों की संकेंद्रित जांच करने के लिए राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) में टेरर फंडिंग एंड फेक करेंसी सेल (टीएफएफसी) का गठन किया गया है।

सरकार का कहना है कि नई निगरानी प्रौद्योगिकी का प्रयोग कर चौबीसों घंटे निगरानी के लिए अतिरिक्त जनशक्ति तैनात करके, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर निगरानी चौकियां स्थापित कर सीमा पर बाड़ लगाकर और गहन गश्त लगाकर अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर सुरक्षा सु²ढ़ की गई है।

जाली करेंसी नोटों की तस्करी और परिचालन को रोकने और उससे निपटने के लिए भारत तथा बांग्लादेश के बीच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं। राज्यों तथा नेपाल और बांग्लादेश के पुलिस अधिकारियों हेतु प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, ताकि उन्हें भारतीय करेंसी की तस्करी और जालसाजी के बारे में जागरूक किया जा सके।

भारतीय रिजर्व बैंक ने भी जाली नोटों पर लगाम लगाने के लिए रणनीति तैयार की है।

जानकारी के मुताबिक आरबीआई ने बैंक नोटों पर सुरक्षा मानकों को बढ़ाने सहित विभिन्न उपाय किए हैं, ताकि जालसाजी को मुश्किल तथा खचीर्ला बनाया जा सके। भारतीय रिजर्व बैंक आम जनता तथा नकदी को हैंडल करने वालों के लिए जागरूकता कार्यक्रम भी चला रहा है, ताकि जालसाजी का पता लगाने में आसानी हो सके।

–आईएएनएस

अमूल ने प्रति लीटर तीन रुपये बढ़ाई दूध की कीमत

अहमदाबाद : गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (जीसीएमएमएफ) ने तत्काल प्रभाव से अमूल पाउच दूध (सभी वेरिएंट) की कीमतों में 3 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की है। दिल्ली,...

बजट से जीवन बीमा कंपनियों पर पड़ी है मार : एमके फाइनेंशियल

चेन्नई : एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कहा है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के बजट प्रस्तावों से जीवन बीमा कंपनियों पर दोहरी मार पड़ी है। यह कुछ निजी कंपनियों...

बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने की कोशिश : फिच रेटिंग्स

चेन्नई : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में पेश 2023-24 का बजट में विकास व घाटे के बीच संतुलन बनाने पर जोर दिया गया है। यह बात फिच रेटिंग्स...

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

सरकार ने राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत तय किया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 5.9 प्रतिशत निर्धारित किया, जबकि इस बात पर जोर...

नई कर व्यवस्था में 7 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को 2023-24 के लिए नए टैक्स स्लैब की घोषणा की, जिसके तहत नई आयकर व्यवस्था के तहत सालाना 7 लाख रुपये...

‘सार्वजनिक पूंजीगत खर्च बढ़ने पर बजट ने निराश नहीं किया’

चेन्नई : एक्यूट रेटिंग्स एंड रिसर्च के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बजट 2023-24 सरकार द्वारा सार्वजनिक पूंजीगत व्यय की प्रतिबद्धता के संबंध में निराशाजनक नहीं है। "बाजार सरकार...

आम बजट 2023-24 : गोबर बनेगा कमाई का जरिया

नई दिल्ली : लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना पांचवां बजट पेश कर रही हैं। वित्तमंत्री ने बजट में वैकल्पिक उर्वरकों को बढ़ावा देने के लिए पीएम प्रणाम योजना...

पीएम आवास योजना का परिव्यय 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये किया गया

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के परिव्यय को 66 प्रतिशत बढ़ाकर 79,000 करोड़ रुपये करने की घोषणा की। इस योजना में...

भारतीय अर्थव्यवस्था सही रास्ते पर : सीतारमण

नई दिल्ली : लोकसभा में केंद्रीय बजट 2023-24 पेश करते हुए, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था 'सही रास्ते पर है और उज्‍जवल भविष्य...

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा, समावेशी विकास पर है बजट का फोकस

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार का आर्थिक एजेंडा नागरिकों के लिए अवसरों को सुविधाजनक बनाने, विकास और रोजगार सृजन को मजबूत गति प्रदान...

वित्तमंत्री 11 बजे पेश करेंगी बजट

नई दिल्ली: | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 2024 लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार के कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट आज पेश करेंगी। सुबह 11 बजे वित्त मंत्री का लोकसभा...

admin

Read Previous

दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में भारी बारिश ने बरपाया कहर, 16 लोगों की मौत

Read Next

आईपीएस शिवगामी सुंदरी नंदा गृह मंत्रालय में विशेष सचिव नियुक्त

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com