‘विधानसभा से इस्तीफे की घोषणा नए सैन्य नेतृत्व से जुड़ने का इमरान खान का प्रयास’

इस्लामाबाद : पीटीआई के अध्यक्ष इमरान खान की विधानसभा छोड़ने की अस्पष्ट धमकी वास्तव में राजनीतिक रूप से प्रासंगिक बने रहने का एक प्रयास है और नए सैन्य नेतृत्व को नए सिरे से जुड़ाव का निमंत्रण है, जो अगले सप्ताह से कार्यभार संभालने के लिए तैयार है। यह स्थानीय मीडिया ने ये बात कही है। दरअसल, शनिवार रात इमरान खान ने रावलपिंडी में बड़ा ऐलान किया। उन्होंने एक जनसभा में कहा कि उनकी पार्टी ने सभी विधानसभाओं से इस्तीफा देने का फैसला किया है। इस घोषणा के बाद डॉन से बात करने वाले कई कानूनी और राजनीतिक विशेषज्ञों ने कहा कि खान वास्तव में अपनी धमकी को लेकर गंभीर नहीं है। उन्होंने अनुमान लगाया कि पीटीआई नेता ने यह घोषणा इसलिए की, क्योंकि उन्होंने अपने अनुयायियों से रावलपिंडी सभा में कुछ बड़ा करने का वादा किया था। ऐसे में उनके पास कोई विकल्प न होने के चलते उन्होंने यह घोषणा करनी पड़ी।

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष और विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो जरदारी ने कहा कि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान की रावलपिंडी की सार्वजनिक बैठक पीटीआई का चेहरा बचाने वाला फ्लॉप शो था और यह एंटीक्लेमैटिक था।

उन्होंने कहा कि इमरान द्वारा सभी विधानसभाओं से इस्तीफा देने की घोषणा ‘हताशा में इस्तीफे का नाटक’ है। उन्होंने इमरान के भाषण के बाद एक ट्वीट के जरिए कहा, इमरान भीड़ खींचने में नाकाम रहे, नए प्रमुखों की नियुक्तियों को कमजोर करने में विफल रहे, इसलिए निराश होकर इस्तीफे का नाटक कर रहे हैं।

बिलावल ने कहा कि रावलपिंडी से इमरान की मांग आजादी नहीं बल्कि दोबारा चुने जाने की है।

उन्होंने सवाल किया कि कब तक खैबर पख्तूनख्वा और पंजाब को राजनीतिक सहारा के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा।

पीपीपी के महासचिव फरहतुल्लाह बाबर ने कहा कि इमरान ने विधानसभा छोड़ने का ऐलान कर कबूल किया है कि उनके सारे मंसूबे नाकाम हो गए हैं। द न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने ट्वीट किया, नेशनल असेंबली पहले से ही पीटीआई एमएनए के बिना काम कर रही है।

उन्होंने कहा कि पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा को तभी भंग किया जा सकता है जब उनके मुख्यमंत्रियों को अविश्वास प्रस्ताव का सामना नहीं करना पड़े। हालांकि यह एक उचित चेहरा बचाने की रणनीति है।

बाबर ने कहा कि प्रोजेक्ट तालिबान और प्रोजेक्ट इमरान खान भले ही अभी पूरी तरह से ध्वस्त न हुए हों, लेकिन पूरी तरह से बेनकाब हो गए हैं। उन्होंने कहा, यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है. देश ने इसे उजागर करने के लिए बड़ी कीमत चुकाई है, लेकिन जो कीमत चुकाई गई है वह लाभ के लायक है। निराशाओं के बावजूद, जश्न मनाने के लिए बहुत कुछ है।

–आईएएनएस

बजट एक नज़र में

देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण साल 2023-2024 के लिए केंद्रीय बजट पेश कर रही हैं। यह निर्मला सीतारमण का पांचवा बजट है। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव 2024...

