प्रतियोगिता परीक्षाओं में कदाचार रोकने वाला केंद्रीय कानून लागू

नई दिल्ली । नीट (यूजी), नेट तथा दूसरी परीक्षाओं में गड़बड़ी और कदाचार के आरोपों के बीच केंद्र सरकार ने प्रतियोगिता परीक्षाओं में कदाचार रोकने वाले कानून को लागू कर दिया है।

कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय की शुक्रवार रात जारी अधिसूचना में कहा गया है कि लोक परीक्षा (अनुचित साधन निवारण) अधिनियम, 2024 को 21 जून 2024 से लागू कर दिया गया है।

इससे संबंधित विधेयक इस साल 5 फरवरी को लोकसभा में पेश किया गया था। यह 6 फरवरी को लोकसभा और 9 फरवरी को राज्यसभा में पारित हुआ था।

इस कानून के दायरे में केंद्रीय एजेंसियों संघ लोक सेवा आयोग, कर्मचारी चयन आयोग, रेलवे भर्ती बोर्ड, आईबीपीएस और नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा आयोजित परीक्षाओं के अलावा केंद्र सरकार के किसी भी मंत्रालय या विभाग, और उनके अधीनस्थ या संबद्ध कार्यालयों द्वारा कर्मचारियों की भर्ती के लिए आयोजित परीक्षाएं शामिल हैं।

कानून के तहत पेपर लीक, उत्तर पत्र या ओएमआर शीट के साथ छेड़छाड़, परीक्षा के दौरान कदाचार या चीटिंग कराने, कंप्यूटर सिस्टम के साथ छेड़छाड़, परीक्षा से जुड़े अधिकारियों को धमकी देने के साथ उम्मीदवारों को ठगने के लिए फर्जी वेबसाइट बनाने आदि के लिए सजा का प्रावधान है।

इस कानून के तहत आने वाले सभी अपराधों को संज्ञेय, गैर-जमानती और नॉन-कंपाउंडेबल की श्रेणी में रखा गया है।

कानून के तहत कदाचार साबित होने पर कम से कम तीन साल और अधिक से अधिक पांच साल की कैद और 10 लाख रुपये तक जुर्माने का प्रावधान है। जुर्माना न देने पर सजा बढ़ाई भी जा सकती है।

यदि अपराधी सेवा प्रदाता है – मसलन परीक्षा केंद्र उपलब्ध कराने, ओएमआर शीट की प्रिंटिगं आदि करने वाले – तो उनसे परीक्षा का पूरा खर्च वसूलने के साथ एक करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इसके अलावा उसे चार साल के लिए केंद्र सरकार की किसी भी परीक्षा में सेवा प्रदान करने से प्रतिबंधित कर दिया जाएगा।

परीक्षा के आयोजन से जुड़े किसी वरिष्ठ अधिकारी की मिलीभगत सामने आने पर उसे कम से कम तीन साल और अधिकतम 10 साल की कैद की सजा दी जा सकती है। साथ ही एक करोड़ रुपये के जुर्माने का भी प्रावधान है। जुर्माना न देने पर कैद की अवधि बढ़ाई जा सकती है।

एक समूह बनाकर किये गये कदाचार के लिए कम से कम पांच साल और अधिकतम 10 साल की कैद हो सकती है। इसके लिए न्यूनतम एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

इन मामलों में जांच का अधिकार डीएसपी या एसीपी या इससे ऊपर के रैंक के पुलिस अधिकारी को है। केंद्र सरकार के पास जांच का जिम्मा किसी केंद्रीय एजेंसी को सौंपने का भी अधिकार होगा।

–आईएएनएस

जनजाति कल्याण बोर्ड घोटाला: 18 जुलाई तक ईडी हिरासत में भेजे गए पूर्व मंत्री बी नागेंद्र

बेंगलुरु । स्पेशल कोर्ट ने शनिवार को कर्नाटक के पूर्व मंत्री बी. नागेंद्र को 18 जुलाई तक प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेज दिया। कर्नाटक महर्षि वाल्मीकि अनुसूचित जनजाति...

