1947 में लाल किले पर फहराया तिरंगा किसने बनाया

नई दिल्ली । पूरा देश कल रविवार को आजादी की 75वीं वर्षगाँठ का जश्न मनायेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नई दिल्ली के ऐतिहासिक लाल क़िले की प्राचीर से तिरंगा फहराने के बाद राष्ट्र को सम्बोधित करेंगे।

प्रधानमंत्री ने आजादी की 75वीं वर्षगाँठ को अमृत महोत्सव का नाम दिया है। उन्होंने ग़ुलामी की निशानियों से ऊपर आत्म निर्भर भारत के प्रतीक के रूप में नई दिल्ली में महत्वाकांक्षी सेण्ट्रल विस्टा प्रोजेक्ट हाथ में लेकर नए संसद भवन के निर्माण की आधार शिला भी रख दी है।
बहुत कम लोगों को यह मालूम होगा कि आजादी की पहली सुबह पर वर्ष 1947 को दिल्‍ली के लालकिले पर फहराया गया तिरंगा झंडा राजस्‍थान के दौसा में बना था।

स्वाधीनता दिवस पर देश के हर शहर और दफ्तर पर तिरंगा फहराया जाता है। इस मौके पर देशवासी खुद को गौरवान्वित महसूस करते हैं और देश की आनबान व शान तिरगें को नमन कर आजादी के अमर शहीदों का स्मरण करते हैं।

राजस्थान के दौसा जिले के हर नागरिक को इस दिन एक अलग ही अनूभुति होती हैं क्योंकि तिरंगे का दौसा से खास जुड़ाव है।माना जाता है कि लाल किले पर जो झंडा पहली बार लहराया गया था वो दौसा के आलूदा के बुनकर चौथमल ने बनाया था।

बताते है कि आजादी के पहले तिरंगे को लहराने की तैयारी के लिए चरखा संघ के देशपाण्डे व जनरल टाड को जिम्मेदारी सौंपी गई थी।इस दौरान देश के विभिन्न भागों से तीन झंडे लाए गये।एक दौसा के आलूदा गाँव से दूसरा राजस्थान के ही अलवर जिले के गोविन्दगढ़ से और तीसरा एक अन्य स्थान से लाया था।बताया जाता है कि दौसा के आलूदा के बुनकर चौथमल द्वारा बनाया गया झंडा ही पहली बार लाल किले पर लहराया गया।हालांकि इसका कोई लिखित प्रमाण नहीं है।

दौसा के बुनकरों की झण्डा बनाने की यह कारीगरी आज भी बदस्तूर जारी है।खादी समिति दौसा के प्रवक्ता का कहना है कि हालांकि आज़ादी की पहली सुबह पर दिल्ली में फहराया जाने वाला तिरंगा देश के अन्य स्थानों से भी गया था लेकिन कहा यहीं जाता हैं कि दौसा में बने तिरंगे को पहली बार आजाद हवा में लहराने का मौका मिला था। तिरंगे को लेकर दौसा का नाम तभी से जुड़ा हुआ हैं।

देश में सिर्फ तीन जगह ही तिरंगे के कपड़े का निर्माण होता हैं,इसमें महाराष्ट्र में नादेर कर्नाटका में हुबली व राजस्थान में दौसा का नाम आता हैं।दौसा खादी समिति इस कपड़े का निर्माण करती हैं। यहां से मुंबई जाने के बाद एक मात्र खादी डायर्स एण्ड प्रिटिंग में इस कपड़े से तिरंगा बनाया जाता है।

इसीप्रकार आजादी से ठीक पहले कांग्रेस अधिवेशन में पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा फहराया गया तिरंगा ध्वज भी राजस्थान के अलवर जिले के नीमराना से ताल्लुक़ रखने वाली अंजु नागर के घर मेरठ (हस्तिनापुर) में सुरक्षित रखा है। नागर के मौसेरे भाई तरुण रावल के अनुसार यह झण्डा 1946 में कांग्रेस के आखिरी अधिवेशन में मेरठ में फहराया गया था। इस तिरंगे को नागर परिवार ने आज भी सहेज का रखा है। यह 14 फिट चौड़ा और 9 फिट लंबा है।

editors

Read Previous

एनटीपीसी ने प्राकृतिक गैस के साथ हाइड्रोजन ब्लेंडिंग के लिए वैश्विक ईओआई किया जारी

Read Next

हमने 70 सालों में सारे विषय पढ़ाए, लेकिन देशभक्ति नहीं पढ़ाई, अब दिल्ली के स्कूलों में होगी देशभक्ति की पढ़ाई- अरविंद केजरीवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com