बजट में मनरेगा मजदूरों दलित आदिवासियों की अनदेखी

नई दिल्ली, अरविंद कुमार; जब देश मे बेरोजगारी चरम सीमा पर है और लोग कोरोना के कारण आर्थिक संकट में हैं, सरकार ने इस बार बजट में मनरेगा के बजट...

प्रधानमंत्री ने बजट 2023-24 को ‘अमृत काल का पहला बजट’ बताया

नई दिल्ली:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को केंद्रीय बजट को 'अमृत काल का पहला बजट' (2022 से 2047 तक 25 साल की अवधि, जब देश आजादी के 100 साल मनाएगा)...

बजट में वित्तमंत्री ने की कई बड़ी घोषणाएं, जानिए बजट की 10 प्रमुख बातें

नई दिल्ली : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को बजट पेश किया। यह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी पूर्ण बजट था। ऐसे में निर्मला सीतारमण ने टैक्स...

2047 तक सिकल सेल एनीमिया को हटाने का कार्यक्रम शुरू किया जाएगा : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : सरकार 2047 तक सिकल सेल एनीमिया को खत्म करने के लिए एक मिशन मोड में एक कार्यक्रम शुरू करेगी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को संसद...

शीर्ष शिक्षण संस्थानों में जल्द ही एआई पर तीन उत्कृष्टता सेंटर खोलेगी सरकार : वित्त मंत्री

नई दिल्ली : चैटजीपीटी युग में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को घोषणा की है कि सरकार शीर्ष शैक्षणिक संस्थानों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के लिए उत्कृष्टता के तीन...

नेपाल से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत, दर्शन के लिए उमड़ रही भीड़

गोपालगंज/ मुजफ्फरपुर:नेपाल के जनकपुर से अयोध्या जा रही शालिग्राम शिला का बिहार में जगह-जगह स्वागत हो रहा है। लोग जगह जगह आरती करते नजर आए तो कई शिला के दर्शन...

राष्ट्रपति मुर्मू पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को करेंगी संबोधित

नई दिल्ली : द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति पद पर निर्वाचित होने के बाद पहली बार संसद की संयुक्त बैठक को संबोधित करेंगी। वह चालू वर्ष के लिए सरकार के ²ष्टिकोण को...

भारत में 2023 में वैश्विक व्यापार और अधिक कम होने की उम्मीद

नई दिल्ली : 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण में चेतावनी दी गई है कि आक्रामक और समकालिक मौद्रिक सख्ती के कारण वैश्विक आर्थिक विकास और विश्व व्यापार धीमा होने लगा है।...

ग्रामीण अर्थव्यवस्था में वृद्धि से मनरेगा की मांग में कमी : आर्थिक सर्वेक्षण

नई दिल्ली : महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) कार्य की मासिक मांग में मजबूत कृषि विकास के कारण साल-दर-साल गिरावट आ रही है। 2022-23 के आर्थिक सर्वेक्षण...

सोशल मीडिया को होना चाहिए जिम्मेदार : इलाहाबाद हाईकोर्ट

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने झांसी जिले की नंदिनी सचान द्वारा दायर उस याचिका को खारिज कर दिया, जिसमें सोशल मीडिया पर अश्लील सामग्री का प्रचार करने...

बांदा के इस स्कूल ने अपने दम पर की बिजली की व्यवस्था

बांदा (उत्तर प्रदेश) : कई पत्र लिखने और सभी से अनुरोध करने के तेरह साल के बाद बांदा के इस सरकारी हाई स्कूल के शिक्षकों और प्रिंसिपल ने आखिरकार खुद...

admin

Read Previous

चीन में कोविड प्रतिबंधों के खिलाफ व्यापक विरोध, शी जिनपिंग से इस्तीफे की मांग

Read Next

पार्टी के नेता नर्सरी के छात्र नहीं, जो एक-दूसरे से बात नहीं कर सकते : थरूर

Leave a Reply

Your email address will not be published.

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com