कर्नाटक सरकार को एमयूडीए घोटाले में ईडी की जांच पर कोई आपत्ति नहीं : एमबी पाटिल

विजयपुरा । कर्नाटक में महर्षि वाल्मीकि अनुसूचित विकास निगम लिमिटेड में हुए घोटाले को लेकर बयानबाजी का दौर जारी है। बीजेपी के आरोपों पर और ईडी की जांच को लेकर...

स्वाति मालीवाल हमला मामला : सीएम केजरीवाल के सहयोगी की जमानत याचिका खारिज

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सहयोगी बिभव कुमार की जमानत याचिका खारिज कर दी। उन पर आप की राज्यसभा सदस्य और डीसीडब्ल्यू की...

आईएसआईएस आतंकी साजिश : एनआईए ने कोर्ट में पेश किया आरोप पत्र, लीबियाई समेत दो के नाम शामिल

मुंबई । छत्रपति संभाजीनगर में आईएसआईएस की आतंकी साजिश के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शुक्रवार को मुंबई की एक विशेष अदालत में आरोप पत्र पेश किया। इसमें...

आईएएस (पीओ) पूजा खेडकर की मां ने पुणे के किसान को पिस्तौल दिखाकर धमकाया, जांच की मांग

पुणे (महाराष्ट्र) । वाशिम जिले की विवादित सहायक जिलाधीश और आईएएस-प्रोबेशनरी ऑफिसर (पीओ) पूजा दिलीप खेडकर की मुसीबतें और बढ़ गई हैं। उनकी मां का एक वीडियो सामने आया है...

री-नीट से बचने के लिए सरकार व एनटीए के नए-नए तर्क : वकील धीरज सिंह

नई दिल्ली । नीट पेपर लीक मामले में याचिकाकर्ता अभ्यर्थियों के वकील धीरज सिंह ने कहा कि, भारत सरकार और एनटीए री-नीट को बचाने के लिए रोज नए नए तरीके...

कौन हैं आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर, जिनकी संपत्ति व नियुक्ति को लेकर है विवाद

पुणे । पुणे की रहने वाली प्रशिक्षु आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर का नाम इस समय काफी चर्चा में है। पूजा खेडकर को अपने पद का गलत इस्तेमाल करने के आरोपों...

कर्नाटक में लोकायुक्त की 11 अधिकारियों के 56 ठिकानों पर छापेमारी

बेंगलुरु । कर्नाटक लोकायुक्त ने आय से अधिक संपत्ति के मामले में गुरुवार को कुछ अधिकारियों के आवास, कार्यालय और अन्य संपत्तियों समेत 56 ठिकानों पर छापेमारी की। सूत्रों के...

महिला के लिव-इन पार्टनर पर नहीं चल सकता क्रूरता का मुकदमा : केरल हाई कोर्ट

कोच्चि । केरल हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा है कि किसी महिला का साथी जो कानूनी रूप से विवाहित नहीं है, उस पर आईपीसी की धारा 498ए...

भाजपा अपने मित्रों आईटी, ईडी, सीबीआई का दुरुपयोग कर ‘आप’ को खत्म करना चाहती है : संदीप पाठक

नई दिल्ली । आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संदीप पाठक ने गुरुवार को आरोप लगाते हुए कहा है कि भाजपा अपने तीन दोस्तों आईटी, ईडी और सीबीआई की...

राजीव गांधी सरकार की ऐतिहासिक गलती को सुप्रीम कोर्ट ने आज मिटा दिया : शहजाद पूनावाला

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने मुस्लिम महिलाओं को पति द्वारा गुजारा भत्ता दिए जाने को लेकर ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में कहा है कि मुस्लिम...

अमृतपाल की रिहाई के लिए पंजाब की जनता व सिख समुदाय उठाए आवाज : तरसेम सिंह

अमृतसर । पंजाब के खडूर साहिब लोकसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ने और जीत दर्ज करने वाले वारिस पंजाब दे के प्रमुख अमृतपाल सिंह ने पांच जुलाई को सांसद पद...

admin

Read Previous

अटेंशन सीकर कहे जाने पर ‘वड़ा पाव गर्ल’ चंद्रिका दीक्षित ने हेटर्स को दिया मुंहतोड़ जवाब

Read Next

शाकिब पर बरसे सहवाग ने कहा…’युवाओं के लिए जगह खाली करनी चाहिए’

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com