आश्चर्य, क्या मेरे जीवनकाल में डब्ल्यूबीएसएससी घोटाले के मास्टरमाइंड पकड़े जाएंगे: कलकत्ता एचसी जज

कोलकाता: करोड़ों रुपये के पश्चिम बंगाल स्कूल सेवा आयोग (डब्ल्यूबीएसएससी) घोटाले में अपने फैसलों की वजह से सुर्खियों में रहे कलकत्ता उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति अभिजीत गंगोपाध्याय ने गुरुवार को कहा कि कई बार उन्हें आश्चर्य होता है कि क्या शिक्षक भर्ती घोटाले के असली मास्टरमाइंड को उसके जीवनकाल में ही पकड़ लिया जाएगा। हर कोई जानता है कि घोटाले के पीछे असली अपराधी कौन हैं। कई बार मुझे आश्चर्य होता है कि क्या इस घोटाले के असली मास्टरमाइंड को मेरे जीवनकाल में ही पकड़ लिया जाएगा। हालांकि, मुझे लगता है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) निश्चित रूप से असली दोषियों को ट्रैक करने में सक्षम होंगे। जस्टिस गंगोपाध्याय ने कोर्ट में कोलकाता के एक नागरिक से बातचीत के दौरान ये बात कही।

नागरिक सुनील भट्टाचार्य ने अपना परिचय राज्य के पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी के आवास से सटे नकटला निवासी बताया, पार्थ चटर्जी जो वर्तमान में शिक्षक भर्ती घोटाले में मुख्य आरोपी के रूप में न्यायिक हिरासत में है। सुनील ने कहा- हालांकि वर्तमान में मैं भुवनेश्वर में रहता हूं, मैं मूल रूप से नकटला का निवासी हूं। पार्थ चटर्जी की असाधारण जीवन शैली, उनके पालतू जानवरों और उन्हें समर्पित एक घर से पूरा इलाका वाकिफ था। केवल पुलिस को कुछ पता नहीं लग रहा था। सर, आप बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। आप बंगाल की शान हैं। यहां तक कि मेरी 92 वर्षीय मां भी अक्सर आपके बारे में बात करती हैं।

जवाब में, गंगोपाध्याय ने घोटाले के पीछे के मास्टरमाइंडों पर अपनी टिप्पणी की, जिसने राज्य के कानूनी और राजनीतिक हलकों में हलचल पैदा कर दी है। बातचीत के दौरान गंगोपाध्याय ने यह भी कहा कि पश्चिम बंगाल के लिए गौरव के मामलों को काफी हद तक कलंकित किया गया है। उन्होंने कहा- कुछ साल पहले जब मैं पुरी से कोलकाता की यात्रा कर रहा था, मेरे एक साथी यात्री ने मुझसे कहा कि पश्चिम बंगाल में कॉलेज में प्रवेश के लिए भुगतान करना पड़ता है, ऐसा भुवनेश्वर में नहीं होता। हमें बंगाल का गौरव बहाल करना होगा। आइए हम सब उसके लिए प्रयास करें।

–आईएएनएस

इस बार पीएम से अलग से मिलने की कोई संभावना नहीं : ममता

कोलकाता:पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह अपनी दिल्ली यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री से अलग से नहीं मिलेंगी। मुख्यमंत्री ने सोमवार दोपहर राष्ट्रीय राजधानी के लिए...

‘पेसा एक्ट आदिवासियों की जिंदगी में बदलाव लाएगा

इंदौर: यहां के नेहरू स्टेडियम में क्रांति सूर्य टंट्या मामा भील बलिदान दिवस पर राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें राज्यपाल मंगुभाई पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और...

लिंगायत मठ कांड: पीड़ितों की मां ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांगी न्याय या इच्छामृत्यु

मैसूर (कर्नाटक): लिंगायत मठ सेक्स स्कैंडल में दो पीड़ितों की मां ने सोमवार को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को एक पत्र लिखा, जिसमें कहा गया है कि उन्हें या तो न्याय...

शादी की बेकरारी में मंगेतर को ही भगा ले गया युवक

छपरा: आपने अब तक प्रेम संबंध में युवक-युवती के भागने की घटना देखी और सुनी होगी, लेकिन कोई युवक अपनी मंगेतर को ही शादी की नीयत से भगा ले जाए,...

छत्तीसगढ़ में बुजुर्ग, दिव्यांग और ट्रांसजेंडर के लिए हेल्प लाईन सुविधा जारी

रायपुर: छत्तीसगढ़ में बुजुर्गों, दिव्यांगजन और तृतीय लिंग समुदाय (ट्रांसजेंडर) के लिए हेल्पलाईन सुविधा शुरू की गई है। इससे इन वर्ग के लोगों को तत्काल जरुरी सुविधाएं आसानी से मिल...

एमसीडी चुनाव : दिल्ली की जनता के फैसले का होगा दूरगामी असर

नई दिल्ली: देश की राजधानी होने की वजह से दिल्ली नगर निगम का चुनाव वैसे तो हमेशा से ही हाई प्रोफाइल चुनाव माना जाता रहा है लेकिन इस बार का...

लाखों का मकान, लिफ्ट में फंस जाती है जान, कौन है जिम्मेदार

नोएडा: ग्रेटर नोएडा वेस्ट की निराला एस्पायर सोसायटी में ट्यूशन से घर लौट रहा एक 8 साल का मासूम बच्चा लिफ्ट में फंस गया। लिफ्ट में सवार होने के बाद...

छत्तीसगढ़ में बच्चों ने जाना ड्रोन उड़ाने का हुनर

रायपुर: वर्तमान दौर में ड्रोन उड़ाने और उसकी तकनीक को जानना जरुरी हो गया है। यही कारण है कि छत्तीसगढ़ में स्कूली बच्चों को इससे अवगत कराने के लिए रीजनल...

मप्र के प्रगतिशील किसान कर रहे स्ट्रॉबेरी की खेती

शिवपुरी: मध्य प्रदेश में किसान अब परंपरागत खेती की बजाय नए प्रयोग करने से हिचकते नहीं है। शिवपुरी के किसान तो अब स्ट्रॉबेरी की खेती भी करने लगे हैं। ऐसा...

कई नेता असम में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ से नदारद, कांगेस के लिए परेशानी का सबब

गुवाहाटी: कांग्रेस के 'भारत जोड़ो यात्रा' के असम संस्करण ने एक महीना पूरा कर लिया है। यह धूबरी जिले से शुरू हुई और दिसंबर के मध्य में समाप्त होने से...

सिर्फ कॉलेजियम ही नहीं, एससी ने अरुण गोयल की चुनाव आयोग में पदोन्नति पर भी पूछे कड़े सवाल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट के केंद्र से सवाल करने या सरकार की खिंचाई करने में कोई आश्चर्य की बात नहीं है, लेकिन हाल ही में जिस तरह से शीर्ष...

भोपाल गैस त्रासदी : जिन डॉक्टर ने सबकुछ देखा, उनसे जानिए उस भयानक रात की कहानी

भोपाल: एच.एच. त्रिवेदी, जो अब अपने 80 के दशक में हैं और अभी भी भोपाल की अरेरा कॉलोनी में एक क्लिनिक चलाते हैं, 2-3 दिसंबर, 1984 की भयावह रात को...

editors

Read Previous

फेलिक्स ऑगर-अलियासिमे, एंड्री रुबलेव ने एटीपी फाइनल्स के लिए क्वालीफाई किया

Read Next

ईडी के समन पर हमलावर हेमंत सोरेन की खुली चुनौती, अगर गुनाह किया है तो सीधे गिरफ्तार करो

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com